दुनिया

दुनिया (351)

नैरोबी। इथोपिया विमान हादसे का ब्लैक बॉक्स मिल गया है। इथियोपियन एयरलाइंस का बोइंग 737-800 विमान रविवार की सुबह दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इथियोपियन एयरलाइंस का चार माह पहले ही खरीदा गया नया बोइंग 737-800 विमान उड़ान भरने के सिर्फ छह मिनट बाद ही क्रैश हो गया। विमान में सवार सभी 157 लोगों की मौत हो गई, जिसमें चार भारतीय भी शामिल थे।मिली जानकारी के अनुसार, दुर्घटनाग्रस्त हुए विमान के दो ब्लैक बॉक्स मेिले हैं। जिसमें विमान हादसे के कारण का पता लगाया जा रहा है। विमान में भारत, चीन, अमेरिका, इटली, फ्रांस, ब्रिटेन और मिस्र के नागरिक भी सवार थे। इसके पहले वर्ष 2010 में इथोपियन एयरलांइस का एक विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ था। उस वक्त यह विमान बेरुत से उड़ान भरने के कुछ मिनटों बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस हादसे में सवार सभी 90 यात्रियों की मौत हो गई थी।मालूम हो कि भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने विमान हादसे में मारे गए लोगों के प्रति शोक जताया है। मारे गए भारतीयों में वैद्य पन्नागेश, वैद्य हासिन अन्नागेश, नुकावारपु मनीषा और शिखा गर्ग हैं। विदेश मंत्री ने इथोपिया स्थित उच्चायुक्त से भारतीय मृतकों के परिजनों की हर मदद करने को कहा है।

इस्लामाबाद:-पुलवामा आतंकी हमले Pulwama terror attack का बदला लेने के लिए पाकिस्तान के खिलाफ भारत की कार्रवाई Air Strike के बाद यहां के सत्ता पक्ष और विपक्ष की एकजुटता की दीवार टूटकर गिरने लगी है। इसके लिए कोई और नहीं बल्कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान खुद ही जिम्मेदार हैं। क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान को पिछले हफ्ते सिंध प्रांत के थर में एक जनसभा में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के सांसद और पूर्व पीएम बेनजीर भुट्टो के बेटे बिलावल भुट्टो की आलोचना करना भारी पड़ सकता है। हो सकता है कि बिलावल भुट्टो अपनी प्रतिद्वंद्वी और पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एन) के सुप्रीमो नवाज शरीफ के साथ हाथ मिला लें। उन्होंने सोमवार को इसका संकेत भी दे दिया।
मियां नवाज शरीफ से मिले बिलावल:-सोमवार को बिलावल भुट्टो ने लाहौर की कोट लखपत जेल में सजा काट रहे पूर्व प्रधानमंत्री मियां नवाज शरीफ से मुलाकात की। इसके बाद आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में हालांकि उन्होंने कहा कि इस मुलाकात के सियासी मायने न लगाए जाएं क्योंकि वे मियां शरीफ की तबियत का हाल जानने आए थे और उनसे कहने आए थे कि वे इलाज न करवाने की जिद छोड़ दें। लेकिन, सियासी जानकार इस बैठक को भावी राजनीति की शुरुआत मान रहे हैं क्योंकि बिलावल ने कहा कि शरीफ की तबियत के बारे में पूछने के अलावा उन्होंने उनसे चार्टर ऑफ डेमोक्रेसी को लेकर भी चर्चा की। बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो और नवाज शरीफ के बीच 2006 में चार्टर ऑफ डेमोक्रेसी पर सहमति जताई गई थी।
इमरान से नाराजगी क्यों:-बिलावल भुट्टो सिर्फ अपनी आलोचना से ही नाराज नहीं है बल्कि हाल में नेशनल एसेंबली में बजट पर चर्चा के दौरान अंग्रेजी में दिए गए उनके भाषण का मजाक उड़ाए जाने से भी खफा हैं। दरअसल, उनके भाषण के बाद प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीके इन्साफ के एक नुमाइंदे असद उमर ने बिलावल का मजाक उड़ाया था। यही नहीं, उमर ने बिलावल के नाम के साथ भुट्टो और जरदारी के इस्तेमाल पर भी तंज किया था। इस पर बिलावल ने व्यंग्य करते हुए कहा कि इमरान सरकार ने अभी नाम के आगे पिता के नाम का इस्तेमाल नहीं किए जाने का कोई नोटिफिकेशन जारी नहीं किया है। इमरान की आलोचना और अंग्रेजी भाषण का मजाक उड़ाए जाने के बाद बिलावल भुट्टो और उनकी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी ने मियां नवाज शरीफ के साथ हाथ मिलाने का संकेत देकर इमरान की धड़कनें बढ़ा दी हैं।
नए सियासी गठजोड़ का संकेत:-प्रेस कांफ्रेंस में संवाददाताओं के सवालों के जवाब में बिलावल ने इसके संकेत भी दे दिए। उन्होंने कहा कि हम शरीफ की पार्टी के साथ अपनी पुरानी दुश्मनी के साथ नहीं जी सकते हैं। बता दें कि बिलावल के पिता आसिफ अली जरदारी को शरीफ के प्रधानमंत्रित्व काल में ही गिरफ्तार कर इसी कोट लखपत जेल में रखा गया था। तब बिलावल अपने पिता से मिलने इस जेल में आया करते थे। उसे याद करते हुए बिलावल ने सोमवार को कहा कि यह उनके लिए एक ऐतिहासिक दिन है। कहीं ऐसा न हो कि उनकी तरह इमरान खान के बच्चों को भी अपने पिता को देखने यहां आना पड़े। यह इमरान को खुली चुनौती है। अब देखना यह है कि यह नई सियासी समझदारी पाकिस्तान में क्या रंग दिखाती है

इस्लामाबाद।पाकिस्‍तान की मीडिया में इन दिनों सत्‍ता पक्ष और विपक्ष के नेताओं की कुल आय पर बहस छिड़ी है। एक मीडिया रिपोर्ट में पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान और विपक्षी नेताओं की आय का लेखाजोखा दिया गया है। इस रिपोर्ट में प्रमुख नेताओं की आय की तुलना की गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इमरान की शुद्ध आय में पिछले तीन वर्षों में भारी कमी देखी गई है, वहीं विपक्ष के नेता शाहबाज की आय में निरंतर वृद्धि हो रही है। पाकिस्‍तान में यह चर्चा का विषय है। दरअसल, यह प्रवृत्ति रही है कि राजनीति में आने के बाद प्राय: राजनेताओं की आय में वद्धि होती है। लेकिन पाकिस्‍तान में तस्‍वीर उलटी है।इस मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि तीन वर्षों के दौरान इमरान खान की आय में गिरावट हुई है। वर्ष 2015 में क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान की शुद्ध आय 3.56 करोड़ पाकिस्‍तानी रुपये थी। वर्ष 2016 में यह आय घटकर 1.29 करोड़ रुपये रह गई। इसके बाद इस रकम में और कमी आई। यह रकम घटकर 0.74 करोड़ रुपये पहुंच गई है। करीब तीन सौ फीसद की गिरावट आई है। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि वर्ष 2015 में खान की आय का एक बड़ा हिस्‍सा उनके इस्‍लामाबाद में एक अपार्टमेंट की बिक्री से मिला। इस अपार्टमेंट की ब्रिकी से उनकी आय में एक करोड़ रुपये के अधिक का इजाफा हुआ था। इसके बाद 9.80 करोड़ रुपये विदेश से आए।इसके विपरीत नेशनल असेंबली में विपक्ष के नेता शाहबाज शरीफ की आय में लगातार वृद्धि हो रही है। वर्ष 2015 में शरीफ की शुद्ध आय 0.76 करोड़ रुपये से बढ़कर वर्ष 2017 में एक करोड़ रुपये को पार कर गई। इसके अलावा पूर्व राष्‍ट्रपति आसिफ अली जरदारी की शुद्ध आय 10.5 करोड़ रुपये थी। आय का अधिकांश हिस्‍सा कृषि क्षेत्र से था। वर्ष 2016 में बढ़कर 11.4 करोड़ रुपये हो गई। वर्ष 2017 में 13.4 करोड़ रुपये तक बढ़ गई। उनके पास 7748 एकड़ जमीन है। इस मामले में जरदारी के बेटे बिलावल भुट्टो जरदारी अपने पिता से अधिक अमीर हैं। उनके पास मौजूदा संपत्ति अपने पिता से अधिक है।

बीजिंग। चीन की ओर से एक बड़ी खबर यह आ रही है कि उसने इथोपिया विमान हादसे के बाद बोइंग की सेवाएं रोक दी है। चीन के नागर विमाननन प्राधिकरण ने अपने एक बयान में कहा है कि विमान संरक्षा से संबंधित सभी पहलुओं की पुष्टि होने के बाद ही बोइंग का दोबारा व्‍यावसायिक इस्‍तेमाल फ‍िर से शुरू होगा। इस बीच इंडोनेशिया ने सोमवार को दुर्घटनाग्रस्‍त बोइंग की जांच के लिए इथिपो‍याई सरकार से मदद की पेशकश की है। बता दें रविवार को बोइंग विमान दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया था, इसमें चार भारतीय समेत 157 यात्रियों की मौत हो गई।चीन ने यह कदम उस समय उठाया है, जब केन्‍या में एक इथियोपियन एयरलाइंस का बोइंग 737-800 विमान रविवार की सुबह दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया था। इस विमान में सवार सभी 157 यात्रियों की मौत हो गई थी। इथियोपियन एयरलाइंस का चार माह पहले ही खरीदा गया नया बोइंग 737-800 विमान उड़ान भरने के बाद सिर्फ छह मिनट बाद ही क्रैश हो गया। विमान में सवार सभी 157 लोगों की मौत हो गई, जिनमें चार भारतीय भी शामिल थे।हादसाग्रस्‍त विमान बोइंग 737-800 ने इथोपिया की राजधानी एडिस अबाबा से स्‍थानीय समय 8.38 बजे नैरोबी के लिए उड़ान भरी थी। एयर लाइंस के अनुसार एयरपोर्ट से उड़ते ही विमानन का कंट्रोल रूम से ही संपर्क टूट गया। विमान एडिस अबाबा के दक्षिण पूर्व में क्रैश होने की आशंका है। बता दें कि विमान में भारत, चीन अमेरिका, इटली, फ्रांस, ब्रिटेन और मिस्र के नागरिक सवार थे। गौरतलब है कि इथोपियन एयरलांइस के यात्री विमान की आखिरी बड़ी दुर्घटना वर्ष 2010 में हुई थी। उस वक्‍त यह विमान बेरुत से उड़ान भरने के कुछ मिनटों बाद दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया था। इस हादसे में सवार सभी 90 यात्रियों की मौत हो गई थी।उधर, एयरलाइन के सीइओ ने पत्रकारों को बताया कि अभी इसकी जानकारी नहीं है कि बोइंग विमान कैसे दुर्घटनाग्रस्‍त हुआ। हालांकि, उन्‍होंने कहा कि पायलट ने परेशानी में होने की सूचना भेजी थी। इसके बाद से लौटने की मंजूरी दी गई थी। उन्‍होंने बताया कि यह विमान नया था। यह नवंबर में एयरलाइन के बेड़े में शामिल किया गया। सरकारी इथोपियन एयरलाइंस अफ्रीका में सबसे अच्‍छी एयरलाइन की सेवा मानी जाती है।इस बीच भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने विमान हादसे में शोक जताते हुए कहा है कि मारे गए भारतीयों मे नाम वैद्य पन्‍नागेश, वैद्य हासिन अन्‍नागेश, नुकावारपु मनीषा और शिखा गर्ग हैं। विदेश मंत्री ने कहा कि इथोपिया स्थित उच्‍चायुक्‍त से भारतीय मृतकों के परिजनों की हर मदद करने को कहा है।

न्यूयॉर्क। शोधकर्ताओं ने शरीर में पाए जाने वाले एक ऐसे जीन की खोज की है जो सामान्य तौर पर लिए जाने वाले एंटीबॉयोटिक वैंकोमाइसिन से होने वाले रिएक्शन को बढ़ाता है। वैंकोमाइसिन एक ऐसा एंटीबायोटिक है जिसका उपयोग गंभीर जानलेवा बैक्टीरियल इंफेक्शन के इलाज में किया जाता है। कुछ लोगों में एंटीबॉयोटिक लेने से रिएक्शन हो जाता है जिसे ड्रेस (ड्रग रैश विद इयोसिनोफिलिया एंड सिस्टेमिक सिमटम्स) भी कहते हैं।शोधकर्ताओं ने बताया कि अभी तक यह अध्ययन नहीं किया गया था कि रिएक्शन की यह समस्या कहीं आनुवंशिक तो नहीं जो केवल विशिष्ट प्रकार के रोगियों में होती है। अब एक नए अध्ययन में अमेरिका की वेंडरबिल्ट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने बताया कि वैंकोमाइसिन से उन्हीं रोगियों में ड्रेस के फैलने की संभावना होती है जिनके शरीर में ह्यूमन ल्यूकोसाइट एंटीजन (एचएलए) जीन पाया जाता है। ड्रेस होने पर शरीर में तेज बुखार रहता है इसके साथ ही त्वचा में लाल चकत्ते पड़ जाते हैं और अंदर के कई ऊतकों को काफी नुकसान पहुंचता है। एलर्जी एंड क्लीनिकल इम्यूनोलॉजी जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार एचएलए जीन शरीर में कुछ खास एंटीबॉयोटिक होने पर रिएक्शन करता है। शोधकर्ताओं ने उन मरीजों में विशेष गामा-इंटरफेरान इएलआइ स्पाट परीक्षण किया, जिनमें ड्रेस फैल चुका था।शोधकर्ता एलिजाबेथ फिलिप्स ने बताया कि इस परीक्षण का मुख्य उद्येश्य उन एंटीबायोटिक की पहचान करना था जो विशेष रूप से ड्रेस के लिए जिम्मेदार होता है, जिससे कि रोगियों को उनके प्रति सजग किया जा सके। उन्होंने परीक्षण में पाया कि मुख्यत: वैंकोमाइसिन और अन्य एंटीबायोटिक इसके कारक हैं। उन्होंने बताया कि यह शोध चिकित्सा क्षेत्र में बहुत ही महत्वपूर्ण हैं क्योंकि अभी हम दवाओं से किसी विशेष जीन से होने वाले रिएक्शन के बारे में शून्य के बराबर जानते हैं।

 

 

 

वाशिंगटन। हनोई शिखर वार्ता की विफलता के बाद एक बार फ‍िर अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और उत्‍तर कोरियाई नेता किम जोंग उन से मिलने के लिए राजी हो गए हैं। बता दें कि हाल में ट्रंप और किम जोंग के बीच वियतनाम की राजधानी हनाई में हुई शिखर वार्ता बेनतीजा रही थी। ट्रंप का किम जोंग से तीसरी बार मिलने की खबर ऐसे समय आई है, जब हाल में अमेरिकी विशेषज्ञों ने दावा किया था कि उत्‍तर कोरिया अपने परमाणु परीक्षण स्‍थल पर हलचल तेज कर दी है। उत्‍तर कोरिया के इस कदम से अमेरिका की चिंता बढ़ गई थी।इस चिंता के बीच ही व्‍हाइट हाउस की ओर संकेत मिल रहे हैं कि ट्रंप और किम जोंग की जल्‍द एक और मुलाकात होगी। ट्रंप की इस पहल को इस कड़ी से जोड़कर देखा जा रहा है। हालांकि, इस वार्ता को लेकर समय और स्‍थान के बारे में अभी कुछ नहीं कहा गया है। अभी इस वार्ता की खबर को लेकर उत्‍तर कोरिया की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।अमेरिकी के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्‍टन ने दाेनों नेताओं के बीच तीसरी वार्ता का जिक्र करते हुए कहा कि राष्‍ट्रपति ट्रंप का यह कदम उचित है। उन्‍होंने कहा कि दोनों नेताओं के बीच दोस्‍ताना संबंध हैं। बोल्‍टन ने कहा कि 26 व 27 फरवारी को हनाई वार्ता के बारे में कहा कि ऐसी चर्चा थी कि दोनों नेताओं के बीच यह वार्ता टूट गई है। लेकिन ऐसा नहीं है। उन्‍होंने कहा कि राष्‍ट्रपति ने हनोई में न केवल उत्‍तर कोरिया के साथ अपने परमाणु कार्यक्रम पर बातचीत की, बल्कि चीन के साथ व्‍यापार रूस के साथ हथियार नियंत्रण को लेकर भी काफी अहम चर्चाएं हुईं। राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने कहा हनोई में जो कुछ हुआ वह अमेरिकी हित में था। राष्‍ट्रपति ने उन्‍हीं शर्तों काे स्‍वीकार किया जो देश हित में जरूरी था।

वाशिंगटन। पाकिस्‍तान में अब भी 22 आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर सक्रिय हैं। इसमें जैश-ए-मुहम्‍मद (Jaish-e-Mohammed) के नौ कैंप शामिल हैं। ये सभी शिविर पाकिस्‍तानी सेना की जानकारी में और उनके संरक्षण में चलाए जा रहे हैं। यह जानकारी ऐसे समय सामने आई है, जब पुलवामा आतंकी हमले के बाद पाकिस्‍तान लगातार यह कहता रहा है कि उसके धरती पर किसी तरह का आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर नहीं हैं। ऐसे में एक बार…
इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने शुक्रवार को बालाकोट में भारतीय वायुसेना के आतंकी कैंप पर हमले के संबंध में एफआइआर दर्ज कर नई चाल चली है। पाकिस्तान ने एफआइआर में आरोप लगाया है भारतीय वायुसेना के अज्ञात पायलटों ने बालाकोट क्षेत्र में बम बरसाए और 19 पेड़ों को नष्ट कर दिया। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार भारतीय वायुसेना द्वारा आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के ठिकानों को निशाना बनाए जाने के कुछ दिनों बाद वन…
जाबा। भारत द्वारा पाकिस्तान पर की गई एयर सर्जिकल स्ट्राइक पर पाकिस्तान पूरी तरह से बौखला गया है। उत्तर पूर्वी पाकिस्तान के बालाकोट में हुई सर्जिकल स्ट्राइक में जब गुरूवार को रॉयटर्स वहां पहुंचा तो पाकिस्तान में उन्हें उस जगह पर जाने से रोक दिया गया। भारत के द्वारा एयर स्ट्राइक किये जाने के बाद पिछले नौ दिन में रायटर्स की टीम तीसरी बार घटना स्थल पर जाने की कोशिश…
बीजिंग। चीन ने कहा कि भारत-चीन की आर्थिक उन्‍नति के लिए दोनों देशों को मिलकर काम करना चाहिए। चीन के विदेश मंत्री का यह बयान ऐसे समय आया है, जब भारत पुलवामा आतंकी हमले के घाव को भरने में जुटा है। इसे लेकर भारत और पाकिस्‍तान के बीच युद्ध जैसे हालात हैं। ऐसे में चीनी विदेश मंत्री के इस बयान का कई कूटनीतिक निहितार्थ हैं। हालांकि, अभी इस मामले में…
Page 5 of 26

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें