दुनिया

दुनिया (4674)

लंदन:-बेल्जियम में हुए आत्मघाती हमले के बाद पुलिस ने दावा किया है कि ब्रसेल्स हवाईअड्डे पर अब भी कुख्यात आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के कम से कम 50 समर्थक बैगेज हैंडलर, सफाई कर्मचारी और कैटरिंग स्टाफ के रूप में काम कर रहे हैं।ब्रिटिश दैनिक‘डेली मेल’में प्रकाशित रिपोर्ट में बताया गया है कि बेल्जियम के एक एयरपोर्ट पुलिस अधिकारी ने खुला खत लिखते हुए इसके बारे में सबको आगाह किया है। अधिकारी ने बताया कि आतंकवादी संगठन के समर्थक के बारे में चेतावनी दे दी गयी है, जो अपने सिक्योरिटी बैच की वजह से विमान तक अपनी पहुंच रखते हैं लेकिन इस चेतावनी के बावजूद वे नौकरी में बने हुए हैं। एयरपोर्ट पुलिस कहना है कि उनकी चेतावनियों पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गयी है।सुरक्षा मानकों की कमी के कारण हड़ताल पर जाने की धमकी देने वाली एयरपोर्ट पुलिस का कहना है कि संभावित हमलों को अंजाम देने के मकसद से हवाईअड्डे की रेकी करने वाले आईएस समर्थकों का मुद्दा उन्होंने उठाया है।कुछ दिन पहले ही इस संबंध में रिपोर्ट आयी थी कि ब्रसेल्स में हमला करने वालों में शामिल दो आतंकवादियों ने एयरपोर्ट पर सफाई कर्मचारी के रूप में काम किया था।पुलिस ने जिन कर्मचारियों की विश्वसनीयता पर सवाल उठाया है, उनमें से कुछ ने गत साल नवंबर में पेरिस में हमले के बाद जश्न मनाया था। पेरिस हमले में 130 लोग मारे गये थे। इन कर्मचारियों की जब जांच की गयी तो पाया गया कि वे कट्टरपंथी विचारधाराओं वाले हैं और उनके खिलाफ आपराधिक मामले भी दर्ज हैं।

नई दिल्ली:-पठानकोट आतंकवादी हमले की जांच के लिए एनआईए टीम पाकिस्तान जाएगी। पाकिस्तान की जेआईटी ने टीम भेजने के एनआईए के निर्णय का स्वागत किया है। एनआईए के डीजी शरद कुमार ने इस बात की जानकारी दी।पाकिस्तान जेआईटी का कहना है कि एनआईए पाकिस्तान में आकर जांच को आगे बढ़ा सकती है। एनआईए के डीजी ने बताया कि पाक जेआईटी ने एसपी सलविंदर सिंह समेत कुल 16 गवाह दिए हैं।  उन्होंने यह भी बताया कि पाक जेआईटी ने यह अनुरोध किया है कि वह आतंकियों से जब्त किए गए हथियारों की पुष्टि करें।

बीजिंग:-चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अमेरिका से कहा है कि चीन दक्षिणी चीन सागर में उसकी नौवहन की स्वतंत्रता पर किसी भी प्रकार का हस्तक्षेप, जो चीन की संप्रभुता का उल्लंघन करती हो, उसे स्वीकार नहीं करेगा।चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार, वाशिंगटन में परमाणु सुरक्षा सम्मेलन से पहले जिनपिंग ने दक्षिणी चीन सागर  हवाला देते हुये अमेरिका के राष्ट्रपति से बराक ओबामा से चीन और स्वशासित ताईवान के बीच संबंधों के शांतिपूर्ण विकास में सहयोग देने की अपील की।जिनपिंग ने कहा कि दक्षिणी चीन सागर में चीन अपनी संप्रभुता की रक्षा करने के लिये कृतसंकल्प है और उसे विश्वास है कि इसे शांतिपूर्ण बातचीत के माध्यम से सुलझा लिया जायेगा। चीन नौवहन की स्वतंत्रता का सम्मान करता है और इसे सुरक्षित बनाये रखने में विश्वास रखता है।

सोल:-उत्तर कोरिया ने अपने पूर्वीतट से शुक्रवार को एक और मिसाइल दागी। दक्षिण कोरिया की सेना ने बताया कि उत्तर कोरिया ने मिसाइल का प्रक्षेपण अमेरका, दक्षिण कोरिया तथा जापान के नेताओं की इस चेतावनी के कुछ ही घंटे बाद किया कि वह अपनी उत्तेजनात्मक कार्यवाही बंद करे या और अधिक दबाव का सामना करने के लिये तैयार रहे।दक्षिण कोरिया की सेना के अधिकारी ने टेलीफोन पर बताया कि उत्तर कोरिया ने मिसाइल का प्रक्षेपण अपने पूर्वी तट के निकट से किया। अधिकारी ने बताया कि उत्तर कोरिया की मिसाइल कम दूरी की और जमीन से आकाश में मार करने वाली थी।दक्षिणी कोरिया के एक अन्य सैनिक अधिकारी ने बताया कि यह पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि आज की उत्तर कोरिया की मिसाइल कितनी दूरी तक मार करने वाली थी।उत्तर कोरिया ने मिसाइल का प्रक्षेपण स्थानीय समय के अनुसार पौने एक बजे किया जब अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा, दक्षिण कोरिया की राष्ट्रपति पार्क ग्यून ही तथा जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे उसके विरुद्ध परमाणु मामले को लेकर और दबाव बनाने की बात कर रहे थे।उनकी यह बैठक वाशिंगटन में परमाणु सुरक्षा सम्मेलन से इतर हुई। तीनों नेताओं ने एक दूसरे की प्रतिरक्षा के लिए कदम उठाने के प्रति प्रतिबद्धता दोहराई। ओबामा ने चीन के राष्ट्रपति से भी उत्तर कोरिया के बारे में बात की।

टोक्यो:-जापान के दक्षिण पश्चिमी अपतटीय क्षेत्र में शुक्रवार को 6.0 तीव्रता का जबर्दस्त भूकंप महसूस किया गया। अधिकारियों ने हालांकि कहा है कि सुनामी का कोई खतरा नहीं है।अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण (यूएसजीएस) और जापान मौसम एजेंसी ने कहा कि भूकंप टोक्यो के करीब 350 किलोमीटर दक्षिण पश्चिम में देश के मुख्य द्वीप होंशू के अपतटीय क्षेत्र में स्थानीय समयानुसार पूर्वाहन 11 बजकर 39 मिनट पर आया।भूकंप 10 किलोमीटर की गहराई पर केंद्रित थासार्वजनिक प्रसारक एनएचके ने खबर दी है कि किसी नुकसान या किसी के हताहत होने की तत्काल कोई जानकारी नहीं है। हालांकि भूकंप की वजह से कुछ बुलेट ट्रेनों का परिचालन अस्थाई रूप से बंद कर दिया गया।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

नयी दिल्ली:-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन देशों की अपनी यात्रा के तहत मंगलवार देर रात बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स के लिए रवाना हो गए। वह आज सुबह ब्रसेल्स पहुंच गए। उनको एयरपोर्ट पर गार्ड आॅफ ऑनर दिया गया।पीएम मोदी से मिलने और उनके स्वागत के लिए भारतीय मूल के लोग एयरपोर्ट के बाहर खडे़ थे। पीएम मोदी ने उनको निराश नहीं किया। उन्होंने कुछ लोगों को अपने ऑटोग्राफ भी दिए।मोदी के साथ विदेश सचिव एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी हैं। प्रधानमंत्री मोदी बेल्जियम के प्रधानमंत्री चार्ल्स मिशेल से द्विपक्षीय बैठक करेंगे। विदेश मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार मोदी की बेल्जियम यात्रा की शुरुआत ही ब्रसेल्स हमले के संदर्भ में आतंकवाद पर चर्चा के साथ होगी।मोदी दोनों देशों के बीच मजबूत रणनीतिक एवं कारोबारी रिश्तों को अधिक जीवंत बनाने के मकसद से बेल्जियम और यूरोपीय संघ के सांसदों और बड़े उद्यमियों के साथ भी मुलाकात करेंगे। मोदी बेल्जियम में रहने वाले प्रवासी भारतीयों के साथ संवाद भी करेंगे। उसके बाद वह ऐतिहासिक एगमांट पैलेस के लिए रवाना होंगे, जहां पर मिशेल प्रधानमंत्री मोदी की अगुवाई करेंगे।दोनों देशों के नेताओं के बीच वैश्विक मुद्दों पर सहयोग बढ़ाने को लेकर द्विपक्षीय बातचीत होगी। उसके बाद मोदी के सम्मान में मिशेल की ओर से दोपहर भोज दिया जाएगा, जहां पर बेल्जियम के कारोबारियों तथा बड़े उद्यमियों के प्रमुखों से मुलाकात करेंगे।मोदी ब्रसेल्स में 13वें भारत-यूरोपीय संघ सम्मेलन में भी भाग लेंगे। प्रधानमंत्री मोदी के इस दौरे से भारत में विदेशी निवेश को आकर्षित करने का अवसर मिलेगा तथा भारत के प्रमुख कार्यक्रमों मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, डिजिटल इंडिया आदि में भागीदारी का आह्वान करेंगे। दोनों नेता लंच के बाद उत्तराखंड के नैनीताल के समीप देवस्थली में आर्यभट्ट खगोलदर्शी विज्ञान अनुसंधान संस्थान के खगोलदर्शी का उद्घाटन करेंगे, जिसे भारत बेल्जियम संयुक्त सहयोग से स्थापित किया गया है।मोदी प्रवासी भारतीयों से भी संवाद करेंगे। शाम को 13वें भारत-यूरोपीय संघ शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे। इस दौरान वह यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क तथा यूरोपीय कमीशन के अध्यक्ष जॉन क्लाड जंकर से भी मुलाकात करेंगे। आखिर में भारत और बेल्जियम की ओर से एक संयुक्त बयान जारी किया जाएगा।मोदी ब्रसेल्स के बाद वाशिंगटन जाएंगे, जहां वह 31 मार्च और एक अप्रैल को परमाणु सुरक्षा सम्मेलन में भाग लेंगे। उसके बाद वह दो दिनों की यात्रा पर सऊदी अरब जाएंगे, जहां ऊर्जा एवं सुरक्षा सहयोग पर जोर दिया जाएगा।

नई दिल्ली:-अमेरिका में बंदूक रखने की आजादी पर भले की तमाम सवाल उठते हों लेकिन अब जल्द ही वहां के लोग एक ऐसी बंदूक खरीद सकेंगे जो देखने में बिल्कुल स्मार्टफोन की तरह है। यह न सिर्फ आसानी से जेब में आ जाएगी बल्कि इसमें जरूरत के हिसाब से सिर्फ 2 बुलेट रखने का ही इंतजाम है।अमेरिकी कंपनी आइडियल कंसील के मुताबिक इस साल के मध्य तक यह बाजार में…
नई दिल्‍ली:-सत्ता के ऐतिहासिक परिवर्तन के तहत आंग सू की के सहयोगी हतिन क्याव ने म्यांमार के राष्ट्रपति के रूप में बुधवार को शपथ ली।म्यामांर की संसद ने क्याव को 15 मार्च को करीब आधी सदी बाद देश का पहला असैनिक राष्ट्रपति चुना था। पूर्व में सैन्य शासन के अधीन रहे देश के राजनीतिक इतिहास में यह एक नया मोड़ है।69 वर्षीय क्याव को म्यामांर की संसद के दोनों विधायी…
अहमदाबाद:-गुजरात के कच्छ तट पर अंतरराष्ट्रीय समुद्र सीमा रेखा (आईएमबीएल)के पास से पाकिस्तान ने बुधवार को 55 भारतीय मछुआरों को हिरासत में ले लिया है। सभी मछुआरे द्वारका के रहने वाले हैं। पाकिस्तान द्वारा मछुआरों को पकड़ने की यह पिछले दो महीनों में तीसरी घटना है।नेशनल फिशवर्क्स फोरम के सचिव मनीष लोधारी ने बताया कि तटीय गुजरात में ओखा से 13 नौकाओं में सवार होकर मछुआरे मछली पकड़ने के लिए…
वाशिंगटन:-अमेरिकी राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवारी के प्रमुख दावेदार डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि परमाणु हथियारों से संपन्न पाकिस्तान बहुत-बहुत बड़ी समस्या है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि देश को इस स्थिति पर नियंत्रण स्थापित करने की जरूरत है।विंसकान्सिन में एक टाउन हॉल के दौरान ट्रंप ने बताया, पाकिस्तान एक बहुत-बहुत बड़ी समस्या है और वह हमारे लिए वाकई बहुत अहम देश है क्योंकि उसके पास परमाणु हथियार…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें