लंदन। ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे को 23 मई को होने वाले यूरोपीय यूनियन (ईयू) के संसदीय चुनाव से पहले बड़ा झटका लगा है। ओपीनियन पोल में उनकी कंजरवेटिव पार्टी महज दस फीसद वोट के साथ पांचवें पायदान पर खिसक गई है। माना जा रहा है कि इससे टेरीजा पर प्रधानमंत्री पद छोड़ने का दबाव बढ़ गया है। कंजरवेटिव पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा भी है कि टेरीजा मे अगले हफ्ते पद छोड़ने की अपनी योजना का एलान कर सकती हैं।टाइम्स अखबार की ओर से कराए गए इस ओपीनियन पोल में निगेल फेराज के नेतृत्व वाली ब्रेक्जिट पार्टी सबसे पंसदीदा दल के तौर पर उभरी है। उसे 34 फीसद लोगों ने पसंद किया है। विपक्षी लेबर पार्टी 16 फीसद वोट के साथ दूसरे स्थान पर है। ब्रिटेन के ईयू के साथ रहने का समर्थन करने वाली लिबरल डेमोक्रेट्स को 15 और ग्रींस को 11 फीसद लोगों ने पसंद किया है। फेराज ने कहा, 'ब्रेक्जिट पार्टी के प्रति लोगों में भारी रुचि बढ़ी है क्योंकि लोग एक लोकतांत्रिक देश में रहना चाहते हैं।' फेराज की पार्टी का गठन इसी साल जनवरी में हुआ था।
ईयू से अलग होने पर असमंजस:-ईयू से अलग होने के लिए ब्रिटेन में करीब तीन साल पहले जनमत संग्रह कराया गया था। लेकिन ब्रिटिश नेताओं में इस बात को लेकर अब भी कोई सहमति नहीं बन पाई है कि ब्रिटेन कब और कैसे ईयू से बाहर होगा? इस बात पर भी असमंजस है कि ब्रिटेन ईयू से बाहर हो या नहीं? ब्रिटेन को ईयू से गत 29 मार्च को बाहर होने था, लेकिन समझौते को ब्रिटिश संसद से मंजूरी नहीं मिलने के कारण इसे अक्टूबर तक की मोहलत मिली है।
ईयू से हटने के समर्थकों में गिरावट;-तीन साल पहले ईयू से ब्रिटेन के अलग होने का समर्थन करने वालों की संख्या में गिरावट आई है। उस समय जनमत संग्रह में 52 फीसद लोगों ने इसका समर्थन किया था, लेकिन ताजा सर्वे में यह गिरकर 48 फीसद पर आ गया है।
751 सदस्यीय है यूरोपीय संसद;-यूरोपीय संसद 751 सदस्यीय है। इसके सदस्य सीधे चुन कर आते हैं। ये चुनाव 1979 से हर पांच साल पर कराए जा रहे हैं और इसमें यूरोपीय देशों की सियासी पार्टियां हिस्सा लेती हैं। यूरोपीय संसद में ईयू के सभी देशों को जनसंख्या के अनुपात में प्रतिनिधित्व मिला है।

 

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें