काबुल। अफगानिस्तान की सरकार ने करीब 170 तालिबान कैदियों को रिहा कर दिया है। जबकि 130 और कैदियों को जल्द रिहा किए जाने की संभावना है। सरकार ने यह कदम ऐसे समय पर उठाया है जब अफगानिस्तान में 18 साल से जारी संघर्ष को खत्म करने के लिए तालिबान के साथ शांति वार्ता चल रही है।टोलो न्यूज ने मंगलवार को अफगान सरकार के सूत्रों के हवाले से बताया कि रिहा किए गए कैदियों को तालिबान के लिए काम करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। इन लोगों को पुल-ए-चरखी जेल से रिहा किया गया। राष्ट्रपति अशरफ गनी ने गत तीन मई को कबायली परिषद लोया जिरगा के सम्मेलन में तालिबान कैदियों को रिहा करने का एलान किया था। सरकार ने देश में शांति की राह तलाशने के मकसद से इस सम्मेलन की मेजबानी की थी।
आलोचक बोले, पड़ेगा नकारात्मक असर:-आलोचकों का हालांकि कहना है कि सरकार के इस फैसले का नकारात्मक असर पड़ेगा। कैदियों को रिहा करने का निर्णय व्यापक चर्चा के बिना लिया गया।
शांति के प्रयास जारी:-तालिबान कैदियों की रिहाई ऐसे समय पर हुई है जब अफगानिस्तान में शांति लाने के लिए कूटनीतिक प्रयास किए जा रहे हैं। अमेरिका और तालिबान के बीच छह दौर की शांति वार्ता हो चुकी है। तालिबान के विरोध के कारण इस वार्ता में हालांकि अफगान सरकार को शामिल नहीं किया गया है।
तालिबान की कैद से मुक्त कराए 50 बंधक:-अफगानिस्तान के सुरक्षा बलों ने बघलान और कुंदुज प्रांतों में तालिबान के दो हिरासत केंद्रों से 50 से ज्यादा बंधकों को मुक्त कराया है। सुरक्षा बलों ने सोमवार देर रात इन केंद्रों पर धावा बोला था। तालिबान ने यहां जिन लोगों को बंधक बनाकर रखा था उनमें ज्यादातर नागरिक थे।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें