नई दिल्ली। यदि आप इलेक्ट्रिक कार खरीदने की योजना बना रहे हैं और आपके मन में इसको चार्ज करने को लेकर किसी तरह का भ्रम है तो अब उसे भूल जाइए। इंजीनियरों की टीम अब ऐसी इलेक्ट्रिक कारों की चार्जिंग के लिए ऐसी व्यवस्था कर रही है कि जब आप ऐसे चार्जिंग पॉइंट पर पहुंचेंगे और अपनी कार को चार्जिंग पॉइंट में लगाएंगे, उसके बाद आपकी कार को चार्ज होने में मात्र इतना समय लगेगा जितना आपको एक कप चाय पीने और टॉयलेट का इस्तेमाल करने में लगेगा। इस दौरान आपकी इलेक्ट्रिक कार इतना चार्ज हो जाएगी कि आप आराम से लगभग 200 मील तक जा पाएंगे।
इंजीनियर कर रहे बैट्री विकसित:-इंजीनियरों की एक टीम अब एक ऐसी बैट्री विकसित कर रही है जो मात्र 10 मिनट में ही रिचार्ज हो जाएगी। इतना रिचार्ज होने के बाद कार लगभग 200 मील तक जा पाएगी। इंजीनियरों का अब ये मानना है कि वो जितनी तेज चार्ज करने वाली बैट्री विकसित कर लेंगे उसी हिसाब से इस तरह की कारों की मांग बढ़ेगी। अमेरिका में पेन स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का कहना है कि आने वाले समय में इलेक्ट्रिक कारों की संख्या में इजाफा होगा इसको देखते हुए ही इस तरह की रिसर्च की जा रही है जिससे इलेक्ट्रिक कार चलाने वालों को ये चिंता न सताए कि उनके कार की बैट्री डिस्चार्ज होने वाली है और वो इसको ध्यान में रखकर आगे की यात्रा ही ना करें।
उच्च तापमान पर चार्ज करने से लिथियम प्लेटिंग से बचा जाएगा:-इंजीनियरों का कहना है कि यूनिट को चार्ज करने और उपयोग के लिए तैयार ऊर्जा को रखने के लिए एक इलेक्ट्रोड से दूसरे इलेक्ट्रोड में आयनों के रूप में जाना जाने वाला लिथियम कणों का प्रवाह कम तापमान पर तेजी से चार्ज होने के साथ आसानी से नहीं होता है। एनोड इलेक्ट्रोड में आयनों को आसानी से जमा होने के बजाय, वे सतह पर स्पाइक्स में समाप्त हो जाते हैं, जिसे लिथियम चढ़ाना के रूप में जाना जाता है। बैटरी की क्षमता को कम करता है और संभवतः इसे असुरक्षित बनाता है।शोधकर्ताओं ने कहा कि उच्च तापमान पर चार्ज करने से लिथियम प्लेटिंग समस्या से बचा जाता है लेकिन लंबे समय तक उच्च गर्मी भी बैटरी को खराब करती है। उन्होंने अब पाया है कि अगर बैटरी केवल 10 मिनट के लिए 60C(140F)तक गर्म हो सकती है और फिर वातावरण के तापमान पर फिर से तेजी से ठंडा हो जाएगी तो लिथियम स्पाइक्स नहीं बनेंगे और गर्मी से होने वाली क्षति से बचा जा सकेगा। जिस बैटरी डिज़ाइन के साथ वे आए हैं वह एक पतली निकल पन्नी का उपयोग करके स्वयं-हीटिंग है। बैटरी को चार्ज करने के बाद जिस तेजी से कूलिंग की जरूरत होगी, उसे कार में डिजाइन किए गए कूलिंग सिस्टम के इस्तेमाल से किया जाएगा।
कई बार किया जा सकेगा रिचार्ज;-जर्नल जूली में प्रकाशित अध्ययन से पता चला कि वे 10 मिनट में पूरी तरह से एक इलेक्ट्रिक कार को चार्ज कर सकते हैं। इस बैटरी को कई बार रिचार्ज किया जा सकता है। पेन स्टेट में प्रोफेसर चाओ-यांग वांग ने कहा कि हमने प्रदर्शित किया कि हम एक इलेक्ट्रिक वाहन को 200 से 300 मील की रेंज के लिए 10 मिनट में चार्ज कर सकते हैं। इसे 2,500 चार्जिंग साइकल या आधे मिलियन मील के बराबर बनाए रख सकते हैं। उन्होंने कहा कि 10 मिनट का रुझान भविष्य के लिए है और इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने के लिए आवश्यक है।
किस तरह से अपनी इलेक्ट्रिक कारों को सुरक्षित तरीके से करें रिचार्ज:-अपने इलेक्ट्रिक वाहन को चार्ज करते समय कभी भी घरेलू मल्टी सॉकेट एक्सटेंशन लीड का उपयोग न करें। यदि आपको एक्सटेंशन लीड का उपयोग करने की आवश्यकता है तो केवल उसी का उपयोग करें जो रील केबल जैसे बाहरी उपयोग के लिए उपयुक्त हो। अधिक से अधिक दूरी तक पहुंचने के लिए एक से अधिक एक्सटेंशन प्लग करने की विधि से बिजली के आग के साथ-साथ बिजली के झटके का खतरा बढ़ जाता है। हमेशा अपने चार्जिंग केबल को किसी प्रतिष्ठित रिटेलर से या सीधे उस निर्माता से खरीदें जो इस तरह के उत्पादों को कठोर परीक्षणों के माध्यम से सुनिश्चित करेगा ताकि वे सुरक्षा मानकों को पूरा कर सकें।केबल का इस्तेमाल करने से पहले उसकी अच्छी तरह से जांच कर लें, यदि कोई नुकसान दिख रहा है तो उसे बदल दें। यदि आप अपने घर में 13A मेन सॉकेट से चार्ज कर रहे हैं तो सुनिश्चित करें कि ऐसा करने से पहले आपकी प्रापर्टी में वायरिंग की जांच की गई हो। पुरानी वायरिंग आपके वाहन को रातभर चार्ज करने की मांग का सामना करने में सक्षम नहीं हो सकती है ऐसे में आग लगने की संभावना अधिक रहती है। घर पर अपने वाहन को चार्ज करने का सबसे सुरक्षित और सबसे सुविधाजनक तरीका एक बॉक्स चार्जिंग पॉइंट के माध्यम से है।
पेट्रोल और डीजल की कारें बंद कर देंगे कुछ देश;-आने वाले समय में कुछ देश अपने यहां पर डीजल और पेट्रोल की कारों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा देंगे। ये भी कहा जा रहा है कि नई पेट्रोल और डीजल कारों की बिक्री पर सरकार का प्रतिबंध 2040 तक लागू होना तय है। स्कॉटलैंड में दिशा निर्देशों का एक अलग सेट है जो 2032 तक स्विच-ओवर और पेट्रोल या डीजल वाहनों पर प्रतिबंध लगाने का संकेत देता है। जलवायु परिवर्तन संबंधी समिति का मानना है कि 2030 या 2035 तक इलेक्ट्रिक गाड़ियों के नवीनतम मॉडल आ जाएंगे। 2024 से 2025 तक इन वाहनों की कीमत आज के समय में चल रहे पारंपरिक वाहनों की कीमत के बराबर ही हो जाएगी।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें