बीजिंग। चीन की ओर से एक बड़ी खबर यह आ रही है कि उसने इथोपिया विमान हादसे के बाद बोइंग की सेवाएं रोक दी है। चीन के नागर विमाननन प्राधिकरण ने अपने एक बयान में कहा है कि विमान संरक्षा से संबंधित सभी पहलुओं की पुष्टि होने के बाद ही बोइंग का दोबारा व्‍यावसायिक इस्‍तेमाल फ‍िर से शुरू होगा। इस बीच इंडोनेशिया ने सोमवार को दुर्घटनाग्रस्‍त बोइंग की जांच के लिए इथिपो‍याई सरकार से मदद की पेशकश की है। बता दें रविवार को बोइंग विमान दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया था, इसमें चार भारतीय समेत 157 यात्रियों की मौत हो गई।चीन ने यह कदम उस समय उठाया है, जब केन्‍या में एक इथियोपियन एयरलाइंस का बोइंग 737-800 विमान रविवार की सुबह दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया था। इस विमान में सवार सभी 157 यात्रियों की मौत हो गई थी। इथियोपियन एयरलाइंस का चार माह पहले ही खरीदा गया नया बोइंग 737-800 विमान उड़ान भरने के बाद सिर्फ छह मिनट बाद ही क्रैश हो गया। विमान में सवार सभी 157 लोगों की मौत हो गई, जिनमें चार भारतीय भी शामिल थे।हादसाग्रस्‍त विमान बोइंग 737-800 ने इथोपिया की राजधानी एडिस अबाबा से स्‍थानीय समय 8.38 बजे नैरोबी के लिए उड़ान भरी थी। एयर लाइंस के अनुसार एयरपोर्ट से उड़ते ही विमानन का कंट्रोल रूम से ही संपर्क टूट गया। विमान एडिस अबाबा के दक्षिण पूर्व में क्रैश होने की आशंका है। बता दें कि विमान में भारत, चीन अमेरिका, इटली, फ्रांस, ब्रिटेन और मिस्र के नागरिक सवार थे। गौरतलब है कि इथोपियन एयरलांइस के यात्री विमान की आखिरी बड़ी दुर्घटना वर्ष 2010 में हुई थी। उस वक्‍त यह विमान बेरुत से उड़ान भरने के कुछ मिनटों बाद दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया था। इस हादसे में सवार सभी 90 यात्रियों की मौत हो गई थी।उधर, एयरलाइन के सीइओ ने पत्रकारों को बताया कि अभी इसकी जानकारी नहीं है कि बोइंग विमान कैसे दुर्घटनाग्रस्‍त हुआ। हालांकि, उन्‍होंने कहा कि पायलट ने परेशानी में होने की सूचना भेजी थी। इसके बाद से लौटने की मंजूरी दी गई थी। उन्‍होंने बताया कि यह विमान नया था। यह नवंबर में एयरलाइन के बेड़े में शामिल किया गया। सरकारी इथोपियन एयरलाइंस अफ्रीका में सबसे अच्‍छी एयरलाइन की सेवा मानी जाती है।इस बीच भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने विमान हादसे में शोक जताते हुए कहा है कि मारे गए भारतीयों मे नाम वैद्य पन्‍नागेश, वैद्य हासिन अन्‍नागेश, नुकावारपु मनीषा और शिखा गर्ग हैं। विदेश मंत्री ने कहा कि इथोपिया स्थित उच्‍चायुक्‍त से भारतीय मृतकों के परिजनों की हर मदद करने को कहा है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें