दुनिया

दुनिया (5260)


वाशिंगटन - व्हाइट हाउस का कहना है कि न्यूयॉर्क में हुए आतंकवादी हमले के संदिग्ध सैफुल्लु सेइपोव को शत्रु लड़ाका माना जाएगा। किसी संदिग्ध को इस श्रेणी में रखने का अर्थ है कि उसे हिरासत के दौरान सामान्य तौर पर सभी बंदियों को मिलने वाले अधिकार प्राप्त नहीं होंगे।
पुलिस ने मारी थी पेट में गोली
आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के प्रति झुकाव रखने वाले, उजबेक मूल के 29 वषीर्य सेइपोव को पुलिस के एक अधिकारी ने पेट में गोली मारी है। बाद में उसे गिरफ्तार किया गया। इस व्यक्ति ने कल न्यूयार्क सिटी में पैदल चलने वालों और बाइक तथा साइकिल सवारों के लिए तय रास्ते पर एक ट्रक चढ़ा दिया था जिससे कुचल कर आठ लोगों की मौत हो गई तथा करीब दर्जन भर लोग घायल हो गए थे। व्हाइट हाउस की प्रेएद स सचिव सारा सैंडर्स ने पत्रकारों से कहा कि हम उसे शत्रु लड़ाका मानेंगे। उन्होंने तर्क दिया कि सेइपोव ने जो किया है उसे देखते हुए वह इसी लायक है। उन्होंने कहा, हालांकि इस संबंध में अभी तक अंतिम फैसला नहीं हुआ है।
दूसरा संदिग्ध भी मिला
सैंडर्स ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि अभी तक अंतिम फैसला हुआ है। इसके लिए हम तय प्रक्रिया पूरी होने तक इंतजार करेंगे। सेइपोव को शत्रु लड़ाका करार दिये जाने का मतलब है कि हिरासत के दौरान उसे वकील पाने जैसे सामान्य अधिकार भी नहीं मिलेंगे और उसे बिना किसी आरोप के अनिश्चितकाल के लिए बंदी बनाकर रखा जा सकता है। इस प्रक्रिया के तहत सेइपोव को गुआन्तानामो बे भी भेजा जा सकता है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कल दिन में संकेत दिया था कि वह ऐसा करने के इच्छुक हैं। इस बीच एपी की खबर में कहा गया है कि संघीय अभियोजकों ने सेइपोव के खिलाफ आतकंवादी गतिविधियों का आरोप लगाया है। एफबीआई के अधिकारियों ने बताया कि न्यूयॉर्क आतंकी हमले में उन्हें उज्बेकिस्तान के जिस दूसरे व्यक्ति की तलाश थी, उसे उन्होंने खोज निकाला है। इस हमले में आठ लोगों की मौत हो गई थी। एफबीआई ने 32 वषीर्य मुखम्मदजोइर कादिरोव की तस्वीर के साथ पोस्टर जारी किए थे और उसके बारे में जानकारी देने की अपील की थी।

 


ढाका - पाकिस्तानी राजदूत द्वारा फेसबुक पर बांग्लादेश की आजादी के बारे में गलत जानकारी पोस्ट करने के बाद बांग्लादेश ने पाकिस्तान से माफी मांगने के लिए कहा है।
पाकिस्तान अफेयर्स नामक फेसबुक पेज पर पोस्ट किए गए 14 मिनट के वीडियो में कहा गया है कि 1971 में बांग्लादेश की आजादी की घोषणा देश के संस्थापक शेख मुजीबुर रहमान ने नहीं बल्कि सैन्य शासक जियाउर रहमान ने की थी। इस विवादास्पद पोस्ट के बाद द्विपक्षीय मामलों से जुड़े सचिव कामरुल एहसान ने मंगलवार को पाकिस्तानी उच्चायुक्त रफीउज्जमान सिद्दीकी को तलब किया और कड़े शब्दों में कहा कि इस तरह की घटना दोहराने का असर दोनों देशों के संबंधों पर पड़ सकता है। बाद में बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय के एक बयान में कहा गया कि पाकिस्तान को तुरंत इस पोस्ट को फेसबुक से हटाना चाहिए और लोगों को भ्रमित करने के लिए माफी मांगनी चाहिए।
एहसान ने बताया कि पाकिस्तानी राजदूत ने इस मामले में माफी मांग ली है। बांग्लादेश के एक अन्य अधिकारी ने कहा, 'अगर पाकिस्तान इस तरह गलत जानकारियों को बढ़ावा देगा तो दोनों देशों के संबंधों में खटास आएगी। इतिहास सभी जानते हैं इसलिए उसे भ्रमित करने की कोशिश नहीं की जानी चाहिए।'

 


सिओल - उत्तरी कोरिया ने उन रिपोर्ट्स को खारिज कर दिया है जिसमें कहा गया था कि उत्तरी कोरिया के छठे न्यूक्लियर टेस्ट में कई लोगों की मौत हो गई है। जापान की प्रसारक टीवी असही ने उत्तर कोरिया में मौजूद अपने सूत्रों के हवाले से बताया था कि शुरुआत में करीब 100 मजदूर वहां फंसे थे। इसके बाद राहत और बचाव कार्य के दौरान सुरंग का एक और हिस्सा ढह गया। इसके चलते 200 से ज्यादा लोगों की जान चली गई।
टीवी चैनल के मुताबिक, परमाणु परीक्षण के चलते ही हादसे के हालात पैदा हुए। विशेषज्ञों ने चेतावनी भी दी थी कि अंडरग्राउंड टेस्ट्स की वजह से पहाड़ गिर सकता है और चीन बॉर्डर के नजदीक रेडिएशन लीक हो सकता है।
इस न्यूक्लियर टेस्ट साइट पर 2006 से लेकर अब तक 6 परीक्षण किए जा चुके हैं। 3 सितंबर को हुए छठवें परीक्षण के एक दिन बाद सैटलाइट से ली गईं तस्वीरों के मुताबिक, विस्फोट के चलते इलाके में कई भूस्खलन हुए। धमाके के चलते पहले 6.3 तीव्रता का भूकंप आया और फिर कुछ मिनटों बाद 4.1 तीव्रता के एक और भूकंप आया था।
जापान की टीवी रिपोर्ट में ये कहा गया था
जापान के आंकलन के मुताबिक, उत्तर कोरिया ने 3 सितंबर को जिस हाइड्रोजन बम का परीक्षण किया था, वह 1945 में हिरोशिमा पर गिराए गए परमाणु बम से आठ गुना ज्यादा शक्तिशाली था। रिपोर्ट के मुताबिक माना जा रहा है कि परीक्षण के बाद यहां की जमीन ढीली और कमजोर हो गई थी।
बता दें कि उत्तर कोरिया अपने यहां होने वाले हादसों को कभी स्वीकार नहीं करता है। खास तौर पर परमाणु कार्यक्रम से जुड़े हादसों को लेकर तो बिल्कुल नहीं। उधर दक्षिण कोरिया की मंत्री ली यूगीन ने कहा, 'हमें इस रिपोर्ट की जानकारी मिली है, लेकिन हम इस बारे में कुछ नहीं जानते।'


प्योंगयांग - अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच बढ़ते तनावों के चलते आपात स्थिति से बचने के लिए उत्तर कोरिया में कई शहरों को खाली कराने के अभ्यास शुरू हो गए हैं। दक्षिण कोरियाई मीडिया ने मंगलवार को यह जानकारी दी। राजधानी प्योंगयांग को छोड़कर कई अन्य शहरों में यह अभ्यास शुरू हो चुका है। कुछ इलाकों में 'ब्लैकआउट ड्रिल' भी करवाई गई। नागरिकों को एक से दूसरे शहरों में ले जाया जा रहा है।
उत्तर कोरिया द्वारा अमेरिका के कई शहरों को निशाना बनाने वाली अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल का परीक्षण करने के बाद शहरों को खाली कराने के अभ्यास की यह पहली कार्रवाई है।
हमले की तैयारियां चलने का किया गया दावा
रिपोर्ट का दावा है कि इस अभ्यास के बहाने उत्तर कोरिया में परमाणु हमले या बड़े परीक्षण की तैयारियां की जा रही हैं। गौरतलब है कि अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने बीते दिनों दक्षिण कोरिया दौेर में इस बात की आशंका जताई थी कि उत्तर कोरिया की ओर से परमाणु हमले की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। उन्‍होंने यह भी साफ कर दिया कि अमेरिका किसी भी सूरत मेंं उत्तर को‍रिया को परमाणु शक्ति के तौर पर स्‍वीकार नहीं कर सकता है। उनका कहना था कि उत्तर कोरिया गलत तरीके से अपने परमाणु कार्यक्रम को आगे बढ़ा रहा है।
उधर, रूस और यूरोप के कई देश इस बात का जिक्र कर चुके हैं कि उत्तर कोरिया से बढ़ते तनाव के चलते थर्ड वर्ल्‍ड वार छिड़ सकता है। गौरतलब है कि उत्तर कोरिया और अमेरिका में यह तनाव कुछ वर्षों से नहीं है, बल्कि बीते दो दशकों से यह तनाव लगभग चरम पर ही रहा है। ऐसे में अमेरिका में सत्‍ता का हस्‍तारण भी हुआ और ओबामा से ट्रंप के हाथों में सत्‍ता भी आई है।

 


अबु धाबी - पाकिस्तान तीन से चार बड़े परमाणु रिएक्टर स्थापित करने की योजना बना रहा है। उसका लक्ष्य 2030 तक 8,800 मेगावाट बिजली नाभिकीय ऊर्जा से हासिल करने का है। पाकिस्तानी परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष मुहम्मद नईम ने मंगलवार को यह जानकारी दी।
पाकिस्तान में फिलहाल पांच छोटे रिएक्टर कार्यशील हैं और उनकी संयुक्त क्षमता करीब 1300 मेगावाट विद्युत उत्पादन की है। यह पाकिस्तान के कुल विद्युत उत्पादन का महज पांच फीसद है। अभी सितंबर में ही पंजाब प्रांत में एक नया चश्मा संयंत्र चालू हुआ है। इसका निर्माण चाइना नेशनल न्यूक्लियर कॉर्प (सीएनएनसी) ने किया है। सीएनएनसी बंदरगाह शहर कराची में भी दो चाइनीज हुआलोंग वन रिएक्टरों का निर्माण कर रही है। इनमें से प्रत्येक की क्षमता 1100 मेगावाट की है।
यहां आयोजित नाभिकीय सम्मेलन से इतर मुहम्मद नईम ने बताया कि इन दोनों रिएक्टरों का काम क्रमश: 60 फीसद और 40 फीसद पूरा हो चुका है और ये 2020 और 2021 में कार्य करना शुरू कर देंगे। पाकिस्तान अब अपने आठवें रिएक्टर का कांट्रेक्ट देने के आखिरी पड़ाव पर है। इसकी क्षमता भी 1100 मेगावाट की होगी। इसके निर्माण के साथ ही पाकिस्तान की परमाणु विद्युत उत्पादन की कुल क्षमता 5000 मेगावाट तक पहुंच जाएगी। बता दें कि पाकिस्तान की एक चौथाई आबादी अभी भी बिजली से महरूम है।


टोक्यो - सबसे कम अपराध वाले देशों में शुमार जापान में नौ लोगों की जान लेने वाली एक भयावह घटना सामने आई है। पुलिस ने एक घर से नौ सड़े-गले शव बरामद करने के बाद इस मामले में 27 वर्षीय तकाहिरो शिरायशी को गिरफ्तार किया है। शिरायशी ने पुलिस के सामने नौ लोगों की हत्या का जुर्म कबूला है। पूछताछ में उसने बताया कि सुबूत मिटाने के लिए उसने सभी शवों के कई टुकड़े कर उन्हें खाने के लिए बिल्लियों के सामने फेंक दिया था।
इस घटना से पूरा देश स्तब्ध है। पुलिस 23 वर्षीय एक महिला की तलाश करते हुए शिरायशी तक पहुंची। इस महिला ने कुछ दिनों पहले ट्वीट किया था, 'मैं एक ऐसे इंसान को ढूंढ रही हूं जो मेरे साथ जान दे सके।' पुलिस को दिए बयान में शिरायशी ने कहा है, आत्महत्या करने के इच्छुक लोग ही मेरा शिकार होते थे। मैं ट्विटर की मदद से लोगों से संपर्क करता था और उन्हें आत्महत्या करने में मदद का बहाना बनाकर अपने घर बुलाता था।' इससे पहले 2016 में जापान में अपराध की सबसे बड़ी घटना सामने आई थी। तब सातोशी उमात्सू नाम के एक व्यक्ति ने 19 लोगों की हत्या का जुर्म कबूला था।

यंगून - म्यामार ने रोहिंग्या अल्पसंख्यक मुसलमानों की घर वापसी में विलंब के लिए बांग्लादेश को आज जिम्मेदार बताया। म्यामार के रखाइन प्रांत में हिंसक घटनाओं के कारण अगस्त से वहां से भाग कर बांग्लादेश जा रहे अल्पसंख्यक समुदाय के लोग बेहद खराब हालात में शरणार्थी शिविरों में रह रहे हैं। मुख्य रूप से बौद्ध बहुल म्यामां से सेना की कठोर कावार्ई के कारण पिछले दो महीने में करीब 6,00,000…
नई दिल्ली - इस्लामाबाद में एक बहुत ही शर्मनाक मामला सामने आया है। भाई की सजा बहन को दी गई और वो सजा ऐसी थी जिसे सुनकर आप दंग रह जाएंगे। ये मामला पाकिस्तान में महिलाओं की सुरक्षा पर कई तरह से सवाल खड़े करती है।उत्तर पश्चिम पाकिस्तान में एक परिवार ने अपनी झूठी शान के लिए एक महिला को समाज के सामने निर्वस्त्र करके घुमाया। दरअसल, उस लड़की के…
न्यूयॉर्क - अमेरिका के टॉप फाइव बड़े शहरों में शामिल न्यूयॉर्क के लोअर मैनहैट्टन में मंगलवार को हुए आतंकी हमले ने एक बार फिर से सबको दहशत में डाल दिया है। हमले को 29 वर्ष के उजबेकिस्तान के नागरिक सैफुलो हबीबउल्लाएविक साइपोव ने अंजाम दिया है। आतंकी हमले में जहां आठ लोगों की मौत हो गई तो वहीं 11 लोग जख्मी हो गए। सैफुलो ने अल्लाह हू अकबर चिल्लाते हुए…
न्यूयॉर्क - मंगलवार को न्यूयॉर्क में हुए आतंकी हमले के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने होमलैंड सिक्योरिटी को और सख्ती बरतने के आदेश दे दिए हैं। ट्रंप ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। पूरी दुनिया में अब इस हमले को लेकर ट्विटर और फेसबुक पर प्रतिक्रियाएं आने लगी हैं। जहां भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस हमले में मारे गए लोगों के प्रति अपनी संवेदनाएं जाहिर की तो वहीं…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें