वाशिंगटन। आने वाले राष्‍ट्रपति चुनाव में डोनाल्‍ड ट्रंप के प्रतिद्वंदी जॉ बिडेन ने गुआंतोनामो बे जेल को बंद करने की अपनी इच्‍छा जताई है। हालांकि उन्‍होंने न तो ये बताया कि वो इसको कैसे करेंगे और न ही ये बताया कि वहां पर बंद कैदियों को लेकर उनकी क्‍या नीति है। लेकिन उन्‍होंने इतना जरूर कहा है कि यदि वे चुनाव में जीते तो इस मिलिट्री जेल को बंद करने का समर्थन जरूर करेंगे। आपको बता दें कि इस जेल की गिनती दुनिया की कुछ सबसे दर्दनाक और भयावह जेलों में गिनती होती है। कई बार मीडिया के जरिए इसकी दिल दहला देने वाली घटनाएं सामने आ चुकी हैं। यहां पर 9/11 हमले की साजिश रचने के आरोपी भी बंद हैं। यहां पर ये भी बताना जरूरी हो जाता है कि इस जेल को बंद करने की कोशिश पूर्व राष्‍ट्रपति बराक ओबामा ने भी की थी लेकिन वो इसमें विफल रहे थे।उन्‍होंने अपने चुनाव प्रचार के दौरान पत्रकार द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि जिसको लेकर बराक ओबामा ने भी आवाज उठाई उस जेल को बंद करने का समर्थन वो भी करते रहेंगे। बिडेन ने इससे पहले बीते वर्ष दिसंबर में भी इस मुद्दे पर हुई डिबेट में अपना यही पक्ष रखा था। गौरतलब है कि जब ओबामा ने इसको लेकर आवाज उठाई थी तब बिडेन उपराष्‍ट्रपति थे। उस वक्‍त उन्‍होंने कांग्रेस पर ठगने का आरोप लगाया था। लेकिन तब उन्‍होंने इस विषय पर आगे की राह सुझाने की बजाए दूसरे मुद्दों पर बात करना मुनासिब समझा था।क्लिंटन प्रशासन में काम करने वाले रॉय नील का कहना है कि ओबामा वादा करने के बाद भी इसको बंद नहीं करवा सके थ। उनका मानना है कि ये एक ऐसा मुद्दा है जिसपर लोगों का कोई ध्‍यान ही नहीं है। इस मुद्दे से मतदाताओं का एक भी वोट हासिल नहीं होता है। उनके मुताबिक इसी वजह से ओबामा ने इसको पीछे छोड़ दिया था।आपको बता दें कि इस जेल की शुरुआत पूर्व राष्‍ट्रपति जॉर्ज डब्‍ल्‍यू बुश ने की थी। एकबार उन्‍होंने इसको बंद करने की मंशा भी जताई थी।

 

 

 

 

 

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें