दुनिया

दुनिया (5229)

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन के बीच होने वाली दूसरी मुलाकात के स्थान और तारीख की घोषणा कर दी गई है। ट्रंप ने मंगलवार को स्टेट ऑफ द यूनियन संबोधन के दौरान खुद इसकी घोषणा की। उन्होंने कहा कि किम के साथ उनकी दूसरी शिखर वार्ता 27 और 28 फरवरी को वियतनाम में होगी। हालांकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि दोनों नेताओं की यह वार्ता वियतनाम के किस शहर में होगी? लेकिन चर्चा है कि दोनों नेता वियतनाम की राजधानी हनोई या तटीय शहर दा नांग में मिलेंगे।
पहली बार 12 जून को सिंगापुर में मिले थे किम जोंग और ट्रंप:-ट्रंप और किम की पहली शिखर वार्ता पिछले साल 12 जून को सिंगापुर में हुई थी। इसमें कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु मुक्त बनाने पर सहमति बनी थी। लेकिन इस मसले पर कोई खास प्रगति नहीं हुई। अमेरिकी संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा, 'कोरियाई प्रायद्वीप में शांति हासिल करने के प्रयास में मेरे प्रशासन ने प्रगति की है। हम इस प्रायद्वीप में शांति के लिए निरंतर ऐतिहासिक बढ़ावा दे रहे हैं। इसी का परिणाम है कि पिछले 15 महीने से कोई परमाणु और मिसाइल परीक्षण नहीं किया गया। किम के साथ मेरे अच्छे संबंध हैं। किम और मैं 27 और 28 फरवरी को वियतनाम में दोबारा मिलेंगे।
किम जोंग ने जताई थी मिलने का इच्छा;-इससे पहले सितंबर 2018 में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ दूसरी बैठक के लिए उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने पत्र लिखा था। व्हाइट हाउस की प्रवक्ता सारा सैंडर्स ने बताया था कि राष्ट्रपति को किम जोंग उन का एक पत्र मिला है। यह बेहद गर्मजोशी भरा सकारात्मक पत्र है। इससे यह संदेश मिला है कि उत्तर कोरिया कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु हथियार मुक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। सैंडर्स ने कहा था कि इस पत्र का प्राथमिक उद्देश्य राष्ट्रपति के साथ एक और बैठक निर्धारित करना था। उन्होंने कहा था कि दोनों नेताओं के बीच दूसरी बैठक पर बातचीत पहले ही चल रही है, हालांकि इस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है।
उत्तर कोरिया ने 2017 में किया था अंतिम परमाणु परीक्षण:-उत्तर कोरिया ने अंतिम बार सितंबर, 2017 में परमाणु परीक्षण किया था। उसी साल नवंबर में उसने आखिरी बार अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया था। तब से उसने कोई परमाणु या मिसाइल परीक्षण नहीं किया है।

वाशिंगटन।मनुष्य और अन्य जीवों के बीच सबसे महत्वपूर्ण फर्क बुद्धि का है। बुद्धि के बल पर ही इंसान ने खुद को श्रेष्ठ बनाया और अन्य जीवों पर स्वामित्व स्थापित किया। माना जाता है कि मानव के पूर्वजों द्वारा मांस खाने की शुरुआत करना विकास यात्रा का अहम पड़ाव था। इसके बाद से ही मनुष्य के मस्तिष्क का विकास शुरू हुआ। ताजा अध्ययन में इससे इतर बात सामने आई है। इसके मुताबिक शिकार की शुरुआत से काफी पहले से ही मानव मस्तिष्क का विकास शुरू हो गया था।अध्ययन के अनुसार, फैट यानी वसा के स्वाद को लेकर रुचि पैदा होना मानव विकास के क्रम में बहुत अहम कड़ी थी। अमेरिका की येल यूनिवर्सिटी की वैज्ञानिक जेसिका थॉम्पसन ने कहा, 'करीब 40 लाख साल पहले हमारे पूर्वजों में फैट के प्रति रुचि पैदा हुई थी। यही रुचि आज तक हमारे अंदर बनी हुई है।' अध्ययन के मुताबिक, शुरुआती दिनों में मानव ने अन्य शिकारी पशुओं द्वारा छोड़ी गई हड्डियों के अंदर मिलने वाली वसा का स्वाद चखा। उस दौर में यह मानव के लिए कैलोरी का अहम स्रोत बनकर सामने आया।वैज्ञानिकों ने बताया कि इन खोखली हड्डियों के अंदर से वसा पाने के लिए मनुष्य को किसी विशेष हथियार की जरूरत नहीं होती थी। आराम से किसी पत्थर से फोड़कर मनुष्य को अपना स्वादिष्ट भोजन मिल जाता है। अनुमान है कि ऐसी हड्डियों के प्रति बढ़ती चाहत ने ही मनुष्य का दिमाग बढ़ाया। इसके बाद ही उनके मन में बेहतर हथियार बनाने और जानवरों का शिकार करने का विचार आया।मनुष्य का दिमाग आराम करते समय भी शरीर की ऊर्जा के 20 फीसद के बराबर खपत करता है। अन्य स्तनपायी जीवों की तुलना में यह दोगुना है। वैज्ञानिकों का कहना है कि शिकार की शुरुआत करने के बाद दिमाग के विकास का सिद्धांत सही नहीं लगता। इससे ऊर्जा खपत वाली बात का कोई हल नहीं मिल पाता है।

काठमांडू। नेपाल सरकार ने भारतीय श्रमिकों के लिए वर्क परमिट को अनिवार्य कर दिया है। नेपाल सरकार के इस आदेश के बाद अब नेपाल में काम करने वाले भारतीय कमर्चारियों को परमिट लेना जरूरी हो गया है।बुधवार को नेपाल सरकार के श्रमिक विभाग ने इस आशय की सूचना सभी लेबर अफसरों को भेज दिया है। सरकार का कहना है कि इससे नेपाल में काम कर रहे भारतीय श्रमिकों की सही संख्‍या का पता चल सकेगा। सरकार का कहना है कि बहुत से भारतीय श्रमिकों के पास वर्क परमिट नहीं है।

 

वाशिंगटन। पृथ्वी को अपनी धुरी पर घूमते हुए सूर्य की परिक्रमा करने में 24 घंटे लगते हैं। जबकि बृहस्पति तेजी से घूमते हुए केवल 9.8 घंटे में ही यह परिक्रमा पूरी कर लेता है। इसके उलट शुक्र ग्रह 243 दिन में एक परिक्रमा पूरी करता है। इसी के चलते वहां का एक दिन धरती के 243 दिनों के बराबर होता है। वैज्ञानिकों ने हमारे सौरमंडल के इन ग्रहों पर दिन की अवधि का पता लगा लिया था, लेकिन शनि को लेकर अब तक रहस्य बना हुआ था। अब हालांकि उसपर से भी पर्दा उठ गया है।एस्ट्रोफिजिकल जर्नल में छपे एक अध्ययन के अनुसार, शनि का एक दिन धरती के दस घंटे, 33 मिनट और 38 सेकेंड के बराबर होता है। शनि के अध्ययन के लिए भेजे गए कैसिनी अंतरिक्ष यान से जुटाई गई जानकारियों से इसका पता चला है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस रहस्य का जवाब शनि ग्रह के वलयों में ही छुपा था। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के कैसिनी मिशन की प्रोजेक्ट वैज्ञानिक लिंडा स्पाइल्कर ने कहा, ‘शनि के वलय केवल उसकी खूबसूरती को नहीं बढ़ाते बल्कि इससे ग्रह के भीतर होने वाली प्राकृतिक घटनाओं का भी पता चलता है।’ शनि के घूमने पर उसके वलयों में तरंगें पैदा होती हैं। इन्हीं तरंगों के अध्ययन से ग्रह पर दिन की अवधि का पता लगा है। स्पाइल्कर ने कहा, ‘शनि के वलय में तरंगें पैदा होना ठीक वैसा ही है जैसा किसी घंटे के बजने पर होता है। यह अद्भुत है।’

टोरंटो। कनाडा में एक कंपनी के सीईओ की मौत से निवेशकों के करीब 974 करोड़ रुपये फंस गए हैं। बताया जा रहा है कि क्रिस्टोकरंसी फर्म क्वाड्रिगा के फांउडर और सीईओ गेराल्‍ड कोटेन की मौत दिसंबर में हुई थी। इस करंसी के लिए लगाया गया पासवर्ड किसी को भी पता नहीं है। यहां तक कि उनकी पत्नी को भी नहीं। इसको अनलॉक करने का पार्सवर्ड गेराल्ड के अलावा किसी के पास नहीं था। कई विशेषज्ञों भी इसे अनलॉक करने की कोशिश किए लेकिन सब असफल रहे।
ऐसे सामने आयी जानकारी:-दरअसल क्वाड्रिगा कंपनी ने इस मामले को लेकर अदालत में क्रेडिट प्रोजेक्शन की अर्जी दाखिल की है। कोटेन की पत्नी जेनिफर रॉबर्टसन ने कोर्ट में एक याचिका दाखिल कर कोर्ट से गुहार लगाई है कि निवेशकों के पैसे न डूबे इसलिए उनकी मदद की जाए। इसके बाद ही मामले की जानकारी सार्वजनिक हुई। कोर्ट में बताया गया है कि इस लॉक होने की वजह से कंपनी के करीब 1.15 लाख यूजर पर इसका असर पड़ा है।
अनाथ बच्चों के लिए काम करते थे कोटेन;-बताया जा रहा है कि जिस समय कंपनी के सीईओ की मौत गेराल्‍ड कोटेन की मौत हुई उस वक्त वे भारत की यात्रा पर थे। कोटेन महज 31 साल के थे। वे अनाथ बच्चों के लिए काम करते थे। इसकी वजह से वे भारत में एक अनाथालय भी खोलना चाहते थे।
क्या है क्रिप्टोकरेंसी?;-दरअसल क्रिप्टोकरेंसी एक ऐसी मुद्रा है जिसे डिजिटल माध्यम के रूप में निजी तौर पर जारी किया जाता है। यह क्रिप्टोग्राफी व ब्लॉकचेन जैसी डिस्ट्रीब्यूटर लेजर टेक्नोलॉजी (डीएलटी) के आधार पर काम करती है। सरल शब्दों में कहें तो ब्लॉकचेन एक ऐसा बहीखाता है जिसमें लेनदेन को ब्लॉक्स के रूप में दर्ज किया जाता है और क्रिप्टोग्राफी का इस्तेमाल कर उन्हें लिंक कर दिया जाता है। क्रिप्टोग्राफी सूचनाओं को सहेजने और भेजने का ऐसा सुरक्षित तरीका है जिसमें कोड का इस्तेमाल किया जाता है और सिर्फ वही व्यक्ति उस सूचना को पढ़ सकता है जिसके लिए वह भेजी गई है।

 

योरबा लिंडा।दक्षिणी कैलिफोर्निया में एक छोटा विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया है। यह विमान योरबा लिंडा के रिहायसी इलाके में गिरा। विमान में आग लगने से दो घर जलकर खाक हो गए। हालांकि, इस विमान में कितने लोग सवार थे, अभी इसकी जानकारी नहीं मिल सकी है।संघीय विमानन प्रशासन ने कहा कि फुलर्टन के म्यूनिसिपल एयरपोर्ट से रविवार दोपहर उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद योरबा लिंडा में दो इंजन वाला 414ए विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। एफएए के प्रवक्ता एलन केनित्जर ने कहा कि विमान गिरने से कुछ लोग घायल हुए थे।इस हादसे का ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट जारी किया गया है, जिसमें यहां के निवासियों को घर से भागते हुए दिखाया गया है। यह व्‍यक्ति आग की लपटों से घिरा हुआ था। इस वीडियो में प्लेन का मलबा भी दिखाई दे रहा है, जो एक सड़क के किनारे बिखरा हुआ था। इसमें एक आदमी एक जलती हुई वस्तु को डुबो रहा था जो कि बगीचे की नली के साथ सड़क पर थी।फुलर्टन म्युनिसिपल एयरपोर्ट कैलिफ़ोर्निया में एक क्षेत्रीय राहत हवाई अड्डा है। हवाई अड्डा और इसका औद्योगिक पार्क आवासीय क्षेत्रों से घिरा हुआ है। यह कैलिफोर्निया राज्य के भीतर यात्रा करने वाले निजी पायलटों के बीच बहुत लोकप्रिय है।

काराकस। वेनेजुएला में सत्‍ता संघर्ष का खेल धीरे-धीर अब दिलचस्‍प मोड़ पर पहुंच चुका है। ताजा घटनाक्रम में विपक्षी नेता जुआन गुएडो द्वारा खुद को लैटिन अमेरिकी देश वेनेजुएला का अंतरिम नेता घोषित किए जाने के बाद राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने यूरोपीय देशों द्वारा राष्‍ट्रपति चुनाव के आह्वान को खारिज कर दिया है। मादुरो ने स्पेनिश टेलीविजन स्टेशन सेक्सा के साथ रविवार को एक साक्षात्कार में कहा कि वह किसी…
बगदाद। इराक में हुई गोलीबारी में सात ईरानी श्रद्धालु घायल हो गए। घायलों में एक महिला भी शामिल है। महिला की हालत काफी गंंभीर बताई जा रही है। सभी घायलों को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। घटनास्‍थल पर बड़ी तादाद में सुरक्षाबल के जवान तैनात किए गए है। हालांकि, इस हमले की जिम्मेदारी अभी तक किसी संगठन ने नहीं लिया है।पुलिस और चिकित्सा अधिकारियों का कहना है कि मध्य…
मोगादीशू। सोमवार को सोमालिया की राजधानी मोगादीशू में सोमवार एक शॉपिंग मॉल में कार बम विस्फोट में नौ लोगों की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए। हालांकि, इस घटना की किसी संगठन ने जिम्‍मेदारी नहीं ली है, लेकिन आशंका जाहिर की जा रही है कि इसमें इस्लामिक ग्रुप अल शबाब का हाथ हो सकता है।यह धमाका मोगादिशू के हमार्वेने शहर में हुआ। यहां बड़ी तादाद में रेस्‍तरां…
मोगादिशु। सोमालिया की राजधानी मोगादिशु में जबरदस्त धमाके की आवाज सुनी गई, विस्फोट के बाद घटना स्थल से धुएं का गुबार उठते दिखाई दिए। धमाके के कारण का अभी तक पता नहीं चल सका है।हालांकि, इस हमले में आतंकी संगठन अल-शबाब का हाथ हो सकता है। यह आतंकी संगठन मोगादिशु और देश के अन्य हिस्सों में सरकारी सेना और अन्य ठिकानों पर लगातार हमला करता रहता है।अल-शबाब सोमालिया का सबसे…
Page 4 of 374

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें