दुनिया

दुनिया (432)

इस्‍लामाबाद। पाकिस्‍तान की इस्‍लामाबाद हाई कोर्ट ने मंगलवार को एक पांच सदस्‍यों का आयोग गठित किया है। यह आयोग दो किशोर हिंदू बहनों को अगवा कर जबरन धर्म परिवर्तन कर शादी के मामले की जांच करेगा। यह मामला है पाकिस्‍तान के सिंद्ध प्रांत का। इस घटना के बाद से ही वहां अल्पसंख्यक समुदाय पुरजोर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।दोनों बहनों रीना और रवीना की ओर से दायर याचिका की सुनवाई इस्‍लामाबाद हाई कोर्ट के मुख्‍य न्‍यायाधीश अतहर मिनअल्लाह ने की जिसमें लड़की के घरवालों ने सुरक्षा देने की मांग की है।

नई दिल्ली। युद्ध या तनाव जैसी स्थिति में जवानों के हौंसले के साथ तकनीक और अत्याधुनिक हथियारों का विशेष महत्व होता है। ऐसे में रूस ने एक ऐसी सेमी ऑटोमेटिक शॉटगन पेश की है, जो खुद दुश्मन को चुन-चुनकर मारने में सक्षम है। फिर चाहे दुश्मन हवा में हो या जमीन के ऊपर।ये बंदूक अगर भारत के पास आ गई तो पाकिस्तान में छिपे बैठे आतंकियों की खैर नहीं। भारत में बैठे-बैठे ही पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों को मार आएगी ये बंदूक। मालूम हो कि रूस भारत का पुराना दोस्त है। भारत, रूसी हथियारों का बड़ा खरीदार भी है। ऐसे में बहुत संभव है कि भविष्य में भारत के पास भी ऐसी बंदूक हो।रुस द्वारा पेश की गई दुनिया की ये सबसे आधुनिक गन में से एक है, जो ड्रोन की तरह हवा में उड़कर अपने दुश्मनों पर किसी चैंपियन की तरह अचूक निशाना साध सकती है। ये शॉटगन हवा में प्लेन की तरह उड़ती है, लेकिन टेक ऑफ और लैंडिंग किसी हैलिकॉप्टर की तरह होती है।इस बंदूक को रूस के मॉस्को एविएशन इंस्टीट्यूट द्वारा तैयार किया गया है। फिलहाल इसका नामकरण नहीं किया गया है। इस ड्रोन गन की टेस्टिंग का पहला चरण सफल रहा है। अगर ये गन सभी टेस्टिंग पैरामीटर्स पर खरी उतरती है तो इसका उत्पादन शुरू किया जाएगा। हवा में उड़ने वाली ये बंदूक दुश्मन के ड्रोन को मार गिराने में भी सक्षम है। इस ड्रोन बंदूक में कई तकनीकी फीचर हैं, जो इसे अन्य रोबोटिक हथियारों में शामिल करते हैं।

लं‍दन। ब्रिटेन के सांसदों ने यूरोपीय संघ के साथ सरकार के तीन समझौतों को खारिज करने के बाद मंगलवार को ब्रेक्जिट के लिए चार संभावित वैकल्पिक योजनाओं के खिलाफ वोट किया।यूरोपीय संघ से बाहर होने के बाद बेहद घनिष्ठ आर्थिक संबंध बनाए रखने और दूसरा जनमत संग्रह कराना या बिना किसी समझौते के ब्रेक्जिट को रोकने में से किसी भी प्रस्ताव को बहुमत हासिल नहीं हो पाया। दूसरा जनमत संग्रह कराने के समर्थन में सबसे अधिक 280 मत पड़े लेकिन इसके खिलाफ 292 मत डाले गए। इसके बाद यूरोपीय संघ के साथ स्थायी ‘कस्टम यूनियन’ में बने रहने के प्रस्ताव के पक्ष में दूसरे सबसे अधिक 273 मत पड़े लेकिन इसके खिलाफ 276 वोट पड़ने से इसे भी बहुमत नहीं मिल पाया।बता दें कि ब्रेक्जिट को लेकर शुक्रवार को तीसरी बार ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे की करारी हार हुई थी। इसके बाद यह कयास लगाए जा रहे थे कि टेरीजा की सरकार चौथी बार अपना प्रस्‍ताव सांसदों के समक्ष ला सकती हैं। इन संभावनाओं के बीच टेरीजा कंजरवेटिव पार्टी के अध्‍यक्ष ब्रैंडन लेविस ने कहा था कि यूराेपीय यूनियन से अलग होने को लेकर सभी विकल्‍प खुले हैं। उधर, सदन में करारी हार के बाद यह चर्चा जोरों पर थी कि टेरीजा जल्‍द ही अपने पद से इस्‍तीफा दे सकती हैं। यह भी कयास लगाए जा रहे थे कि अंतरिम प्रधानमंत्री को चौथा ब्रेक्जिट मसौदा पेश करने का मौका दिया जा सकता है।इस बीच यूरोपीय संघ के अध्‍यक्ष जीन क्‍लाउड जंकर ने कहा है कि ब्रेक्जिट में ब्रिटेन को लेकर संघ का धैर्य अब खत्‍म हो रहा है। जंकर ने रविवार को कहा कि अपने ब्रिटिश मित्रों के लिए हमने बहुत धैर्य रखा था, लेकिन अब यह टूट रहा है। उन्‍होंने कहा कि मैं चाहूंगा कि आने वाले कुछ घंटों या दिनों में ग्रेट ब्रिटेन ब्रेक्जिट को लेकर सहमति बनाए और आगे बढ़े।गौरतलब है कि ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरेसा मे तीन बार ब्रक्जिट समझौत पेश कर चुकी है, लेकिन हर बार सांसदों ने उसे नकार दिया है। अब हालात ऐसे हैं कि ब्रिटेन दो सप्‍ताह के भीतर बिना किसी समझौते के इयू से बाहर हो सकता है।

बीजिंग। चीन में एक किंडर किंडरगार्टन टीचर को कथित रूप से 23 बच्चों को जहर देने के आरोप में हिरासत में लिया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन के हेनान के किंडरगार्टन ने जियाजुओ मेंगमेंग किंडरगार्टन के कुछ बच्चों को उल्टी और बार-बार बेहोशी की शिकायत के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कुछ समय बाद ही इनमें से कई बच्चों की स्थिति में सुधार होने के बाद उन्हें अस्पताल छुट्टी मिल गई।एक अभिभावक ने कहा कि उनके पास किंडरगार्टन से 25 मार्च को टीचर का फोन आया। टीचर ने बताया कि उनके बच्चे ने कुछ खा लिया है जिस वजह से वो बार-बार उल्टी कर बेहोश हो रहा है। जब वो अस्पताल पहुंचे तो उनका बच्चा बेसुध था। उनके बच्चे के आलावा और भी कई बच्चे अस्पताल में भर्ती थे, उन सभी का रंग पूरी तरह पीला पड़ गया था। एक अन्य अभिभावक ने बताया कि डॉक्टरी जांच में पता चला उनके बच्चे को नाइट्रेट दिया गया है। नाइट्रेट एक कार्सिनोजेन और भारी धातु है जिसके सेवन से लीवर और किडनी को काफी नुकसान होता है। सारे पीड़ित बच्चे एक ही क्लास से हैं। दरअसल, सभी बच्चों ने दलिए का खाया था। इसके बाद बच्चों ने शिकायत की थी कि दलिया मीठा नहीं, बल्कि नमकीन है।पुलिस जांच में पता चला टीचर ने बच्चों के खाने में नाइट्रेट मिला दिया था, जिससे बच्चे बीमार हो गए। फिलहाल पुलिस ने टीचर को हिरासत में ले लिया है। किंडरगार्टन के अन्य टीचर भी मामले की जांच कर रहे हैं और तब तक के लिए बच्चों को दूसरे किंडरगार्टन में भेज दिया गया है।

काराकस। वेनेजुएला की शीर्ष अदालत ने मंगलवार को संविधान सभा की बैठक बुलाई है। वेनेजुएला में राजनीतिक घमासान के बीच सुप्रीम कोर्ट का यह कदम काफी अहम माना जा रहा है। शीर्ष अदालत ने संविधान सभा की यह बैठक विपक्षी नेता जुआन गुएडो के संसदीय प्रतिरक्षा को हटाने के लिए बुलाई है। शीर्ष अदालत की इस दखल से यहां के राजनीतिक संघर्ष में नया मोड़ आ सकता है। ऐसे संकेत हैं कि सर्वोच्‍च न्‍यायाल के इस फैसले के बाद राष्‍ट्रपति निकोलस मादुरो अपने प्रतिद्वंद्वी व विपक्ष के नेता गुएडो पर उनके 50 से अधिक देशों की यात्रा को लेकर उन पर मुकदमा चला सकते हैं।गौरतलब है कि तीन माह पूर्व वेनेजुएला के अटार्नी जनरल तारेक विलियम सआब ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि गुएडो पर देश छोड़ने पर प्रतिबंध लगाया जाए और उनकी संपत्तियों को फ्रीज कर दिया जाए। हालांकि, उस वक्‍त कोर्ट ने उनके इस आग्रह को नजरअंदाज कर दिया था। लेकिन अब यह माना जा रहा है कि मादुरो के प्रति झु‍काव दिखा रहा सुप्रीम कोर्ट महाधिवक्‍ता की मांग को मानते हुए यह आदेश भी जारी कर सकता है।वेनेजुएला की सेना का झुकाव भी मादुरो के प्रति है। ऐसे में जाहिर है कि गुएडो की मुश्किलें बढ़ सकती है। इन परिस्‍थतियों के बीच अमेरिकी एक्‍शन को देखना दिलचस्‍प होगा, क्‍यों कि अमेरिका व अन्‍य यूरोपीय देशों को विपक्ष के नेता गुएडो को समर्थन दे रहे हैं।उधर, गुएडो और मादुरो के बीच चल रहे सत्‍ता संघर्ष के चलते वेनेजुएला जबरदस्‍त आर्थिक और राजनीतिक संकट के दौर से गुजर रहा है। वेनेजुएला में छाया संकट लगातार गहराता जा रहा है। देश में बिजली आपूर्ति ठप हो जाने के कारण देश का अधिकांश भाग अंधेरे में डूब गया है।

सैंटियागो। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को चिली में अपने समकक्ष सेबेस्टियन पिनेरा के साथ मुलाकात की और आपसी हितों को लेकर व्‍यापक मुद्दों पर चर्चा की। दोनों देशों ने खनन, संस्‍कृति और विकलांगता के क्षेत्र में तीन समझौतों पर हस्‍ताक्षर किए। पुलवामा आतंकी हमले की कड़ी निंदा के लिए पिनेरा को धन्‍यवाद देते हुए राष्‍ट्रपति कोविंद ने कहा कि दोनों देश आतंकवाद से निपटने के लिए साथ संयुक्‍त रूप से काम करने पर राजी हैं।दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय वार्ता के दौरान चिली ने ऐलान किया वह अमेरिका के वैध वीजा रखने वाले भारतीय नागरिकों को वीजा मुक्‍त प्रवेश की अनुमति देगा। चिली के फैसले का स्‍वागत करते हुए राष्‍ट्रपति कोविंद ने कहा कि इससे दोनों देशों के बीच सांस्‍कृतिक और व्‍यापारिक संबंधों को बढ़ावा मिलेगा।इसके अलावा दोनों देश रक्षा, अंतरिक्ष अनुसंधान और अन्‍वेषण के क्षेत्र में सहयोग एवं उसके अवसरों का पता लगाने पर सहमत हुए। सोमवार को राष्‍ट्रपति कोविंद ने 'द गांधी फार द यंग' विषय पर चिली विश्‍वविद्यालय के छात्रों एवं शिक्षकों को भी संबोधित किया। इस मौके पर राष्‍ट्रपति को एक रिक्‍टोरल पदक भी प्रदान किया गया।चिली विश्‍वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने यहां के लिए एक अंतरिक्ष कार्यक्रम विकास के लिए रणनीति पर राष्‍ट्रपति को जानकारी साझा की। चिली विश्‍वविद्लाय के शोधकर्ताओं ने 'चिली के लिए एक अंतरिक्ष कार्यक्रम के विकास के लिए रणनीति" पर राष्‍ट्रपति को जानकारी दी।राष्‍ट्रपति कोविंद ने चिली के वैज्ञानिकों के साथ वार्ता की। इस बैठक में चिली के वह वैज्ञानिक भी शामिल थे, जिन्‍होंने नैनोसेटलाइट का निर्माण किया था। इस नैनोसेटलाइट को भारत अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने 2017 में लांच किया था।बता दें कि राष्‍ट्रपति कोविंद अपनी तीन देशों की यात्रा के अंतिम चरण में दक्षिण अमेरिकी देश चिली में हैं। रविवार को चिली की राजधानी सैंटियागो पहुंचने पर राष्‍ट्रपति का भव्‍य स्‍वागत किया गया था।

 

 

लंदन। ब्रेक्जिट को लेकर शुक्रवार को तीसरी बार संसद में मुंह की खाने के बाद टेरीजा मे सरकार एक बार फिर अपना प्रस्ताव लेकर सांसदों के समक्ष जा सकती है। टेरीजा की कंजरवेटिव पार्टी के अध्यक्ष ब्रैंडन लेविस ने कहा है कि ब्रेक्जिट (यूरोपीय यूनियन से अलगाव) को लेकर सभी विकल्प खुले हुए हैं।इस बीच मीडिया में चर्चा है कि टेरीजा जल्द ही अपने पद से इस्तीफा दे सकती हैं…
येरूशलम। गाजा पट्टी में फलस्‍तीनी संगठन हमास और इजराइल के बीच संघर्ष जारी है। इजराइली सेना ने हमास के हमले के जवाब में उसके सैन्‍य ठिकानों को निशाना बनाया है। हालांकि, इजराइली सेना का दावा है कि इस हमले में कोई हताहत नहीं हुआ है।इजराइल और गाजा पट्टी के बीच सीमा पर प्रदर्शन समाप्‍त होने के बाद हमास की ओर से पांच रॉकेट दागे गए और इसके जवाब में इजराइल…
टोक्यो। जापान में अकेले रहने वालों की तादाद काफी ज्यादा है। यहां समाज से कट कर रहे लोग परिजनों के अलावा किसी और से बात तक नहीं करते हैं। इस प्रचलन को जापान में हिकिकोमोरी कहा जाता है। तेजी से अपनाए जा रहे इस प्रचलन में किशोर से लेकर बुजुर्ग तक शामिल हो रहे हैं। हिकिकोमोरी अपनाने वाले लोग लगातार छह महीनों तक किसी से बात नहीं करते हैं। ये…
वाशिंगटन। धरती के लगातार बढ़ते तापमान को लेकर जारी वैश्विक चिंताओं के बीच वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि ग्लोबल वार्मिंग से डेंगू और जीका का खतरा लगातार बढ़ रहा है। दुनियाभर में महीने के आधार पर तापमान में बदलाव की जांच करने वाले एक अध्ययन में दावा किया गया है कि 2080 तक करीब एक अरब लोग मच्छरों से होने वाली बीमारी जैसे डेंगू, जीका आदि की चपेट में…
Page 4 of 31

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें