स्‍टॉकहोम। विकीलीक्‍स संस्‍थापक जुलियन असांजे (Julian Assange) को लंदन में इक्‍वाडोर एंबैसी से हटाए जाने के एक माह बाद स्‍वीडन में अभियोजकों ने असांजे के खिलाफ दर्ज यौन उत्‍पीड़न मामले को दोबारा खोल दिया है। हालांकि यह मामला खत्‍म हो चुका था लेकिन पीड़िता के वकील ने दोबारा जांच शुरू करने का आग्रह किया। इस बीच विकीलीक्‍स एडिटर ने कहा है कि स्‍वीडिश रेप इंवेस्‍टीगेशन की ओर से असांजे को अपना पक्ष रखने और स्‍पष्‍टीकरण देने का मौका दिया जाएगा।पहले से ही इस बात की संभावना जताई जा रही थी कि इसपर स्‍वीडन के प्रॉसीक्‍यूटर फैसला लेंगे कि मामले में दोबारा जांच शुरू हो या नहीं। पीड़िता के वकील के आग्रह पर इस मामले को दोबारा शुरू किया जा सकता है। हालांकि असांजे ने स्वीडन में किसी यौन उत्‍पीड़न के अपराध से इंकार किया है। लेकिन उनपर अमेरिका में गोपनीय दस्तावेजों को हथिया कर उन्हें सार्वजनिक करने का गंभीर आरोप है। अमेरिका ने इसी मामले में दर्ज मुकदमों को लेकर असांजे के प्रत्यर्पण की मांग की है।यदि स्‍वीडन में यह मामला दोबारा शुरू होता है तब यह ब्रिटेन को निर्णय लेना होगा कि असांजे को प्रत्‍यर्पित किया जाए या नहीं।बता दें कि जूलियन असांजे पर स्वीडन में यौन उत्पीड़न का आरोप लगा था। जिसके बाद लंदन स्थित वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की कोर्ट ने 29 जून, 2012 को गिरफ्तारी वारंट जारी किया था। कोर्ट ने उन्हें सरेंडर करने को कहा था, लेकिन असांजे ने गिरफ्तारी से बचने के लिए इक्वाडोरियन दूतावास में शरण ले ली थी। बाद में स्वीडन ने असांजे पर से यौन उत्पीड़न से जुड़े मामले को हटा दिया।बीते साल 12 दिसंबर से असांजे को इक्वाडोर की नागरिकता मिली।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें