मातृ दिवस का मतलब होता है मां का दिन : पिंकी जग्गी

07 June 2018
Author 


मातृ दिवस पर 4 माताओं को किया गया सम्मानित
न्यूयॉर्क (हम हिंदुस्तानी)-लांग आइलैंड लेडीज़ क्लब की ओर से मातृ दिवस के उपलक्ष्य में लोट्स में एक विशाल समागम का आयोजन किया गया। जिसमें जहां भारी संख्या में भाग लिया गया वहीं पर समागम दौरान 4 माताओं को सम्मानित किया गया। जिनमें विशेष रूप से ज्योति शर्मा, कवल साहनी, नरिन्द्र सोढी और नविका ग्रुप के चीफ नवीन शाह की मां चंचल शाह शामिल हैं। जहां अनुराधा खन्ना द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किया गया वहीं पर डिप्टी कमिश्नर पार्क नसरीन अहमद की ओर से उपरोक्त माताओं को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए पिंकी जग्गी ने कहा कि मातृ दिवस मातृ और दिवस शब्दों से मिलकर बना है जिसमें मातृ का अर्थ है मां और दिवस यानि दिन। इस तरह से मातृ दिवस का मतलब होता है मां का दिन। पूरी दुनिया में मई माह के दूसरे रविवार को मातृ दिवस मनाया जाता है। मातृ दिवस मनाने का प्रमुख उद्देश्य मां के प्रति सम्मान और प्रेम को प्रदॢशत करना है। हर जगह मातृ दिवस मनाने का तरीका अलग-अलग होता है, लेकिन इसका उद्देश्य एक ही होता है। उन्होंने कहा कि एक शिशु का जब जन्म होता है, तो उसका पहला रिश्ता मां से होता है। एक मां शिशु को पूरे 9 माह अपनी कोख में रखने के बाद असहनीय पीड़ा सहते हुए उसे जन्म देती है और इस दुनिया में लाती है। इन नौ महीनों में शिशु और मां के बीच एक अदृश्य प्यार भरा गहरा रिश्ता बन जाता है। यह रिश्ता शिशु के जन्म के बाद साकार होता है और जीवन पर्यन्त बना रहता है। मां और बच्चे का रिश्ता इतना प्रगाढ़ और प्रेम से भरा होता है, कि बच्चे को जरा ही तकलीफ होने पर भी मां बेचैन हो उठती है। वहीं तकलीफ के समय बच्चा भी मां को ही याद करता है। मां का दुलार और प्यार भरी पुचकार ही बच्चे के लिए दवा का कार्य करती है। इसलिए ही ममता और स्नेह के इस रिश्ते को संसार का खूबसूरत रिश्ता कहा जाता है। दुनिया का कोई भी रिश्ता इतना मर्मस्पर्शी नहीं हो सकता। इसके अलावा ज्योति गुप्ता ने सम्बोधित करते हुए मातृ दिवस की महत्ता के संदर्भ में जानकारी देते हुए बताया कि मातृ दिवस मनाने का शुरुआत सर्वप्रथम ग्रीस देश में हुई थी, जहां देवताओं की मां को पूजने का चलन शुरू हुआ था। इसके बाद इसे त्यौहार की तरह मनाया जाने लगा। हर मां अपने बच्चों के प्रति जीवन भर समर्पित होती है। मां के त्याग की गहराई को मापना भी संभव नहीं है और ना ही उनके एहसानों को चुका पाना। लेकिन उनके प्रति सम्मान और कृतज्ञता को प्रकट करना हमारा कत्र्तव्य है। मां के प्रति इन्हीं भावों को व्यक्त करने के उद्देश्य से मातृ दिवस मनाया जाता है। यह दिन विशेष रूप से मां के लिए समर्पित है। इस दिन को दुनिया भर में लोग अपने तरीके से मनाते हैं। कहीं पर मां के लिए पार्टी का आयोजन होता है तो कहीं उन्हें उपहार और शुभकामनाएं दी जाती है। कहीं पर पूजा-अर्चना तो कुछ लोग मां के प्रति अपनी भावनाएं लिखकर जताते हैं। इस दिन करे मनाने का तरीका कोई भी हो, लेकिन बच्चों में मां के प्रति प्रेम और इस दिन के प्रति उत्साह चरम पर होता है। इस अवसर पर उपरोक्त द्वारा समूह सदस्याओं का समागम को सफल बनाने हेतु आभार व्यक्त किया गया। उल्लेखनीय है कि इस कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु मिनी चड्ढा, डा. जग कालड़ा, वीना लाम्बा तथा कावल साहनी द्वारा भी विशेष योगदान डाला गया।

92 VIEWS
Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें