Editor

Editor

दुबई। दक्षिण पश्चिम ईरान में सैन्य परेड पर हुए शनिवार को हुए हमले में 29 लोग मारे गए और 57 से ज्यादा घायल हो गए। मरने वालों में रिवोल्यूशनरी गार्ड के जवान भी शामिल हैं। सुरक्षाकर्मियों ने चारों हमलावरों को मार गिराया। सरकारी न्यूज एजेंसी के मुताबिक, यह अब तक का सबसे खतरनाक हमला है। ईरान में अरब विरोधी आंदोलन और आइएस के आतंकियों ने हमले की जिम्मेदारी ली है। ईरान ने सऊदी अरब और इजरायल पर हमला कराने का आरोप लगाया है।सरकारी टेलीविजन ने कहा कि हमलावरों के निशाने पर वह स्टैंड था जहां ईरान के अधिकारी जमा थे। अहवाज शहर में इराक के साथ 1980-88 के बीच इस्लामिक रिपब्लिक द्वारा युद्ध शुरू करने की याद में आयोजित कार्यक्रम देखने के लिए अधिकारी वहां जमा हुए थे। खुजेस्तान प्रांत के मध्य में स्थित अहवाज में अल्पसंख्यक अरब समुदाय ईरान के शिया शासन के खिलाफ प्रदर्शन करता रहा है।इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प को 1979 में हुए इस्लामिक रिवोल्यूशन के बाद से शिया शासन की ताकत माना जाता है। इराक, सीरिया और यमन जैसे देशों में ईरान के क्षेत्रीय हितों में भी इस बल की भूमिका प्रमुख है।मीडिया को उपलब्ध कराए गए वीडियो से पता चलता है कि जिस समय सैनिक मैदान में क्रॉलिंग कर रहे थे उसी समय हमलावरों ने उनपर गोलियां चलाई। महिलाएं और बच्चे अपनी जान बचाने के लिए वहां से भागने लगे। हिंसा में महिलाएं और बच्चे भी मारे गए।यह हमला ओपेक तेल उत्पादक ईरान में सुरक्षा को गहरा धक्का है। यह देश पड़ोसी अरब मुल्कों के मुकाबले ज्यादा स्थिर माना जाता है। 2011 से मध्य पूर्व के देशों में उथल-पुथल चल रहा है।

नई द‍िल्‍ली व्‍यापार में बढ़ते तनाव के बीच चीन ने भी अमेर‍िका के प्रत‍ि अपने तेवर सख्‍त कर लिए हैं। चीन ने अमेरिकी राजदूत टेरी ब्रांस्‍टैंड और नौसेना प्रमुख को तलब किया है। अमेरिका ने चीन की कई कंपनियों पर रूस से हथियार खरीदने पर प्रत‍िबंध लगा रखा है इसके विरोध में इन्‍हें तलब किया गया है। साउथ चीन मॉर्निग पोस्‍ट की सूचना से मिली जानकारी के तहत बीजिंग में होने वाली तीन दिवसीय द्व‍िपक्षीय वार्ता भी स्‍थगित कर दी गई है। अमेरिका चीन पर लगे प्रत‍िबंध को वापस नहीं लेता है तो चीन ने आगे भी सख्‍त कार्रवाई की चेतावनी दी है। चीन की सरकार ने अमेरिका को अपनी गलती सही करते हुए उसमें सुधार लाने के साथ ही प्रत‍िबंध हटाने को कहा है। बता दें क‍ि चीन ने रूस से एस 400 विमान खरीदने की स्वीकृति दी है, जिसके बाद गुरुवार को अमेरिका ने चीन के केंद्रीय सैन्‍य आयोग के उपकरण व‍िकास विभाग और उसके निदेशक ली शांगफू पर अपने सीएएटीएसए एक्‍ट के उल्‍लंघन करने के आरोप में आपत्‍ति‍ जताई है। इसके बाद ही चीन के रक्षा मंत्री ने इस प्रतिबंध पर आपत्‍ति‍ जताते हुए इस पर सख्‍त विरोध दर्ज कराया है। चीन के मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि चीनी सैन्य नेतृत्व ने पहले से अमेरिकी के इस पक्ष का विरोध किया है।

कोलंबो। हिंद महासागर में स्थित द्वीपीय देश मालदीव में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान जारी हैं। मतदान शुरू होने के कुछ ही घंटे पहले विपक्ष के प्रचार मुख्यालय पर पुलिस ने छापा मारा था, जिसके बाद चुनाव प्रक्रिया पर सवाल उठने लगे। विपक्ष के प्रचार मुख्यालय पर पुलिस ने छापा मारा था। बता दें कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ विपक्षी पार्टियां भी मतदान के निष्पक्ष नहीं होने की आशंका जता चुकी हैं। कुछ अधिकारियों और पार्टी कार्यकर्ताओं ने बताया कि सुबह से ही सैकड़ों पुरुष और महिलाएं अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने के लिए राजधानी माले में मतदान केंद्रों पर कतारों में खड़े दिखाई पड़े।मालदीव में मतदान सुबह आठ बजे शुरू हुआ। चुनाव में राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन का उनके मुख्य प्रतिद्वंद्वी इब्राहिम मोहम्मद सोलिह से मुकाबला है। अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों एवं विपक्ष को आशंका है कि चीन के वफादार माने जाने वाले ताकतवर नेता अब्दुल्ला यामीन को सत्ता में बरकरार रखने के लिए चुनावों में गड़बड़ी की जाएगी। यामीन ने अपने सभी प्रमुख प्रतिद्वंद्वियों को या तो जेल में डाल दिया है या देश से बाहर जाने के लिए मजबूर कर दिया है।
अब्दुल्ला यामीन दोबारा बन सकते हैं मालदीव के राष्ट्रपति:-दूसरे कार्यकाल की तैयारी में जुटे राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन के लिए यह चुनाव जीतना मुश्किल नहीं लग रहा क्योंकि उनके प्रमुख प्रतिद्वंद्वी या तो जेल में हैं या देश से बाहर निर्वासित जीवन जी रहे हैं। चीन की मदद से यामीन की देश पर पकड़ काफी मजबूत हो गई है। करीब साढ़े तीन लाख की आबादी वाले मालदीव के विपक्षी दलों ने यामीन के खिलाफ संयुक्त उम्मीदवार के रूप में इब्राहिम मुहम्मद सोलिह को उतारा है।59 वर्षीय यामीन 2013 से सत्ता पर काबिज हैं। सत्ता में आने के बाद उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति और मालदीवियन डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता मुहम्मद नशीद पर न्यायपालिका के काम में दखल देने और आतंकवाद के आरोप लगाए। इसमें उन्हें 13 साल की सजा हुई। इलाज के बहाने वह लंदन चले गए थे। फिलहाल वह श्रीलंका में निर्वासित जीवन जी रहे हैं।

जिनेवा। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचारों की गूंज अब पूरा विश्व सुन रहा है। जिनेवा में पाकिस्तानी ईसाई अल्पसंख्यकों ने अपने अधिकारों की लड़ाई के चलते जमकर विरोध प्रदर्शन किया। जिनेवा स्थित संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार आयोग के हाई कमिश्नर कार्यालय के बाहर इकट्ठा होकर इन लोगों ने पाकिस्तान में रह रहे अल्पसंख्यकों के अधिकार की मांग को लेकर प्रदर्शन किया।यूरोप और यूके में रह रहे तमाम लोगों ने बड़ी संख्या में यहां इकट्ठा होकर पाकिस्तान की सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इससे पहले भी पाकिस्तान के खिलाफ जिनेवा में लोगों ने मानवाधिकारों के हनन के खिलाफ प्रदर्शन किया है। बलूचों से लेकर पीओके में भी लोग पाकिस्तान के आर्मी के अत्याचारों से परेशान हैं और हर मौके पर इससे खिलाफ अपनी बार बुलंद करते भी देखे गए हैं।पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों के हाथ में प्लेकार्ड (तख्लियां) भी थे। जिसमें लिखा था, 'सेव पाकिस्तानी क्रिश्चियन'। इसके अलावा प्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तान में मानवाधिकारों का हनन रोको, इशनिंदा के खिलाफ पाकिस्तान में कानून को खत्म करो जैसी तख्तियां भी हाथ में लेकर नारेबाजी की। साथ ही, आसिया बीबी के खिलाफ न्याय की मांग कर रहे थे। लोगों का कहना था कि आसिया बीबी को ईशनिंदा के खिलाफ सजा दिए जाने के मामले में न्याय मिले।इसके आलावा लोगों ने पलेस विल्सन से लेकर ब्रोकेन चेयर तक पैदल मार्च भी निकाला। इस दौरान भी वे पाकिस्तान सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते रहे।

 

नई दिल्‍ली। चीन के झिंजियांग प्रांत में उइगर मुसलमानों पर चीन के कथित अत्‍याचार की विश्वव्यापी आलोचना के बाद भी पाकिस्तान ने चीन के शीर्ष राजनयिक के साथ बैठक में इस मुद्दों को उठाने से परहेज किया।झ‍िंजियांग इलाके में मुस्लिमों की एक जाति उइगर रहती है। चीन सरकार ने आतंकवाद को खत्‍म करने के लिए इन पर कई प्रकार का प्रत‍िबंध लगा दिया है। अरब न्‍यूज के मुताबि‍क पाकिस्तान के धार्मिक मामलों के संघीय मंत्री नूरुल हक कादरी ने बताया क‍ि बैठक में उइगर मुस्लिमों के मामले पर चर्चा नहीं हुई। कादरी ने आगे बताया क‍ि बैठक में इस्‍लाम के स्‍कॉलर के आदान-प्रदान पर बात हुई है जिसको लेकर जल्‍द ही ज्ञापन दिया जायेगा।अब तक पाकिस्तान स्थित चीनी दूतावास से इस बैठक से लेकर कोई आध‍िकारिक बयान जारी नहीं क‍िया गया है। बैठक के बारे में बताते हुए मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने अरब न्‍यूज को बताया कि चीन का दुश्‍मन पाकिस्‍तान का दुश्‍मन है। वहीं आर्थिक गल‍ियारे पर भी अपना रुख स्‍पष्‍ट करते हुए कहा कि इस्‍लामाबाद इस पर कोई समझौता नहीं करेगा। चीन के पश्चिमी भाग झिंजियांग इलाके में उइगर बड़े पैमाने पर रहते हैं। कई अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों ने चीन पर आरोप लगाया है कि वे उइगरों पर सामूहिक ज्‍यादत‍ी कर रहे हैं। उन्‍हें शिविरों में भेजा जा रहा है। उनपर धार्मिक प्रतबिंध लगा कर पुन: शिक्षा या प्रवचन से गुजरने के लिए मजबूर किया जा रहा।

नई दिल्ली। एशिया कप के सुपर फोर मुकाबले में भारत का मुकाबला अपने कट्टर विरोधी पाकिस्तान से होगा। इन दोनों देशों के बीच जब भी मैच होता है तो खिलाड़ियों पर तो अतिरिक्त दबाव रहता है। कई बार इस प्रेशर को खिलाड़ी सहन नहीं कर पाते और मैदान पर विरोधी खिलाड़ियों से उनकी गहमागहमी हो जाती है। आइए एक नजर डालते हैं ऐसे ही मौकों पर जब भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ी आपस में भिड़ने को तैयार हो गए थे।एशिया कप का अहम टूर्नामेंट में भारत-पाकिस्तान का दूसरा हाईवोल्टेज मुकाबला 23 सितंबर को होगा। दोनों देशों के बीच का ज़िक्र होते ही भारत-पाकिस्तान के बीच हुए यादगार मैचों की यादें ताज़ा हो जाती हैं। भारत और पाकिस्तान की टीमें जब आमने सामने होती हैं तो पूरी दुनिया के क्रिकेट फैन्स का ध्यान इस महामुकाबले पर होता है। क्रिकेट जगत की ये दो बड़ी टीमें आपस में भिड़ंती हैं तो ये किसी जंग से कम नहीं होता।भारत और पाकिस्तान के बीच हाई-वोल्टेज मुकाबले के दौरान मैदान के बाहर जितना माहौल गर्म होता है उससे कहीं ज़्यादा मैदान पर होता है। यह बात कई मौकों पर देखने को भी मिली है। मैच के साथ-साथ भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ियों के बीच हुए विवाद भी अक्सर चर्चा में रहते हैं। आइए एक नजर डालते हैं ऐसे मौकों पर जब भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ी आपस में भिड़ने को तैयार हो गए थे।

नई दिल्ली। एशिया कप में आज एक बार फिर से भारत और पाकिस्तान की टीमों का आमना-सामना होगा। ये मुकाबला अब से कुछ ही देर बाद दुबई में खेला जाएगा। सुपर-4 के इस महामुकाबले से पहले ये दोनों टीमें मौजूदा एशिया कप में एक मैच खेल चुकी हैं। बुधवार को खेले गए उस मैच में भारत ने जीत हासिल की थी। इस मैच में जो टीम जीती उसकी फाइनल में जाने की संभवानाएं प्रबल हो जाएंगी।
एशिया कप में भारत का पलड़ा है भारी:-एशिया कप में भारत और पाकिस्तान की टीमें 13 बार आमने सामनें हुई हैं। इसमे से छह बार भारत ने जीत का स्वाद चखा है, तो पांच बार बाज़ी पाकिस्तान की टीम ने मारी है। एक मैच रद हो गया तो एत का फैसला नहीं हो सका था। वहीं अगर ओवरऑल रिकॉर्ड की भी बात की जाए तो पलड़ा पाकिस्तान का भारी है। दोनों टीमों के अभी तक 130 वनडे मैच खेले हैं। 130 में से 73 बार बार जीत पाकिस्तान की हुई है तो 53 बार भारतीय टीम भी जीती है। वहीं 4 मुकाबले परिणाम रहित रहे।
इन खिलाड़ियों को मिल सकता है मौका :-पाकिस्तान के खिलाफ सुपर-4 में होने वाले इस मैच के लिए भारतीय टीम में बदलाव की संभावना कम ही लगती है। भारतीय टीम उन्हीं खिलाड़ियों के साथ मैदान पर उतर सकती है, जो बांग्लादेश के खिलाफ खेले थे।
भारत के संभावित 11 खिलाड़ी:-रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन (उपकप्तान), अंबाती रायुडू, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धौनी, रवींद्र जडेजा, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह।
इस वजह से बदलाव न होने की संभावना;-भारतीय टीम हालांकि जिस तरह की फॉर्म में है उसे देखकर पाकिस्तान के लिए कुछ भी आसान नहीं रहने वाला है। रोहित शर्मा, शिखर धवन की सलामी जोड़ी के बाद अंबाती रायुडू और दिनेश कार्तिक ने भी पाकिस्तानी गेंदबाजों का जमकर सामना किया था। इन चारों के अलावा कोई और बल्लेबाज क्रिज पर उतरा नहीं था।भारतीय कप्तान रोहित शर्मा अंतिम-11 में बदलाव करें इसकी संभावना कम ही लग रही हैं। तीसरे नंबर पर अभी तक रायुडू को भेजा गया है और इस मैच में भी उन्हीं के आने के आसार हैं। समस्या चौथे नंबर की है जहां कार्तिक के अलावा धौनी ने अभी अपने हाथ आजमाए हैं। पाकिस्तान के खिलाफ रोहित इनमें से किसे उतारते हैं यह देखना होगा।वहीं स्पिन में युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव और रवींद्र जडेजा एक दूसरे का साथ देते नजर आएंगे। इन तीनों के अलावा रोहित पार्ट टाइम जाधव को भी गेंद थमा सकते हैं। जाधव ने पाकिस्तान के खिलाफ पिछले मैच में तीन विकेट लिए थे। तेज गेंदबाजी की जिम्मेदारी जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार के कंधों पर होगी।वहीं पाकिस्तान के लिए पिछले मैच में अफगानिस्तान के खिलाफ इमाम उल हक और बाबर आजम ने अर्धशतक जड़े थे और मलिक ने अंत तक खड़े होकर नाबाद 51 रनों की पारी खेल टीम को जीत दिलाई थी।इन तीनों के अलावा हालांकि पाकिस्तान का कोई और बल्लेबाज कुछ खास नहीं कर सका था। फखर जमां का बल्ला पूरी तरह से विफल रहा था। हारिश सोहेल भी नाकाम रहे थे। पाकिस्तान की फील्डिंग पिछले मैच में बेहद खराब रही थी और इसी कारण अफगानिस्तान की टीम 250 पार करने में सफल रही थी।वहीं गेंदबाजी भी पाकिस्तान की चिंता है। हसन अली, मोहम्मद आमिर, उस्मान खान उस तरह की गेंदबाजी नहीं कर पाए हैं जैसी उनसे उम्मीद की जाती है।
पाकिस्तान की टीम:-सरफराज अहमद (कप्तान), आसिफ अली, बाबर आजम, फहीम अशरफ, फखर जमन, हारिश सोहेल, हसन अली, इमाम उल हक, जुनैद खान, मोहम्मद आमिर, मोहम्मद नवाज, शादाब खान, शाहीन अफरीदी, शान मसूद, शोएब मलिक, उस्मान खान।

मेलबोर्न। गेंद से छेड़छाड़ के आरोप में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से निलंबित पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर ने घरेलू क्रिकेट में धमाकेदार वापसी कर सुर्खियां बटोरीं। वार्नर ने रैंडविक पीटरशैम की ओर से खेलते हुए नाबाद 155 रन बनाए। उन्होंने अपनी पारी में दो छक्के और 13 चौके लगाए।न्यू साउथ वेल्स प्रीमियर क्रिकेट टूर्नामेंट में खेलते हुए सेंट जॉर्ज ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 50 ओवरों में छह विकेट खोकर 277 रन बनाए। लक्ष्य का पीछा करते हुए रैंडविक पीटरशैम की बल्लेबाजी शानदार रही। डेविड वार्नर ने 152 गेंदों का सामना करते हुए तूफानी अंदाज में 155 रन बनाए। उनकी इस तूफानी पारी के दम पर उनकी टीम ने चार विकेट से जीत दर्ज की। दूसरी तरफ इसी टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ ने सदरलैंड की ओर से खेलते हुए अर्धशतकीय पारी खेली। ग्लेन मॅक्ग्राथ ओवल में उन्होंने मॉसमैन के खिलाफ 92 गेंदों में 85 रनों की पारी खेली।इस वर्ष मार्च में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट के दौरान स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर गेंद से छेड़छाड़ कराने के आरोप लगे थे। उस मैच में स्मिथ कप्तान थे जबकि वॉर्नर उपकप्तान। जांच में पाया गया था कि इनके कहने पर जानबूझकर गेंद से छेड़छाड़ की गई थी। इसी कारण इन्हें अंतरराष्ट्रीय और राज्य क्रिकेट से एक-एक साल के लिए प्रतिबंधित किया गया था, जबकि सलामी बल्लेबाज कैमरन बेनक्रॉफ्ट को नौ महीने के लिए निलंबित किया गया था। इन दोनों खिलाड़ियों पर ये कार्रवाई क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की तरफ से किया गया था। वार्नर और स्मिथ का एक साल का प्रतिबंध मार्च, 2019 में खत्म होगा और माना जा रहा है कि अगले साल मई में इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप और इंग्लैंड में एशेज सीरीज में इन दोनों की वापसी हो सकती है।

नई दिल्ली। एशिया कप के सुपर फोर में आज भारत का मुकाबला पाकिस्तान से होगा। इस मैच में मौजूदा टूर्नामेंट में भारतीय टीम की कमान संभाल रहे रोहित शर्मा एक बड़ा रिकॉर्ड बना सकते हैं। रोहित शर्मा इस रिकॉर्ड को हासिल करते ही टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी और विराट कोहली की भी बराबरी कर लेंगे।
बस 94 रन और...:-रोहित शर्मा वनडे क्रिकेट में तीन-तीन दोहरे शतक लगाने वाले दुनिया के एकमात्र बल्लेबाज़ हैं। रोहित ने अभी तक भारत के लिए 186 वनडे मैच खेले हैं। इतने मैचों की180 पारियों में उनके बल्ले से 45.43 की औसत से 6906 निकले हैं। यानि की रोहित को अब वनडे क्रिकेट में 7000 हज़ार रन पूरे करने के लिए सिर्फ 94 रन की दरकार है और इस टूर्नामेंट में वो जिस तरह की बल्लेबाज़ी कर रहे हैं उसे देखकर लगता है कि वो पाकिस्तान के खिलाफ खेले जाने वाले इस मैच में ही इस उपलब्धि को हासिल कर लेंगे।रोहित ने मौजूदा एशिया कप में हांगकांग के खिलाफ 23 रन बनाने के बाद पाकिस्तान के खिलाफ ग्रुप मैच में 52 रन बनाए थे। रोहित का बल्ला इसके बाद बांग्लादेश के खिलाफ चला था और उन्होंने नाबाद 83 रनों की पारी खेलते हुए अपनी टीम को 7 विकेट से जीत दिलाई।
कर लेंगे धौनी और विराट की बराबरी:-रोहित अगर पाकिस्तान के खिलाफ इस मैच में सात हज़ार रन बनाने की उपलब्धि हासिल कर लेते हैं तो वो विराट कोहली और सौरव गांगुली के बाद सबसे तेजी से 7000 वनडे रन पूरे करने वाले तीसरे भारतीय बन जाएंगे।आपको बता दें कि कोहली ने 2 साल पहले 161 पारियों में 7000 रन पूरे किए थे जबकि गांगुली ने साल 2001 में 174 पारियों में इस मंजिल को हासिल किया था। रोहित यदि पाक के खिलाफ रविवार को 94 रन बना लेंगे तो वे 181 पारियों में इस ग्रुप में शामिल हो जाएंगे। यदि रोहित ने ऐसा किया तो वे दुनिया में सबसे तेजी से पहुंचने के मामले में पांचवें क्रम पर पहुंच जाएंगे। द. अफ्रीका के हाशिम अमला 150 पारियों में इस मंजिल तक पहुंचे थे।यदि भारत के एक्टिव क्रिकेटरों की बात की जाए तो विराट के अलावा सिर्फ महेंद्रसिंह धौनी ही 7000 से ज्यादा रन बना पाए हैं। धौनी ने 2012 में अपने 189वें मैच में 7000 रन पूरे किए थे।
जीत से साथ मिलेगा फाइनल का टिकट!:-भारतीय कप्तान रोहित शर्मा इस मैच में अपनी निजी उपलब्धि तो हासिल करना चाहेंगी ही, इसी के साथ वो पाकिस्तान के खिलाफ अपनी टीम को जीत दिलाकर फाइनल में भी पहुंचाना चाहेंगे। आपको बता दें कि भारतीय टीम ने अभी तक सबसे ज़्यादा 6 बार एशिया कप का खिताब अपने नाम कर चुका है।

नई दिल्ली। भारतीय टीम को अपना अगला मैच पाकिस्तान के खिलाफ रविवार को खेलना है। फाइनल में जगह बनाने के लिए भारतीय टीम के लिए ये मैच जीतना काफी अहम होगा। पाकिस्तान को भारत ने एशिया कप के लीग मुकाबले में हरा दिया था और उस जीत से भारतीय टीम का मनोबल सातवें आसमान पर है। पर सवाल ये है कि क्या पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले मैच में टीम इंडिया बांग्लादेश के खिलाफ मैदान पर उतरने वाली टीम के साथ ही उतरेगी या कोई बदलाव होगा। वैसे इस बात की संभावना कम ही नजर आती है कि पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय टीम अगले मैच में कोई बदलाव करने वाली है। कारण ये है कि ये टीम इस वक्त काफी संतुलित नजर आ रही है और दुबई की कंडीशन को देखते हुए टीम में तीन शुद्ध स्पिनर भी हैं। वैसे ये काफी अरसे बाद हुआ था कि भारतीय टीम पांच शुद्ध गेंदबाजों के साथ मैदान पर उतरी थी लेकिन जडेजा के टीम में आने से फायदा ये हुआ कि वो शुद्ध स्पिनर भी हैं और साथ में शुद्ध बल्लेबाज भी। वो दोनों भूमिका को अच्छी तरह से टीम के लिए निभा सकते हैं ऐसे में उनका पाकिस्तान के खिलाफ मैच से बाहर होना तो संभव नजर नहीं आता। टीम के अन्य स्पिनर कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल पिछले मैच में विकेट नहीं ले पाए लेकिन ये दोनों ऐसे गेंदबाज हैं जो मध्यक्रम में अपनी टीम के लिए विकेट निकालते हैं साथ ही ये दोनों टीम इंडिया का अहम हिस्सा हैं।तेंज गेंदबाजों की बात करें तो भुवनेश्वर कुमार एशिया कप के हर मैच में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। बांग्लादेश के खिलाफ भुवी ने तीन विकेट लिए तो पाकिस्तान के खिलाफ भी भुवी ने तीन विकेट चटकाए थे। वो तेज गेंदबाजी आक्रमण में टीम इंडिया के मुख्य गेंदबाज हैं। वहीं टीम के दूसरे तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की बात करें तो वो वनडे क्रिकेट में इस वक्त दुनिया के नंबर एक गेंदबाज हैं। सुपर फोर से पहले मैच में बांग्लादेश के खिलाफ बुमराह ने तीन विकेट लिए थे। इसके पहले वाले मैचों में भी उनका प्रदर्शन अच्छा रहा था। ऐसे में ये दोनों पाकिस्तान के खिलाफ मैच में टीम में बने रहेंगे।
ओपनर- रोहित शर्मा, शिखर धवन
मध्यक्रम- अंबाती रायडू, दिनेश कार्तिक, एम एस धौनी
ऑलराउंडर- केदार जाधव, रवींद्र जडेजा
स्पिनर- कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल
तेज गेंदबाज- भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह
पाकिस्तान के खिलाफ संभावित भारतीय टीम-रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन, अंबाती रायुडू, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धौनी (विकेटकीपर), भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल और रवींद्र जडेजा।

 

 

 

Page 6 of 3153

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें