संयुक्‍त राष्‍ट्र।अपनी मिसाइल गतिविधियों के कारण सुर्खियों में रहने वाला उत्‍तर कोरिया एक नए मुसीबत में फंस सकता है। संयुक्‍त राष्‍ट्र ने उत्‍तर कोरिया से संचालित साइबर अपराधों की जांच के लिए विशेषज्ञों की एक टीम का गठन किया है। अगर यह आरोप सही साबित हुए तो उत्‍तर कोरिया को कठोर प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है।भारत समेत 17 मुल्‍कों ने उत्‍तर कोरिया पर साइबर क्राइम करने का आरोप लगाया है। इन देशों की शिकायत थी कि उत्‍तर कोरिया साइबर अपराध से अर्जित धन का इस्‍तेमाल विनाशक हथियारों को खरीदने में करता है। शिकायतकर्ता देशों ने यह मांग की है कि उत्‍तर कोरियाई जहाजों के लिए इस्‍तेमाल किए जाने वाले ईंधन पर प्रतिबंध लगाया जाए। जांच दल के पास साइबर क्राइम से जुड़ी विभिन्‍न देशों की करीब 35 शिकायतें हैं।पिछले हफ्ते जांच दल ने एक रिपोर्ट के हवाले से बताया कि उत्‍तर कोरिया ने वित्‍तीय संस्‍थानों और क्रिप्‍टोक्‍यूरेंसी एक्‍सचेंजों के खिलाफ परिष्‍कृत साइबर गतिविधियों के जरिए करीब दो बिलियन अमेरिकी डालर का अवैध अधिग्रहण किया है। अब तक दुनिया के 13 मुल्‍क (कोस्‍टारिका, गांबिया, कुवैत, लाइबेरिया, मलेशिया, माल्‍टा, नाइजीरिया, पोलैंड, स्‍लोवेनिया, दक्षिण अफ्रीका, ट्यूनीशिया और वियतनाम) साइबर हमले के शिकार हो चुके हैं।इस संदर्भ में एपी की हाल में मिली एक विस्‍तृत रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्‍तर कोरिया ने सबसे अधिक 10 साइबर हमले पड़ोसी मुल्‍क दक्षिण कोरिया पर किए। इसके बाद भारत पर तीन हमले और बांग्‍लादेश और चिली पर दो-दो हमले किए हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि इन हमलों की जांच संयुक्‍त राष्‍ट्र प्रतिबंधों के उल्‍लंघन के तौर पर कर रहा है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें