सऊदी अरब।‌ शनिवार से सऊदी अरब‌ एक और डाउनसाइज़्ड हज की मेजबानी करेगा, जिसमें शामिल होने के लिए कोरोनावायरस के खिलाफ टीकाकरण कराए हुए निवासियों को पूरी तरह से अनुमति होगी। वहीं विदेशी मुस्लिम तीर्थयात्रियों को दूसरे वर्ष के लिए रोक दिया जाएगा। बता दें कि ऐसा करके राज्य पिछले साल की सफलता को दोहराना चाहता है जिसके तहत पिछले वर्ष पांच दिवसीय मुस्लिम अनुष्ठान के दौरान वायरस का कोई प्रकोप नहीं देखा गया था।

हज में सम्मिलित लोग:-इस्लाम का एक प्रमुख स्तंभ जो अपने जीवनकाल में कम से कम एक बार सक्षम मुसलमानों के लिए आवश्यक है। सऊदी अरब के इस वार्षिक हज में सऊदी अरब के 60,000 निवासियों को भाग लेने की अनुमति दी गई है। जो बीते वर्ष 2020 में कोरोनावायरस के प्रकोप के चलते कहीं अधिक है। लेकिन यदि सामान्य समय की बात की जाए तो यह संख्या बहुत कम है। साल 2019 की बात करें तो दुनिया भर के लगभग 2.5 मिलियन मुसलमानों ने वार्षिक हज में भाग लिया था। बरहाल 2021 का संस्कार शुरू होने से 1 दिन पहले ही शनिवार को लोगों का पहुंचना आरंभ हो जाएगा।

क्या कहना है हज मंत्रालय का;-जुलाई महीने की शुरुआत में ही हर मंत्रालय ने कहा कि वह वैश्विक कोरोना महामारी के चलते स्वास्थ्य संबंधी सावधानियों के उच्चतम स्तर" पर काम कर रहा था। महामारी और नए रूपों के उद्भव के आलोक में "ऑनलाइन जांच प्रणाली के माध्यम से 558,000 से अधिक आवेदकों में से चुना गया, यह कार्यक्रम उन लोगों तक ही सीमित है, जिन्हें पूरी तरह से टीका लगाया गया है और 18-65 वर्ष की आयु में कोई पुरानी बीमारी नहीं है। साथ ही सख्त सामाजिक दूरी के उपायों के अलावा, मंत्रालय ने कहा कि वह धार्मिक स्थलों के आसपास तीर्थयात्रियों को फेरी लगाने के लिए शिविरों, होटलों और बसों तक संपर्क-मुक्त पहुंच की अनुमति देने के लिए एक "स्मार्ट हज कार्ड" पेश करेगा। यह कार्ड प्रणाली किसी भी लापता तीर्थयात्री का पता लगाने में भी मदद करेगी।अधिकारियों ने काबा के चारों ओर बनी मक्का की ग्रैंड मस्जिद में ज़मज़म झरने से पवित्र पानी की बोतलें निकालने के लिए ब्लैक-एंड-व्हाइट रोबोट तैनात किए हैं, जिसके लिए दुनिया भर के मुसलमान प्रार्थना करते हैं।काबा में श्रद्धेय ब्लैक स्टोन - जिसे यह प्रथागत है लेकिन तीर्थयात्रा के दौरान स्पर्श करना अनिवार्य नहीं है उसे पहुंच से बाहर रखने की उम्मीद है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">