ब्यूनसऑयर्स। कोरोनावायरस ने देश दुनिया के अजीब-अजीब चीजें दिखाई। एक ओर जहां लोग घरों में कैद होकर रह गए वहीं कुछ लोग परिवार से काफी दूर फंस गए। सरकारों की ओर से उड़ानें बंद कर दी गई, रेलवे के पहिये थम गए, सड़कों पर वाहनों का चलना बंद हो गया, ऐसे में कुछ लोग किसी न किसी तरह का इस्तेमाल करते हुए अपने प्रियजनों के पास तक पहुंच ही गए। ऐसा ही एक अजीबोगरीब मामला अर्जेंटीना के ब्यूनसऑयर्स से सामने आया है।कोरोनावायरस संक्रमण का मामला सामने आने के बाद अर्जेंटीना की सभी अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें रद्द कर दी गई। ऐसे में यहां रहने वाले जुआन मैनुअल बॉलसेस्टरो एक दीप पर फंस गए। इस दीप पर कोरोनावायरस का कोई केस नहीं था। मगर जुआन में इस दीप पर न रहने का फैसला किया, उन्होंने कहा कि वो चाहते थे कि ऐसा समय वो अपने परिवार के साथ गुजारें, कुछ दिनों के बाद उनके पिता 90 साल की उम्र के होने वाले थे।जुआन ने किसी भी तरह से लॉकडाउन के दौरान अपने परिवार के पास पहुंचने की ठानी, उसके बाद उन्होंने एक छोटी सी 29 फुट लंबी नाव तैयार की, उसमें खाने-पीने के सामान जुटाए और मार्च में ही अटलांटिक में उतर गए।कोरोनोवायरस महामारी ने लगभग हर देश में अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया। संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय उड़ानें कैंसिल कर दी गई।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें