दुनिया

दुनिया (5106)


तिजुआना - मेक्सिको की सीमा तिजुआना पर नववर्ष के दिन अमेरिका में घुसने की कोशिश कर रहे लोगों पर आंसू गैस के गोले दागे गए। इस दौरान 25 आव्रजकों को गिरफ्तार भी किया गया। अमेरिका की सीमा गश्ती एजेंसी ने मंगलवार को इस बात की जानकारी दी। एजेंसी ने एक बयान जारी कर कहा कि सीमा पार करने की कोशिश कर रहे आव्रजकों के अलावा पत्थरबाजों को निशाना बनाते हुए आंसू गैस के गोलों छोड़े गए।
एजेंसी के बयान के मुताबिक,‘बच्चों और सीमा पर मौजूद किसी भी आव्रजक पर आंसू गैस के गोलों का असर नहीं पड़ा। इनका इस्तेमाल पत्थरबाजों को पीछे हटाने के लिये किया गया था।’ वहीं, समाचार एजेंसी के फोटोग्राफर का कहना है कि तिजुआना के तट के नजदीक गैस के 3 गोले छोड़े गए। इसका बच्चों, महिलाओं और पत्रकारों समेत कई आव्रजकों पर बुरा असर पड़ा है।
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अमेरिका की ओर से आंसू गैसे के गोले छोड़े जाने के बाद पत्थरबाजी शुरू हुई। एजेंसी ने कहा कि कुछ बच्चे कंटीले तार पार करने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन पत्थरबाजी के चलते अमेरिकी एजेंट्स उनकी मदद नहीं कर सके। इसके बाद एजेंट्स ने मिर्च और आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया। एजेंसी ने कहा कि 25 आव्रजकों को हिरासत में लिया गया है जबकि अन्य आव्रजक वापस मेक्सिको चल गए।
एक पत्रकार के मुताबिक सोमवार रात करीब आठ बजे तकरीबन 150 लोगों का एक समूह प्लायस डि तिजुआना में सीमा के नजदीक जमा हुआ जहां अमेरिकी सीमा रक्षक गश्त कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने सीमा पार करने की कोशिश की, जिसके जवाब में सीमा रक्षकों ने उनपर गोले दागे। अमेरिकी सीमाशुल्क और सीमा सुरक्षा एजेंसी (सीबीपी) ने कहा कि 45 आव्रजक वापस मैक्सिको चले गए हैं।
नवंबर में 500 आव्रजकों पर छोड़े गए आंसू गैस के गोले
बता दें कि नवंबर में सैन डिएगो की घटना के बाद यह ऐसा दूसरा मामला है। इससे पहले नवंबर के आखिर में भी तिजुआना इलाके में अमेरिकी सीमा अधिकारियों ने सीमापार करने की कोशिश कर रहे करीब पांच सौ आव्रजकों पर आंसू गैस के गोले और रबड़ की गोलियां दागी थीं।
मैक्सिको सीमा पर दीवार के लिए बजट को लेकर आंशिक शटडाउन
वहीं दूसरी तरफ अमेरिका में मैक्सिको सीमा पर दीवार के लिए बजट को लेकर शुरू हुआ आंशिक शटडाउन अब भी जारी है। इसे खत्म कराने के लिए डेमोक्रेट सांसद वोटिंग कराएंगे। बृहस्पतिवार को प्रतिनिधि सभा में विनियोग विधेयक पर चर्चा के बाद वोटिंग करवाई जाएगी। हालांकि दीवार बनाने के लिए धन की व्यवस्था न होने से विधेयक का भविष्य अधर में ही दिख रहा है। क्योंकि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अवैध प्रवासियों पर लगाम लगाने के लिए पैसे जारी करने की मांग पर अड़े हैं।

 


वाशिंगटन - अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मेक्सिको की सीमा पर बनाई जाने वाली दीवार की तुलना पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के घर के बाहर बनाई गई सुरक्षा दीवार से की है। उन्होंने कहा, 'वाशिंगटन डीसी स्थित ओबामा और मिशेल के बंगले के चारों ओर दस फीट ऊंची दीवार बनी है। मैं मानता हूं कि सुरक्षा के लिए यह बहुत जरूरी है। अमेरिका को भी ऐसी ही एक बड़ी दीवार की जरूरत है।'
शरणार्थियों के अवैध प्रवेश को रोकने के लिए मेक्सिको सीमा पर दीवार बनाना ट्रंप के प्रमुख चुनावी वादों में है। इसके लिए उन्होंने संसद से पांच अरब डॉलर (करीब 35 हजार करोड़ रुपये) के बजट की मांग की थी। इस बजट को लेकर सत्तारूढ़ रिपब्लिकन और विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों में सहमति नहीं बन पाने से अमेरिका में आंशिक शटडाउन की स्थिति है।
इसकी वजह से सरकार का करीब 25 फीसद कामकाज प्रभावित हुआ है। इस सब के बीच ट्रंप ने ओबामा के घर को लेकर यह बयान दिया है। ओबामा ने 8,200 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में बने इस बंगले को जनवरी, 2017 में राष्ट्रपति पद से हटने के बाद लीज पर लिया था। इसकी कीमत करीब 41 करोड़ रुपये है।

 


नई दिल्ली - दुबई से लखनऊ आ रही एयर इंडिया एक्सप्रेस की फ्लाइट में शनिवार रात एक व्यक्ति की हरकतों ने यात्रियों और क्रू मेंबरों को हैरान कर दिया। इस व्यक्ति ने अचानक अपने कपड़े उतार दिए और अपनी सीट से उठकर विमान के भीतर टहलने लगा। इस हरकत से यात्री अवाक रह गए। क्रू मेंबरों ने किसी तरह उसे कम्बल में लपेटा और उसकी सीट पर जाकर बैठ दिया। लखनऊ में फिर उसे सीआईएसएफ के हवाले कर दिया गया।
सूत्रों के मुताबिक शनिवार देर रात दुबई से लखनऊ आ रही एयर इंडिया एक्सप्रेस की फ्लाइट (आईएक्स-194) में अचानक एक यात्री अपने कपड़े उतार दिए। अर्धनग्न हालत में प्लेन के भीतर चहलकदमी शुरू कर दी। एकाएक यह सब देखकर प्लेन में मौजूद यात्री ही नहीं, क्रू-मेंबर भी सन्न रह गए। विमान में उस समय करीब 150 यात्री थे। इनमें बहुत सी महिलाएं भी थीं। इस हरकत पर किसी को कुछ समझ नहीं आया कि ये क्या हो रहा है। आनन-फानन में क्रू मेंबर्स उस व्यक्ति को समझाने की कोशिश की। इसके बाद उस पर कम्बल डाल कर लपेटा और काबू में किया। इसके बाद सीट पर बैठा दिया। लखनऊ एयरपोर्ट में उतरने तक उसके पास खड़े रहे। मध्य रात लखनऊ एयरपोर्ट में विमान उतरने के बाद उस व्यक्ति को सीआईएसएफ के हवाले कर दिया गया। किन परिस्थितियों में यात्री ने ऐसा किया, इसे लेकर कोई साफ बात सामने नहीं आई है। सूत्रों की मानें तो अजीबो गरीब हरकत करने वाले व्यक्ति का मानसिक संतुलन कुछ ठीक नहीं लग रहा था।
एयरपोर्ट पर 'रिवॉल्वर' मिलने से हड़कंप-
राजधानी के चौधरी चरण सिंह इन्टरनेशनल एयरपोर्ट बिल्डिंग में रविवार को लावारिस हालत में एक ‘रिवाल्वर' पड़ा मिलने से हड़कंप मच गया। आनन-फानन इसकी सूचना अधिकारियों को दी गई। मौके पर पहुंचे सीआईएसएफ जवानों ने जांच पड़ताल की। बाद में पता चला कि वह बच्चों का खेलने वाला खिलौना प्लास्टिक का रिवाल्वर था। इसके बाद सभी ने राहत की सांस ली। चौधरी चरण सिंह इन्टरनेशनल एयरपोर्ट की नई टर्मिनल बिल्डिंग में रविवार सुबह करीब 6 बजे विमान में सवार होने वाले यात्रियों के लिए बोर्डिंग हो रही थी। तभी एक यात्री को डस्टबिन के अंदर रिवाल्वर नुमा शस्त्र पड़ा नजर आया। इसके बाद हड़कम्प मच गया।

 


नई दिल्ली - पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर अपनी सैन्य क्षमता मजबूत करने के लिए करीब 600 युद्धक टैंक खरीदने की महत्वाकांक्षी योजना बनाई है। इसमें रूस से टी-90 टैंक हासिल करना भी शामिल है। सैन्य और खुफिया सूत्रों ने रविवार को यह दावा किया।
सीमा पर ताकत की जुगत
सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तान की इस योजना का मुख्य मकसद भारत से लगी सीमा पर अपनी लड़ाकू क्षमता को मजबूत बनाना है। इनमें से ज्यादातर टैंक तीन से चार किलोमीटर की दूरी तक के लक्ष्य को भेदने में सक्षम होंगे। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान कुछ टैंकों को जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर तैनात करने वाले हैं।
टी-90 टैंक पाने का प्रयास
सूत्रों के अनुसार, युद्धक टैंकों के अलावा पाक सेना इटली से 150 एमएम की 245 एसपी माइक-10 भी खरीद रही है। इनमें से 120 तोपें वह हासिल कर चुकी है। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान रूस से कई टी-90 युद्धक टैंक खरीदने की सोच रहा है, जो भारतीय थलसेना का मुख्य आधार है।
पाकिस्तान का यह कदम रूस के साथ मजबूत रक्षा संबंध बनाने के उसके इरादे को प्रदर्शित करता है। पाकिस्तान ने पिछले कुछ सालों में रूस के साथ संयुक्त सैन्य अभ्यास किए हैं। उसने रूस से रक्षा खरीद भी की है, जिससे भारत को कुछ चिंता हुई है। गौरतलब है कि रूस भारत का सबसे बड़ा व सबसे भरोसेमंद रक्षा साजो-सामान आपूर्तिकर्ता है।
स्वदेश में भी तैयार कर रहा टैंक
सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान ने साल 2025 तक अपने बख्तरबंद बेड़े को मजबूत करने के लिए वैश्विक स्तर पर कम से कम 360 युद्धक टैंक खरीदने का फैसला किया है। इसके अलावा चीन की मदद से वह 220 टैंक स्वदेश में ही तैयार कर रहा है।
एलओसी पर तनाव के बीच योजना
अपनी बख्तरबंद कोर को मजबूत करने के लिए पाक सेना ने यह कदम ऐसे वक्त उठाया है, जब जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर पिछले एक साल में शत्रुता बढ़ती हुई दिखी है। बगैर उकसावे के पाकिस्तान की ओर से की गई हर गोलीबारी का भारतीय थलसेना ने माकूल जवाब दिया है। भारत के बख्तरबंद रेजीमेंटों में मुख्य रूप से टी-90, टी-72 और अर्जुन टैंक शामिल हैं। इससे उसे पाकिस्तान पर सर्वोच्चता हासिल है। लेकिन सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान इस खाई को जल्द पाटने के फेर में है।
सूत्रों ने बताया कि भारतीय थलसेना की करीब 67 बख्तरबंद रेजीमेंटों के मुकाबले पाक थलसेना के इसी तरह के रेजीमेंटों की संख्या करीब 51 है। टी-90 टैंकों के अलावा, पाक सेना चीनी वीटी-4 टैंक तथा यूक्रेन से अपलोड-पी टैंक हासिल करने की प्रक्रिया में है। इन दोनों तरह के टैंकों के लिए पाकिस्तान सेना पहले से ही परीक्षण कर रही है।

 

लंदन। थाईलैंड की गुफा में बाढ़ में फंसी जूनियर फुटबॉल टीम को बचाने में मदद करने वाले ब्रिटिश गोताखोरों के दल को ब्रिटेन के पारंपरिक नववर्ष सम्मानों से नवाजा गया है। इसकी घोषणा शुक्रवार को की गई।चार गोताखोरों को असाधारण बहादुरी तथा तीन अन्य को सर्वश्रेष्ठ ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एंपायर (एमबीई) सम्मान से नवाजा गया। गुफा में फंसे बच्चों और कोच तक सबसे पहले पहुंचने वाले गोताखोरों रिचर्ड स्टैंटन और जॉन वॉलेंथन को देश का दूसरा सर्वश्रेष्ठ वीरता पुरस्कार जॉर्ज मेडल दिया गया। साथी गोताखोरों क्रिस्टोफर ज्यूल और जैसन मैलिसन को क्वींस गैलेंट्री मेडल दिया गया। जोशुआ ब्रैचली, कोनोर रो और वेर्नोन अन्सवर्थ को मेंबर ऑफ द मोस्ट एक्सिलेंट ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एंपायर (एमबीई) से सम्मानित किया गया।थाईलैंड में 23 जून को अंडर-16 टीम के 12 खिलाड़ी और कोच थाम लुआंग गुफा में बाढ़ में फंस गए थे। उन्हें बचाने के लिए कई देशों ने अभियान में सहयोग दिया था। 10 जुलाई को सभी खिलाडि़यों और टीम के कोच को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया था।
ट्विगी को मिला डैमहुड अवार्ड:-पूर्व सुपर मॉडल ट्विगी को डैमहुड पुरस्कार दिया गया। ट्विगी के नाम से मशहूर लेस्ली लॉसन (69) को यह पुरस्कार फैशन में सेवाओं के लिए दिया गया। हॉलीवुड निर्देशक क्रिस्टोफर नोलान को फिल्मों में सेवा के लिए सीबीई (कमांडर ऑफ द मोस्ट एक्सिलेंस ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एंपायर), जबकि ब्रेग्जिट समर्थक सांसद जॉन रेडवुड को नाइटहुड सम्मान से नवाजा गया। 'डॉउनटाउन एबी' के अभिनेता जिम कार्टर, बेस्ट सेलिंग लेखक फिलिप पुलमैन और कॉमेडी समूह मोंटी पाइथॉन के सदस्य माइकल पैलिन को भी सम्मानित किया गया।

नई दिल्‍ली। भारत के पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश में 11वें संसदीय चुनाव के लिए मतदान हो रहा है। यहां की राजनीति अवामी लीग प्रमुख शेख हसीना और बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) मुखिया खालिदा जिया के इर्द-गिर्द ही घूमती है और चुनावों में जंग भी इन्हीं के बीच होती रही है। जहां शेख हसीना के साथ भारत के संबंध हमेशा बेहतर रहे हैं। वहीं खालिदा जिया के नई दिल्ली के साथ रिश्ते हमेशा तनावपूर्ण रहे हैं। ऐसे में यह चुनाव भविष्य में दोनों देशों के बीच संबंधों की दशादिशा नए सिरे से तय करेंगे।
भारत की चिंता:-भारत बांग्लादेश में निष्पक्ष चुनाव का पक्षधर रहा है। लेकिन जमात-एइस्लामी की सक्रियता भारत के लिए चिंता का विषय है, क्योंकि उसकी जड़ें पाकिस्तान में हैं। हालांकि यह पार्टी चुनाव नहीं लड़ रही है, क्योंकि 2013 में उसका पंजीकरण रद कर दिया गया था, लेकिन उसने 300 में से 25 सीटों पर अपने सदस्यों को बीएनपी के टिकट पर उतारा है। बीएनपी यहां की अन्य प्रमुख पार्टी है, जो 2001 में सत्ता में आई थी। लेकिन भारत के साथ उसके संबंध तनावपूर्ण रहे थे। ऐसे में कई विशेषज्ञों का मानना है कि यदि दोनों का गठबंधन सत्ता में आ जाता है तो भारत के उत्तर पूर्व में अस्थिरता का खतरा बढ़ जाएगा।
दस करोड़ से अधिक मतदाता:-बांग्लादेश में 300 में से 299 संसदीय सीटों पर हो रहे चुनाव में करीब 1,848 प्रत्याशी मैदान में है। देशभर में 40,183 मतदान केंद्र बनाए गए है, जिनमें 10 करोड़ से अधिक मतदाता वोट डालेंगे। मतदान केंद्रों और उसके आसपास की सुरक्षा के लिए करीब छह लाख सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं। बता दें कि चुनाव में आवामी लीग की प्रमुख और प्रधानमंत्री शेख हसीना चौथी बार सत्ता हासिल करने की कोशिश में है। दूसरी तरफ मुख्य विपक्षी पार्टी ‘बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी’ की अध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया भ्रष्टाचार के मामले में सजायाफ्ता होने के चलते चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित हैं। वह जेल में सजा काट रही हैं। प्रधानमंत्री शेख हसीना ने आशंका जताई है कि अपनी हार से बचने के लिए विपक्षी बीएनपी चुनाव का बहिष्कार कर सकती है। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसी स्थिति में वह चाहती हैं कि उनके व अन्य पार्टी के प्रत्याशी मतदान जारी रहने दें।
मुल्क का गठन:-1947 में भारत के विभाजन के बाद पूर्वी पाकिस्तान कहलाया जाने वाला बांग्लाभाषी इलाका साल 1971 में पश्चिमी पाकिस्तान के नाम से अलग हुआ और बांग्लादेश नाम से नया मुल्क अस्तित्व में आया था। 1975 में शेख मुजीबुर्रहमान की हत्या और तख्तापलट के बाद 15 साल तक यहां सैन्य शासन रहा। लोकतंत्र की स्थापना 1990 में हुई।
राजनीतिक खींचतान:-यहां की दो प्रमुख पार्टियों अवामी लीग और बीएनपी के बीच असली लड़ाई होती है। मगर कभी आवामी लीग ने तो कभी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी ने चुनाव का बहिष्कार किया। 1991 में खालिदा की पार्टी को जीत मिली और वह प्रधानमंत्री बनीं। 1996 के चुनाव में आवामी लीग ने मांग की कि चुनाव पिछली बार की ही तरह केयर टेकर सरकार की निगरानी में हों। जिया ने यह मांग नहीं मानी और छठा चुनाव हो गया। इसमें अवामी लीग ने हिस्सा नहीं लिया। अंतरराष्ट्रीय समुदाय का दबाव बना तो 13वां संविधान संशोधन कर पांच नए प्रावधान बने। तय हुआ कि सरकार का कार्यकाल पूरा होने पर केयर टेकर सरकार बनेगी जो तीन महीने में चुनाव कराएगी। इस तरह से सातवें आम चुनाव 1996 में हुए और आवामी लीग सत्ता में आ गई। शेख हसीना प्रधानमंत्री बन गईं। फिर 2001 का चुनाव (आठवां) भी केयर टेकर सरकार की निगरानी में हुआ और जि़या प्रधानमंत्री बनीं।
विवाद फिर उठ खड़ा हुआ;-जब नौवें चुनाव की बारी आई तो विवाद हो गया। 2006 में मुद्दा उठा कि केयर टेकर सरकार का मुख्य सलाहकार कौन होगा। खालिदा जिया ने बदलाव करके जजों की रिटायरमेंट की उम्र बढ़ा दी। आरोप लगा कि ऐसा इसलिए किया गया ताकि उनकी पसंद के चीफ जस्टिस उस समय रिटायर हों, जब वह केयर टेकर सरकार के मुख्य सलाहकर बनें। आवामी लीग ने इसका विरोध किया और कहा कि हम चुनाव में हिस्सा नहीं लेंगे। इसके बाद सेना ने अप्रत्यक्ष तौर पर दखल दिया। दिसंबर 2008 में नौवें संसदीय चुनाव हुए जिनमें शेख हसीना को बहुमत मिला। उन्होंने 15 वां संविधान संशोधन किया और 13वें संशोधन में की गई केयर टेकर सरकार की व्यवस्था को खत्म किया।
बेहतर हुए रिश्ते:-भारत-बांग्लादेश के संबंधों में हर मोर्चे पर परिवर्तन आया है। दोनों देशों के बीच चल रही अनेक परियोजनाएं पूरी होने को हैं। कोलकाता से बांग्लादेश होती हुई उत्तर पूर्व क्षेत्र में जाने वाली बस सेवा शुरू हो गई है, जिससे उस क्षेत्र में जाने के लिए समय व दूरी में कमी आई है। पश्चिम बंगाल के उत्तरी इलाके में भूमि सीमा विवाद के साथ लंबे समय से अटका समुद्री सीमा विवाद भी हल हो गया है। तीस्ता जल-बंटवारे का समाधान भी प्रगति की ओर है।
चुनावों का बहिष्कार:-2014 में चुनाव हुए तो खालिदा जिया की पार्टी ने सवाल उठाया कि अगर केयर टेकर सरकार की निगरानी के बिना चुनाव होंगे तो इनके निष्पक्ष होने की गारंटी नहीं है। ऐसे में उसने चुनाव का बहिष्कार कर दिया। नतीजा यह रहा कि अधिकतर सीटों पर आवामी लीग निर्विरोध जीत गई और लगातार दूसरी बार उसकी सरकार बन गई।

ढाका। बांग्लादेश में आम चुनावों के लिए मतदान जारी है। सरकार की ओर से मतदान को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। बांग्लादेश की 300 में से 299 संसदीय सीटों पर हो रहे चुनाव में करीब 1,848 प्रत्याशी मैदान में है। देशभर में 40,183 मतदान केंद्र बनाए गए है, जिनमें 10 करोड़ से अधिक मतदाता वोट डाल रहे हैं। मतदान केंद्रों और…
बोगोटा। कोलंबिया के राष्ट्रपति इवान डुक्यू पर हमले की साजिश के मामले में अधिकारी जांच कर रहे हैं। कोलंबिया के विदेश मंत्री कार्लोस होम्‍स ने बताया कि कोलंबिया की खुफिया सेवाओं को डुक्यू की हत्या की साजिश रचे जाने की खबरें मिल रही थीं। उन्होंने बताया कि हाल ही में वेनेजुएला के तीन लोगों की गिरफ्तारी के बाद अधिकारियों की चिंता और बढ़ गई है।कार्लोस होम्स के अनुसार, इन लोगों…
वाशिंगटन। पाकिस्तान के पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ का एक वीडियो सामने आया है। इसमें वह पाकिस्तान की सत्ता फिर से पाने के लिए अमेरिका से गुप्त मदद मांगते दिख रहे हैं। वह अमेरिकी सांसदों से यह कहते सुनाई दे रहे हैं कि वह इस बात से बेहद शर्मिदा थे कि अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन के ठिकाने का पता लगाने को लेकर आइएसआइ का रवैया लापरवाही भरा था।अमेरिकी सांसदों से…
ढाका। बांग्लादेश में रविवार को होने जा रहे मतदान के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। 300 में से 299 संसदीय सीटों पर हो रहे चुनाव में करीब 1,848 प्रत्याशी मैदान में है। देशभर में 40,183 मतदान केंद्र बनाए गए है, जिनमें 10 करोड़ से अधिक मतदाता वोट डालेंगे। मतदान केंद्रों और उसके आसपास की सुरक्षा के लिए करीब छह लाख सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं।बीते 16 दिसंबर…
Page 6 of 365

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें