दुनिया

दुनिया (770)

ताइपे। ताइवान में अगले साल जनवरी में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में चीन समर्थक हान कुओ-युयु विपक्ष के उम्मीदवार होंगे। वह चीन विरोधी मौजूदा राष्ट्रपति और डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी की उम्मीदवार साई इंग-वेन को चुनौती देंगे।बंदरगाह शहर काओसिआंग के मेयर हान (62) ने विपक्षी कुओमिनतांग पार्टी के प्राइमरी चुनाव में फॉक्सकॉन के संस्थापक और ताइवान के सबसे धनी व्यक्ति टेरी गोई को शिकस्त दी।हान उन लोगों में से हैं जो ताइवान की भलाई के लिए चीन की ओर देखते हैं। उम्मीदवारी जीतते ही उन्होंने कहा कि ताइवान के लोग पिछले तीन वर्षो से मुश्किल हालात में जी रहे हैं। 2016 में राष्ट्रपति चुनाव जीतने वालीं साई चीन की मुखर आलोचक हैं।गौरतलब है कि ताइवान खुद को संप्रभु राष्ट्र मानता है। लेकिन चीन, ताइवान को अपने देश का हिस्सा बताता है और उसे हासिल करने के लिए सैन्य कार्रवाई की धमकी भी दे चुका है। स्वायत्तशासी हांगकांग के लोगों में चीन विरोधी सियासी उबाल को देखते हुए ताइवान का मौजूदा नेतृत्व भी उम्मीद की किरण देख रहा है।

इस्लामाबाद। जमात उद-दावा के सरगना हाफिज सईद और तीन अन्य को लाहौर की आंतक निरोधी अदालत (ATC) ने गिरफ्तारी से राहत दी है। ATC ने हाफिज सईद समेत तीन अन्य लोगों को गिरफ्तारी से पहले ही जमानत को अनुमति दे दी है। डॉन न्यूज के मुताबिक, यह फैसला मदरसे की भूमि को अवैध कार्यों के लिए इस्तेमाल करने के एक मामले में लिया है।अभी कुछ दिन पहले पंजाब प्रांत में आतंकवाद-निरोधी अदालतों ने टेररिज्म फाइनेंसिंग के आरोपों में प्रतिबंधित जमात-उद-दावा (JuD) और जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के 12 सदस्यों को पांच साल के कारावास की सजा सुनाई थी। बता दें कि हाफिज सईद की JuD को लश्कर-ए-तैयबा के लिए सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। यह मुंबई हमलों का भी जिम्मेदार है। इसे जून 2014 में अमेरिका द्वारा एक विदेशी आतंकवादी संगठन घोषित किया गया था।
क्या था मामला:-आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने के बढ़ते अंतरराष्ट्रीय दबाव के बीच पाकिस्तान ने हाफिज सईद और उसके 12 सहयोगियों के खिलाफ आतंकी फंडिंग के 23 मामले दर्ज किए थे। पाकिस्तान के आतंकरोधी विभाग ने एक बयान जारी कर बताया था कि आतंकी फंडिंग के लिए पांच ट्रस्टों का इस्तेमाल करने के लिए उनके खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं।बयान के मुताबिक, लश्कर ए तैयबा से जुड़े जमात उद दावा और फलाह ए इंसानियत फाउंडेशन को भी निशाना बनाया गया है। विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, 'इन लोगों और संगठनों की सभी संपत्तियों को फ्रीज कर दिया जाएगा और बाद में सरकार इन्हें जब्त कर लेगी।' विभाग ने बताया कि सरकार की यह कार्रवाई संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों के मुताबिक की गई।दरअसल, उस समय पाकिस्तान सरकार के इस कदम को फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) के दबाव का नतीजा माना जा रहा था, जिसने पिछले साल पाकिस्तान को मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकी फंडिंग के मामलों में अपर्याप्त कदम उठाने के लिए 'ग्रे लिस्ट' में रखा था। पिछले ही महीने उसने आतंकी फंडिंग के खिलाफ प्रयासों को तेज करने के लिए पाकिस्तान को अक्टूबर तक का समय दिया था। एफएटीएफ का कहना था कि अगर तब तक स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो पाकिस्तान को काली सूची में भी डाला जा सकता है। हालांकि, गिरफ्तारी से पहले ही अब सईद को जमानत मिल गई है।

काबुल। अफगानिस्‍तान में एक तालिबान कमांडर की धमकियों को देखते हुए एक निजी रेडियो स्‍टेशन को बंद करना पड़ा है। तालिबान कमांडर ने रेडियो स्‍टेशन में महिलाओं के काम करने पर आपत्ति जताई है। अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि रेडियो स्‍टेशन में कुल 13 कर्मचारी काम करते हैं जिनमें तीन महिला उद्घोषक हैं। यह रेडियो स्‍टेशन अफगानिस्‍तान की दो मुख्‍य भाषाओं दारी ( Dari) और पस्‍तो (Pashto) में कार्यक्रमों का प्रसारण करता है।अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि समा (radio station, Samaa) नाम के इस निजी रेडियो स्‍टेशन से अफगानिस्‍तान के गजनी में साल 2013 से राजनीतिक, धार्मिक, सामाजिक और इंटरटेनमेंट कार्यक्रमों का प्रसारण होता आया है। रेडियो स्‍टेशन के निदेशक रमेज आजमी (Ramez Azimi) ने बताया कि तालिबान कमांडर ने पत्र और टेलीफोन के जरिए धमकी दी है कि रेडियो स्‍टेशन में महिला कर्मचारियों को काम देना बंद किया जाए।यही नहीं तालिबान की ओर से मेरे घर पर आकर प्रसारण रोकने की धमकियां दी गई हैं। हालांकि, तालिबान के प्रवक्‍ता जबिहुल्‍लाह मुजाहिद (Zabihullah Mujahid) ने तालिबान कमांडर की ओर से धमकियां दी जाने की बात से इनकार किया है। गजनी के कई जिलों पर कब्‍जे का दावा करने वाले तालिबान के प्रवक्‍ता ने कहा कि हम इस शिकायत के बारे में ज्‍यादा जानकारी जुटाने की कोशिश कर रहे हैं।तालिबान की ओर से यह धमकी ऐसे समय आर्इ है जब उसकी सीज फायर को लेकर अमेरिका (United States) से बातचीत हो रही है। इतना ही नहीं अमेरिका, चीन, रूस और पाकिस्तान ने संयुक्त रूप से तालिबान से तुरंत संघर्ष विराम के लिए राजी होने का आग्रह भी किया है। चारों देशों ने 18 वर्षों से देश में जारी हिंसा को खत्म करने के लिए तालिबान से अफगानिस्तान सरकार के साथ सीधा समझौता शुरू करने के लिए भी कहा है।अभी हाल ही में तालिबान और अफगान प्रतिनिधियों ने शांति की दिशा में अहम कदम बढ़ाए थे। उनमें शांति समझौते के लिए खाका तैयार करने पर सहमति बन गई थी। तालिबान हिंसा कम करने पर भी राजी हो गया था। शांति की दिशा में इसे अहम कदम माना जा रहा है। इससे यह उम्मीद भी बढ़ी है कि अफगानिस्तान में 18 साल से जारी संघर्ष को खत्म होने का मार्ग प्रशस्त हो सकता है

काबुल। अफगानिस्‍तान स्‍थित बाल्‍ख के उत्‍तरी प्रांत में सोमवार को हुए विस्‍फोट में दो बच्‍चों की मौत हो गई। यह जानकारी शाहीन कार्प्‍स के प्रवक्‍ता मोहम्‍मद हनीफ रेजाई ने दी है। उन्‍होंने यह भी बताया कि आतंकियों ने सड़क किनारे बम लगाया था।इससे पहले आतंकी संगठन तालिबान ने पिछले रविवार को सुबह अफगानिस्तान के गजनी प्रांत में बड़ा आत्मघाती हमला किया। विस्फोटकों से भरी कार के जरिये देश की मुख्य खुफिया एजेंसी नेशनल डायरेक्टरेट ऑफ सिक्योरिटी (एनडीएस) के परिसर में किए गए इस हमले में 14 लोगों की मौत हो गई।

कोपेहेगन। जलवायु परिवर्तन से न केवल ग्रीनलैंड का पारिस्थितिकी तंत्र प्रभावित हो रहा है, बल्कि इससे वहां के पुरातात्विक स्थलों पर भी खतरा मंडरा रहा है। हाल में ही प्रकाशित हुए एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने यह दावा किया है। बता दें कि पूरे आर्कटिक क्षेत्र में 1,80,000 से ज्यादा पुरातात्विक स्थल मौजूद हैं, जो हजार वर्षो से यहां की मिट्टी में मौजूद विशेष गुणों के कारण संरक्षित हैं। विज्ञान पत्रिका ‘नेचर’ में प्रकाशित हुए अध्ययन में यह खुलासा हुआ है।
आर्कटिक क्षेत्र की साइटों की पड़ताल से खुलासा:-अध्ययन में बताया गया है कि इन क्षेत्रों के घटने का सीधा संबंध मिट्टी के ताप, नमी की मात्र, हवा के बढ़ते तापमान और बारिश के मौसम में बदलाव से है, जिससे पुरातात्विक लकड़ी, हड्डी और प्राचीन डीएनए जैसे कार्बनिक तत्वों को नुकसान हो सकता है। शोधकर्ताओं की टीम का नेतृत्व करने वाले जॉर्गेन होलेसेन (Jorgen Hollesen) ने इस अध्ययन के लिए वर्ष 2016 से आर्कटिक क्षेत्र की सात अलग-अलग साइटों की गहन पड़ताल की है। ये क्षेत्र ऐसे हैं जहां कार्बनिक तत्व, जैसे- बाल, पंख, शंख-सीप और मांस के टुकड़ों के अलावा कुछ साइटों में वाइकिंग बस्तियों के खंडहर भी मौजूद हैं।
अगले 80 वर्षों में गायब हो जाएंगे पुरातात्विक तत्व:-होलेसेन ने कहा कि अध्ययन में किए गए अनुमान गर्मी के विभिन्न परिदृश्यों पर आधारित हैं। जो यह बताते हैं कि इन इलाकों में औसत तापमान 2.6 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ सकता है, जिससे मिट्टी का तापमान बढ़ेगा और कार्बनिक परतों के भीतर सूक्ष्मजीवों के पनपने से गतिविधियां भी बढ़ जाएंगी। उन्होंने कहा कि अध्ययन से पता चलता है कि आगामी 80 वर्षो के भीतर जैविक कार्बन (ओसी) के पुरातात्विक अंश 30 से 70 फीसद तक गायब हो सकते हैं। होलेसेन ने कहा कि इसका मतलब है कि ये कार्बनिक अवशेष खतरे में हैं। इनमें कई अवशेष ऐसे भी हैं जो लगभग 2,500 ईसा पूर्व के लोगों से संबंधित हैं। शोधकर्ताओं ने बताया कि जब उन्होंने इन साइटों के निष्कर्ष की तुलना पिछले सर्वेक्षणों के साथ की तो पाया कि ये इलाके लगातार कम होते जा रहे हैं।
बारिश से कम हो जाता है विघटन:-होलेसेन ने कहा कि कुछ साइटों पर हमें एक भी पुरातात्विक जैविक तत्व नहीं मिला। इसका मतलब है कि पिछले दशकों में वे विघटित हो गए हैं। उन्होंने कहा कि सूक्ष्मजीव इन अवशेषों को विघटित कर देते हैं, लेकिन यदि वर्षा बढ़ जाती है, तो उनकी गतिविधि धीमी हो जाती है। उन्होंने कहा कि इसका मतलब है कि यदि समय-समय पर बारिश हो और जलवायु परिवर्तन का दुष्प्रभाव कम हो तो ग्रीनलैंड के पुरातात्विक जैविक तत्वों को क्षीण होने में ज्यादा समय लगेगा।

नई दिल्ली। इलेक्ट्रिक गैजेट्स जहां एक तरफ जीवन की शांति छिन रहे हैं, रिश्तों में कड़वाहट पैदा कर रहे हैं, लोगों के बीच सामाजिक दूरी पैदा कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर अब ये आधुनिक जीवन में रक्षक की भी भूमिका निभा रहे हैं। कई कंपनियां अब इस तरह के गैजेट्स भी बना रही हैं जो आपकी ह्दय गति बढ़ने, असामान्य स्थिति होने जैसी तमाम जानकारियां देते रहते हैं।हाल ही में मैनचेस्टर में ऐसा मामला सामने आया है जिसमें एक 22 साल के स्टूडेंट की इलेक्ट्रिक घड़ी ने जान बचा ली। दरअसल जब ये स्टूडेंट आराम कर रहा था तभी उसके हाथ में लगी घड़ी ने एलार्म बजा दिया कि उसकी ह्दय गति बढ़ रही है, इस वजह से वो तुरंत अस्पताल की ओर गया, वहां डॉक्टरों ने उसे भर्ती कर लिया फिर उसका आपरेशन किया।
एप्पल वॉच ने कैसे किया एलर्ट:-22 साल के स्टूडेंट जॉर्ज कॉक्स अपने हाथ में इलेक्ट्रिक घड़ी लगाकर आराम कर रहे थे, मई 2019 में निजी अस्पताल में उनकी ओपन हार्ट सर्जरी हुई थी। उसके बाद एहतियात के लिए उन्होंने अपने हाथ में इलेक्ट्रिक वॉच पहनना शुरू कर दिया था जिससे उनको हृदय गति आदि चीजों के बारे में पता लगता रहे। कुछ दिन पहले जब वो आराम कर रहे थे तभी उनकी घड़ी ने उनकी ह्दय गति 130bpm रीडिंग दर्ज की। इतनी रीडिंग देखने के बाद उन्होंने माना कि उनको दवा का सेवन करना था मगर वो उसे भूल गए। नवंबर 2018 में रॉयल ओल्डम अस्पताल में, डॉक्टरों ने परीक्षण किए और उसे एओर्टिक रिगर्जेटेशन के साथ निदान किया, जिसे टपका हुआ हृदय वाल्व भी कहा जाता है। ऐसी स्थिति तब होती है जब दिल का महाधमनी वाल्व कसकर बंद नहीं होता है और इसके परिणामस्वरूप रक्त के कुछ अंग, मुख्य अंग से बाहर निकल जाते हैं। यह अचानक दिल की विफलता का कारण बन सकता है।
गैजेट्स सेहत से जुड़ी दे रहे जानकारियां:-दरअसल कंपनियां इन दिनों अलग-अलग तरह की ऐसी घड़ियां बना रही हैं जो आपको आपकी सेहत से जुड़ी तमाम तरह की जानकारियां देती रहती हैं। यदि आप एक्सरसाइज कर रहे हैं या पार्क में दौड़ भाग कर रहे हैं तो आपको ये लगानी चाहिए जिससे आपको तमाम चीजों का पता चल सके। यदि सेहत ठीक नहीं है और आप एक्सरसाइज करने की सोच रहें तो इस तरह के गजट्स आपको पहले ही सावधान कर देते हैं।कॉक्स ने नवंबर 2016 में इलेक्ट्रिक घड़ी खरीदी और फिर जनवरी 2019 में उसे एक सीरीज़ फोर मॉडल में अपग्रेड किया। उनका कहना है कि वो अपनी सेहत के लिए बहुत जागरूक रहते हैं इस वजह से उन्होंने इस घड़ी का इस्तेमाल करना शुरू किया और उसी हिसाब से अपनी सेहत पर ध्यान दे रहे थे।उन्होंने बताया कि जिस दिन उनकी तबियत खराब महसूस हो रही थी उस दिन थका हुआ सा महसूस हो रहा था क्योंकि शरीर में रक्त तेजी से नहीं चल रहा था, मैंने यह मान लिया था कि यह सब चलता रहता है। इस ओर खास ध्यान नहीं दिया, कुछ समय के बाद आराम करने लगा, नींद आ गई। इसी बीच घड़ी ने ह्दय गति असामान्य बताई तो हैरान रह गया। उसके बाद सीधे डॉक्टर के पास गया, वहां पर अपनी जांच कराई फिर अस्पताल में भर्ती हो गया।अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर ने मुझे देखा और चेक किया और फिर आपरेशन किया। आपरेशन के दौरान मुझे लगा कि आज मेरा अंतिम दिन है मगर घड़ी की बदौलत समय पर अस्पताल पहुंच जाने की वजह से जान बच गई। डॉक्टरों ने भी कहा कि यदि थोड़ी देर और हो जाती तो जान बचाना मुश्किल हो जाता। डॉक्टरों ने आपरेशन के दौरान मेरा एक वाल्व बदल दिया जिसकी वजह से मेरा जीवन बच गया, वरना मेरा जीवन खत्म हो गया था।

 

कैनेबरा। इंडोनेशिया में भूकंप के जोरदार झटके महसूस किए गए। अमेरिकी भूगर्भीय विभाक के मुताबिक भूकंप के झटके स्थानिय समय अनुसार 9.10 बजे महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 7.3 दर्ज की गई है। फिलहाल जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है।इससे पहले ऑस्ट्रेलिया में भी भूकंप के जोरदार झटके महसूस किए गए है। जानकारी के अनुसार भूकंप का केंद्र ऑस्ट्रेलिया के ब्रूम से 210 किलोमीटर पश्चिम…
मेलबर्न। समुद्र की दुनिया बहुत ही रहस्यमयी है। वैज्ञानिक इस दुनिया के रहस्यों को लगातार उजागर कर रहे हैं। अब पहली बार वैज्ञानिकों ने यह बताया है कि किस तरह से मछलियों की 500 प्रजातियां, वयस्क होने पर लिंग परिवर्तन कर लेती हैं। इनमें प्रशिद्ध क्लाउनफिश भी शामिल हैं। न्यूजीलैंड की ओटैगो यूनिवर्सिटी के एरिका टॉड ने बताया कि समुद्र में मछलियों की कई तरह की प्रजातियां जैसे- ब्लू-हेड रेस्से…
हांगकांग। चीनी कारोबारियों के खिलाफ हांगकांग में हजारों लोगों ने प्रदर्शन किया। इसके दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़पें भी हुईं। हालांकि, पुलिस ने शनिवार को चेतावनी जारी करने के साथ भीड़ को तितर-बितर कर दिया। प्रदर्शनकारियों में अधिकतर युवा थे। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ काली मिर्च का छिड़काव और लाठीचार्ज किया।प्रदर्शनकारियों कहना था कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन बदलाव लाने में सक्षम नहीं हैं। प्रदर्शनकारियों ने अपनी रैली…
मास्को। रूसी प्रोटॉम-एम प्रक्षेपण यान से ले जाई गई अंतरिक्ष वेधशाला स्पेक्ट्रा-आरजी कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित हो गई है। इसकी जानकारी रूसी सरकारी अंतरिक्ष संघ रॉसकॉसमॉस ने दिए एक बयान में दी है। खबरों के मुताबिक, यह अंतरिक्ष यान शनिवार को कजाकिस्तान में बाईकोनुर कोस्मोड्रोम से लॉन्च किया गया।यह 2019 के इस तरह के लॉन्च व्हीकल का दूसरा लॉन्च है। शिन्हुआ समाचार एजेंसी ने बयान के हवाले से कहा कि…
Page 1 of 55

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें