न्यूयॉर्क। ईश्वर और धर्म के बारे में लिखा गया प्रख्यात वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन का पत्र अमेरिका में एक नीलामी में 28.9 लाख डॉलर (करीब बीस करोड़ रुपये) में बिका। आइंस्टीन ने अपनी मृत्यु से एक साल पहले तीन जनवरी, 1954 को यह पत्र जर्मनी के दार्शनिक एरिक गटकाइंड को लिखा था।नीलामी घर क्रिस्टी ने कहा कि इस पत्र में आइंस्टीन ने धर्म और दर्शन को लेकर अपने विचारों को पूरी तरह व्यक्त किया है जो इसे महत्वपूर्ण बनाता है। गटकाइंड ने आइंस्टीन को अपनी किताब 'चूज लाइफ: द बाइबलिकल कॉल टू रिवॉल्ट' पढ़ने को दी थी।इस किताब को पढ़ने के बाद आइंस्टीन ने पत्र में उन्हें लिखा, 'ईश्वर शब्द मेरे खयाल में और कुछ नहीं बल्कि मनुष्य की कमजोरी का प्रतीक है। जबकि बाइबिल प्राचीन दंतकथाओं का संग्रह है। कोई भी बात मेरे इन विचारों को बदल नहीं सकती।'अपने इस पत्र में वह 17वीं शताब्दी के दार्शनिक बारुच स्पिनोजा से कुछ हद तक सहमत होने की बात भी कहते हैं। स्पिनोजा किसी मानव रूपी ईश्वर में नहीं बल्कि प्रकृति की खूबसूरती के लिए जिम्मेदार और सृष्टि को संचालित करने वाले ईश्वर में विश्वास करते थे, जो निराकार है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें