दुनिया

दुनिया (1043)

इस्लामाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21 से 27 सितंबर तक अमेरिका यात्रा पर जाने वाले हैं। भारत ने इसके लिए पाकिस्तान से उसकी एयरस्‍पेस के इस्‍तेमाल की इजाजत मांगी है। पाकिस्तान मीडिया के हवाले ये खबर सामने आई है कि भारत ने पाकिस्तान से औपचारिक रूप से अनुरोध किया है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के न्यूयॉर्क जाने के लिए अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल की अनुमति दे। पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक, इमरान सरकार सलाह-मशविरे के बाद इस पर फैसला ले सकती है।बता दें कि पुलवामा आतंकी हमले और बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद दोनों देशों के संबंध बिगड़े हुए हैं। जम्मू-कश्मीर में संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म किए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। यही कारण है कि पाकिस्तान ने भारतीय विमानों के लिए अपने एयरस्पेस को पूरी तरह से बंद कर दिया है। तभी से भारत आने वाली या भारत से जाने वाली सभी फ्लाइटें दूसरे रूट से जा रही हैं।गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 22 सितंबर को अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में हाउडी मोदी कार्यक्रम में 50 हजार भारतीय-अमेरिकी नागरिकों को संबोधित करने वाले हैं। विदेश में पीएम मोदी का ये अब तक का सबसे बड़ा इवेंट बताया जा रहा है। इसके अलावा पीएम मोदी 27 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGC) में भी भाषण देने वाले हैं।

इस्‍लामाबाद। खुद को मानवाधिकार का बड़ा पैरोकार होने का दिखावा करने वाले पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान बुधवार को उनके देश के नेताओं ने ही आइना दिखा दिया। विपक्ष के नेताओं ने संसद में अल्‍पसंख्‍यकों के खिलाफ हो रहे अत्‍याचारों का मुद्दा उठाया। विपक्षी नेताओं ने साफ कहा कि पाकिस्‍तान में अल्‍पसंख्‍यकों पर हो रहे हमले चिंताजनक हैं। घोटकी की घटना को लेकर हिंदू समुदाय में बहुत चिंता है। पाकिस्‍तानी अखबार द एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून की रिपोर्ट के मुताबिक, नेशनल एसेंबली के सत्र के दौरान पाकिस्‍तान मुस्लिम लीग नवाज के नेता ख्‍वाजा आसिफ ने कहा कि घोटकी की घटना को लेकर हिंदू समुदाय में भय और चिंता का माहौल है। उत्पीड़न के खिलाफ अल्पसंख्यकों को सुरक्षा प्रदान करना हमारा कर्तव्य है। अल्‍पसंख्‍यकों की सुरक्षा होनी चाहिए क्‍योंकि वे वफादार पाकिस्तानी लोग हैं। बता दें कि पाकिस्तान के सिंध प्रांत के घोटकी जिले में हिंदू समुदाय के लोगों पर लगातार हमले हो रहे हैं। जिले के एक स्कूल के हिंदू प्रधानाचार्य पर एक नाबालिग छात्र की ओर से ईशनिंदा के आरोप लगाए गए जिसके बाद से हमले शुरू हो गए हैं। घोटकी, आदिलपुर, मीरपुर माथेलो जैसे शहरों में स्थिति तनावपूर्ण है। प्रशासन की ओर से अल्‍पसंख्‍यकों को घरों के भीतर ही रहने के लिए कहा गया है। ईशनिंदा के आरोपों के बाद उग्र प्रदर्शनकारियों ने तीन मंदिरों, एक प्राइवेट स्कूल और हिंदुओं के कई घरों में तोड़फोड़ की थी। ऐसा नहीं की पाकिस्‍तानी प्रशासन हिंदुओं की सुरक्षा को लेकर फ‍िक्रमंद है। पुलिस उल्‍टे उन हिंदुओं के खिलाफ एफआइआर दर्ज कर रही है जो खुद उत्‍पीड़न के शिकार हो रहे हैं। सिंध पब्लिक स्‍कूल के शिक्षक नोतल मल के खिलाफ भी पुलिस ने ईश निंदा के आरोप में एफआइआर दर्ज कर ली है।

इस्लामाबाद। भारत की छवि को नुकसान पहुंचाया जा सके, इसके लिए पाकिस्तान की इमरान सरकार हर मौके पर झूठ के पुलिंदे बांध रही है। दुनिया के हर बड़े प्लेटफार्म पर हार के बाद भी पाकिस्तान कश्मीर का रोना रो रहा है। भारत सरकार द्वारा Article 370 को हटा देने के बाद पाकिस्तान की आतंकी साजिशों को नुकसान पहुंचा, जहां वो चाहता है कि भारत अपना फैसला वापल लेले।हालांकि, पाकिस्तान का भारत के आंतरिक मामले से कोई मतलब नहीं है और इस बात को दुनिया के सामने बता भी दिया गया। इस हार को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे पाकिस्तान ने ये कहना शुरू कर दिया कि जम्मू-कश्मीर में मानव अधिकारों का उलंलघन किया जा रहा है। लेकिन इसपर भी वो खुद को साबित ना कर सका।
POK में इमरान के खिलाफ विरोध;-यहां गौर करने वाली बात यह है कि एक तरफ पाकिस्तान दुनिया की आंखों में धूल झोंकते हुए कह रहा है कि भारत के जम्मू-कश्मीर में सब सही नहीं चल रहा, लेकिन जमीनी हकिकत तो यह है कि पाकिस्तान को गुलाम कश्मीर (POK) में भी लोगों का गुस्सा झेलना पड़ रहा है।पाकिस्तानी मीडिया के रिपोर्ट के मुताबिक मुजफ्फराबाद (गुलाम कश्मीर) रैली के दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ नारेबाजी करने पर छात्रों और युवाओं के खिलाफ FIR दर्ज की गई है। बता दें कि शुक्रवार यानी 13 सितंबर को मुजफ्फराबाद में पाक पीएम द्वारा एक बड़ा जलसा किया गया। इस दौरान इमरान खान के खिलाफ बगावती नारे लगाए गए। इमरान खान का विरोध किया गया। इनमें युवाओं का जोर रहा, जहां उन्हें दबाने के लिए यह कदम उठाया गया।
'पॉलिसी स्टेटमेंट':-जानकारी के मुताबिक, इमरान खान ने POK पहुंच कश्मीर पर 'पॉलिसी स्टेटमेंट' दिया। यह जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद से इमरान खान का तीसरा पीओके दौरा था। अपने साप्ताहिक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान घोषणा करते हुए पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा था कि पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे को हल करने के लिए किसी भी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता के लिए तैयार हैं और हम इस बात की पुष्टि करते है कि मामले की वैधता अंतरराष्ट्रीय कानून पर आधारित हैउन्होंने कहा, 'मध्यस्थता के प्रस्ताव (कश्मीर पर) हैं लेकिन भारत तैयार नहीं है। हम इसके लिए तैयार हैं। हमारा विचार है कि सभी समस्याओं को बातचीत के जरिए हल किया जा सकता है।'

टोक्‍यो। पूर्वी जापान में शक्तिशाली तूफान से यहां का जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित है। इसके चलते पूर्वी जापान के बड़े हिस्‍से में विद्युत आपूर्ति बाधित है। यहां करीब 80,000 हजार घर अंधेरे में डूब चुके हैं। राष्‍ट्रीय मौसम एजेंसी ने सोमवार को चिबा में भारी बारिश के लिए चेतावनी जारी किया है। भूस्‍खलन की आशंका को देखते हुए करीब 50 हजार लोगों को घर छोड़ने का आदेश दिया गया है। राष्ट्रीय मौसम एजेंसी ने सोमवार को चिबा में भारी बारिश के लिए चेतावनी जारी किया है, जबकि स्थानीय अधिकारियों ने भूस्खलन के जोखिम के कारण 46,300 लोगों को गैर-अनिवार्य निकासी आदेश जारी किए।अधिकारियों ने बताया कि भारी बारिश और तूफान के कारण हजारों लोग अपने घरों से पलायन कर गए हैं। राहत एवं बचाव कार्य जारी है, लेकिर बारिश के कारण लोगाें तक राहत पहुंचाने में बाधा उत्‍पन्‍न हो रही है। इस तूफान में दो लोगों की जान ले ली है। तीन बुजुर्गों की हीटस्‍टोक के कारण मौत हो गई है।टोक्‍यो इलेक्ट्रिक कंपनी (TEPCO) के प्रवक्‍ता नाया कांडो ने बताया कि 78,700 घर अभी भी राजधानी के दक्षिण टोक्‍यों में बिना बिजली और पानी के लिए विवश है। हालांकि प्रवक्‍ता ने बताया कि 27 सितंबर तक विद्युत आ‍पूर्ति को बहाल कर लिया जाएगा। उन्‍होंने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में मुश्किलें आ रही है, लेकिन इसका समाधान भी खोज लिया जाएगा। एक स्‍थानीय अधिकारी ने कहा कि करीब 10 हजार घरों में पानी नहीं था। सेना की मदद से प्रभावित क्षेत्रों में पानी के टैंकरों के जरिए जल आपूर्ति की जा रही है।

इस्‍लामाबाद। खुद को कश्‍मीरी मुस्लिमों का हमदर्द बताने वाले पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री का दोहरा चरित्र सामने आ गया है। दरअसल, अल जजीरा को दिए इंटरव्‍यू में जब इमरान खान से चीन में हो रहे उइगर मुसलमानों के दमन को लेकर तीखा सवाल पूछा गया तो उन्‍होंने चीन की आलोचना करने की बजाए इस सवाल को ही गोलमोल करके टाल गए। साक्षात्‍कार में जब पत्रकार मोहम्‍मद जमजूम ने इमरान खान से पूछा कि क्या उन्‍होंने कभी चीनी राष्ट्रपति शी च‍िनफ‍िंग के साथ उइगर मुसलमानों के मुद्दे पर चर्चा की है। इस पर इमरान ने जवाब दिया कि उन्‍हें इस समस्या के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। इस जवाब में वह यह बताना नहीं भूले कि चीन पाकिस्‍तान का सबसे अच्छा दोस्त है। इस इंटरव्‍यू में इमरान खान ने कश्‍मीर‍ का मसला उठाया था लेकिन चीन की ओर से कथ‍ित तौर पर उत्‍पीड़ के शिकार उइगर मुसलमानों की समस्‍या पर पूछे गए सवाल को टाल गए थे। उन्‍होंने कहा था कि मुझको उइगर मुस्लिमों के साथ हो रहे अत्‍याचारों की जानकारी नहीं है। हम तो अपनी ही आंतरिक समस्‍याओं में घिरे हुए हैं। जब से हम सत्ता में आए हैं, देश की अर्थव्यवस्था के अलावा दूसरी समस्याओं का सामना कर रहे हैं। मैं चीन के बारे में एक बात जरूर बताना चाहता हूं कि वह पाकिस्‍तान का सबसे अच्‍छा दोस्‍त है। इस जवाबों के बावजूद जब अल जजीरा के पत्रकार ने इमरान से सवाल दागा कि उइगर मुस्लिमों के साथ हो रहे उत्‍पीड़न के मसले पर आप का रुख क्‍या है। इमरान ने जवाब दिया कि फ‍िलहाल मेरी जिम्‍मेदारी पाकिस्‍तान के लोगों के प्रति है। इसलिए मैं अपने देश के लिए काम कर रहा हूं। गौरतलब है कि इमरान के इस जवाब से बिल्‍कुल साफ है कि वह पाकिस्‍तानी फौज के एजेंडे पर काम कर रहे हैं। उन्‍हें दुनिया के मुस्लिमों की कोई फिक्र नहीं है, यहां तक कि उन्‍हें पीओके, बलूचिस्‍तान, सिंध के इलाकों में रहने वाले मुस्लिमों की भी कोई फ‍िक्र नहीं है।

लंदन। ब्रिटेन ने सोमवार को कहा कि सऊदी अरब के तेल संयंत्रों पर हमला तेल संयंत्रों पर हमला गंभीर और अपमानजनक है, लेकिन ब्रिटेन ने कहा कि प्रतिक्रिया देने से पहले इस हमले के लिए कौन जिम्मेदार था, इस पर पूर्ण तथ्यों की आवश्यकता जरूरी है।
ब्रिटेन ने दिया बयान;-ब्रिटिश विदेश सचिव डॉमिनिक रैब ने कहा, 'यह हमला अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन था। ब्रिटेन ने साथ ही कहा है कि वह सऊदी अरब के साथ मजबूती से खड़ा है। राब ने कहा, 'कौन जिम्मेदार है, इस संबंध में तस्वीर पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है।' रब ने कहा 'यह सऊदी अरब और तेल प्रतिष्ठानों पर एक बहुत गंभीर हमला था और वैश्विक तेल बाजारों और आपूर्ति के लिए इसके निहितार्थ हैं।'यह एक बहुत ही गंभीर और अपमानजनक है। हमें इसके लिए एक स्पष्ट और यथासंभव अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया के रूप में एकजुट होने की आवश्यकता है।' अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि रविवार को संयुक्त राज्य अमेरिका के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ईरान पर आरोप लगाने के बाद सऊदी अरब की तेल सुविधाओं पर हमले की संभावित प्रतिक्रिया के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका को 'बंद और लोड' किया था। ईरान ने हमले को अंजाम देने से इनकार किया है।सऊदी अरब के सबसे बड़े तेल संयंत्र अरामको(Aramco)द्वारा संचालित दुनिया की सबसे बड़ी क्रूड-प्रोसेसिंग सुविधा पर बड़े पैमाने पर ड्रोन हड़ताल ने लगभग चार महीनों में तेल की कीमतों को अपने उच्चतम स्तर पर पहुंचा दिया है। इस हमले ने सऊदी अरब के आधे से अधिक तेल उत्पादन को जोरदार झटका दिया है। इस वजह से पूरी दुनिया को निर्यात किए जाने वाले 5.7 मिलियन बैरल या दुनिया की कुल प्रतिदिन आपूर्ति के 5 प्रतिशत से अधिक पर असर पड़ा है।

नई दिल्ली। सऊदी अरब में अरामको ऑयल प्लांट पर हमले की शुरुआत सद्दाम हुसैन ने की थी, उसके बाद शनिवार को जो हमला हुआ वो अब तक का सबसे बड़ा हमला माना जा रहा है। जिस तरह से एक बार फिर से ऑयल प्लांट पर ड्रोन से हमला किया गया है, उसके बाद इन ऑयल प्लांट की सुरक्षा पर सवाल खड़े हो रहे हैं। इससे पहले भी सऊदी अरब में…
नई दिल्‍ली। दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी ‘आरामको’ पर हुए हमले के बाद एक नाम हर जगह सुनाई दे रहा है। यह नाम है ‘हूथी विद्रोही’। शनिवार को हुए ड्रोन अटैक के बाद सऊदी अरब में तेल उत्पादन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। इस हमले की वजह से सोमवार को अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत 19 फीसद बढ़ कर 71.95 डॉलर प्रति बैरल हो गई है।…
नई दिल्ली:-सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी अरामको के दो प्लाटों पर हुए हमले के बाद कंपनी को 100 अरब डॉलर मिलने पर फिलहाल ब्रेक लग गया है। दरअसल तीन साल 2016 में सऊदी प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने 2016 में कहा था कि वो कंपनी का पांच फीसदी हिस्सा शेयर बाजार में लाना चाहते हैं, जिससे उनको उम्मीद थी कि शेयर बाजार से कंपनी को कम से कम 100…
एजवुड। अमेरिका के पेंसिल्वेनिया राज्य में एक व्यक्ति ने अपनी बेटी की शादी वाले दिन ही विस्फोट कर अपना घर उड़ा दिया। इसमें उसकी मौत हो गई। पुलिस उसकी मौत को आत्महत्या के नजरिये से देख रही है। घटना के समय घर के सभी लोग शादी में गए थे।मीडिया में आई खबरों के अनुसार, पिट्सबर्ग शहर के पास एजवुड इलाके में शनिवार को एक व्यक्ति ने अपने घर में विस्फोट…
Page 6 of 75

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें