दुनिया

दुनिया (4696)


ओटावा - हाल ही में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन टूड्रो बिल्कुल नए अंदाज में नजर आए। जस्टिन BAPS मंदिर में पूजा करते हुए नजर आये। यहां इस मंदिर का दसवां स्थापना समारोह था। जस्टिन पारंपरिक कुर्ता-पायजामा पहन कर आए थे। वो किसी भारतीय की तरह ही पूजा करते समय बिल्कुल सहज थे।
इस समारोह में टूड्रो के साथ भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता और कनाडा में भारतीय राजदूत भी मौजूद थे। जस्टिन ने इस समारोह की तस्वीरें अपने ट्विटर हैंडल से भी साझा की हैं। उन्होंने लिखा है कि "BAPS मंदिर कनाडा की वास्तुशिल्प का एक अद्भुत नमूना है। यह वास्तव में एक सामुदायिक जगह है। दसवीं सालगिरह मुबारक हो।"
स्थानीय मेयर जॉन टोरी ने कहा कि "हम उनका सत्कार पाकर गदगद हैं। दुनिया और टोरंटो स्थित यह संस्था BAPS के जरिये मानवीय, दान और समाज को बनाने के काम में जुटी है। उनके योगदान ने टोरंटो को समृद्ध बनाया है।
यह मंदिर भगवान स्वामी नारायण का है। दुनिया भर में स्वामी नारायण के कई मंदिर हैं। भारत में भी अहमदाबाद और दिल्ली में भी अक्षरधाम मंदिर अपनी खूबसूरती के लिए मशहूर है। इसके अलावा इंग्लैंड में बने अक्षरधाम मंदिर भी अपनी स्थापत्य कला के लिए मशहूर है। मंदिर प्रशासन का दावा है कि यह मंदिर इतना मजबूत है कि इसे 1000 सालों तक कुछ नहीं हो सकता।


नई दिल्ली - भारत लगातार आतंकियों के निशाने पर रहा है। एक रिपोर्ट की मानें तो वर्ष 2016 में भारत में आतंकी हमले पड़ोसी देश पाकिस्तान से भी ज्यादा हुए हैं। ये रिपोर्ट अमेरिकी राज्य विभाग द्वारा संकलित आंकड़ों के बाद जारी की गई है। रिपोर्ट के मुताबिक साल 2016 में भारत में आतंकी हमलों में मरने और घायलों की संख्या पाकिस्तान से ज्यादा रही।
खबर के मुताबिक, आतंकवाद से जुड़े आंकड़ों का विश्लेषण करने वाली संस्था NCSTRT के अनुसार इस मामले में सबसे पहला नाम इराक का आता है। इराक में आतंकवाद से मरने वालों की संख्या साल 2016 में सबसे ज्यादा रही। वहीं दूसरे स्थान पर अफगानिस्तान और फिर तीसरे नंबर पर भारत का नाम आता है। रिपोर्ट के मुताबिक तीसरे नंबर पर पहले पाकिस्तान का नाम था।
रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2016 में पूरी दुनिया में कुल 11,072 आतंकी हमले हुए। इनमें से भारत में 927 हमले हुए, जो कि 2015 में हुए हमले 798 से 16% कम है। इस दौरान मरने वालों की संख्या भी बढ़ी। 2015 में जहां 289 लोगों की जान गई, वहीं 2016 में 337 मौतें आतंकी हमलों से हुईं। 2015 में घायलों की संख्या 500 थी, जबकि 2016 में यह बढ़कर 636 हो गई। वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तान में आतंकी हमलों की संख्या 2015 के मुकाबले 2016 में 27 प्रतिशत कम हुई है। 2015 में जहां पाकिस्तान में 1010 आतंकी हमले हुए, वहीं 2016 में 734 हुए। 2016 में भारत से ज्यादा सिर्फ इराक (2965) और अफगानिस्तान (1340) में आतंकी हमले हुए हैं।
बोको हराम से ज्यादा घातक हैं नक्सलीः रिपोर्ट
यूएस स्टेट डिपार्टमेंट ने नक्सलियों को भारत में सबसे बड़ा खतरा बताया है और दुनिया भर के आतंकी संगठनों में तीसरा सबसे खतरनाक संगठन माना। इसके अलावा इस रिपोर्ट में नक्सलवाद को आईएसआईएस और तालीबान के बाद दुनिया का तीसरा सबसे घातक आतंकी संगठन बताया है। यहां तक कि नक्सलियों को बोको हराम से ज्यादा घातक बताया है। पिछले साल 334 आतंकी हमलों के पीछे माओवादियों का हाथ बताया गया। इनमें 174 लोगों की जान गई और 141 घायल हुए।
नक्सली हमले में हुई हैं ज्यादा मौतेंः रिपोर्ट
साल 2016 में भारत में हुए आतंकी हमलों में से आधे से ज्यादा जम्मू-कश्मीर, छत्तीसगढ़, मणिपुर और झारखंड में हुए। भारत सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा साल 2016-2017 के आंकड़ों में बताया गया कि 93% हमले तो अकेले जम्मू और कश्मीर में हुए हैं। जो पिछले साल की तुलना में 54.81% अधिक है। वहीं, 73% आतंकी हमलों में किसी की जान न जाने की भी बात सामने आई। साल 2016 की जुलाई में सबसे बड़ा हमला बिहार में नक्सलियों ने किया। जुलाई में किए गए इस हमले में सीआरपीएफ के 16 जवान शहीद हो गए थे। भारत में कुल 52 सक्रिय आतंकी संगठन हैं, जो पिछले साल 45 की तुलना में अधिक है। रिपोर्ट में बताया गया है कि अकेले सीपीआई(माओवादी) ने देश भर में 334 आतंकी हमलों को अंजाम दिया, जिसमें 174 लोगों की जानें गईं। भारत में आधे से अधिक आतंकी हमले 4 राज्यों जम्मू और कश्मीर, छत्तीसगढ़, मणिपुर और झारखंड में हुए।
पाकिस्तान आतंक का पनाहगाह
हाल ही में आतंकवाद पर अमेरिका के गृह मंत्रालय की एक रिपोर्ट में पाकिस्तान को उन देशों में शामिल किया गया है, जहां आतंकवादियों को सुरक्षित पनाहगाहें दी जाती हैं। कंट्री रिपोर्ट ऑन टेररिज़्म के नाम से जारी इस रिपोर्ट में कहा गया कि पाकिस्तान आतंकवादी संगठनों के खिलाफ एक्शन नहीं ले रहा है। इससे अफगानिस्तान में अमेरिका के हितों को चोट पहुंच रही है। पाकिस्तान ने लश्कर-ए तैयबा और जैश-ए मोहम्मद और हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकवादी संगठनों के खिलाफ भी कोई एक्शन नहीं लिया है। रिपोर्ट में लिखा गया है, 'ये आतंकवादी संगठन पाकिस्तान से चल रहे हैं। पाकिस्तान में इनको ट्रेनिंग मिल रही हैं और पाकिस्तान से ही इन आतंकवादी संगठनों की फंडिंग हो रही है।


बीजिंग - दक्षिण चीन के गुवांगझू शहर में निर्माण स्थल पर एक क्रेन के गिरने से सात लोगों की मौत हो गई और दो घायल हो गये। अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी। भवन निर्माण और शहरी विकास के लिए कार्य करने वाले सरकारी संस्था 'कम्यूनिकेंशन्स कंस्ट्रक्सन्स कंपनी लिमिटेड' के दक्षिणी मुख्यालय के निर्माण स्थल पर कल यह क्रेन गिर गया। शहर के हैजू जिला प्रशासन का कहना है कि घटना के कारणों की जांच की जा रही है।
घटना पर प्रतिक्रिया के लिए कंपनी से संपर्क नहीं हो सका है। चीन में कार्य स्थल पर सुरक्षा गंभीर चिंता का विषय है, क्योंकि यहां प्राय: सुरक्षा मानकों को नजरअंदाज किया जाता है। जिला प्रशासन का कहना है कि दोनों घायलों की हालत स्थिर है।


इस्लामाबाद - पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ अगर पनामा मामले में कथित भ्रष्टाचार व धन शोधन के लिए दोषी ठहराए जाते हैं, तो उनके छोटे भाई व पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री शहबाह शरीफ देश के प्रधानमंत्री बन सकते हैं। हालांकि उन्हें चुनाव लड़ना होगा क्योंकि वह संसद के निचले सदन नेशनल असेम्बली के सदस्य नहीं हैं।
‘जियो न्यूज’ ने सूत्रों का हवाला देते हुए कहा कि शहबाज के उपचुनाव में चुने जाने तक रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ के 45 दिनों तक अंतरिम प्रधानमंत्री के तौर पर कार्यभार संभालने की संभावना है। यह फैसला सत्तारूढ़ पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) की शुक्रवार को हुई उच्च स्तरीय बैठक में लिया गया। बैठक में यह फैसला भी लिया गया कि अगर निर्णय प्रधानमंत्री के खिलाफ जाता है, तो पार्टी सभी उपलब्ध कानूनी व संवैधानिक विकल्पों का इस्तेमाल करेगी।
याद रहे कि सुप्रीम कोर्ट ने पनामा पेपर्स मामले में शरीफ और उनके परिवार के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार के मामले में शुक्रवार को सुनवाई पूरी कर ली थी, लेकिन उसने अपना फैसला सुरक्षित रखा है।


वॉशिंगटन - अमेरिका के रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस का मानना है कि इस्लामिक स्टेट (आईएस) का आतंकी अबु बकर अल-बगदादी अभी भी जिंदा है। मैटिस ने उसके मारे जाने के दावों को खारिज करते हुए कहा, ‘मेरा मानना है कि बगदादी जिंदा है और मैं तभी मानूंगा कि उसकी मौत हो गई है, जब हमें पता चलेगा कि हमने उसे मार दिया है।’
बगदादी की मौत का पहला दावा 6 सितंबर 2014 को किया गया था। उसके हवाई हमले में घायल होने और फिर मारे जाने की खबर आई। मगर कुछ महीने बाद ही बगदादी ने एक वीडियो जारी कर मौत की खबर को झुठला दिया था। तब से अब तक आठ बार उसके मारे जाने की खबर आ चुकी है। हालिया दावा रूसी सेना ने किया था। उसने कहा था कि सीरिया के रक्का के नजदीक 28 मई को बगदादी की एक बैठक पर उसने हमला किया था, जिसमें संभवत: बगदादी मारा गया था।
मगर मैटिस ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा, ‘हम उसकी तलाश कर रहे हैं। हमारा मानना है कि वह जिंदा है।’ पेंटागन के अधिकारियों ने कहा कि बगदादी अब इस्लामिक स्टेट की रोजाना गतिविधियों में शामिल नहीं है लेकिन मैटिस ने बताया कि बगदादी अब भी संगठन में कोई न कोई भूमिका निभा रहा है।


वाशिंगटन - अमेरिकी अधिकारियों ने इस बात को स्वीकार किया है कि अमेरिका के जम्मू-कश्मीर के विवरण में विसंगति रही है लेकिन यह कहते हुए अपनी नीति में कोई बदलाव ना होने की बात कही कि कश्मीर को लेकर किसी भी चर्चा की 'गति, गुंजाइश और चरित्र' का निर्धारण भारत और पाकिस्तान ही करेंगे। अमेरिकी विदेश विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा, 'कश्मीर को लेकर हमारी नीति में कोई बदलाव नहीं आया है।'
विदेश विभाग ने जून में पाकिस्तान स्थित हिज्बुल मुजाहिदीन के प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन को 'विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादी' करार देते हुए कहा था कि आतंकी समूह ने अप्रैल 2014 में 'भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर' में हुए हमले सहित कई हमलों की जिम्मेदारी ली है। हालांकि भारत ने अमेरिका के इस उल्लेख को तवज्जो ना देते हुए कहा था कि पूर्व में भी इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल किया जा चुका है।
पूर्व में अमेरिका ने 'भारत के नियंत्रण वाले कश्मीर' शब्द का भी इस्तेमाल किया था। बुधवार को जारी नवीनतम 'कंट्री रिपोर्ट ऑन टेररिजम' में अमेरिका ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को 'आजाद जम्मू-कश्मीर' बताया था। विदेश विभाग द्वारा 'आजाद जम्मू-कश्मीर' शब्द के इस्तेमाल का भारत सरकार ने कड़ा विरोध किया था। अमेरिकी अधिकारियों ने इस बात को स्वीकार किया कि अमेरिका के जम्मू-कश्मीर के विवरण में विसंगति रही है लेकिन कहा कि उसकी नीति में कोई बदलाव नहीं आया है।
प्रवक्ता ने कहा, 'कश्मीर को लेकर हमारी नीति में बदलाव नहीं आया है। कश्मीर से संबंधित चर्चाओं की गति, गुंजाइश एवं चरित्र का निर्धारण दोनों संबद्ध देश करेंगे लेकिन हम करीबी संबंधों के विकास के लिए भारत और पाकिस्तान द्वारा उठाए जाने वाले सभी सकारात्मक कदमों का समर्थन करते हैं।'

काबुल - अफगानिस्तान के हेलमंद प्रांत में अमेरिकी हवाई हमले में 16 अफगान पुलिसकर्मी मारे गए और दो अन्य घायल हो गए। हेलमंद के पुलिस प्रवक्ता सलाम अफगान ने एएफपी को बताया कि यह टना कल शाम पांच बजे तब हुई जब अफगान सुरक्षा बल एक गांव से तालिबान तत्वों को हटा रहे थे।उन्होंने केहवाई हमले में दो कमांडर सहित 16 अफगान पुलिसकर्मी मारे गए। दो अन्य पुलिसकर्मी घायल हो…
वाशिंगटन - अमेरिका के रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने कहा कि पाकिस्तान द्वारा हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ पर्याप्त कदम उठाए जाने की बात को कांग्रेस के समक्ष सत्यापित नहीं करने का उनका निर्णय इस्लामाबाद के खिलाफ नई कड़ी नीति को नहीं दर्शाता है बल्कि यह मौजूदा स्थिति का केवल मूल्यांकन है।पेंटागन के प्रवक्ता एडम स्टम्प ने कल कहा था कि ट्रंप प्रशासन पाकिस्तान को गठबंधन समर्थन फंड के तौर पर…
वाशिंगटन - अमेरिका ने ईरान पर आरोप लगाया है कि वह बंदी बनाए गए लोगों का इस्तेमाल विदेश नीति के अस्त्र के तौर पर करता है। इसके साथ ही व्हाइट हाउस ने तेहरान को चेतावनी दी है कि अगर वह अवैध तरीके से बंदी बनाए गए अमेरिकी नागरिकों को लौटाता नहीं है तो उसे नए और गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। हाल ही में ईरान द्वारा शियु वांग को 10 साल…
नई दिल्ली - चीन की सरकारी मीडिया ने कहा कि अपनी जमीन का एक इंच हिस्सा खोना भी बर्दाश्त नहीं कर सकता। चीन ने सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके में सैन्य तनातनी खत्म करने के लिए वहां से पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (चीनी सेना) के सैनिकों को वापस बुलाने से भी इनकार कर दिया। न्यूज एजेंसी के मुताबिक चीन में कम्युनिस्ट पार्टी के माउथपीस द ग्लोबल टाइम्स ने शुक्रवार को अपने…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें