वाशिंगटन। अफगानिस्तान में तालिबानियों का आतंक गहराता जा रहा है। चारों तरफ कत्लेआम और हमले रुकने का नाम नहीं ले रहे। हर दिन अलग-अलग शहरों पर तालिबानी कब्जा कर रहे हैं। इस बीच अमेरिका काबुल से अपने दूतावास कर्मचारियों को सुरक्षित निकालने के लिए 3,000 सैनिकों को अफगानिस्तान भेज रहा है।अफगानिस्तान में तालिबानियों ने सब कुछ तहस-नहस कर दिया है।‌ तालिबान ने देश का दूसरा सबसे बड़ा शहर कंधार और काबुल के निकट युद्ध नीति के रूप से सबसे महत्वपूर्ण एवं राजधानी और देश का तीसरे सबसे बड़ा शहर हेरात के साथ-साथ तालिबानियों ने 34 प्रांतीय राजधानियों में से 11 पर कब्जा कर लिया है।अफगानिस्तान में तेजी से बदलते हालात, काबुल के निकट सामरिक रूप से तालिबानियों का कब्जा और तालिबान की मजबूत होती पकड़ को देखते हुए अमेरिका ने अफगानिस्तान में अपनी सेना भेजने का फैसला लिया है। यह फैसला अफगानिस्तान की सेना को सहारा देने के लिए नहीं बल्कि काबुल में स्थित अपने दूतावास के कर्मचारियों, नागरिकों और स्पेशल वीजा आवेदकों को वहां से निकलने लिया गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के नेतृत्व वाली सरकार के एक अधिकारी ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी । अमेरिकी रक्षा विभाग के अधिकारी ने बताया कि 3000 सैनिक अफगानिस्तान से अमेरिकी कर्मचारियों और नागरिकों की रक्षा और उनकी सुरक्षित निकासी के लिए भेजे जा रहे हैं।तीन हजार अमेरिकी सैनिक तुरंत काबुल के हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर तैनात होंगे। ये अमेरिकी सैनिक अफगानिस्तान से अमेरिकी नागरिकों की वापसी में मदद करेंगे और उन्हें विमान सुविधा और सुरक्षा मुहैया कराएंगे। इसके अलावा, करीब 1000 अन्य अमेरिकी सुरक्षाकर्मियों को कतर भेजा जाएगा ताकि उन अफगानों के प्रबंधन में मदद मिल सके जिन्हें अफगानिस्तान से निकाला जा रहा है और विशेष वीजा पर अमेरिका में स्थानांतरित किया जा रहा है। जरूरत पड़ने पर अफगानिस्तान भेजे जाने के लिए अमेरिकी बेस से कुवैत में तैनात होने के लिए 35000 सैनिक स्टैंडबाय पर रहेंगे। 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">