अमेरिकी राजनयिकों को तालिबान का कोई खौफ नहीं, काबुल दूतावास में 1400 अमेरिकी अधिकारी मौजूद

13 July 2021
Author 

वाशिंगटन। अफगानिस्तान में तालिबान तेजी से विस्तार कर रहा है। एक के बाद एक जिले पर कब्जे के साथ ही अब उसने गजनी और कंधार पर भी हमले शुरू कर दिए हैं। ऐसी स्थिति में भी काबुल के अमेरिकी दूतावास में कोई खलबली और खौफ नहीं है। कामकाज पूरी तरह सामान्य रूप से चल रहा है। यहां दुभाषियों और अन्य अफगान सहयोगियों के वीजा जारी करने के लिए तेजी से काम शुरू कर दिया गया है।

दूतावास में अधिकारियों की सामान्य बैठक शुरू;-रविवार से यहां के अधिकारियों ने वीजा संबंधी साक्षात्कार लेने की तैयारी कर ली है। यहां हर रोज वीजा पाने वाले दो सौ लोगों का साक्षात्कार लिया जाएगा। दूतावास में अधिकारियों की सामान्य बैठक भी शुरू हो गई हैं। अमेरिकी मिशन के सह-प्रमुख स्काट वेनहाल्ट ने बताया कि कुछ लोग मेरे पास आए और कहा कि क्या हमारी नौकरी अब भी चलती रहेगी। मैंने कहा कि हम पक्के इरादे के साथ दूतावास खोले हैं और ठीक से चलाएंगे।

अमेरिका के काबुल दूतावास में 1400 अमेरिकी अधिकारी:-वेनहोल्ड ने कहा कि यहां के अमेरिकी अधिकारियों को यह विकल्प दिया था कि वे जोखिम को लेकर अपना पद छोड़ सकते हैं, लेकिन किसी भी अधिकारी ने ऐसा नहीं किया। अमेरिका की नब्बे फीसद से ज्यादा सेना यहां से जा चुकी है। सोमवार को यहां तैनात सेना के आख्रिरी जनरल स्काट मिलर ने भी अफगानिस्तान छोड़ दिया है। अमेरिका के काबुल दूतावास में 1400 अमेरिकी अधिकारी हैं और यहां चार हजार कर्मचारी काम करते हैं। इनकी सुरक्षा के लिए 650 से 1000 तक अमेरिकी सैनिक तैनात रहेंगे।

अमेरिकी फौज और नाटो फौज की वापसी शुरू:-बता दें है कि अफगानिस्‍तान से अमेरिकी फौज और नाटो फौज की वापसी शुरू हो चुकी है। अगस्‍त के अंत तक अमेरिका अपनी पूरी फौज को यहां से निकाल लेगा। अमेरिका की वापसी के साथ ही अफगानिस्‍तान में तालिबान ने हमले भी तेज कर दिए हैं। तालिबानी नेता शाहबुद्दीन के मुताबिक तालिबान ने अफगानिस्‍तान के 85 फीसद इलाके पर कब्‍जा कर लिया है। ये बात उन्‍होंने मास्‍को में एक प्रेस कांफ्रेंस में कही है। हालांकि अमेरिका ने कहा है कि तालिबान के अफगानिस्‍तान में बढ़त लेने का अर्थ ये नहीं है कि वो वहां पर आगे भी बना रहेगा।

20 VIEWS
Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">