दुनिया

दुनिया (873)

हांगकांग। एक माह से जारी हिंसक विरोध प्रदर्शन ने हांगकांग को एक खतरनाक स्थिति में धकेल दिया है। हांगकांग के मुख्‍य कार्यकारी कैरी लैम ने सोमवार को कहा कि हिंसक विरोध प्रदर्शन बेहद खतरनाक स्‍तर पर पहुंच चुका है। इस प्रदर्शन की आंच अब हांगकांग की अर्थव्‍यवस्‍था पर पड़ना शुरू हो गई है। इसे लेकर चीन और हांगकांग सरकार चिंतित दिखी। उधर, चीन लगातार प्रदर्शनकारियों को आगाह करता आ रहा है। चीन का कहना है कि अगर हिंसक प्रदर्शन जारी रहा तो उसे मजबूरन सेना काे उतारना पड़ेगा। हालांकि, प्रदर्शनकारियों पर चीन की यह धमकी बेअसर रही है।बता दें कि शनिवार को हांगकांग में सरकार के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन में नया मोड़ तब आया, जब इस आंदोलन में यहां के सिविल सर्वेंट भी शामिल हो गए। इससे हांगकांग सरकार की मुश्किलें और बढ़ गई है। बता दें कि प्रदर्शनकारी हांगकांग सरकार के प्रत्‍यर्पण विधेयक का विरोध कर रहे हैं। प्रदर्शनकारी सरकार से प्रत्‍यर्पण बिल को पूरी तरह से वापस लेने की मांग कर रहे हैं। यह हड़ताल करीब एक माह से अधिक समय से जारी है, लेकिन दस दिनों पूर्व यह आंदोलन हिंसक रूपसिविल सेवकों के इस ऐलान के बाद हांगकांग के मुख्‍य कार्यकारी कैरी लैम ने एक सख्‍त चेतावनी जारी किया है। लैम का कहना है सविल सेवको से उम्‍मीद की जाती है वे राजनीतिक रूप से तटस्‍थ बने रहेंगे। उन्‍होंने कहा कि राजनीतिक तटस्‍थता के सिद्धांत को कमजोर करने वाला कोई भी क्रियाकिलाप अस्‍वीकार्य होगा। लैम ने कहा है कि सिविल सर्वेंट के इस कदम से उनका जनता के बीच विश्‍वास उठ जाएगा। इससे जनता के बीच एक गलत धारण पैदा होगी।गौरतलब है क‍ि प्रत्‍यर्पण विधेयक को बीते हफ्ते ही पारित किया जाना था, लेकिन जनता के भारी विरोध के चलते इस टाल दिया गया। बीजिंग समर्थक हांगकांग की नेता कैरी लाम ने कहा कि प्रत्‍यर्पण की अनुमति देने वाला विधेयक अब निलंबित रहेगा। पिछले हफ्ते प्रदर्शनकारियों एवं पुलिस के बीच हिंसक झड़प भी हुई। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि हम हांगकांग के लोग हैं। हमें किसी भी प्रदर्शन में भाग लेने व स्‍वतंत्र रूप से बोलने का बुनियादी हक है। प्रदर्शनकारी ने कहा कि पुलिस कार्रवाई की स्‍वतंत्र जांच हो।
क्‍या है प्रत्‍यर्पण विधेयक;-इस कानून के मुताबि अगर कोई व्‍यक्ति चीन में अपराध करके हांगकांग में शरण लेता है तो उसे जांच प्रक्रिया में शामिल होने के लिए चीन भेज दिया जाएगा। हांगकांग सरकार इस मौजूदा कानून में संशोधन के लिए फरवरी में प्रस्‍ताव लाई थी। अगर ये कानून पास हो जाता है तो इससे चीन को उन क्षेत्रों में संदिग्‍धों को प्रत्‍यर्पित करने की अनुमति मिल जाएगी, जिनके साथ हांगकांग का समझौता नहीं है। उदाहरण के तौर पर संबंधित अपराधी को ताइवान और मकाऊ प्रत्‍यर्पित किया जा सकेगा। बता दें कि हांगकांग एक एक स्‍वायत्‍त दृवीप है। चीन इसे अपने संप्रभु राज्‍य का हिस्‍सा मानता है। इसके चलते हांगकांग और चीन के बीच कोई प्रत्‍यर्पण सिंध नहीं हुई है।

नई दिल्ली। फ्लाइंग मैन (Flying Man) के नाम से मशहूर फ्रांसीसी आविष्कारक (French Inventor) फ्रैंकी जपाटा (Franky Zapata) ने अपने दूसरे प्रयास में जेट संचालित होवरबोर्ड से 36 किमी के इंग्लिश चैनल को सफलतापूर्वक पार कर लिया है। ऐसा करने वाले वह दुनिया के पहले व्यक्ति बन गए हैं। चालीस वर्षीय फ्रैंकी ने उत्साह से भारी भीड़ के सामने रविवार (04 अगस्त 2019) को सुबह सात बजकर 16 मिनट पर फ्रांस के कैलेस शहर में स्थित सैंगाटी बीच से उड़ान भरी और 23 मिनट के बाद 7 बजकर 39 मिनट पर वह इंग्लैंड के केंट शहर में स्थित क्लिफ गांव पहुंचे।फ्रैंकी जपाटा ने हवा में पहली आधिकारिक उड़ान फ्रांस की एक परेड में भरी थी। वह पहले भी एक बार अपने फ्लाइंग बोर्ड के जरिए हवा में उड़कर इंग्लिश चैनल पार करने का प्रयास कर चुके हैं। इंग्लिश चैनल पार करने का उनका पहला प्रयास असफल रहा था। भारत ही नहीं हर देश के लिए उसकी सरहदों की सुरक्षा सबसे बड़ा मुद्दा है। आधुनिक युग में सुरक्षा के लिए जिस तरह से खतरा बढ़ रहा है, उसी तरह तमाम देशों की सेनाएं और युद्ध विशेषज्ञ भी इससे निपटने के नए-नए तरीके इजाद करने की दिशा में लगातार काम कर रहे हैं।ऐसे में फ्रेंच राष्ट्रपति इमेन्युअल मैक्रों के एक ट्वीट ने कुछ दिन पहले पूरी दुनिया को चौंका दिया था। उन्होंने 14 जुलाई को पेरिस में आयोजित बैस्टिल डे समारोह का एक वीडियो ट्वीट किया है। इस आविष्कारक समारोह में एक जवान जेट-पावर्ड फ्लाइबोर्ड पर सवार होकर समारोह स्थल पर उड़ता हुआ नजर आ रहा है। जवान के हाथों में ऑटोमैटिक गन है और वह फ्लाइबोर्ड पर संतुलन बनाए हुए पूरी तरह से मुस्तैद दिख रहा है।
फ्रेंच राष्ट्रपति ने ट्वीट किया वीडियो:-पैर में एक छोटी सी जेट मशीन लगाकर ऑटोमैटिक गन के साथ हवा में उड़ रहे इस सैनिक को देखकर वहां मौजूद हर कोई दंग रह गया। यहां तक कि समारोह में मौजूद फ्रांस के राष्ट्रपति इमेन्युअल मैक्रो के लिए भी ये अद्भुत नजारा था। लिहाजा उन्होंने तुरंत परेड के दौरान हवा में उड़ते सैनिक का एक वीडियो ट्वीट कर दिया। उनके इस ट्वीट को अब तक 7.9 मिलियन (लगभग 80 लाख) लोग देख चुके हैं। तकरीबन 75 हजार लोगों ने उनके इस ट्वीट को लाइक किया है और 25 हजार से ज्यादा लोगों ने उनके ट्वीट को रीट्वीट किया है।
फ्रेंच राष्ट्रपति ने की सेना की तारीफ:-फ्रेंच राष्ट्रपति इमेन्युअल मैक्रों द्वारा ट्वीट करने के बाद थोड़ी ही देर में 1:02 मिनट का ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसे कई देश के लोग देख चुके हैं और तमाम अंतरराष्ट्रीय मीडिया में हवा में उड़ने वाले सैनिक की ये वीडियो दिखाया जा चुका है। अपने इस ट्वीट के साथ राष्ट्रपति इमेन्युअल ने लिखा, उन्हें अपनी सेना, उसके आधुनीकिकरण और उन्नत तकनीक पर गर्व है।
पहली बार इस तकनीक का हुआ सैन्य इस्तेमाल;-मालूम हो कि तमाम देश के रक्षा अनुसंधान संस्थान और सेनाओं द्वारा इस तरह की खोजें की जा रही हैं। ऐसे में फ्रेंच सेना द्वारा पहली बार इस तकनीक का अपनी आधिकारिक परेड में पूरी दुनिया के सामने इस्तेमाल करना, उनकी एक बड़ी उपलब्धी माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि इस जेट फ्लाईबोर्ड के साथ अत्याधुनिक हथियारों से लैस सैनिक 150 मीटर की ऊंचाई पर 10 मिनट से ज्यादा देर तक उड़ान भर सकता है। इसकी रफ्तार 190 किमी प्रतिघंटा तक हो सकती है।
ये है इस तकनीक की खासियत:-खास बात ये है कि इस तकनीक का इस्तेमाल करने के लिए न तो किसी तरह के लांचिंग पैड की जरूरत है और न ही किसी रनवे आदि की। इस टेक्नोलॉजी को आसानी से कहीं भी इस्तेमाल किया जा सकता है। ये मशीन इतनी हल्की है कि सैनिक आराम से इसे अपने कंधों पर लेकर कहीं भी आ जा सकते हैं। इस वजह से यह तकनीक सैनिकों के लिए और मददगार साबित हो सकती है। हालांकि फ्रेंच सेना ने इस तकनीक को आधिकारिक तौर पर अपनाया है या नहीं, ये अभी स्पष्ट नहीं है। माना जा रहा है कि जल्द ही फ्रेंच सेना इस तकनीक को अपना सकती है। बताया जा रहा है कि फ्रांस इस तकनीक को और समृद्ध करने की दिशा में काम कर रहा है।
एक साल से चल रही थी कवायद:-रूसी टेलीविजन नेटवर्क आरटी के अनुसार, पहले फ्लाइबोर्ड का आविष्कार करने वाले फ्रांसीसी खोजकर्ता फ्रैंक ज़ैपाटा को एयरोनॉटिकल माइक्रो-जेट इंजन के विकास के लिए पिछले साल फ्रांसीसी सेना ने 14 लाख 70 हजार डॉलर का अनुदान दिया था। मतलब फ्रांस करीब एक वर्ष से इस तकनीक को विकसित करने की दिशा में काम कर रहा है। सशस्त्र बल के मंत्री फ्लोरेंस पैरी के हवाले से आरटी ने बताया कि ज़ैपाटा की इस खोज को "विभिन्न प्रकार के उपयोगों के लिए टेस्ट की इजाजत मिल सकती है। उन्होंने कहा कि फ्लाइंग लॉजिस्टिक प्लेटफॉर्म या, हमले के लिए भी इस्तेमाल की जा सकती है।

वॉशिंगटन।अमेरिका में गोलीबारी की दूसरी घटना का मामला सामने आया है। अमेरिका में ओहियो के डेटॉन शहर में हुई इस घटना में कम से कम 9 लोगों की मृत्यु हो गई है। वहीं 16 लोग जख्मी हो गए हैं।बता दें कि मरने वालों में शूटर भी शामिल है। अमेरिका में पिछले 24 घंटों के अंदर गोलीबारी का यह दूसरा बड़ा हादसा है। इससे पहले टेक्सास में हुई गोलीबारी में 20 लोगों की जान चली गई थी वहीं 24 लोग घायल हो गए थे।घटना की पहली जानकारी स्थानीय समय के अनुसार एक बजे आई। इसके मुताबिक शहर के ओरेगॉन इलाके में एक बार नेड पैपर्स (Ned Peppers) के बाहर गोलीबारी हुई। सोशल मीडिया पर मौजूद एक वीडियो में लोगों को गलियों में भागते हुए देखा जा सकता है। इसमें गोलीबारी की आवाजें भी सुनाई पड़ रही हैं।बता दें कि अमेरिका के टेक्सास प्रांत शहर एल पासो में रविवार सुबह हुई एक गोलीबारी में कम से कम 20 लोग मारे गए हैं। इस गोलीबारी में 24 लोग घायल हो गए। टेक्सास के गवर्नर ग्रेग एबॉट ने इस घटना की पुष्टि की है। ग्रेग एबॉट का कहना है कि यह टेक्सास के सबसे काले दिनों में से एक है। यह भीषण गोलीबारी शनिवार को अमेरिका-मैक्सिको सीमा से कुछ मील दूर Cielo Vista मॉल के पास एक वॉलमार्ट स्टोर में हुई। पुलिस ने आरोपी बंदूकधारी को हिरासत में ले लिया है।इससे पहले सीएनएन ने अल पासो के मेयर के चीफ ऑफ स्टाफ ओलिविया जीपेडा के हवाले से बताया गया था कि मॉल में गोलीबारी में कई लोगों की मौत हो गई। आरोपी बंदूकधारी को गिरफ्तार कर लिया गया है। टेक्सास के मेयर एबॉट ने उन पुलिस अधिकारियों की प्रशंसा की, जिन्होंने आरोपी को गिरफ्तार किया है।अमेरिकी मीडिया के हवाले से बताया गया है कि संदिग्ध बंदूकधारी की पहचान डलास क्षेत्र के निवासी पैट्रिक क्रूसियस के रूप में हुई है। पुलिस प्रवक्ता सार्जेंट रॉबर्ट गोमेज़ का कहना है कि एकमात्र संदिग्ध बंदूकधारी की उम्र 20 साल है।

इस्लामाबाद। अपनी नियुक्ति के दो महीने में ही दुष्कर्म और यौन शोषण के 200 मामलों की जांच कर पाकिस्तान की महिला थानेदार कुलसुम फातिमा इन दिनों चर्चा में है। कुलसुम पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के पाकपत्तन जिले की पहली महिला थानेदार हैं।बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में कुलसुम ने कहा, नाबालिग लड़कियों से यौन शोषण की घटनाएं मुझे गुस्से से भर देती थीं। मैं सोचती थी कि काश मैं इन मासूम लड़कियों के लिए कुछ कर पाऊं।प्रतियोगी परीक्षा पास करने के बाद पंजाब पुलिस में सब इंस्पेक्टर बनने से मुझे यह मौका मिला। मुझे तब बहुत खुशी हुई, जब मुझे वही जिम्मेदारी मिली जो मैं हमेशा से चाहती थी। मुझे वे सारे मामले सौंप दिए गए जो महिलाओं और नाबालिग लड़कियों से जुड़े थे।इस महिला थानेदार को नाबालिग व महिला संबंधित मामलों को सौंपा गया है। जिस तेजी से वो यौन हिंसा के मामलों को निपटा रहीं है। पाकिस्तान में उनकी लेडी सिघंम के नाम से जमकर तारीफ की जा रही है।कुलसुम का कहना है कि वह अपने कर्तव्यों को निभाकर खुश हैं, जिसे निभाने की चाहत उन्हें हमेशा से थी। कुलसूम को मॉडल पुलिस स्टेशन दलोरियां में SHO के तौर पर नियुक्त करने वाले पाकपट्टन के जिला पुलिस अधिकारी (DPO) इबादत निसार का कहना है कि पाकपट्टन पुलिस में महिला अफसरों की नियुक्ति, लोगों को न्याय दिलाने में मदद करेगी।

टोक्यो। उत्तरपूर्वी जापान भूकंप के जोरदार झटकों से हिल गया है। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.2 आंकी गई है। फिलहाल सुनामी की कोई चेतावनी जारी नहीं की गई है।जापान भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग के मुताबिक भूकंप स्थानीय समयानुसार सुबह 7.23 बजे उत्तरपूर्वी जापान के तट पर आया। भूकंप की गहराई जमीन से लगभग 50 किलोमीटर नीचे थी, जिसकी वजह से इसका असर कम हो गया। किसी तरह के नुकसान की फिलहाल कोई रिपोर्ट नहीं है।बता दें कि जापान दुनिया में भूकंप के सबसे सक्रिय क्षेत्रों में से एक है। यहां भूकंप आम हैं। जापान में दुनिया के 6 या उससे अधिक तीव्रता के भूकंपों का लगभग 20 प्रतिशत है।
जानें, क्यों आता है भूकंप:-धरती की ऊपरी सतह सात टेक्टोनिक प्लेटों से मिल कर बनी है। जहां भी ये प्लेटें एक-दूसरे से टकराती हैं, वहां पर भूकंप का खतरा पैदा हो जाता है।
भूकंप के दौरान ऐसा करने से बचें
- भूकंप के दौरान लिफ्ट का इस्तेमाल न करें।
- बाहर जाने के लिए लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों का इस्तेमाल करें।
- कहीं फंस गए हों तो दौड़ें नहीं।
- अगर गाड़ी या कोई भी वाहन चला रहे हो तो उसे फौरन रोक दें।
- वाहन चला रहे हैं तो पुल से दूर सड़क के किनारे गाड़ी रोक लें।
- भूकंप आने पर तुरंत सुरक्षित और खुले मैदान में जाएं।
- भूकंप आने पर खिड़की, अलमारी, पंखे आदि ऊपर रखे भारी सामान से दूर हट जाएं।
क्या होता है रिक्टर स्केल:-भूकंप के समय भूमि में हुई कंपन को रिक्टर स्केल या मैग्नीट्यूड कहा जाता है। रिक्टर स्केल का पूरा नाम रिक्टर परिणाम परीक्षण ( रिक्टर मैग्नीट्यूड टेस्ट स्केल ) है। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर जितनी ज्यादा होती है, भूमि में उतना ही अधिक कंपन होता है। जैसे-जैसे भूकंप की तीव्रता बढ़ती है नुकसान भी ज्यादा होता है। जैसे रिक्टर स्केल पर 8 की तीव्रता वाला भूकंप ज्यादा नुकसान करेगा। वहीं 3 या 4 की तीव्रता वाला भूकंप हल्का होगा।
भूकंप की तीव्रता के हिसाब से क्‍या हो सकता है असर
- 0 से 1.9 की तीव्रता वाले भूकंप का पता सिर्फ सीज्मोग्राफ से ही चलता है।
- 2 से 2.9 की तीव्रता वाले भूकंप से सिर्फ हल्की कंपन होती है।
- 3 से 3.9 की तीव्रता वाले भूकंप के दैरान ऐसा लगता की कोई ट्रक आपके बगल से गुजरा हो।
- 4 से 4.9 की तीव्रता वाला भूकंप खिड़कियां तोड़ सकता हैं।
- 5 से 5.9 की तीव्रता पर घर का सामान हिल सकता है।
- 6 से 6.9 की तीव्रता वाले भूकंप से इमारतों की नींव में दरार आ सकती है।
- 7 से 7.9 की तीव्रता वाला भूकंप इमारतों को गिरा सकता है।
- 8 से 8.9 की तीव्रता वाला भूकंप आने पर बड़े पुल भी गिर सकते हैं।
- 9 से ज्यादा की तीव्रता वाले भूकंप पूरी तरह से तबाही मचा सकते हैं। अगर समंदर नजदीक हो तो सुनामी भी आ सकती है।

इस्लामाबाद। पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से कभी बाज नहीं आता है। पाकिस्तानी सेना ने भारत के द्वारा किसी भी पाकिस्तानी आर्मी के सैनिकों को मारे जाने का खंडन किया है। ऐसा पाकिस्तान हर बार करता है। पाकिस्तान ने एकबार फिर अपने ही सैनिकों को अपना मानने से इनकार कर दिया है। पाकिस्तानी सेना पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता और डीजी आसिफ गफ्फूर ने कहा कि भारतीय सेना की ओर से पाकिस्तान आर्मी के जिन सैनिकों को मारने की बात कही जा रही है वह गलत है। आसिफ गफूर ने कहा कि इस तरह की खबर फैलाकर भारत कश्मीरियों के खिलाफ बढ़ रहे अत्‍याचार से दुनिया का ध्यान हटाने की कोशिश कर रहा है।बता दें, भारतीय सेना ने पाकिस्तानी बैट(बॉर्डर एक्शन टीम) और आतंकियों के एक दस्ते के 7 लोगों को ढेर कर दिया। ये सभी शनिवार को उत्तरी कश्मीर के केरन (कुपवाड़ा) सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर एक भारतीय सैन्य चौकी पर हमले का प्रयास कर रहे थे। भारतीय सेना ने पाकिस्तानी फौज को एलओसी पर मारे गए बैट जवानों/आतंकियों के शवों को ले जाने का प्रस्ताव भेजा है लेकिन अबतक पाकिस्तान ने इसका कोई जवाब नहीं दिया है।भारतीय सेना के इस कदम से पाकिस्तान घबरा गया है। पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा (LoC) के पास पीओके (PoK) में सेना के लिए एडवाइजरी जारी की है।एलओसी पर फायरिंग की वजह से सेना को अलर्ट रहने के लिए कहा है। दरअसल, बता दें कि जम्मू-कश्मीर के केरन सेक्टर में भारतीय सेना ने पाकिस्तान BAT (बॉर्डर एक्शन टीम) की घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया है, जिसके बाद से पाकिस्तान डर के साए में है।

दुबई। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में दो भारतीय दोस्तों विलास रिक्काला और रवि मसिपेड्डी ने डेढ़ करोड़ दिरहम (करीब 28.45 करोड़ रुपये) की लॉटरी जीती है। तेलंगाना के निजामाबाद जिले के रहने वाले दोनों दोस्तों ने गत 29 जुलाई को बिग टिकट अबूधाबी नामक मासिक लॉटरी का टिकट मिलकर खरीदा था।दुबई में पिछले पांच साल से एक कंपनी में नौकरी कर रहे रिक्काला कुछ समय पहले ही भारत लौट आए…
नई दिल्ली। मोहब्बत एक खूबसूरत एहसास है। ये ना तो मजहब, ना जात, और ना ही लिंग जानता है ना ही हम इसे बेड़ियों में बांधकर रख सकता हैं। आपने अक्सर कई प्रेम कहानियां सुनी होंगी। प्यार की एक ऐसी ही कहानी आज हम आपको बताने जा रहे हैं। जिसने सोशल मीडिया पर धमाल मचाया हुआ है। न्यूयॉर्क शहर में एक भारतीय और पाकिस्तानी लड़की कई बंधनों को तोड़ते हुए…
मॉस्‍को। रूस की अंतरिक्ष एजेंसी ने अंतरराष्‍ट्रीय अंतरिक्ष स्‍टेशन के लिए रसद से भरा MS-12 कार्गों स्‍पेशक्राफ्ट रवाना किया है। कार्गों स्‍पेशक्राफ्ट रूस का मानवरहित क्राफ्ट है। स्‍थानीय समयानुसार शाम को 6.35 बजे इसे रवाना किया गया। इसे रूस के सोयुज-2 (1A) रॉकेट से लांच किया गया। यह क्राफ्ट अपने साथ अंतरिक्ष यात्रियों के लिए पर्याप्‍त मात्रा में रसद ले गया है।इसके पूर्व गत वर्ष रूस और अमेरिका की अंतरिक्ष…
बीजिंग। उत्तरी चीन के वाटर पार्क से दिल दहला देने वाला वीडियो सामने आया है। शुइयूं वाटर पार्क में लगी वेव मशीन से अचानक सुनामी जैसी लहरें उठने लगी। जिसे देखकर लोग दहशत में आ गए और इधर-उधर भागने लगे। लहरों की चपेट में आने से 44 लोग घायल हो गए। कई लोगों को गंभीर चोटे भी आई है।घटना रविवार की बताइ जा रही है। शुइयूं वाटर पार्क के अधिकारियों…
Page 5 of 63

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें