लंदन। एक व्यक्ति औसतन कितने चेहरे याद रख सकता है, इस संबंध में पहली बार वैज्ञानिकों ने एक आंकड़ा प्रस्तुत किया है। अध्ययन के आधार पर वैज्ञानिकों का कहना है कि एक सामान्य व्यक्ति द्वारा औसतन पांच हजार चेहरे याद रखे जा सकते हैं। ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ यॉर्क के शोधकर्ताओं द्वारा किए अध्ययन में यह बात सामने आई है। इसका पता लगाने के लिए शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन किया, जिसमें प्रतिभागियों से पता लगाया कि वे अपने निजी जीवन और मीडिया के अलावा कितनी चर्चित शख्सियतों के चेहरे याद रख सकते हैं।शोधकर्ता कहते हैं, आमतौर पर व्यक्ति छोटे समूहों में रहते हैं, जिसमें उनके इर्द-गिर्द कुछ सौ लोग ही होते हैं, लेकिन हमारा अध्ययन बताता है कि आधुनिक युग में उनका दायरा बहुत अधिक है। इसमें मीडिया, मोबाइल व कंप्यूटर स्क्रीन का भी योगदान है। इसके परिणामस्वरूप वे हजारों चेहरे पहचानते हैं।प्रोसीडिंग्स ऑफ द रॉयल सोसाइटी बी नामक जर्नल में यह अध्ययन प्रकाशित किया गया है। यूनिवर्सिटी ऑफ यॉर्क के रोब जेनकिंस कहते हैं, हमारा अध्ययन इस बात पर केंद्रित था कि लोग वास्तव में कितने चेहरे पहचानते हैं। हालांकि, हमें अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि मस्तिष्क कितने चेहरों को पहचान सकता है। यानी इसकी सीमा क्या है इसका कोई आंकड़ा फिलहाल मौजूद नहीं है।
इस तरह किया अध्ययन:-शोधकर्ताओं ने इस अध्ययन के लिए विशेष प्रयोग किया। उन्होंने प्रतिभागियों को एक घंटे का समय दिया, जिसमें उन्हें उन लोगों के नाम लिखने थे, जो उनके जीवन से जुड़े थे। इनमें उनके स्कूल, कॉलेज, ऑफिस आदि के सहयोगी व पड़ोसी आदि शामिल थे। इसके बाद शोधकर्ताओं ने प्रतिभागियों को मशहूर हस्तियों जैसे अभिनेता, नेता, खिलाड़ी आदि के नाम लिखने को कहा। इस दौरान प्रतिभागियों को पहले तो काफी चेहरे याद आए, लेकिन एक घंटे के अंत में उन्हें नए चेहरे याद करने में मुश्किल आने लगी। उन्होंने कहा कि परिणाम बताते हैं कि प्रतिभागी एक हजार से 10 हजार चेहरों के बीच पहचान पाते हैं।
कई चीजों पर निर्भर करती है पहचानने की क्षमता:-जेनकिंस कहते हैं, एक व्यक्ति कितने चेहरे याद रख सकता है यह उसकी कुदरती क्षमता पर निर्भर करता है। सभी में यह क्षमता अलगअलग होती है और इस बात पर निर्भर करती है कि एक व्यक्ति चेहरों पर कितना ध्यान देता है। वहीं, यह गुण सामाजिक माहौल पर भी निर्भर करता है। एक व्यक्ति जो ज्यादा आबादी वाले क्षेत्र और बड़े सामाजिक दायरे से जुड़ा हो चेहरों को याद रखने की उसकी क्षमता अधिक होगी।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें