नई दिल्ली। भीषण तूफान की वजह से बुधवार को सड़क पर चल रहे वाहनों की रफ्तार अचानक थम गई। लोग जहां के तहां अपनी गाड़ियों में ही दुबकने को मजबूर हो गए। तूफान और उसके साथ हो रही बर्फबारी इतनी तेज थी कि गाड़ियों और घरों में मौजूद लोग भगवान से सलामती की दुआ मांगते रहे। इसी बीच काफी संख्या में वाहन आपसी टक्कर की वजह से दुर्घटनाग्रस्त भी हो गए। इसकी वजह थी एक भयानक चक्रवात, जिसका नाम है बम साइक्लोन (Bomb Cyclone)।ये भीषण चक्रवात पश्चिमी अमेरिका के कोलोराडो शहर में आया था। कोलोराडो से होता हुआ तूफान ग्रेट प्लेन और मिडवेस्ट के कुछ हिस्सो में फैल गया था। चक्रवात इतना भयंकर था कि कोलोराडो में रे पासोस काउंटी के प्रवक्ता रयान पार्सेल ने सीएनएन से बातचीत में कहा कि राहत व बचाव कार्य पूरे जोरों पर है। ये चक्रवात, कोलोराडो के सामान्य तूफानों से बहुत शक्तिशाली और खतरनाक था। चक्रवात इतना खतरनाक था कि प्रवर्तन अधिकारी भी तूफान में फंसे लोगों और इसकी वजह से हुई दुर्घटना से निपटने की जगह अपनी गाडियां छोड़कर छिपे रहे। एलबर्ट काउंटी के मैनेजर सैम अल्ब्रेक्ट ने बताया कि हम ऐसी स्थिति में थे, जहां हमें बचाव दल को भी रेस्क्यू (बचाव) करना पड़ा।
100 से ज्यादा वाहन आपस में भिड़े:-वेलिंगटन अग्निशमन विभाग ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया से बातचीत में बताया कि बुधवार को आए इस भीषण चक्रवात की वजह से कोलोराडो में 100 से ज्यादा वाहन बेलिंगटन के पास इंटरस्टेट 25 पर आपस में भिड़कर दुर्घटनाग्रस्त हो गए थे। अग्निशमन विभाग के फेसबुक पेज के अनुसार वाहनों कि टक्कर में किसी की जान नहीं गई है, हालांकि लोगों को मामूली से लेकर गंभीर चोटें आई हैं। हादसे की सूचना मिलते ही दुर्घटना स्थल के दोनों तरफ (कोलोराडो और व्योमिंग) से आपातकालीन टीमों को राहत व बचाव कार्य के लिए मौके पर रवाना कर दिया गया था।
कैसे आता है बम साइक्लोन;-बम साइक्लोन तब आता है, जब वायुमंडल के दबाव में लगातार गिरावट हो। 24 घंटे से ज्यादा देर तक 24 मिलीबार से कम वायुमंडीलय दबाव होने पर इस तरह के साइक्लोन का खतरा रहता है। मंगलवार से अब तक वायुमंडलीय दबाव 33 मिलीबार तक कम हो चुका है। इस वजह से चक्रवात लगातार शक्तिशाली होता जा रहा है। इसे लेकर सोशल मीडिया और एफएम आदि के जरिए मौसम विभाग और स्थानीय प्रशासन लगातार चेतावनी जारी कर रहा है।लोगों को ऐसे मौसम में घरों के अंदर रहने और वाहन न चलाने की हिदायत दी जा रही है। ये बर्फीला तूफान तेजी से केंद्रीय और उत्तरी मैदानी इलाकों व ऊपरी मिडवेस्ट की तरफ बढ़ रहा है। आशंका व्यक्त की गी है कि आज (गुरुवार को) तूफान के कारण भारी बर्फबारी और कई इलाको में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।
तूफानी हवाओं ने पलट दी ट्रेन:-बम साइक्लोन की तूफानी हवाएं तेजी से अमेरिका के उत्तर-पश्चिम में स्थित रॉकी पर्वत मालाओं (Rocky Mountains, also known as the Rockies) और टेक्सास के अमेरिल्लो (Amarillo, Texas) की तरफ बढ़ रही हैं। नेशनल वेदर सर्विस के अनुसार डेनवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट और कोलोराडो स्प्रिंग्स पर तूफानी हवाओं की रफ्तार, लगभग कैटेगरी 1 व 2 स्तर के चक्रवातों के बराबर दर्ज हुई है। तूफान की रफ्तार 50 मील प्रतिघंटा तक दर्ज की गई। इन तेज हवाओं की वजह से न्यू मेक्सिको में एक ट्रेन के 26 डिब्बे एक ऊंचे रेलवे पुल से नीचे गिर गए। स्थानीय पुलिस के एक ट्वीट के अनुसार ये हादसा लोगान गांव के करीब हुआ है। हालांकि, हादसे में कोई भी जख्मी नहीं हुआ है।
लाखों लोग अंधेरे में जीने को मजबूर:-तूफान की वजह से कोलोराडो में लाखों लोग अंधेरे में जीने को मजबूर हैं। तेज हवाओं और भारी बर्फबारी की वजह से इलाके में बिजली आपूर्ति ठप हो गई है। टेक्सास शहर में ही 69 हजार से ज्यादा लोग बिजली के बिना जीने को मजबूर हैं। लोगों का कहना है कि उन्होंने पहले भी टेक्सास में कई तूफान देखे हैं, जिसकी वजह से बिजली चली जाती है। हालांकि, ये तूफान उन सबसे अलग और बहुत ज्यादा शक्तिशाली है। इसकी वजह से बिजली आपूर्ति काफी देर के लिए बाधित हुई है। बिजली आपूर्ति शुरू करने के लिए सभी एजेंसियां काम में जुटी हुई हैं।
मौसम की मार से यात्री सेवाएं और स्कूल प्रभावित;-खराब मौसम की वजह से कोलोराडो में यात्री सेवाएं और स्कूलों पर बुरा प्रभाव पड़ा है। लोगों को उनकी यात्राएं निरस्त करने की चेतावनी लगातार जारी की जा रही है। 55 मिलियन (5.5 करोड़) से ज्यादा लोग तूफान के खतरे से, 10 मिलियन (एक करोड़) से ज्यादा लोग बर्फीले तूफान और 17 मिलियन (1.7 करोड़) लोग बाढ़ के खतरे से जूझ रहे हैं।खराब मौसम की वजह से डेनवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट को जाने वाली या वहां से शुरू होने वाली 2000 से ज्यादा उड़ानें निरस्त कर दी गई हैं। अनुमान है कि तूफान की वजह से एयरपोर्ट पर पांच से आठ इंच तक बर्फ गिर सकती है। मौसम की वजह से कोलोराडो के लगभग सभी स्कूल बंद करा दिए गए हैं। इसके साथ ही ज्यादातर सरकारी कार्यालयों को भी बंद करने के आदेश जारी किए गए हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें