ऑस्ट्रेलिया। 11 फरवरी 2005 को एक महिला अपने पुरूष मित्र और उसके दो दोस्तों के साथ टूर के लिए गई थी। महिला का नाम सिमोने श्ट्रोबेल था। वो साल 2005 में बैगपैकिंग टूर करने ऑस्ट्रेलिया गईं थीं, वहां वे लिजमोर शहर के एक कैम्पिंग पार्क में अपने बॉयफ्रेंड के साथ रह रही थीं। उसी दिन उनको उनके दोस्तों के साथ आखिरी बार देखा गया। छह दिन तक उनका कोई अता पता नहीं था फिर छह दिन की खोज के बाद पुलिस को कैम्पिंग साइट से महज 200 मीटर की दूरी पर उनका शव मिला, लाश को वहां छिपाया गया था।पुलिस तभी से इस मामले की जांच कर रही है मगर अब तक इसका खुलासा नहीं हो पाया, पुलिस को कुछ सबूत मिले थे मगर वो किसी को अपराधी साबित करने में नाकामयाब रहे। पहले भी पुलिस ने इस मामले में इनाम की घोषणा की थी मगर उसके बाद भी मामले का खुलासा नहीं हो सका, अब पुलिस ने इस मामले में उस इनाम की रकम और बढ़ा दी है। साथ ही लोगों से इस मामले में सामने आकर मदद करने की अपील भी की है जिससे मामला खुल सके और आरोपी सजा पा सके। 

किसी के खिलाफ नहीं मुकदमा:-15 साल की तहकीकात के बाद भी आज तक इस मामले में किसी के खिलाफ मुकदमा नहीं बना है ना ही ऑस्ट्रेलिया की पुलिस और ना जर्मन पुलिस इस मामले की गुत्थी सुलझा पाई है। हालांकि 2005 में ही एक 40 से 50 साल के व्यक्ति की बात कही गई थी जिसे कैम्पिंग पार्क के पास देखा गया था। कैम्पिंग साइट पर मौजूद सभी लोगों से पूछताछ के बाद भी पुलिस को कोई सुराग नहीं मिला। अब इस मामले में पुलिस की मदद करने वाले को 10 लाख ऑस्ट्रेलियाई डॉलर देने की घोषणा की गई है, यह 7,00,000 अमेरिकी डॉलर (5 करोड़ 56 लाख रुपये) के बराबर रकम है।

पुलिस ने मांगी जनता की मदद:-रिचमोंड पुलिस डिस्ट्रिक्ट के सुपरिंटेंडेंट स्कॉट टैनर ने कहा कि हम जांच करते रहे हैं और पिछले 15 साल से गवाहों से बात कर रहे हैं लेकिन हमें जनता की मदद की जरूरत है ताकि पता चल सके कि सिमोने के साथ आखिर हुआ क्या था। पुलिस का मानना है कि इस मामले से जुड़े ऑस्ट्रेलिया और जर्मनी दोनों ही जगह के लोग सच्चाई छिपा रहे हैं। टैनर ने कहा कि हम उन लोगों से अपील करते हैं कि वे सामने आएं क्योंकि ऐसा नहीं हुआ तो एक दिन पुलिस उनके दरवाजा खटखटा रही होगी और उन्हें दोषी ठहराएगी। पुलिस के पास काफी सबूत है अब उनकी कड़ियों को जोड़ा जा रहा है। इससे पहले कि पुलिस उन तक सीधे पहुंच जाए यदि वो खुद ही पुलिस के पास पहुंचेंगे तो उनकी मदद भी हो सकेगी। 

पहले की थी 10 हजार यूरो के इनाम की घोषणा;-सिमोने श्ट्रोबेल जर्मनी के बवेरिया प्रांत से नाता रखती थीं। वहां की पुलिस ने 2014 से मामले से जुड़ी जानकारी देने पर 10,000 यूरो के इनाम की घोषणा की हुई है। ऑस्ट्रेलिया में इस तरह की बड़ी रकम से अतीत में फायदा देखा गया है। इसी साल वहां एक मामले में दो लाख ऑस्ट्रेलिया डॉलर के इनाम की घोषणा की गई थी जिसके बाद वहां 32 साल पुराने मामले को सुलझाया जा सका। इसी को ध्यान में रखते हुए अब ऑस्ट्रेलिया की पुलिस ने इस पुराने मामले में भी ईनाम की घोषणा की जिससे इसका भी खुलासा हो सके।  

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें