दुनिया

दुनिया (351)

ताशकंद। उज्बेकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति इस्लाम कारीमोव की बेटी गुलनारा (46) को जेल भेज दिया गया है। उन पर नजरबंदी की शर्तों के उल्लंघन का आरोप है। पॉप गायिका रहीं गुलनारा को 2017 में मनी लांड्रिंग समेत कई गंभीर आरोपों में दस साल जेल की सजा सुनाई गई थी। इसके बाद पिछले साल कोर्ट ने उन्हें पांच साल तक घर में नजरबंद रखने का आदेश दिया था।गुलनारा एक समय कूटनीतिज्ञ, पॉप सिंगर और सोशलाइट रह चुकी हैं। पिछले साल कोर्ट ने उन्हें पांच साल के लिए घर में नजरबंद करने के आदेश दिए थे। उज्बेकिस्तान के जनरल प्रोसीक्यूटर्स आफिस की ओर से बुधवार को बताया गया कि गुलनारा (46) अपनी बेटी इमान के ताशकंद स्थित अपार्टमेंट में रह रही थीं। इस दौरान वह लगातार नजरबंदी के दौरान कोर्ट द्वारा लगाई गई शर्तों का उल्लंघन कर रही थीं। चेतावनी के बावजूद वह इंटरनेट सहित संचार के विभिन्न साधनों का उपयोग करती रहीं। नवंबर में उन्होंने अपार्टमेंट छोड़ा था और निर्धारित दंड की भरपाई से भी इन्कार कर दिया था।
जबरन अपार्टमेंट से ले जाया गया;-कारीमोव के स्विस वकील ग्रेगोरे मनगेट ने ट्विटर पर कहा कि उन्हें जबरन अपार्टमेंट से ले जाया गया। उन पर उज्बेक अधिकारियों की ओर से शारीरिक और मानसिक दबाव बनाया जा रहा है, ताकि वह अपील न करें और स्विट्जरलैंड की अपनी संपत्ति को छोड़ दें। उन्होंने इस सारे घटनाक्रम को मनमाना करार दिया।
पिता की उत्तराधिकारी के तौर पर उभरी थीं गुलनारा:-गुलनारा के पिता इस्लाम कारीमोव अपनी मृत्यु तक वर्ष 2016 तक देश के राष्ट्रपति रहे थे। उनकी बेटी गुलनारा कारीमोव एक समय अपने पिता के उत्तराधिकारी के तौर पर उभरी थीं। वह स्पेन में उज्बेकिस्तान की राजदूत और संयुक्त राष्ट्र संघ में देश की स्थायी प्रतिनिधि भी रहीं। पॉप सिंगर रहने के साथ-साथ उन्होंने फैशन वीक का भी आयोजन किया। मनोरंजन चैनल का भी संचालन उन्होंने किया। वर्ष 2014 में अपनी मां और छोटी बहन के साथ सार्वजनिक रूप से झगड़ने के आरोप में उन्हें घर में नजरबंद किया गया था।वर्ष 2017 में उन पर एक संगठित अपराध समूह का सदस्य होकर 12 देशों में 1.3 करोड़ डॉलर की संपत्ति रखने का आरोप लगा। देश के शेयर मार्केट से जुड़े भ्रष्टाचार के आरोप भी उन पर लगते रहे हैं। प्रोसीक्यूटर्स जनरल आफिस की ओर से कहा गया कि उन्हें 2015 में पांच साल के बिना हिरासत में रखने की सजा सुनाई गई थी। वर्तमान में इस्लाम कारीमोव के बाद सत्ता संभालने वाले शवकत मिर्जियोयेव राष्ट्रपति हैं।

नई दिल्ली। नफरत का जवाब हमेशा नफरत नहीं हो सकता है, वक्त-वक्त पर बहुत से लोगों ने इस बात को साबित किया है। आज हम आपको एक महान गणितज्ञ (Russian Mathematician) की कहानी बता रहे हैं, जिनके पिता की नफरत की वजह से हत्या कर दी गई और उनके परिवार को तमाम दुश्वारियां झेलनी पड़ी। बावजूद आज वह पूरी दुनिया के लिए मिसाल हैं। भारतीय कट्टरपंथियों के लिए भी ये कहानी एक सबक है। साथ ही अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस से ठीक एक दिन पूर्व जन्मी ओल्गा विश्व भर की महिलाओं के लिए भी एक आदर्श हैं।ये कहानी है रूस की महान गणितज्ञ ओल्गा लैडिजेनस्काया (Mathematician Olga Ladyzhenskaya) की। उनका जन्म 07 मार्च 1922 को रूस के कोलोग्रिव कस्बे में हुआ था। आज उनका 97वां जन्मदिवस है। 12 जनवरी 2004 को लगभग 82 वर्ष की आयु में उनका निधन हुआ था। ओल्गा के पिता भी गणित के शिक्षक थे। घर पर वही ओल्गा को गणित पढ़ाते थे। पिता की वजह से ही ओल्गा की गणित में रुचि बढ़ी। 1937 में सोवियत संघ की एक संस्था ने नफरत की वजह से ही उनके पिता की हत्या कर दी थी।जिस वक्त ओल्गा के पिता की हत्या हुई, वह महज 15 वर्ष की थीं। उस दौरान स्थानीय लोग भी ओल्गा के पिता समेत उनके पूरे परिवार से नफरत करने लगे थे। स्थानीय लोग भी ओल्गा के पिता व परिवार को अपना दुश्मन मानने लगे थे। ओल्गा भी नफरत की इस आग से अछूती नहीं रहीं थीं। पिता की हत्या के बाद ओल्गा को उच्च शिक्षा के लिए लेनिनगार्ड यूनिवर्सिटी में दाखिला लेना था, लेकिन नफरत की वजह से उन्हें कहीं दाखिला नहीं मिल रहा था।काफी प्रयासों के बाद बड़ी मुश्किल से ओल्गा को मॉस्को यूनिवर्सिटी में दाखिला मिला और उन्होंने स्नातक की डिग्री हासिल की। इसके बाद उन्होंने 1953 में लेनिनग्राद स्टेट यूनिवर्सिटी और मॉस्को स्टेट से अलग-अलग डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। पढ़ाई पूरी करने के बाद ओल्गा ने बच्चों को गणित पढ़ाना शुरू किया। उन्होंने लेनिनग्राद यूनिवर्सिटी में भी अध्यापन कार्य किया। इसके बाद वह 1959 में सेंट पीटर्सबर्ग मैथमेटिकल सोसायटी की सदस्य और फिर 1990 में संस्था की अध्यक्ष बनीं।
ये है ओल्गा की उपलब्धियां;-ओल्गा को गणित और फ्लुइड डायनमिक्स में महत्वपूर्ण योगदान के लिए 2002 में लोमोनोसोव से गोल्ड मेडल देकर सम्मानित किया गया था। उन्हें पर्शियल डिफरेंशल इक्वेशन और फ्लुइड डायनमिक्स के क्षेत्र में अहम योगदान के लिए पूरी दुनिया में याद किया जाता है। उनके इन इक्वेशंस (समीकरणों) की मदद से समुद्र विज्ञान, वायुगतिकी, हृदय विज्ञान और मौसम पूर्वानुमान में मदद मिलती है। इसके अलावा ओल्गा, नेवियर-स्टोक्स समीकरण को फाइनाइट डिफरेंस मेथड से सॉल्व और प्रूव करने वाली पहली गणितज्ञ हैं।
ओल्गा पर गूगल ने बनाया डूडल:-ओल्गा की उपलब्धियों की वजह से ही गूगल ने आज उनके सम्मान में डूडल बनाकर उन्हें याद किया है। Google Doodle में ओल्गा की फोटो के नीचे अवकल समीकरण (Differential Equation) भी दर्शाया गया है। मालूम हो कि गूगल विशेष मौकों पर डूडल बनाकर इसी तरह से विशेष लोगों को याद करता है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस से ठीक एक दिन पूर्व, ओल्गा का जन्मदिवस उन्हें और खास बनाता है। ओल्गा विश्व भर की महिलाओं के लिए भी एक आदर्श हैं कि कैसे विषम परिस्थितियों में भी कामयाबी हासिल की जा सकती है।
अफजल गुरू के बेटे ने भी ऐसे दिया था नफरत का जवाब:-कुछ दिन पहले भी संसद हमले के दोषी जम्मू-कश्मीर निवासी अफजल गुरू के बेटे 18 वर्षीय गालिब गुरू ने भी घाटी में नफरत फैलाने वाले अलगाववादियों और कट्टरपंथियों को एक सबक दिया था। गालिब गुरू ने कहा था कि उन्हें भारतीय होने पर गर्व है। साथ ही उन्होंने ये भी बताया था कि पिता की मौत के बाद घाटी में सक्रिय आतंकवादी संगठनों ने कैसे उन्हें आतंकी बनाने के लिए बार-बार उकसाया, लेकिन उनकी मां ने उन्हें आतंकवादी बनने से बचा लिया। मालूम हो कि अफजल गुरू 13 दिसंबर 2001 को संसद पर हुए हमले का दोषी था। इसके लिए उसे फांसी दी गई थी। उसकी मौत के बाद आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद ने उसी के नाम से अफजल गुरू सुसाइड स्क्वॉड बनाया, जिसमें आत्मघाती हमलावरों को शामिल किया जाता है। इसी आत्मघाती स्क्वॉड द्वारा 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर आतंकी हमला किया गया था, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे।

काबुल। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में तीन बम धमाकों से अफरा-तफरी मच गई। बताया जा रहा है कि काबुल के PD13 में एक राजनीतिक सभा के दौरान तीन बम धमाके हुए। इसके बाद फायरिंग की आवाज सुनाई दी। धमाके में कम से कम 14 लोग घायल हो गए हैं। बताया जा रहा है अब्दुल अली मज़ारी की 24 वीं पुण्यतिथि पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था, जहां पर बड़ी संख्या में लोग यहां मौजूद थे। जानकारी के मुताबिक, काबुल के पीडी 13 में मोर्टार से भी हमला किया गया। स्थानीय लोगों का कहना है कि कम से कम 10 धमाके हुए हैं।

इस्‍लामाबाद। पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama Terror Attack) जिम्‍मेदारी लेने वाला आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्‍मद के सरगना मसूद अजहर को एक ऑडियो क्लिप सामने आया है। इस क्लिप में उसने कहा है कि 'वह अभी जिंदा है।' उसने आगे कहा है कि 'अल्‍लाह से डरो।' यह ऑडियो क्लिप ऐसे वक्‍त आया है, जब पाकिस्‍तानी सेना ने यह दावा किया था कि जैश-ए-मुहम्‍मद संगठन उनके देश में नहीं है। सेना का कहना था कि इस संगठन से पाकिस्‍तानी हुकूमत का कोई लेना देना नहीं है।पाक सेना के इस बयान के बाद ही मसूद का यह आडियो क्लिप सामने आया है। तमाम अंतरराष्‍ट्रीय दबाव के उपरांत पाकिस्‍तान पुलिस ने उसके भाई और बेटे को पुलिस कस्‍टडी में लिया है। पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है।इस ऑडियो क्लिप के पहले मसूद को लेकर पाकिस्‍तानी सरकार और सेना के बीच दो अंतरविरोधी बयान सामने आए हैं। पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री महमूद कुरैशी ने कहा था कि मसूद अजहर फरार नहीं है, वह देश में ही है। इसके उलट पाकिस्‍तानी सेना के प्रवक्‍ता मेजर जनरल आसिफ गफ्फूर ने कहा था कि मसूद अजहर पाकिस्‍तान में नहीं है। सेना का कहना है जैश संगठन पाकिस्‍तान में नहीं है। सेना प्रवक्‍ता ने कहा ऐसे में जैश के खिलाफ कार्रवाई करने का औचित्‍य ही नहीं बनता है। इन सब बयानों के बीच पाकिस्‍तान पर आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने का दबाव बढ़ता जा रहा है। अमेरिका और फ्रांस समेत दुनिया के तमाम मुल्‍कों ने पाकिस्‍तान पर आतंकी संगठनों के खिलाफ ठोर कार्रवाई का आश्‍वासन मांगा है। उधर, आंतकवाद को धन मुहैया कराने के विरुद्ध नीतियों का निर्धारण करने वाली संस्‍था वित्तीय कार्रवाई कार्यदल (FATF) ने भी पाकस्तिान को आगाह किया है। पाकिस्‍तान के तमाम आग्रहों के बावजूद इस संस्‍था ने अपने पेरिस बैठक में पाकिस्‍तान को ग्रे लिस्‍ट में बरकरार रखा है।

 

 

इस्लामाबाद। पाकिस्‍तानी वित्‍त सचिव आरिफ अहमद खान ने बुधवार को कहा कि यदि वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) के सख्‍त आर्थिक प्रतिबंधों से बचना है तो पाक को जल्‍द ही कुछ सख्‍त कदम उठाने होंगे। वित्‍त सचिव का बयान ऐसे समय आया है, जब हाल में एफएटीएफ ने अपनी पेरिस बैठक में पाकिस्‍तान को ग्रे लिस्‍ट बाहर नहीं किया। हालांकि, परिस में हुई एफटीएएफ की बैठक में भारत ने पाकिस्‍तान को ब्‍लैक लिस्‍ट में डालने की पुरजोर वकालत की थी। आरिफ अहमद लोक लेखा समिति (पीएसी) की एक उप-समिति की बैठक में भाग लेने के बाद संवाददाताओं से बात कर रहे थे। वित्त सचिव ने कहा कि पाकिस्तान को एफएटीएफ की सिफारिशों को लागू करने के लिए कड़े कदम उठाने होंगे।कश्‍मीर के पुलवामा आतंकी हमले में 40 सुरक्षा बल के जवानों की मौत हो गई थी। इसके बाद से भारत ने पाकिस्‍तान पर दबाव बनाने के लिए कूटनीतिक पहल तेज कर दी है। भारत की कूटनीतिक पहल का नतीजा रहा है कि एफएटीएफ पाकिस्‍तान को ग्रे लिस्‍ट से बाहर नहीं कर सका। पाकिस्तान को आतंकवाद-रोधी वित्तपोषण पर अंकुश लगाने के लिए इस सूची में रखा गया है।भारत की इस कूटनीतिक पहल का नतीजा रहा है पाकिस्‍तान पर जबरदस्‍त दबाव है। इसके बाद पाकिस्‍तान ने अपने देश में दो आतंकी संगठनों पर प्रतिबंध लगाया। लेकिन बुधवार को पाकिस्‍तान वित्‍त सचिव ने कहा कि इस दिशा में हमें मई तक काफी काम करना होगा। उन्‍होंने चेतावनी दी कि अगर हम इस कार्य में निष्‍फल हुए तो पाकिस्‍तान को आर्थिक प्रतिबंधों से कोई नहीं बचा सकता है।दरअसल, वित्तीय कार्रवाई कार्यदल (FATF) एक अंतरसरकारी संस्‍था है, जो काले धन को वैध धन यानी मनी लांडरिंग को रोकने से संबंधित नीतियों को तैयार करती है। वर्ष 2001 में इसके कार्यक्षेत्र का विस्‍तार किया गया। एफएटीएफ अब आंतकवाद को धन मुहैया कराने के विरुद्ध नीतियों का निर्धारण करती है। इसका सचिवालय फ्रांस की राजधानी पेरिस स्थित आर्थिक सहयोग और विकास संगठन के मुख्यालय में है।

नई दिल्ली। कई दिनों से लापता भारतीय मूल की डेंटिस्ट की हत्या का सनसनी खेज मामला सामने आया है। डेंटिस्ट की हत्या के बाद उसका शव अटैची में रखा गया था। लापता होने से पहले डेंटिस्ट को एक होटल में एक युवक के साथ देखा गया था। मौत की ये गुत्थी उस वक्त उलझ गई जब होटल में डेंटिस्ट के साथ देखे गए युवक की भी संदिग्ध परिस्थितियों में एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। तमाम अपराध विशेषज्ञों के साथ ऑस्ट्रेलियाई पुलिस हत्या की गुत्थी को सुलझाने में जुटी हुई है।मृत डेंटिस्ट की पहचान 32 वर्षीय प्रीति रेड्डी के तौर पर हुई है। वह ऑस्ट्रेलिया के सिडनी शहर में रह रहीं थीं। उनके परिवार ने रविवार (03-मार्च-2019) को उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। वह अंतिम बार सिडनी के एक शहर सेंट लियोनार्ड्स में आयोजित एक डेंटिस्ट सम्मेलन में शामिल होने के लिए घर से निकली थीं।जांच में जुटी ऑस्ट्रेलियाई पुलिस को पता चला कि प्रीति रेड्डी रविवार की देर रात 2:15 बजे सेंट्रल सिडनी के स्ट्रैंड आर्केड स्थित मैकडॉनल्ड्स रेस्टोरेंट में देखी गई थीं। मैकडॉनल्ड्स के सीसीटीवी कैमरे में वह अकेली दिख रही थीं। हालांकि, आगे की जांच में पुलिस को पता चला कि प्रीति, रविवार को ही सिडनी CBD के मार्केट स्ट्रीट के एक होटल में अपने जानकार एक युवक के साथ ठहरी थीं।
डेंटिस्ट की कार में ही मिला शव:-प्रीति की तलाश में जुटी ऑस्ट्रेलियाई पुलिस को मंगलवार को उनकी कार सिटी सेंटर के दक्षिण में किंग्सफोर्ड की एक सड़क पर लावारिस खड़ी मिली। पुलिस ने कार की तलाशी ली तो उनके होश उड़ गए। कार की तलाशी में पुलिस को उसमें से क अटैची मिली। पुलिस ने अटैची खोली तो उसमें प्रीति का खून से लथपथ शव रखा था। पुलिस के अनुसार शव देखने से साफ है कि उन पर धारदार हथियार से कई हमले किए गए हैं।
कौन था वो युवक:-पुलिस के अनुसार होटल में प्रीति के साथ देखा गया युवक कौन था, ये अभी स्पष्ट नहीं है। हत्या की गुत्थी उस वक्त और उलझ गई, जब प्रीति का शव मिलने से ठीक पहले सोमवार रात पुलिस को उस युवक का शव हाईवे पर ही एक सड़क दुर्घटना में मिला। सड़क दुर्घटना में युवक की कार में भयंकर एक्सीडेंट के बाद आग लग गई थी। पुलिस के अनुसार उन्हें आशंका है कि युवक ने जानबुझकर इस दुर्घटना को अंजाम दिया था। ये सड़क दुर्घटना ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स में वॉलबादा और विलो ट्री के बीच हावर्ड रोड के पास हुई थी।
ये है आशंका:-पुलिस को आशंका है कि सड़क दुर्घटना में मरने वाला युवक, डेंटिस्ट प्रीति का ब्वॉयफ्रेंड हो सकता है। हो सकता है कि रविवार को दोनों के होटल में ठहरने के दौरान इनके बीच किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ हो। इसके बाद दोनों वहां से बाहर निकले। रास्ते में इनके बीच झगड़ा और बढ़ गया हो। इसके बाद युवक ने गुस्से में प्रीति की हत्या कर दी। हत्या के बाद युवक ने प्रीति के शव को ठिकाने लगाने के लिए अटैची में डाला, लेकिन ऐसा करने से पहले ही वह हिम्मत हार गया। इसके बाद आत्मग्लानि में उसने खुद को सड़क दुर्घटना में मौत के घाट उतार दिया हो। पुलिस हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए सभी आशंकाओं पर जांच कर रही है।

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बुधवार को कहा कि भारत से शांति बहाली के लिए वे अपने दूत को दिल्ली वापस भेज रहे हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान भारत से तनाव कम करने के लिए तैयार है। कुरैशी ने कहा कि अमेरिका, चीन और रूस जैसे देशों द्वारा राजनयिक प्रयासों की वजह से यह तनाव खत्म करने का सही समय है।शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि…
प्‍योंगयांग। उत्‍तर कोरिया ने अपने परमाणु मिसाइल परीक्षण स्‍थल का हिस्‍सा बहाल किया है। यह खबर ऐसे समय आई है जब हाल में वियतनाम के हनाई में हुई अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और उत्‍तर कोरियाई नेता किम जोंग उन की शिखर वार्ता विफल हो गई थी। दोनों नेता बड़ी उम्‍मीद से हनोई वार्ता में शामिल हुए थे, लेकिन यह बेनतीजा रही। अभी इस वार्ता को हुए एक पखवाड़ा भी नहीं…
नई दिल्‍ली। बालाकोट में हुई एयर स्‍ट्राइक के सदमे से पाकिस्‍तान उबर नहीं पाया है। अब उसको डर सता रहा है कि भारत इजरायल के साथ मिलकर उस पर दोबारा हमला कर सकता है। पाकिस्‍तान को लगता है कि इस बार यह हमला भारत राजस्‍थान के एयरबेस से कर सकता है। हालांकि पाकिस्‍तान के एक अंग्रेजी अखबार ने यहां तक कहा है कि सरकार को इसकी जानकारी होने के बाद…
नई दिल्ली। आपने मुर्गों की लड़ाई और बाज की रेस समेत पशु-पक्षियों की ऐसी कई अनोखी प्रतियोगिताओं के बारे में बहुत सी कहानियां सुनी या देखी होंगी, लेकिन इराक में इन दिनों कबूतरों की रेस का क्रेज सिर चढ़ कर बोल रहा है। यहां लोग कबूतरों की रेस पर हजारों-लाखों डॉलर का दांव लगाते हैं। ये इराक में आयोजित होने वाली कबूतरों की सबसे बड़ी और प्रतिष्ठित रेस है। इसके…
Page 6 of 26

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें