वाशिंगटन। अमेरिका में कोरोनावायरस संक्रमितों की संख्या में इजाफा होने के पीछे अधिक जांच किए जाने को कारण बताया जा रहा है। उपराष्ट्रपति माइक पेंस और देश के शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी एलेक्स एम. अजार सेकंड ने रविवार को कहा कि अधिक जांच हो रही है उसी वजह से अधिक संक्रमित मरीज भी सामने आ रहे हैं, यह इस वजह से नहीं हो रहा है कि बहुत सारी चीजें खुली हुई हैं। जो लोग यह दावा कर रहे हैं कि लॉकडाउन हटा दिए जाने की वजह से इसमें बढ़ोतरी हो रही है वो पूरी तरह से गलत हैं। साफतौर पर ये अधिक जांच किए जाने का नतीजा है।न्यूयॉर्क में सरकार के पदाधिकारी एंड्रयू क्युमो ने इस बारे में ट्रंप प्रशासन को आड़े हाथों लिया, उनका कहना है कि प्रशासन मूलरूप से समस्या के बारे में इनकार कर रहा है वो अमेरिकी लोगों को सच्चाई नहीं बताना चाहते हैं, यदि सच्चाई बताई जाएगी तो शायद कोरोना संक्रमितों की संख्या और अधिक निकलेगी। इससे लोगों में दहशत पैदा होगी। क्युमो ने एनबीसी के मीट द प्रेस कार्यक्रम में कहा कि चीन जो कोरोनावायरस का मुख्य केंद्र था वहां पर रविवार को 5 मौतें दर्ज की गई जो वहां पर संक्रमण फैलने के बाद से अब तक सबसे कम रिकार्ड की गई है। उन्होंने कहा कि इस बात का डर है कि जिन राज्यों में इस संक्रमण से सबसे अधिक नुकसान हुआ है वहां पर ये दुबारा से लौट सकता है और अधिक नुकसान कर सकता है।रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के पूर्व प्रमुख डॉ. थॉमस आर. फ्राइडेन ने कहा कि कोरोनोवायरस के लिए सकारात्मक परीक्षणों की कुल संख्या और प्रतिशत दोनों में वृद्धि हुई है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि इसमें वायरस का ही हाथ है। उन्होंने भविष्यवाणी की कि आने वाले हफ्तों में कुछ राज्यों में कोरोना संक्रमण का फैलना विस्फोटक स्तर पर जारी रहेगा।रविवार को पूरे अमेरिका में एक ही बात की चर्चा था कि रूस ने तालिबान के साथ समझौता कर अफगानिस्तान में तैनात सैनिकों को मारने पर इनाम दिया जाएगा। देश में कोरोनावायरस महामारी भी एक प्रमुख विषय बना हुआ है। उधर देश में अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने पर ट्रंप की आलोचना भी की गई। उधर स्वास्थ्य विशेषज्ञ इस बात से चिंतित है कि अर्थव्यवस्था के नाम पर लॉकडाउन को हटा दिए जाने से यहां पर संक्रमण फैलने का खतरा फिर से पैदा हो गया है। वैसे भी अमेरिका में कोरोना संक्रमण की वजह से सबसे अधिक नुकसान हुआ है। सबसे अधिक संक्रमित और सबसे अधिक मौतें भी यहां हो चुकी हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें