Close

Recent Posts

महिला सशक्तिकरण ‘आप’ सरकार की मुख्य प्राथमिकता, हम मुख्यमंत्री भगवंत मान के योग्य नेतृत्व अधीन महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण को सुनिश्चित बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं: बलजीत कौर

महिला सशक्तिकरण ‘आप’ सरकार की मुख्य प्राथमिकता, हम मुख्यमंत्री भगवंत मान के योग्य नेतृत्व अधीन महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण को सुनिश्चित बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं: बलजीत कौर

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष इकबाल सिंह लालपुरा ने केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह से मुलाकात की; जम्मू-कश्मीर में रहने वाले कश्मीरी पंडितों सहित सभी हिंदुओं और सिखों के लिए सुरक्षा की स्थिति के साथ-साथ शिक्षा और रोजगार के अवसरों पर चर्चा की

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष इकबाल सिंह लालपुरा ने केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह से मुलाकात की; जम्मू-कश्मीर में रहने वाले कश्मीरी पंडितों सहित सभी हिंदुओं और सिखों के लिए सुरक्षा की स्थिति के साथ-साथ शिक्षा और रोजगार के अवसरों पर चर्चा की

प्रमुख खबरें

नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार ने जापान का दौरा किया

नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार ने जापान का दौरा किया
  • PublishedNovember 11, 2022

नौसेनाध्यक्ष एडमिरल आर हरि कुमार ने 05 से 09 नवंबर 2022 तक जापान का आधिकारिक दौरा किया।

नौसेना प्रमुख अपनी यात्रा के दौरान 06 नवंबर 2022 को योकोसुका में जापान मैरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स (जेएमएसडीएफ) द्वारा इसके गठन की 70वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू (आईएफआर) के साक्षी बने। जापान के प्रधानमंत्री महामहिम श्री फुमियो किशिदा बेड़े की समीक्षा के लिए जेएमएसडीएफ पोत इज़ुमो में भाग लेने वाली नौसेनाओं के प्रतिनिधिमंडलों के प्रतिष्ठित प्रमुखों के साथ इस अवसर पर उपस्थित हुए थे। भारतीय नौसेना के युद्धपोत शिवालिक और कमोर्ता ने अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू में भारतीय नौसेना का प्रतिनिधित्व किया। पूर्वी बेड़े के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग रियर एडमिरल संजय भल्ला द्वारा फ्लीट रिव्यू के दौरान आईएनएस शिवालिक का नेतृत्व किया गया। अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू में भारतीय नौसेना के दो स्वदेश निर्मित जहाजों की भागीदारी ने अंतर्राष्ट्रीय मंच तथा इसमें भाग लेने वाली नौसेनाओं के लिए भारतीय शिपयार्ड के पोत निर्माण कौशल को उचित तरीके से प्रदर्शित किया।

जापान ने अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू के बाद डब्ल्यूपीएनएस के वर्तमान अध्यक्ष के रूप में 07-08 नवंबर 2022 को योकोहामा में 18वीं पश्चिमी प्रशांत नौसेना संगोष्ठी (डब्ल्यूपीएनएस) की मेजबानी की। भारतीय नौसेना 1998 से डब्ल्यूपीएनएस में पर्यवेक्षक के रूप में भाग ले रही है। एडमिरल आर हरि कुमार ने डब्ल्यूपीएनएस में अपने संबोधन में नियम आधारित व्यवस्था की प्रधानता पर बल दिया और हिंद प्रशांत क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा के लिए ‘सामूहिक जिम्मेदारी’ के विचार को बढ़ावा देने के लिए भारतीय नौसेना तथा हिंद महासागर नौसेना संगोष्ठी (आईओएनएस) के प्रति वचनबद्धता व्यक्त की।

जापान इस साल के मालाबार अभ्यास के संस्करण की मेजबानी भी कर रहा है। वर्ष 1992 में शुरू किये गए मालाबार अभ्यास की यह 30वीं वर्षगांठ है।

इस विशेष अवसर को और खास बनाने के लिए मालाबार अभ्यास में भाग लेने वाले नौसेना प्रमुखों ने इस अभ्यास के माध्यम से अब तक हासिल की गई प्रगति की समीक्षा करने के लिए संयुक्त परामर्श कार्यक्रम आयोजित किया तथा भाग लेने वाली नौसेनाओं के बीच अंतःक्रियाशीलता को और बढ़ाने के उद्देश्य से भविष्य में पुनरावृत्तियों के दौरान जिन क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित किया जा सकता है, उन पर भी चर्चा की गई।

नौसेना प्रमुख ने भाग लेने वाले भारतीय नौसेना के युद्धपोत शिवालिक तथा कमोर्ता के दल के साथ बातचीत की और इस बहुपक्षीय अभ्यास के स्तर एवं जटिलता पर संतोष व्यक्त किया। मालाबार-2022 अभ्यास में भाग लेने के लिए भारतीय नौसेना के एक पी8आई समुद्री गश्ती विमान को भी जापान में अलग से तैनात किया गया है। इस बार मालाबार अभ्यास का समुद्री चरण 15 नवंबर 2022 तक जारी रहेगा।

जापान में बहुपक्षीय कार्यक्रमों की एक श्रृंखला में नौसेनाध्यक्ष की भागीदारी ने मित्र देशों के कई प्रतिनिधिमंडलों के प्रमुखों के साथ सार्थक द्विपक्षीय बातचीत करने का अवसर प्रदान किया, जो आईएफआर और डब्ल्यूपीएनएस कार्यक्रम के लिए वहां पर उपस्थित थे। इन बैठकों के दौरान अलग-अलग देशों के साथ चल रहे रक्षा सहयोग की प्रगति तथा समुद्री क्षेत्र में रचनात्मक जुड़ाव बढ़ाने के अवसरों पर चर्चा की गई।

एडमिरल आर हरि कुमार ने इन उच्च तीव्रता वाले बहुपक्षीय समुद्री सुरक्षा गतिविधियों के अत्यधिक पेशेवर और सफल संचालन के लिए जेएमएसडीएफ के चीफ ऑफ स्टाफ एडमिरल सकाई रियो को विशेष तौर पर बधाई दी।

नौसेना प्रमुख की जापान यात्रा ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र में बहुपक्षीय समुद्री सुरक्षा निर्माणों के लिए भारत के निरंतर सहयोग को प्रदर्शित किया तथा जापान के साथ उच्च स्तर के द्विपक्षीय रक्षा संबंधों को और मजबूत किया।

Written By
bhangu