फ्रांस। चोरी की कई घटनाओं के बारे में आपने सुना होगा। आमतौर पर लोग घरों या दुकानों से पैसे और कीमती सामान चोरी करते हैं। लेकिन क्‍या कभी आपने चिडि़याघर से किसी चीते को चुराने की घटना के बारे में सुना है? जी हां, हम चीते को चुराने की ही बात कर रहे हैं। चीता एक बेहद फुर्तीला जंगली जानवर है, जिसे देखकर ही लोगों की हालत खराब हो जाती है।चीते को चुराने की घटना फ्रांस की है। यहां स्‍थानीय पुलिस ने मौबीग चिडि़याघर से काले चीते के छह माह के शावक की चोरी के मामले में एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया है। इस काले चीते को दो हफ्ते पहले उत्तरी फ्रांस के लिली शहर की एक छत से पकड़ा गया था। माना जा रहा है कि वह समीप के एक अपार्टमेंट से निकलकर वहां पहुंच गया था। यह अपार्टमेंट गिरफ्तार किए गए व्यक्ति का था।पुलिस को आशंका है कि वह पशुओं की तस्करी से जुड़ा हो सकता है। लिली के अभियोजन दफ्तर के अनुसार, संदिग्ध शख्स ने अवैध तरीके से इस संरक्षित जीव को अपने अपार्टमेंट में रखा था। उसने शावक के पंजे काट दिए थे। बेल्जियम की सीमा से लगे मौबीग शहर के मेयर अर्नाड डीकेजनी ने बताया कि शावक को अब जंगली पशुओं के पुनर्वास केंद्र में भेजा जाएगा। चीता विलुप्तप्राय जीव है। दुनिया के कुछ ही देशों में यह बचा है। बता दें कि दुनिया में विलुप्‍तप्राय जीवों की तस्‍करी का बाजार बेहद बड़ा है। भारत में भी आए दिन संरक्षित जीवों के अंगों की तस्‍करी की खबरें सुनने को मिल जाती हैं।
ऑस्ट्रेलियाई किशोर ने ट्रक चढ़ाकर ली 20 कंगारुओं की जान;-इधर, ऑस्ट्रेलिया में जानवरों के प्रति क्रूरता का एक गंभीर मामला देखने को मिला है। शनिवार की रात टूरा बीच की सड़क पर 19 साल के युवक ने 20 कंगारुओं को अपने ट्रक के नीचे कुचल दिया। प्रत्‍यक्षदर्शियों का कहना है कि युवक करीब एक घंटे तक कंगारुओं पर अपनी गाड़ी चढ़ाता रहा। पुलिस ने रविवार सुबह मौके से दो बच्चों समेत 20 कंगारुओं के शव बरामद किए। युवक को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया गया। न्यू साउथ वेल्स राज्य में सड़क हादसों में पहले भी कंगारुओं की मौत होती रही है, लेकिन पहली बार जानबूझकर कंगारुओं की हत्या किए जाने से स्थानीय निवासी स्तब्ध हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें