ब‍र्लिन। पूर्वी जर्मनी के एक पोटाश खदान में शुक्रवार को विस्‍फोट होने से दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। इस बीच खदान में काम कर रहे 35 लोग फंस गए। हादसे के वक्‍त करीब सात सौ मीटर नीचे काम चल रहा था । स्‍टेट माइ‍निंग अथॉरिटी के अनुसार सभी लोगों तक ऑक्‍सीजन पहुंचाया जा रहा है। सभी सुरक्षित हैं। उन्‍हें सकुशल बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा है।माइ‍निंग अथॉ‍रि‍टी के अनुसार पोटाश खदान में काम सकुशल चल रहा था। सभी लोग सही थे। इसी बीच शुक्रवार तडके जोरदार धमाका हुआ। देखते ही देखते दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्‍हें तत्‍काल इलाज के लि‍ए भेजा गया। धमाके के वक्‍त खदान में सात सौ मीटर नीचे काम चल रहा था। उस समय करीब 35 लोग खदान मेें ही मौजूद थे। धमाके के कारण खदान से निकलने का रास्‍ता बंद हो गया। आननफानन में राहत व बचाव कार्य शुरू किया गया। हालात गंभीर होते देख खदान में फंसे लोगों तक ऑक्‍सीजन पहुंचाने की कोशिश शुरू हुई। माइन‍िंग अथॉरि‍टी ने तेजी से काम किया और सभी तक किसी तरह से ऑक्‍सीजन पहुंचाया गया। इसके बाद उन्‍हें बाहर न‍िकालने का प्रयास शुरू किया गया। शुक्रवार देर शाम तक राहत व बचाव कार्य चलता रहा।स्‍टेट माइन‍िंग अथॉर‍िटी के अनुसार धमाकों के कारण खदान में जगह.जगह ब्‍लॉकेज हुई है। इससे थोडी द‍िक्कत हो रही है।हमारा प्रयास है कि सभी को सकुशल बाहर निकाल ल‍िया जाए।इसमें हम सफल भी होंगे। खदान पुरानी होने के करारण दिक्‍कत हो रही है।पूर्वी जर्मनी के पोटाश खदानों में हादसे की यह पहली घटना नहीं है। इसके पहले भी कई हादसे चुके हैं।यह जर्मनी की बडी खदानों में से एक है। बात पोटाश के बडे खदानों की कर रहे हैं तो ब्रिटेन के बोल्बी पोटाश खदान का जिक्र लाजमी है। यह यूरोप की दूसरी सबसे गहरी खदान है। यह जमीन से करीब 4,600 फीट नीचे 490 एकड़ में फैली है। इसमें 1001 कर्मचारी काम करते हैं। इससे सालाना एक करोड़ टन पोटाश का उत्पादन होता है।अमेरिकी राज्य उटाह के मोआब में भी सबसे बड़ी पोटाश खदान है। यहां से रोजाना करीब 700 से एक हजार टन पोटाश निकालता है। जमीन के करीब 1200 मीटर नीचे तक फैली इस खदान में पोटाश का इतना बड़ा भंडार है कि अगले 125 साल तक इसका उत्पादन किया जा सकता है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें