जोहान्सबर्ग। इस साल के अंत तक दक्षिण अफ्रीका में 30 लाख लोग कोविड-19 से संक्रमित हो जाएंगे वहीं 50,000 लोगों की मौत हो जाएगी। यहां के वैज्ञानिकों की ओर से यह मंशा जाहिर की गई है क्योंकि दक्षिणी गोलार्द्ध में ठंड के कारण संक्रमण के दर में इजाफा होगा। एक वैज्ञानिक मॉडल में गुरुवार को यह दर्शाया गया है। देश में पहले ही संक्रमण और मौत के अधिक मामले हैं। यहां अब तक 18 हजार संक्रमित मामले हैं और 339 लोगों की इस महामारी के कारण मौत हो चुकी है। हालांकि देशभर में जारी लॉकडाउन का अब 8वां सप्ताह जारी है और संक्रमण का दर इस कारण घटता जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा नियुक्त वैज्ञानिकों की एक टीम ने इस बात की आशंका जाहिर की है कि इस साल के अंत तक महामारी के चपेट में 30 लाख लोग आ जाएंगे वहीं 50 हजार लोगों की मौत निश्चित है। टीम के एक एक्सपर्ट हैरी मॉलट्री (Harry Moultrie) ने कहा, 'वास्तव में हमने ग्राफ को नहीं छिपाया। दूसरे इलाकों में यह एचआइवी और टीबी की तरह हो सकता है।' देश के अस्पतालों में मौजूदा बेड से दस गुना अधिक की जरूरत है। इस टीम द्वारा पेश एक मॉडल के अनुसार जारी लॉकडाउन के कारण संक्रमण के दर में 60 फीसद तक कमी आई है। स्वास्थ्य मंत्री जवेली मखीजे (Zweli Mkhize) ने बताया कि लॉकडाउन के साथ ही हम फिजिकल बैरियर भी तैयार कर रहे थे ताकि वायरस को फैलने से बचा सके। दक्षिण अफ्रीका के केप टाउन में तीन माह पहले अभियान पर गए 26 भारतीय वैज्ञानिक लॉकडाउन के कारण फंस गए। ये वैज्ञानिक शुक्रवार को भारत लौटने वाले 150 भारतीय नागरिकों में शामिल हैं जो दक्षिण अफ्रीका की उड़ान से स्वदेश लौटेंगे।विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, 22 मई की सुबह 9 बजे तक कुल संक्रमण के मामले 4,962,707 हो गए वहीं 326,459 लोगों की मौत हो गई।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें