वाशिंगटन। अमेरिकी संसद के ऊपरी सदन सीनेट ने मंगलवार को सालाना रक्षा बजट पर अपनी मुहर लगा दी। इस बजट में स्पेस फोर्स गठित करने का प्रावधान भी किया गया है। इस बजट से जुड़े बिल में अमेरिकी सेना की नई शाखा के तौर पर अंतरिक्ष बल की स्थापना की बात कही गई है। यह वायुसेना के नियंत्रण में रहेगी।सीएनएन के अनुसार, सीनेट ने 738 अरब डॉलर (करीब 52 लाख करोड़ रुपये) के रक्षा बजट के बिल को भारी बहुमत से पारित किया। आठ के मुकाबले 86 मतों से पारित नेशनल डिफेंस ऑथराइजेशन एक्ट (एनडीएए) अब ह्वाइट हाउस भेजा जाएगा। जहां राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हस्ताक्षर से यह कानून बन जाएगा। निचले सदन प्रतिनिधि सभा में गत सप्ताह यह बिल 48 के मुकाबले 377 मतों से पारित किया गया था। सीनेट की सशस्त्र सेवा समिति के अध्यक्ष जिम इंहोफ ने कहा, 'हमने अंतरिक्ष के मोर्चे पर बहुत अच्छा काम किया है। हम और हमारे सहयोगियों के सामने एक बड़ी कमी है कि रूस और चीन के पास अंतरिक्ष बल हैं, लेकिन हमारे पास नहीं।'
ट्रंप ने दिया था आदेश;-राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले साल अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन को स्पेस फोर्स गठित करने का आदेश दिया था। ट्रंप ने कहा था, 'मैंने पेंटागन को स्पेस फोर्स गठित करने की प्रक्रिया तत्काल शुरू करने के लिए कहा है। हमारे पास एयर फोर्स है लेकिन हमें उसके आगे जाना है, स्पेस फोर्स बनानी है। स्पेस फोर्स भी एयर फोर्स जैसी होगी।'

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें