दुनिया

दुनिया (1398)

लॉस एंजिलिस। मैसाच्युसेट्स की सीनेटर और डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति उम्मीदवारी की दावेदार एलिजाबेथ वारेन के भारतीय कनेक्शन का पता चला है। वारेन की बेटी एमेलिया की शादी भारतीय आप्रवासी सुशील त्यागी से हुई है। सुशील आइआइटी दिल्ली से स्नातक हैं और उनकी मां अब भी देहरादून स्थित घर में रहती हैं।
ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट की तस्वीर;-मरीन रोबोटिक्स के विशेषज्ञ सुशील ने अपने ट्विटर अकाउंट पर वारेन के साथ एक पारिवारिक तस्वीर पोस्ट की है। लॉस एंजिलिस टाउन हॉल की इस तस्वीर में सुशील और एमेलिया के बच्चे अपनी नानी के साथ दिख रहे हैं। फोटो के नीचे लिखा है, एलिजाबेथ वारेन, अटिकस, लाविनिया, ओक्टाविया, एमेलिया वारेन त्यागी और सुशील त्यागी। तीन पोते-पोतियों की दादी वारेन कई पारिवारिक अवसरों पर भारत आ चुकी हैं और उत्तर प्रदेश में अपने रिश्तेदारों से मिली हैं।
र्कले मरीन रोबोटिक्स के प्रेसिडेंट हैं सुशील त्यागी:-सुशील यूर्सी बर्कले से मरीन इंजीनियरिंग से पोस्ट ग्रेजुएट होने के साथ ही व्हार्टन बिजनेस स्कूल से एमबीए हैं। सुशील फिलहाल लॉस एंजिलिस में बर्कले मरीन रोबोटिक्स के प्रेसिडेंट हैं। वह समुद्र के अन्वेषण के लिए रोबोटिक सिस्टम बनाना चाहते हैं। सुशील का पालन-पोषण उत्तर प्रदेश में हुआ था। पहले उनके पिता खेती करते थे, लेकिन बाद में उत्तर प्रदेश पुलिस में कांस्टेबल बन गए थे। एक ¨हदी मीडियम बच्चे के लिए आइआइटी की परीक्षा पास करना चुनौती था, लेकिन उत्तर प्रदेश पुलिस से मिली छात्रवृत्ति ने सुशील की पढ़ाई के खर्च को आसान बना दिया।

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने परिवार और अधिकारियों के साथ भारत के दो दिन दौरे पर है। उनके भारत के इस पहले दौरे पर सबकी निगाहें टिकी हैं। अमेरिका की वरिष्ठ राजनीतिज्ञ निक्की हेली ने कहा है कि डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दोस्ती से बहुत कुछ हासिल करना है।रिपब्लिकन पार्टी की वरिष्ठ नेता हेली ने कहा कि उन्हें ट्रंप और प्रथम महिला मेलानिया के भारत दौरे पर गर्व है। निक्की हेली ट्रंप प्रशासन के पहले दो साल के दौरान संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत थीं। वह अमेरिका प्रशासन में कैबिनेट मंत्री का दर्जा पाने वाली भारतीय मूल की पहली अमेरिकी हैं। साउथ कैरोलिना की पूर्व गवर्नर हेली ने कहा कि भारत और अमेरिका दुनिया के दो सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश हैं और दोनों कई मूल्यों को साझा करते हैं।
कई अहम मुद्दों पर होगा समझौता;-व्हाइट हाउस के पूर्व अधिकारी पीटर लावॉय ने कहा कि मोदी- ट्रंप शिखर सम्मेलन अहम होगा क्योंकि सुरक्षा संबंध और उन्नत होंगे। इस दौरान कश्मीर मुद्दे को टाल दिया जाएगा, अफगानिस्तान को लेकर उचित प्रबंधन किया जाएगा, व्यापार मतभेदों को कम किया जाएगा, ऊर्जा संबंधों को बढ़ाया जाएगा और रक्षा सौदों होगा।
अमेरिकियों ने 1.3 अरब भारतीयों को गर्मजोशी से गले लगाते देखा:-न्‍यूयार्क के वकील रवि बत्रा ने कहा है कि सभी अमेरिकियों ने 1.3 अरब भारतीयों को गर्मजोशी से गले लगाने और अमेरिका को मनाते देखा है। बत्रा ने भारत से हार्ले-डेविडसन सुपर बाइक पर आयात शुल्क को शून्य प्रतिशत तक कम करने का आग्रह किया।
दोनों देशों के किया महत्‍वपूर्ण समझौता;-उन्‍होंने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि अमेरिका भारत के इंटेल और बायोमेट्रिक्स डेटाबेस को अपने देश की सुरक्षा, रक्षा विभाग और कानून विभाग के साथ संयुक्त रूप से आतंक से लड़ने और हराने के लिए साझा करता है और भारत ने एच1बी (H1B) वीजा की बढ़ी संख्या के लिए अपने श्रमिकों के सामाजिक सुरक्षा योगदान की अदला-बदली की।
यात्रा का लक्ष्य रणनीतिक हितों, साझा मूल्यों को मजबूती देना;-व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव स्टेफनी ग्रिशम ने कहा है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रथम महिला मेलानिया की भारत यात्रा का लक्ष्य दोनों देशों के रणनीतिक हितों और साझा मूल्यों को और मजबूती देना है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा है कि ट्रंप की यात्रा दोनों देशों के बीच मजबूत और स्थायी संबंधों को दर्शाती है। उन्होंने ट्वीट के आखिर में नमस्ते ट्रंप लिखा है, जो अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत में स्वागत समारोह की थीम है।
माता-पिता आज बहुत खुश होते : पई;-राष्ट्रपति ट्रंप के साथ अमेरिका के संघीय संचार आयोग के चेयरमैन अजीत पई भी आए हैं। भारतीय मूल के पई के माता-पिता पांच दशक पहले अमेरिका गए थे। पई ने एक भावनात्मक संदेश में कहा है कि आज अगर उनके माता-पिता जिंदा होते तो अपनी अगली पीढ़ी को अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ भारत की यात्रा करते देख बहुत खुश होते। ट्रंप के साथ भारतीय मूल के केश पटेल भी आए हैं, जो राष्ट्रपति के विशेष सहायक और आतंकवाद-रोधी विभाग में वरिष्ठ निदेशक हैं।
ट्रंप के लिए चुनावी चंदे के बड़े स्रोत हो सकते हैं भारतवंशी:-विदेशी मामलों के जानकार रिचर्ड रोसोव के मुताबिक ट्रंप की यात्रा के बाद अमेरिका में रहने वाले भारतीय मूल के लोग उनके चुनाव चंदे के बड़े स्त्रोत हो सकते हैं। ट्रंप की पार्टी चुनावी चंदे के लिए भारतवंशियों को साध सकती है। उन्होंने कहा कि अमेरिका में भारतवंशी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। उनकी संख्या लगभग 40 लाख है और उनका अच्छा प्रभाव है।

वाशिंगटन। अमेरिका के लॉस एंजिलिस में नकाबपोश हमलावर ने शनिवार सुबह एक ग्रॉसरी स्टोर (Grocery Store) में गोलीबारी की घटना को अंजाम दिया। इस हमलेे में वहां काम करने वाले भारतीय मनिंदर सिंह साही (Maninder Singh Sahi) की गोली मारकर हत्या कर दी। हरियाणा के करनाल निवासी 31 वर्षीय मनिंदर दो बच्‍चों के पिता हैं। अमेरिका में उनके रिश्तेदारों का कहना है कि अपने परिवार में कमाने वाले एकमात्र सदस्‍य मनिंदर थे। वे यहां से अपने परिवार को पैसे भेजते थे।
लूट से जोड़ मामले की जांच कर रही पुलिस:-मनिंदर छह माह पहले ही अमेरिका आए थे और यहां राजनीतिक शरण मांगी थी। मनिंदर कैलिफोर्निया के लॉस एंजिलिस शहर में 7-इलेवन ग्रॉसरी स्टोर में कैशियर के तौर पर काम करते थे। घटना को लूट से जोड़कर पुलिस मामले की जांच कर रही थी। शनिवार सुबह 5.43 बजे यह घटना घटी। पुलिस के मुताबिक, लूट के इरादे से सेमी ऑटोमैटिक बंदूक के साथ स्‍टोर में आए और गोलीबारी के दौरान मनिंदर की जान ले ली। घटना के वक्‍त ग्रॉसरी स्टोर में दो ग्राहक थे। गोली लगने से ये ग्राहक भी जख्‍मी हैं। पुलिस ने बताया कि संदिग्ध हमलावर अश्वेत और बालिग है। उसने अपना चेहरा आंशिक रूप से ढक रखा था। गल्‍फ न्‍यूज के अनुसार, फुटेज को देखते हुए एक संदिग्‍ध गिरफ्तार कर लिया गया है।
शव को भारत भेजने में जुटा है भाई:-मनिंदर के भाई ने शव भारत भेजने के लिए चंदा जुटाने के मकसद से गोफंड पेज (Gofund) बनाया है। अभी तक 18 हजार डॉलर (करीब 13 लाख रुपये) जुटाए जा चुके हैं। उसके भाई ने रविवार को गोफंड पेज पर लिखा, मनिंदर के बच्चों की उम्र पांच और नौ साल है। मैं उसके शव को भारत भेजने के लिए मदद चाहता हूं ताकि आखिरी बार पत्नी और बच्चे उसका चेहरा देख सकें।

रियाद। सऊदी अरब में एक महिला रैपर की वीडियो को लेकर उसकी गिरफ्तारी के आदेश दिए गए हैं। इस आदेश से देशभर में नाराजगी का माहौल पैदा कर दिया है। इस आदेश को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने नाराजगी जाहिर की है। यहां तक की सऊदी प्रशासन को कई लोगों ने ढोंगी करार दिया है। दरअसल, महिला रैपर ने एक वीडियो जारी किया है जो प्रशासन के अनुसार देश की परंपराओं का अपमान है।सऊदी महिला रैपर असायेल सलाय का एक ऑनलाइन वीडियो जारी हुआ है। मक्का की रहने वाली असायेल की साहसी महिला के तौर पर तारीफ हो रही है। वीडियो में स्कार्फ और चश्मा पहने असायेल 'मक्का गर्ल' गाने में महिलाओं को 'शुगर कैंडी' बताती हैं। वह खुद को इस्लाम के सबसे पवित्र स्थल मक्का के काबा में घर होने का दावा कर रही है और इसपर गर्व जताती है। वीडियो को अयासेल ​​के यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया गया था हालांकि अब इसे हटा दिया गया है। लेकिन उनका यह अंदाज मक्का के गवर्नर खालिद अल-फैसल को पसंद नहीं आया। उन्होंने आदेश दिया कि इस वीडियो में जिन लोगों का हाथ है, उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाए।
सऊदी परंपराओं का अपमान:-गवर्नर ने ट्विटर पर लिखा, 'यह स्थानीय सऊदी परंपराओं और रिवाजों का अपमान करने वाला है।' इस आदेश पर सोशल मीडिया पर लोगों ने नाराजगी जाहिर की है। कई लोगों ने कहा कि यह कदम पश्चिमी शैली वाली आजादी की ओर बढ़ रहे सऊदी अरब के प्रयासों को कमजोर करने वाला है। सऊदी अरब ने हाल के वर्षो में ड्राइविंग समेत महिलाओं की आजादी को लेकर कई कदम उठाए हैं। एक महिला ट्विटर यूजर ने लिखा, 'मैं मक्का की रहने वाली हूं, लेकिन मैं सिर्फ कुप्रथा और युवा महिला कलाकारों की अभिव्यक्ति पर हमला देखती हूं।' अमानी अल-अहमदी नामक एक अन्य सऊदी महिला ने कहा, 'यह नस्ली और लैंगिक भेदभाव वाला कदम है।'

इस्‍लामाबाद। कोरोना वायरस से खौफजदा पाकिस्‍तान ने चीन के लिए संचालित होने वाली उड़ानों को 15 मार्च तक के लिए एक बार फिर से निलंबित कर दिया है। बता दें कि वायरस फैलने के डर से पाकिस्तान ने 31 जनवरी को चीन (China) से उड़ानों को 02 फरवरी तक के लिए निलंबित कर दिया था। बीते तीन फरवरी को पाकिस्तान से बीजिंग (Beijing) के बीच उड़ानों के संचालन को बहाल किया गया था। इसके बाद पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (Pakistan International Airlines ) यानी PIA बीजिंग के लिए दो साप्‍ताहिक उड़ानों का परिचालन कर रही थी। अब फ‍िर से 15 मार्च तक के लिए फ्लाइटें रद कर दी गई हैं।पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के प्रवक्‍ता अब्दुल्ला हफीज (Abdullah Hafeez) ने संवाददाताओं को बताया कि एयरलाइन ने चीन में कोरोना वायरस के मामलों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर उड़ानों का परिचालन 15 मार्च तक निलंबित करने का फैसला किया है। उन्‍होंने बताया कि उड़ानें बहाल करने का फैसला हालात को देखते हुए लिया जाएगा। मालूम हो कि अभी कुछ ही दिन पहले पाकिस्तान ने कहा था कि उसे कोरोना वायरस के मामलों का पता लगाने के लिए चीन से विशेष चिकित्सा किट (special medical kits) मिली हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) यानी WHO ने कोरोना वायरस को वैश्विक स्वास्थ्य आपात स्थिति घोषित कर चुका है। इस बीच चीन में अधिकारियों ने ऐसे लोगों को वुहान छोड़कर जाने की अनुमति दे दी है जो वहां के निवासी नहीं हैं। हालांकि, नए फैसले के तहत केवल उन्‍हीं लोगों को वुहान से जाने दिया जाएगा जिनमें कोरोना वायरस के कोई लक्षण नजर नहीं आए हैं। वुहान चीन का वह शहर है जहां से कोरोना वायरस फैलना शुरू हुआ था। इस शहर को 23 जनवरी से अलग थलग किया गया है। वुहान में 1.1 करोड़ लोग रहते हैं। शहर में आवाजाही भी बंद कर दी गई है।

बीजिंग। चीन कोरोना वायरस (COVID-19) के खतरे से निपटने को लेकर तमाम कदम उठा रहा है। अब उसने जंगली जानवरों के व्यापार और उनके उपभोग पर रोक लगाने का एलान किया है। रिपोर्टों की मानें तो जानलेवा कोरोना वायरस के प्रकोप के लिए जंगली जानवरों के उपभोग को जिम्मेदार माना जा रहा है। देश की शीर्ष विधायी समिति नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (National People's Congress, NPC) ने जंगली जानवरों के अवैध व्यापार और अत्याधिक उपभोग पर रोक लगाने के मकसद से उक्‍त प्रस्‍ताव को मंजूदी प्रदान की है।ऐसा नहीं है कि इस तरह का कदम कोई पहली बार उठाया गया है। इससे पहले साल 2002-2003 में सार्स वायरस फैलने के दौरान भी जंगली जानवरों के व्यापार पर पाबंदी लगाई गई थी। सार्स वायरस (SARS यानी Severe Acute Respiratory Syndrome) के कारण भी चीन में सैंकड़ों लोगों की मौत हो गई थी। चाइना सेंट्रल टेलीविजन (China Central Television, CCTV) ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कोरोनो वायरस के संक्रमण ने जंगली जानवरों के उपभोग से स्वास्थ्य को होने वाले खतरों को सामने ला दिया है। लोगों के स्‍वास्‍थ्‍य की रक्षा के लिए ही यह कदम उठाया गया है।कोरोना वायरस के खतरे को लेकर सतर्कता का आलम यह है कि चीन ने पांच मार्च से शुरू हो रही अपनी संसद के वार्षिक सत्र को स्थगित करने का फैसला लिया है। रिपोर्टों के मुताबिक, देश की शीर्ष विधायिका, नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (National People's Congress, NPC) की स्थायी समिति ने वार्षिक सत्र को स्थगित करने के मसौदे को मंजूरी दी। सरकारी मीडिया की मानें तो 13वीं NPC के तीसरे सालाना सत्र की शुरुआत बीजिंग में पांच मार्च से होनी थी। हालिया आंकड़ों के मुताबिक, चीन में वायरस से अब तक 2500 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 77 हजार से अधिक संक्रमित बताए जाते हैं।

 

 

 

 

 

 

नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की इस पहली यात्रा की सबसे बड़ी बातों में से एक यह है कि व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर नहीं किए जाएंगे। राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि साल के आखिर में होने वाले अमेरिकी चुनाव संपन्न होने के बाद बातचीत जारी रहेगी। यह अपरिहार्य है कि इस यात्रा के दौरान चीन और भारत-प्रशांत पर चर्चा की जाएगी। दोनों देश बड़े सहयोग के लिए रोडमैप रखेंगे।विशेष रूप…
लंदन। ब्रिटिश शाही परिवार में अंदरूनी कलह खुलकर सामने आ गई है। प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन मर्केल ने ससेक्स शाही उपाधि छोड़ने के लिए मजबूर करने पर नाराजगी जाहिर करते हुए महारानी पर निशाना साधा है। दंपती ने कहा है कि विदेशी धरती पर 'शाही' शब्द का इस्तेमाल महारानी के अधिकार क्षेत्र में नहीं आता।हैरी और मेगन ने हाल में शाही परिवार से अलग होने के औपचारिक समझौते…
वाशिंगटन। डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के दावेदार बर्नी सैंडर्स ने एक बार फ‍िर से राष्‍ट्रपति चुनाव में रूस के हस्‍तक्षेप की निंदा की है। उन्होंने साफ शब्दों में मास्को से कहा कि वह अमेरिकी चुनाव से दूर रहे। इसके साथ ही अमेरिकी चुनाव में एक बार फिर रूस के दखल की चर्चा शुरू हो गई है। उनका यह बयान ऐसे समय आया है जब वरिष्ठ खुफिया अधिकारियों…
अंकरा। तुर्की-ईरान के बॉर्डर पर रविवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 5.7 रही। इसकी जानकारी यूरोपियन मेडिटेरेनियन सीस्मोलॉजिकल सेंटर (EMSC) ने दी। न्यूज एजेंसी आइएएनएस के मुताबिक, इस भूकंप में 7 लोगों की मौत हो गई है। फिलहाल बचाव कार्य जारी है।आमतौर पर भूकंप की खबरें विश्वभर से आती रहती हैं। थोड़े दिन पहले पापुआ न्यू गिनी (Papua New Guinea) में भूकंप…
Page 1 of 100

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें