दुनिया

दुनिया (4696)

पेरिस, फ्रांस। राफेल सौदे को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। सौदे को लेकर फ्रेंच वेबसाइट 'मीडियापार्ट' के आरोप के बाद अब फ्रांसीसी कंपनी दासौ की तरफ से सफाई दी गई है। दासौ का कहना है कि उन्होंने स्वतंत्र रूप से राफेल साझेदारी के लिए भारतीय पार्टनर रिलायंस डिफेंस का चयन किया था। मीडियापार्ट के आरोपों का विस्तृत में जवाब देते हुए कंपनी ने आगे कहा कि फ्रांस और भारत के बीच सितंबर 2016 में सरकार के स्तर पर समझौता हुआ था। इसमें दासौ ने भारत सरकार को 36 राफेल विमान बेचे थे।
'मर्जी से रिलायंस को ऑफसेट पार्टनर चुना';-फ्रांसीसी कंपनी ने आगे कहा है कि उसने भारतीय नियमों (डिफेंस प्रॉक्यूरमेंट प्रोसीजर) और ऐसे सौदों की परंपरा के अनुसार किसी भारतीय कंपनी को ऑफसेट पार्टनर चुनने का वादा किया था। इसके लिए कंपनी ने ज्वाइंट-वेंचर बनाने का फैसला किया। कंपनी ने साफ तौर पर कहा कि उसने अपनी मर्जी से रिलायंस ग्रुप को ऑफसेट पार्टनर चुना था।
कई दूसरी कंपनियों के साथ भी हुए समझौते:-बता दें कि फरवरी 2017 में ज्वाइंट वेंचर दासौ रिलायंस एयरोस्पेस लिमिटेड (DRAL) बनाया गया था। कंपनी ने अपने बयान में आगे कहा कि केंद्रीय कार्य परिषद को 11 मई, 2017 को डीआरएएल के निर्माण के बारे में सूचित किया गया था। कंपनी ने बताया कि BTSL, DEFSYS, काइनेटिक, महिंद्रा, मियानी, सैमटेल जैसी कंपनियों के साथ दूसरे समझौते भी किए गए थे। सैकड़ों संभावित साझेदारों के साथ अभी बातचीत चल रही है।
नागपुर में रखी गई DRAL प्लांट की आधारशिला:-27 अक्टूबर, 2017 को नागपुर में DRAL प्लांट की आधारशिला रखी गई थी। ये प्लांट फाल्कन 2000 बिजनेस जेट के पार्ट्स बनाएगा, जिसे 2018 के अंत तक बना लिया जाएगा। अगले चरण में यहां राफेल एयरक्राफ्ट के पार्ट्स बनाए जाएंगे। कंपनी ने बताया कि भारतीय प्रबंधकों की एक टीम को प्रोडक्शन प्रोसेस समझाने के लिए फ्रांस में छह महीने की ट्रेनिंग दी गई है।
क्या है मीडियापार्ट के आरोप?;-फ्रेंच वेबसाइट मीडियापार्ट ने दावा किया है कि दासौ ने अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस से गठजोड़ दिखाकर राफेल सौदा हासिल किया था। वेबसाइट ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि जब दासौ के प्रतिनिधि ने अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस डिफेंस का दौरा किया, तो वहां केवल एक वेयर हाउस था। इसके अलावा कोई भी सुविधा नहीं थी। साथ ही रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया कि उनके (दासौ) सामने रिलायंस को पार्टनर चुनने की शर्त रखी गई थी, यानी उन्हें कोई दूसरा विकल्प नहीं दिया गया। हालांकि दासौ ने इन आरोपों का खंडन किया है और कहा है कि उन्होंने अपनी मर्जी से रिलायंस ग्रुप को ऑफसेट पार्टनर चुना था।

वाशिंगटन। हब्बल स्पेस टेलीस्कोप के एक गाइरोस्कोप के काम बंद करने के बाद वह स्लीप मोड में चला गया है। यह कहना है अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का। एजेंसी ने बताया कि पांच अक्टूबर को टेलीस्कोप स्लीप मोड में चला गया था, जिसके बाद से वैज्ञानिक इसे ठीक करने का प्रयास कर रहे हैं।नासा के बयान के मुताबिक, हब्बल के उपकरण अभी भी पूरी तरह से काम कर रहे हैं और उम्मीद है कि आने वाले वर्षों में यह टेलीस्कोप विज्ञान के क्षेत्र में अपना और योगदान देगा। बयान में कहा गया कि सुरक्षित मोड टेलीस्कोप को एक स्थिर स्थिति में तब तक रखता है जब तक कि ग्राउंड कंट्रोल (निगरानी करने वाले कर्मचारी) इस समस्या को सुधार नहीं लेते और मिशन फिर सामान्य रूप से काम नहीं करने लगता।हब्बल स्पेस टेलीस्कोप वास्तव में एक खगोलीय दूरदर्शी है, जो अंतरिक्ष में कृत्रिम उपग्रह के रूप में स्थित है। इसे 25 अप्रैल, 1990 को अमेरिकी अंतरिक्ष यान डिस्कवरी की मदद से इसकी कक्षा में स्थापित किया गया था। हब्बल टेलीस्कोप को नासा ने यूरोपियन अंतरिक्ष एजेंसी के सहयोग से तैयार किया था। वर्ष 2009 में सर्विसिंग मिशन-4 के दौरान हब्बल में छह नए गाइरोस्कोप लगाए गए थे।
आमतौर पर तीन गाइरोस्कोप का होता है प्रयोग:-आमतौर पर हब्बल एक बार में अधिकतम क्षमता के लिए तीन गाइरोस्कोप का इस्तेमाल करता है, लेकिन वैज्ञानिक विश्लेषण केवल एक गाइरोस्कोप के जरिये भी किया जा सकता है।
एक साल से हो रही थी आशंका:-नासा के मुताबिक, यह खराबी अचानक नहीं आई है। खराब हुआ गाइरोस्कोप करीब एक साल से इस तरह काम कर रहा था कि उसके खराब होने की आशंका थी। वहीं, उसके साथ के दो अन्य गाइरोस्कोप पहले ही खराब हो चुके हैं। शेष बचे हुए तीन गाइरोस्कोप में तकनीकी रूप से विकास किया गया है, जिसके चलते उनके लंबे समय तक काम करने की उम्मीद है। वहीं, वर्तमान में इनमें से दो गाइरोस्कोप काम कर रहे हैं।
सुधार के लिए किए जा रहे प्रयास:-नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर और स्पेस टेलीस्कोप साइंस इंस्टीट्यूट के कर्मचारी विश्लेषण और परीक्षण कर रहे हैं, ताकि पता लगाया जा सके कि गाइरोस्कोप को ठीक करने के लिए क्या विकल्प मौजूद हैं। जब तक इसकी खराबी का पता लगाकर उसे पूरी तरह से ठीक नहीं किया जाता, तब तक नासा ने हब्बल से की जाने वाली सभी खोजों को रोक दिया है।

यरुशलम। दुनियाभर को हथियार बेचने वाले अमेरिका ने अपने बख्तरबंद वाहनों की सुरक्षा के लिए इजरायल से सैन्य हथियार प्रणाली 'ट्रॉफी' को खरीदने का सौदा किया है। अमेरिका को यह प्रणाली 50 करोड़ डॉलर (करीब 3,700 करोड़ रुपये) में मिलेगी।ट्रॉफी सैन्य वाहनों को मिसाइल और मोर्टार के हमले से बचाती है, इसके साथ ही यह सैन्य वाहनों की ओर आती मिसाइल और मोर्टार को नष्ट करने की क्षमता भी रखती है। इसे इजरायली कंपनी रफायल एडवांस डिफेंस सिस्टम ने विकसित किया है। पिछले साल जून में भी अमेरिकी सेना ने अपने एबरैम्स टैंकों की सुरक्षा के लिए रफायल से 19.3 करोड़ डॉलर (करीब 1,430 करोड़ रुपये) में यह प्रणाली खरीदी थी।अब उसने ज्यादा टैंकों की सुरक्षा के लिए नया करार किया है। रफायल अमेरिकी सेना को ट्रॉफी का हल्का संस्करण भी बेचने की योजना पर विचार कर रही है। इससे अमेरिकी बख्तरबंद टैंकों ब्रैडली और स्ट्राइकर की सुरक्षा हो पाएगी। ट्रॉफी का हल्का संस्करण भी 300 से ज्यादा टैंक रोधी मिसाइल और मोर्टार को रोकने की क्षमता रखता है।

ढाका। बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के बेटे तारिक और 18 अन्य को 2004 के ग्रेनेड अटैक मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। खालिदा जिया भ्रष्टाचार के मामले में जेल में बंद हैं।तारिक रहमान को कोर्ट ने ग्रेनेड हमले का दोषी ठहराया है। इस हमले में 24 लोगों की मौत हो गई और 500 लोग घायल हो गए थे। वहीं पीएम शेख हसीना बाल-बाल बच गई थीं, लेकिन उनके सुनने की क्षमता खत्म हो गई थी। प्रधानमंत्री हसीना ने मामले की सुनवाई के दौरान ही आरोप लगाया था कि अवामी लीग की 2004 की रैली में ग्रेनेड से हमला करने के पीछे खालिया जिया का हाथ था।गौरतलब है कि खालिदा जिया भ्रष्टाचार के मामले में जेल में बंद हैं। वहीं उनका बेटा रहमान ब्रिटेन में राजनीतिक शरण लिए हुए है। 24 अगस्त 2004 को उग्रवादियों ने बंगबंधु एवेन्यू केंद्रीय कार्यालय के सामने अवामी लीग की रैली पर 13 ग्रेनेड फेंके थे। इसमें अवामी लीग के नेता और कार्यकर्ताओं के साथ ही दिवंगत राष्ट्रपति जिल्लुर रहमान की पत्नी भी शामिल थीं।

 

नैरोबी। उत्तरी केन्या के केरिचो में भीषण सड़क हादसा हुआ है। यहां यात्रियों से भरी एक बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई। हादसा इतना जबरदस्त था कि इसमें 42 लोगों की मौत हो गई, जबकि 12 लोग घायल हुए हैं। जानकारी के अनुसार ये बस काकामेगा होमबॉयज की बताई जा रही है। फिलहाल घायलों को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। चश्मदीद के मुताबिक, बस नैरोबी से किसुमु जा रही थी। अचानक ड्राइवर ने बस से अपना नियंत्रण खो दिया और हादसा हो गया।

रावलपिंडी। पाकिस्तानी आर्मी के लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर खुफिया एजेंसी आईएसआई के नए चीफ बने हैं। पाक आर्मी की मीडिया विंग ने बुधवार को इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि असीम मुनीर को आईएसआई का नया जनरल डायरेक्टर नियुक्त किया गया है। एक अक्टूबर को आईएसआई के पूर्व डीजी नावीद मुख्तार के रिटायरमेंट के बाद खुफिया एजेंसी के चीफ की जगह खाली हो गई थी।नवीद मुख्तार को 11 दिसंबर 2016 को आइएसआइ महानिदेशक की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा की अध्यक्षता वाले बोर्ड ने छह जनरलों की प्रोन्नति को मंजूरी दे दी है। प्रोन्नति पाने वाले सैन्य अफसरों में मेजर जनरल नदीम जकी मंज, मेजर जनरल शाहीन मजहर, मेजर जनरल अब्दुल अजीज, मेजर जनरल असीम मुनीर, मेजर जनरल सैयद मोहम्मद अदनान और मेजर जनरल वसीम अशरफ शामिल हैं।

 

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सऊदी अरब के वरिष्ठ पत्रकार जमाल खशोगी की गुमशुदगी पर चिंता जताई है। ट्रंप ने इसके साथ ही सऊदी अरब से आग्रह किया है कि वह जमाल का पता लगाने के लिए विस्तृत जांच-पड़ताल में सहयोग करे और इसके नतीजे को लेकर पारदर्शिता बरते।अमेरिकी अखबार वाशिंगटन पोस्ट में भी लिखने वाले 59 वर्षीय जमाल पिछले हफ्ते इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास में दाखिल होने…
ढाका। जेल की सजा काट रहीं बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री और बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) की प्रमुख खालिदा जिया का बायां हाथ काम नहीं कर रहा है। खालिदा के डॉक्टर अब्दुल जलील चौधरी के अनुसार, उनका हाथ लकवाग्रस्त होकर मुड़ गया है। 73 साल की खालिदा पिछले 30 सालों से गठिया से पीड़ित हैं। दवा ठीक से नहीं लेने के कारण उनका हाथ लकवाग्रस्त हो गया।अनाथालय को मिले विदेशी फंड…
बीजिंग। चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) पर पाकिस्तान से आ रही विरोधाभाषी खबरों पर चीन मंगलवार को सफाई देता दिखा। इन खबरों को नजरअंदाज करते हुए चीन ने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव के तहत आने वाली विविध परियोजनाओं का समर्थन करने का आश्वासन दिया है।इमरान ने बीते रविवार को एक इंटरव्यू में कहा था कि बलूचिस्तान के लोगों के हितों को ध्यान में…
काबुल। अफगानिस्तान के जावजान प्रांत के कुश टीपा जिले में सोमवार रात तालिबान ने हमला कर 12 सुरक्षा बलों की हत्या कर दी। हमले में दस जवान घायल भी हुए हैं। बताया जा रहा है कि तालिबान ने यह हमला कुश टीपा पर कब्जे के लिए किया था, लेकिन सुरक्षा बलों ने आतंकी संगठन के इस प्रयास को विफल कर दिया। तालिबान ने आगामी 20 अक्टूबर को होने वाले संसदीय…
Page 6 of 336

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें