स्कोपजे। दुबई में अपने परिवार से बचकर भागी 42 साल की महिला को यूरोपीय देश मेसेडोनिया की सरकार ने शरण देने से इन्कार कर दिया है। चार बच्चों की मां हिंद मुहम्मद अलबोलूकी ने अब लोगों से मदद की गुहार लगाई है। उसने एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें कहा गया है कि पति से तलाक मांगने पर घरवालों ने उन्हें धमकाया। अलबोलूकी को डर है कि उन्हें वापस संयुक्त अरब अमीरात भेज दिया जाएगा। वह फिलहाल आव्रजन विभाग की हिरासत में हैं।चार फरवरी को उनकी याचिका खारिज करते हुए मेसेडोनिया के गृह मंत्रालय ने कहा कि उनके साथ नस्ल, धर्म, देश या राजनीतिक विचारधारा के आधार पर किसी प्रकार की हिंसा नहीं की गई। मेसेडोनिया में रहने वाले उनके दोस्त नेनाद देमोत्रेव ने कहा, 'अलबोलूकी पर कड़ी नजर रखी जा रही थी। दो अक्टूबर को वह किसी तरह अपने घर से भागने में कामयाब हुईं। उन्होंने चप्पल तक नहीं पहनी थी। दुबई से वह बहरीन, तुर्की और सर्बिया होते हुए यहां पहुंचीं।'इससे पहले दुबई के शासक शेख मुहम्मद बिन राशिद अल मकतूम की बेटी शेख लतीफा ने भी कथित तौर पर अपने परिवार से बचकर भागने की कोशिश की थी।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें