डेसरॉस आइलैंड। हिंद महासागर में स्थित द्वीपीय देश सेशल्स के राष्ट्रपति डैनी फौरे ने रविवार को पानी के अंदर से समुद्रों को बचाने की वैश्विक अपील की। सेशल्स भी उन देशों में शामिल है, जो ग्लोबल वार्मिग के खतरे से जूझ रहे हैं।
धरती के नीले हृदय को संरक्षण की जरूरत;-फौरे ने कहा, 'हमारी धरती के नीले हृदय के मजबूती से संरक्षण की जरूरत है। यह मुद्दा बाकी सभी मुद्दों से ज्यादा महत्वपूर्ण है। इसे अगली पीढ़ी पर नहीं छोड़ा जा सकता। हमारे पास ज्यादा समय नहीं है।'
हिंद महासागर की गहराई का पता लगाने के लिए अभियान शुरू:-राष्ट्रपति फौरे ने यह अपील हिंद महासागर में ब्रिटेन की अगुआई में शुरू किए गए वैज्ञानिक अभियान के मौके पर की। यह अभियान हिंद महासागर की गहराई का पता लगाने के लिए शुरू किया गया है।
ग्लोबल वार्मिग के कारण सेशल्स पर खतरा:-उल्लेखनीय है कि पृथ्वी के दो-तिहाई से ज्यादा हिस्से पर सागर के रूप में पानी मौजूद है। समुद्र के कई हिस्से ऐसे हैं जिसकी गहराई अभी तक मापी नहीं गई है। कई द्वीपों से मिलकर बने सेशल्स का अस्तित्व ग्लोबल वार्मिग के कारण खतरे में है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें