दुनिया

दुनिया (873)

नई दिल्ली। भारत के कड़े रुख, अमेरिकी दबाव और 10 करोड़ डॉलर (6.8 अरब रुपये) का नुकसान उठाने के बाद आखिरकार पाकिस्तान बैकफुट पर आ गया है। बालाकोट एयरस्ट्राइक होने के करीब साढ़े चार महीने बाद आतंक पोषित इस पड़ोसी मुल्क ने भारत के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोल दिया है। इस फैसले के बाद भारत ने राहत की सांस ली है।
इसलिए बंद किया था हवाई क्षेत्र:-पुलवामा में जैश-ए -मुहम्मद द्वारा आतंकी हमला किया गया था। इस हमले में सीआरपीएफ के चालीस जवान मारे गए थे। इसका बदला लेने के लिए भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकवादी प्रशिक्षण केंद्र पर हवाई हमला किया था, जिसके बाद पाकिस्तान-भारत ने अपने-अपने हवाई क्षेत्र में एक दूसरे के विमानों के उड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया था।
लगी आर्थिक चोट:-पहले से ही अपनी चरमराई अर्थव्यवस्था से बेहाल पाकिस्तान को यह सौदा बड़ा महंगा पड़ा। प्रतिबंध के चलते रोजाना करीब चार सौ फ्लाइट प्रभावित हुई, जिसकी वजह से पाकिस्तान को करीब 10 करोड़ डॉलर यानी 6.8 अरब रुपये का नुकसान हुआ।पाकिस्तान हवाई क्षेत्र से रोजाना चार सौ पैसेंजर फ्लाइट गुजरती थी, जिससे प्रतिदिन उसे तीन लाख डॉलर की आय होती थी। इसके अलावा, पाकिस्तान के विमानन क्षेत्र की दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया तक पहुंचने के लिए बड़ी मांग है। कुआलालंपुर और बैंकॉक जैसी जगहों के लिए उड़ानों के रूप में भारतीय हवाई क्षेत्र को बंद करने के कारण पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस को प्रति दिन 4.5 लाख डॉलर का नुकसान उठाना पड़ा।
अमेरिका का दबाव:-अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव के चलते भी पाकिस्तान पर दबाव बढ़ता जा रहा था। अमेरिका के फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन ने तेहरान और उसके समुद्री क्षेत्र के ऊपर से विमानों को उड़ान न भरने की सलाह दी है। पाक हवाई क्षेत्र प्रतिबंधित होने के बाद भारत के विमान सेंट्रल एशिया और यूरोप जाने के लिए इसी रूट का इस्तेमाल कर रहे थे। इसलिए अमेरिका ने पाकिस्तान हवाई क्षेत्र को भारत के लिए खोलने में भूमिका अदा की है।
भारत को भी नुकसान;-नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने संसद को बताया कि भारत को रूट डायवर्जन के कारण 430 करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च करने पड़े। 3 जुलाई को पुरी ने राज्यसभा को बताया था कि पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र के बंद होने से भारत को कुल नुकसान लगभग 550 करोड़ रुपये (एयर इंडिया को 491 करोड़ रुपये, स्पाइस जेट को 30.73 करोड़ रुपये, इंडिगो को 25.1 करोड़ रुपये और 2.1 करोड़ रुपये) उठाना पड़ा।

दुबई। भारत में रह रहे उन लोगों के लिए संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) का दौरा करना एक परेशानी मुक्त प्रक्रिया हो सकती है. अगर वे पहले से ही यूके या यूरोप का रेजिडेंसी वीजा है। दुबई के गल्फ न्यूज ने इस बात की जानकारी दी है। दुबई में जनरल डायरेक्टरेट ऑफ रेजिडेंसी एंड फॉरेनर्स अफेयर्स (जीडीआरएफए) ने निवासियों को एक रिमाइंडर जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि ऐसे लोग जो यूएई की यात्रा पर परिवार के सदस्यों और दोस्तों को साथ लाना चाहते हैं, वो ऐसा कर सकते हैं।इस सप्ताह की शुरुआत में GDRFA के सोशल नेटवर्किंग साइटों पर अपलोड किए गए वीडियो में कहा गया है, 'ब्रिटेन और यूरोपीय संघ के देशों के निवास वीजा के साथ सामान्य पासपोर्ट रखने वाले भारतीय नागरिक सभी यूएई के प्रवेश बिंदुओं पर प्रवेश परमिट ले सकते हैं, बशर्ते निवास वीजा की वैधता हो यूके या यूरोपीय संघ द्वारा जारी किए गए मुद्दों को छह महीने से कम नहीं है।' भारतीय यात्री इसके बाद Dh100 और Dh20 सेवा शुल्क के लिए अपना प्रवेश परमिट प्राप्त करने के लिए मरहबा सेवा काउंटर पर जा सकते हैं और पासपोर्ट सी पर जारी रख सकते हैं। संयुक्त अरब अमीरात में रहने की अधिकतम अवधि 14 दिन है और इसे Dh250 के नवीकरण शुल्क के लिए एक बार बढ़ाया जा सकता है और Dh20 सेवा शुल्क का भुगतान किया जाता है। विस्तार किए जाने पर, यात्री अतिरिक्त 28 दिनों तक रह सकते हैं।

वाशिंगटन। अमेरिकी विभाग के प्रवक्ता मॉर्गन ऑर्टागसल ने भारत और पाकिस्तान के बीच करतारपुर कॉरिडोर के निर्माण की सराहना की है। उनका मानना है कि गुरुद्वारा दरबार साहिब जाने के लिए भारत से सिख तीर्थयात्रियों की वीजा मुक्त यात्रा की सुविधा दोनों देशों के रिश्तों के लिए काफी अहम साबित होगी।अमेरिकी विभाग की प्रवक्ता ने कहा कि हम इस कदम की सराहना करते है। उन्होंने कहा कि जो कुछ भी भारत और पाकिस्तान के लोगों के बीच संबंधों को बढ़ावा देने का काम करेगा, हम अविश्वसनीय रूप से उसका समर्थन करते हैं।बता दें कि 14 जुलाई को भारत और पाकिस्तान के बीच करतारपुर कॉरिडोर को लेकर द्विपक्षीय वार्ता हुई थी। दूसरे दौर की वार्ता में पंजाब के डेरा बाबा नानक साहिब से पाकिस्तान के गुरुद्वारा दरबार साहिब करतारपुर की यात्रा के लिए अहम मुद्दों पर बात हुई। इस दौरान दोनों देशों ने तीर्थयात्रियों के सुगम मार्ग के लिए सहमती जताई।एक बार खोले जाने के बाद तीन किमी लंबा गलियारा सिख तीर्थयात्रियों को करतारपुर में ऐतिहासिक गुरुद्वारा दरबार साहिब तक सीधे पहुंचने की अनुमति देगा, जहां 1539 में गुरु नानक देव जी का निधन हुआ था।

वाशिंगटन। शोधकर्ताओं ने केन्या में दुनिया के सबसे छोटे बंदर के जीवाश्म का पता लगाया है। इसका आकार जंगली खरगोश के जैसा है। माना जा रहा है कि केन्या में लगभग 40 लाख साल पहले इन बंदरों की प्रजातियां वास करती होंगी। केन्या के राष्ट्रीय संग्रहालय और अमेरिका की अराकंसास यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कहा कि नैनोपिथेकस ब्राउनी नाम के इन बंदरों का आकार आधुनिक तालपोइन बंदरों जैसा ही रहा होगा, जो विश्व में बंदरों की सबसे छोटी जीवित प्रजाति में से एक है। इसका वजन महज दो से तीन पाउंड ही होता है।शोधकर्ताओं ने कहा कि ‘तालपोइन’ गुयोन नामक बंदरों के समूह का ही हिस्सा हैं। ये बंदर अफ्रीकी देशों में सर्वाधिक पाए जाते हैं। ‘ह्यूमन इवोल्यूशन’ नामक पत्रिका में प्रकाशित हुए अध्ययन में बताया गया है कि बंदरों की अधिकांश प्रजातियों का आकार नैनोपिथेकस ब्राउनी से कई गुना बड़ा होता है, जो विश्व के अलग-अलग हिस्सों में घूमते रहते हैं। तालपोइन केवल पश्चिम मध्य अफ्रीका में रहते हैं और उष्णकटिबंधीय जंगलों तक सीमित हैं। शोधकर्ताओं ने बताया कि नैनोपिथेकस ब्राउनी के जीवाश्म केन्या के पूर्वी क्षेत्र कानापोई में पाए गए। शोधकर्ताओं का अनुमान है कि दलदले आवासों में रहने के कारण ये बौने हो गए होंगे।

वॉशिंगटन। पाकिस्तान, भारतीय विरोधी समूहों के खिलाफ शुरुआती और आशाजनक कदम उठाने लगा है। ये कहना है अमेरिका के रक्षा मंत्री मार्क एस्पर का। मार्क एस्पर ने कहा है कि पाकिस्तान ने भारतीय विरोधी समूहों के खिलाफ शुरुआती और आशाजनक कदम उठाए हैं, यह कहते हुए कि वह इलाके में रणनीतिक दृष्टिकोण में बदलाव कर ऐसे ठोस कदम उठा रहा है। एस्पर ने कहा कि राष्ट्रपति की दक्षिण एशिया रणनीति पाकिस्तान को क्षेत्र में अमेरिकी हितों को आगे बढ़ाने में एक महत्वपूर्ण भागीदार के रूप में पहचानती है, जिसमें अफगानिस्तान में एक राजनीतिक समझौता विकसित करना, अल-कायदा और आईएसआईएस-के को परास्त करना, सैन्य पहुंच प्रदान करना और क्षेत्रीय स्थिरता को बढ़ाना शामिल है।एस्पर ने सीनेट की सशस्त्र सेवा समिति के सामने मंगलवार को कहा कि, 'हमने देखा है कि पाकिस्तान ने अफगान सुलह पर कुछ रचनात्मक कदम उठाए हैं। पाकिस्तान ने लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे भारत विरोधी समूहों के खिलाफ प्रारंभिक, आशाजनक कदम उठाए हैं, जिससे इलाके में खतरा है। उन्होंने आगे कहा कि यह आकलन करना मुश्किल है कि पाकिस्तान ने खुद ये एक्शन लिए हैं अफगान सुलह और पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद हुई कार्रवाइयों ने पाकिस्तान को ये एक्शन लेने को मजबूर किया है। एस्पर ने सवालों के लिखित जवाब में कहा कि ट्रम्प प्रशासन शीर्ष स्तर पर 2 + 2 जैसे मंत्रिस्तरीय संवाद के माध्यम से समग्र रक्षा संबंधों को बढ़ावा देना जारी रखेगा।प्रमुख रक्षा साझेदारी के संदर्भ में एस्पर ने कहा कि वह भारतीय सशस्त्र बलों के साथ सूचना-साझा करने को बढ़ती क्षमता को प्राथमिकता देना जारी रखेंगे।

 

 

ताइपे। ताइवान में अगले साल जनवरी में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में चीन समर्थक हान कुओ-युयु विपक्ष के उम्मीदवार होंगे। वह चीन विरोधी मौजूदा राष्ट्रपति और डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी की उम्मीदवार साई इंग-वेन को चुनौती देंगे।बंदरगाह शहर काओसिआंग के मेयर हान (62) ने विपक्षी कुओमिनतांग पार्टी के प्राइमरी चुनाव में फॉक्सकॉन के संस्थापक और ताइवान के सबसे धनी व्यक्ति टेरी गोई को शिकस्त दी।हान उन लोगों में से हैं जो ताइवान की भलाई के लिए चीन की ओर देखते हैं। उम्मीदवारी जीतते ही उन्होंने कहा कि ताइवान के लोग पिछले तीन वर्षो से मुश्किल हालात में जी रहे हैं। 2016 में राष्ट्रपति चुनाव जीतने वालीं साई चीन की मुखर आलोचक हैं।गौरतलब है कि ताइवान खुद को संप्रभु राष्ट्र मानता है। लेकिन चीन, ताइवान को अपने देश का हिस्सा बताता है और उसे हासिल करने के लिए सैन्य कार्रवाई की धमकी भी दे चुका है। स्वायत्तशासी हांगकांग के लोगों में चीन विरोधी सियासी उबाल को देखते हुए ताइवान का मौजूदा नेतृत्व भी उम्मीद की किरण देख रहा है।

इस्लामाबाद। जमात उद-दावा के सरगना हाफिज सईद और तीन अन्य को लाहौर की आंतक निरोधी अदालत (ATC) ने गिरफ्तारी से राहत दी है। ATC ने हाफिज सईद समेत तीन अन्य लोगों को गिरफ्तारी से पहले ही जमानत को अनुमति दे दी है। डॉन न्यूज के मुताबिक, यह फैसला मदरसे की भूमि को अवैध कार्यों के लिए इस्तेमाल करने के एक मामले में लिया है।अभी कुछ दिन पहले पंजाब प्रांत में…
काबुल। अफगानिस्‍तान में एक तालिबान कमांडर की धमकियों को देखते हुए एक निजी रेडियो स्‍टेशन को बंद करना पड़ा है। तालिबान कमांडर ने रेडियो स्‍टेशन में महिलाओं के काम करने पर आपत्ति जताई है। अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि रेडियो स्‍टेशन में कुल 13 कर्मचारी काम करते हैं जिनमें तीन महिला उद्घोषक हैं। यह रेडियो स्‍टेशन अफगानिस्‍तान की दो मुख्‍य भाषाओं दारी ( Dari) और पस्‍तो (Pashto) में कार्यक्रमों…
काबुल। अफगानिस्‍तान स्‍थित बाल्‍ख के उत्‍तरी प्रांत में सोमवार को हुए विस्‍फोट में दो बच्‍चों की मौत हो गई। यह जानकारी शाहीन कार्प्‍स के प्रवक्‍ता मोहम्‍मद हनीफ रेजाई ने दी है। उन्‍होंने यह भी बताया कि आतंकियों ने सड़क किनारे बम लगाया था।इससे पहले आतंकी संगठन तालिबान ने पिछले रविवार को सुबह अफगानिस्तान के गजनी प्रांत में बड़ा आत्मघाती हमला किया। विस्फोटकों से भरी कार के जरिये देश की मुख्य…
कोपेहेगन। जलवायु परिवर्तन से न केवल ग्रीनलैंड का पारिस्थितिकी तंत्र प्रभावित हो रहा है, बल्कि इससे वहां के पुरातात्विक स्थलों पर भी खतरा मंडरा रहा है। हाल में ही प्रकाशित हुए एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने यह दावा किया है। बता दें कि पूरे आर्कटिक क्षेत्र में 1,80,000 से ज्यादा पुरातात्विक स्थल मौजूद हैं, जो हजार वर्षो से यहां की मिट्टी में मौजूद विशेष गुणों के कारण संरक्षित हैं। विज्ञान…
Page 8 of 63

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें