Editor

Editor

मुंबई। महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में भारी बारिश की वजह से दादर में वीरवार को एक मकान का एक हिस्सा ढह जाने की खबर है। राहत और बचाव कार्य जारी है। हालांकि अभी तक किसी के मारे जाने की खबर नहीं है। वहीं, मुंबई के मरीन ड्राइव पर तेज बारिश के बीच हाइटाइड के आते ही समुद्र में ऊंची लहरें उठ रही हैं। हालांकि मौसम विभाग ने पहले ही इसे लेकर अलर्ट जारी कर दिया था। पुणे के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश हुई। मौसम विभाग ने शहर में 'आमतौर पर मध्यम बारिश के साथ आसमान में बादल छाए रहने' की संभावना जताई थी। गौरतलब है कि बुधवार को लगातार बारिश होने के कारण शहर के कई हिस्सों में पानी भर गया, सब यातायात ठप हो गया, जहां लोग थे वहां ही फंस गए।कोल्‍हापुर में तेज बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गये हैं जिसके चलते 9 हाइवे समेत 34 सड़कें यातायात के लिए बंद का दी गयी हैं। राजाराम बांध में भी पानी का स्‍तर खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है। मौसम विभाग ने तेज बारिश के साथ-साथ हाइटाइड का अलर्ट भी जारी किया है ।बृहन्मुंबई नगर निगम के आयुक्त आइएस चहल ने पेडर रोड का दौरा किया जहां एक दीवार का एक हिस्सा ढह गया है। दरअसल बुधवार को  कोलाबा, नरीमन पॉइंट और मरीन ड्राइव में 4 बजे तक 300 मिमी बारिश रिकार्ड की गयी थी जिसके चलते यहां जलजमाव की समस्‍या आ गयी है जिसे जल्‍द ही साफ करने का आदेश दे दिया गया है।ठाणे में पिछले तीन दिनों से बहुत भारी बारिश हो रही है, 5 अगस्त को 149 मिमी बारिश हुई। नगरपालिका आयुक्त विपिन शर्मा ने लोगों से अपील की है कि वह घरों से बाहर न निकलें। सभी नगरपालिका कर्मियों को स्थिति का प्रबंधन करने के लिए तैनात कर दिया गया है।मुंबई में लगातार हो रही तेज बारिश के कारण स्थिति बिगड़ती जा रही है ऐसे में दुर्घटनाओं की आशंका को देखते हुए लोगों की मदद के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) की 16 टीमों को पूर्व-तैनात कर दिया गया है।राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल ने मुंबई में 5 टीमें, कोल्हापुर में 4 टीमें, सांगली में 2 टीमें, और सतारा, ठाणे, पालघर, नागपुर, रायगढ़ में एक-एक टीम को तैनात किया है।मुंबई में लगातार हो रही भीषण बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गये हैं जिससे जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। जगह-जगह गाड़ियां फंस रही हैं। बुधवार देर रात को भी दो ट्रेनों के फंसने के कारण यात्रियों को निकालने के लिए एनडीआरएफ की मदद लेनी पड़ी। मौसम विभाग के अनुसार अगले 3 घंटों के दौरान मुंबई में अलग-अलग स्थानों पर तेज़ हवाओं (40-50 किमी प्रति घंटे) के साथ भारी वर्षा होने का अनुमान है।बता दें कि लगातार हो रही भारी बारिश के कारण बुधवार देर रात मस्जिद और भायखाला रेलवे स्टेशनों के बीच दो ट्रेनें ट्रैक पर फंस गईं थी जिससे ट्रेनों में सवार लोगों की जान पर बन आई। ऐसे में एनडीआरएफ की टीम ने इन यात्रियों को सकुशल बाहर निकाला, अब तक 290 से अधिक लोगों को निकाला जा चुका है। मुंबई में बीते कुछ दिनों से भारी बारिश हो रही है ऐसे में रेलवे ट्रैक पर काफी पानी जमा हो गया है इस पानी की वजह से दोनों ट्रेनें फंस गईं। सूचना मिलने पर इसमें सवार यात्रियों को निकालने के लिए एनडीआरएफ की टीम पहुंची। यात्रियों को सकुशल निकाल लिया गया है।मानसूनी बारिश के कारण पूरी मुंबई पानी-पानी हो चुकी है तेज बारिश के कारण यहां हवाएं भी चल रही हैं । खतरे को देखते हुए शासन प्रशासन द्वारा अलर्ट जारी किया गया है । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्‍य के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे से फ़ोन पर बात कर हालात का जायजा भी लिया, इसके साथ ही पीएम मोदी ने मदद का आश्वासन भी दिया है ।मुंबई के निवासियों को पानी की आपूर्ति करने वाली विहार झील में लगातार हो रही बारिश के कारण पानी का स्‍तर काफी बढ़ गया है।मुंबई के जेजे अस्पताल में भी लगातार हो रही बारिश के कारण पानी भर गया था। बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) के अनुसार यह बाद में साफ हो गया और अभी वहां जल जमाव नहीं है।

नई दिल्‍ली। सुशांत सिंह राजपूत मामले में सीबीआइ ने कहा है कि वह बिहार पुलिस के संपर्क में है और केस दर्ज करने की प्रक्रिया जारी है। बता दें कि बिहार सरकार की मांग पर केंद्र सरकार ने बुधवार की शाम इस संबंध में अधिसूचना जारी की थी। सीबीआइ के एक अधिकारी ने बताया कि मामले में कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) की ओर से सीबीआइ को अधिसूचना मिल गई है। एजेंसी एफआईआर दर्ज करने की प्रक्रिया पर काम कर रही है। कल बुधवार को केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि उसने सैद्धांतिक तौर पर यह मामला सीबीआइ को सौंपने की सिफारिश स्वीकार कर ली है। शीर्ष अदालत ने रिया चक्रवर्ती की बिहार में दर्ज मामला महाराष्ट्र स्थानांतरित करने की मांग पर बिहार सरकार, सुशांत के पिता एवं अन्य पक्षकारों को तीन दिन के भीतर जवाब दाखिल करने के निर्देश जारी किए थे। यही नहीं अदालत ने महाराष्ट्र सरकार से सुशांत मामले की अभी तक हुई जांच की स्थिति रिपोर्ट बताने को कहा था। सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा था कि इस मामले में सच सामने आना चाहिए। उल्‍लेखनीय है कि अभिनेता सुशांत सिंह ने 14 जून को आत्महत्या कर ली थी। मामले की जांच महाराष्ट्र पुलिस कर रही थी लेकिन सुशांत के पिता ने पटना में एफआइआर दर्ज कराई जिसमें सुशांत की मौत के मामले में अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती पर आरोप लगाए गए। इस पर रिया ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर बिहार में दर्ज मामला महाराष्ट्र स्थानांतरित करने की मांग की। 

नई दिल्ली। सुशांत सिंह राजपूत के केस के साथ अब बॉलीवुड एक्टर सूरज पंचोली का भी नाम जोड़ा जा रहा है। इतना ही नहीं सुशांत की एक्स मैनेजर दिशा सालियान के डेथ केस में भी सूरज पंजोली का जिक्र आ रहा है। कहा जा रहा है कि सुशांत और सूरज में नहीं बनती थी, लेकिन सूरज ने 13 जून को पार्टी रखी थी जिसमें सुशांत भी शामिल हुए थे। हालांकि सूरज ने इन दोनों ही बातों से इनकार किया है।सूरज ने आजतक से बातचीत में कहा कि सुशांत और उनके बीच किसी भी तरह का झगड़ा नहीं था दोनों के बीच नॉर्मल हाय हैलो थी, दोनों एक  दूसरे को भाई कहकर बुलाते थे। इसके अलावा सूरज ने इंडिया टुडे से बातचीत में कई मामलों पर चुप्पी तोड़ी है। सूरज ने कहा है कि ‘मुझे नहीं पता कि सुशांत ने आत्महत्या की है या नहीं लेकिन लोग मुझे जरूर सुसाइड करने पर मजूबर कर देंगे’।एक्टर ने कहा, ‘मैं फिलहाल काफी पॉजिटिव रहने की कोशिश कर रहा हूं। मैं अपने परिवार से भी ये सब डिस्कस नहीं करता हूं, क्योंकि मुझे पता है कि मेरी वजह से वो लोग वैसे ही काफी टेंशन में हैं। बल्कि मेरी मां को लगता है कि इन सबकी वजह मैं ख़ुद को नुकसान पहुंचाने वाला हूं। इसलिए वो मुझसे दिन में कई बार बात करती हैं। सुशांत की मौत के बाद उन्होंने मुझसे कहा था, 'सूरज कुछ भी हो जो तुम्हारे दिल में जो भी हो प्लीज़ हमारे पास आकर हमसे बात करना, चुप मत रहना'। मैं बहुत ज्यादा बातूनी नहीं हूं, खासतौर पर जब बात मेरी परेशानियों पर हो तो मैं परिवार से ज्यादा डिस्कस नहीं करता, क्योंकि वो लोग मेरी वजह से टेंशन में रहते हैं’आगे सूरज ने कहा, ‘मैं इंडस्ट्री में अपनी जगह बनाने की कोशिश कर रहा हूं, और मैं जल्दी हार नहीं मानना चाहता क्योंकि ये मेरा सपना है। ये मेरा पैशन है। लोगों के लगता है कि मैं बस बेड से उठा और फिल्म के सेट पर पहुंच गया। नहीं ये सच नहीं है, मैंने बहुत मेहनत की है। शुरुआत में मैंने दो फिल्मों पर असिस्टेंट डायरेक्टर के तौर पर काम किया, उसके बाद मैंने एक्टिंग का कोर्स किया और डिग्री ली। जो लोग मेरे बारे में बातें कर रहे हैं उन्हें थोड़ी इंसानियत के बारे में सोचना चाहिए, वो लोग मेरी ज़िंदगी तबाह कर रहे हैं। मुझे नहीं पता सुशांत ने सुसाइड की है या नहीं, लेकिन ये लोग मुझे जरूर आत्महत्या करने पर मजबूर कर देंगे मैं बस इतना ही कहना चाहता हूं’।

बेंगलुरु। कर्नाटक के चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ के सुधाकर ने राज्य के पहले मोबाइल COVID-19 परीक्षण प्रयोगशालाओं का उद्घाटन किया है, जो भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) द्वारा मंजूर की गई है। मंत्री ने परीक्षण प्रयोगशालाओं का उद्घाटन करने के बाद एक ट्वीट किया जिसमें कहा गया कि ICMR द्वारा अनुमोदित मोबाइल प्रयोगशालाएं प्रति दिन 400 RT-PCR COVID-19 परीक्षण कर सकती हैं, जिनके परिणाम चार घंटे में प्राप्त किए जा सकते हैं।इससे पहले, डॉ सुधाकर ने कहा था कि राज्य में रोगियों के ठीक होने की संख्या सक्रिय मामलों की संख्या से अधिक है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा गुरुवार सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार, कर्नाटक में 73,966 सक्रिय मामले है, जबकि 74,679 रोगियों को अब तक ठीक किया गया है और इस बीमारी के कारण राज्य भर से 2,804 मौतें हुई हैं। 5 अगस्त तक राज्य में लगभग 1,532,654 परीक्षण किए गए थे।भारत में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। देश में कुल मामले 19 लाख 64 से ज्यादा हो गए हैं और 40 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार देश में पिछले 24 घंटे के दौरान 56 हजार 282 नए मामले सामने आए और 904 लोगों की मौत हो गई। इस दौरान छह लाख 64 हजार 949 सैंपल टेस्ट हुए। पिछले आठ दिन से रोजाना कोरोना के 50 हजार से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं।देश में अब तक कोरोना के 19 लाख 64 हजार 537 मामले सामने आ गए हैं। इनमें से पांच लाख 95 हजार 501 एक्टिव केस है। वहीं 13 लाख 28 हजार 337 मरीज ठीक हो गए हैं और 40 हजार 699 लोगों की मौत हो गई है। अब तक कुल दो करोड़ 21 लाख 49 हजार 351 सैंपल टेस्ट हो गए हैं। रिकवरी रेट 67.62 फीसद और मृत्यु दर 2.07 फीसद हो गया है।

इंदौर:- इंदौर में 24 घंटे में कोरोना वायरस के संक्रमण के 157 नए मामले सामने आए हैं। गुरुवार को स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा इसकी जानकारी दी गई है। ताजा मामलों के साथ जिले में संक्रमितों की कुल संख्या 8,014 तक पहुंच गई है।पिछले एक महीने में प्रतिबंधों में ढील के बाद, राज्य के औद्योगिक केंद्र में COVID-19 के मामलों में तेजी आई है। पिछले 24 घंटों में 2,060 सैंपलों का परीक्षण किया गया और जिनमें से 157 लोगों के सैपलों में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि की गई है। प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी पूर्णिमा गडरिया ने कहा कि इसके साथ, इंदौर में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 8,014 हो गई है।उन्होंने कहा कि पिछले चार महीनों में इस महामारी के कारण 325 मरीजों की मौत हो चुकी है जबकि 5,729 लोग ठीक हो चुके हैं। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, यहां 27 जुलाई को COVID-19 मामलों की संख्या 7,000 का आंकड़ा पार कर गई थी और पिछले 10 दिनों में लगभग 1,000 नए मामले सामने आए हैं। जिला प्रशासन धीरे-धीरे सामान्य जीवन को बहाल करने के लिए विभि सामाजिक और वाणिज्यिक गतिविधियों के लिए चरणबद्ध तरीके से प्रतिबंधों में ढील दे रहा है।

नई दिल्‍ली। बेरुत में मंगलवार को हुए भीषण विस्फोट में अब तक 150 लोगों की मौत की पुष्टि की जा चुकी है जबकि 5000 के करीब लोग घायल हुए हैं। ये विस्‍फोट इतना जबरदस्‍त था कि इससे दस किमी के दायरे में सैकड़ों घर और इमारतें धराशायी हो गईं। इस विस्‍फोट की सबसे बड़ी वजह वेयरहाउस में रखा गया ढाई हजार किग्रा से अधिक अमोनियम नाइट्रेट (AN) बताया जा रहा है। कहा जा रहा है जहां पर ये रखा था वहां पर सुरक्षा के उपाय नाकाफी थे। इसलिए विस्‍फोट के पीछे अधिकारियों और कर्मचारियों की लापरवाही की भी आशंका जताई जा रही है।

राष्‍ट्रपति ट्रंप ने बताया हमला;-वहीं दूसरी तरफ अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने इसको लेकर आशंका जताई है कि ये एक एक्‍सीडेंट नहीं बल्कि एक हमला था। ट्रंप के मुताबिक उनके अधिकारियों ने भी उन्‍हें ऐसा ही बताया था। बहरहाल, ये विस्‍फोट क्‍यों हुआ ये तो जांंच रिपोर्ट के आने के बाद ही पता चलेगा, लेकिन आपको बता दें कि इस तरह की लापरवाही से हुए हादसे हमेशा ही बड़ी संख्‍या में लोगों की जान लेते रहे हैं। आज हम आपको दो दशक के दौरान हुए ऐसे ही कुछ हादसों की जानकारी यहां पर दे रहे हैं।

फ्रांस में हुआ हादसा:-21 सितंबर 2001 को फ्रांस के टॉललॉज स्थित एटोफिना ग्रांड पी फर्टिलाइजर प्‍लांट (Atofina's Grande Paroisse fertilizer plant) में एक जबरदस्‍त धमाका हुआ था। इस धमाके की वजह भी वहां पर रखा हुआ अमोनियम नाइट्रेट (Ammonium Nitrate/AP) ही था। ये धमाका इतना तेज था कि तीन किमी के दायरे में इसने भारी तबाही मचाई थी। इस की वजह से पूरा शहर हिल गया था और इसकी आवाज काफी दूर तक सुनी गई थी। इस धमाके से उठी शॉकवेव्‍स ने सैकड़ों घरों को धराशायी कर दिया था। धमाके के बाद सरकार की तरफ से इसकी जांच के आदेश दिए गए थे। इसकी जांच में करीब में आठ वर्ष का समय लगा और तब कहींं जाकर इसकी रिपार्ट सामने आ सकी थी। इसमें कहा गया था कि 300 टन अमोनियम नाइट्रेट में हुए धमाके की वजह से प्‍लांट की इमारत मलबे में तब्‍दील हो गई। धमाके की जगह पर 40 मीटर चौड़ा और 10 मीटर गहरा गड्ढा हो गया था। इस धमाके में 30 लोगों की मौत हो गई थी जबकि दस हजार से अधिक लोग घायल हुए थे।

अमेरिका में हादसा;-अमेरिका के टेक्‍सास में 23 मार्च 2005 को हुआ हादसा बीते डेढ़ दशकों में सबसे बड़ा था। यहां पर स्थित ब्रिटेन की सबसे बड़ी तेल उत्‍पादक कंपनी बीपी की रिफाइनरी (UK oil major BP's Texas City refinery) थी। इस दिन जब यहां की हाइड्रोकार्बन आइसोमेरीजेशेन यूनिट (hydrocarbon isomerization unit) को शुरू किया गया तो डेस्टिलेशन टावर (distillation tower) पूरी तरह से हाइड्रोकार्बन से भर गया। इसकी वजह से एक के बाद एक तेज धमाके होते चले गए। इसकी वजह से यहां पर 15 लोगों की जान चली गई थी जबकि 150 लोग घायल हो गई थी। ब्रिटेन की तेल उत्‍पादक कंपनी पर इसके लिए जुर्माना लगाया गया था। इसके लिए बीपी कंपनी के अमेरिकी प्रमुख को दोषी भी ठहराया गया था। इसकी जांच रिपोर्ट में कहा गया कि कंपनी ने जरूरी नियमों को ताक पर रखा जिसकी वजह से ये हादसा हुआ।

 चीन में हुआ हादसा;-चीन की जिलिन पेट्रोकेमिकल्‍स (Series of explosions in China-based Jilin Petrochemical) में 13 नवंबर 2005 को जबरदस्‍त धमाका हुआ था। हालांकि इसमें मारे गए लोगों की संख्‍या केवल पांच ही थी और 70 के करीब लोग घायल हुए थे। इसके बाद भी इसको चीन के बड़े इंडस्ट्रियल और केमिकल हादसों में गिना जाता है। इस धमाके की वजह से बेंजीन यहां के नजदीक बहने वाली नदी में लीक हो गई थी जिसकी वजह से लाखों लोग कुछ समय के लिए पीने के पानी से वंचित हो गए थे। एहतियात के तौर पर हजारों लोगों को दूसरे स्‍थान पर पहुंचाया गया था। जब इसकी जांच की गई तो पता चला कि ऑपरेटर्स नाइट्रोबेंजीन रेक्‍टीफिकेशन टावर (nitrobenzene rectification tower) को खोलने की कोशिश की थी। जिलिन ब्‍यूरो ऑफ प्रोडेक्‍शन सेफ्टी सुपरविजन एंड एडमिनिस्‍ट्रेशन की रिपोर्अ में कहा गया कि वाल्‍व के खुले रह जाने की वजह से वहां का तापमान उच्‍च स्‍तर पर पहुंच गया था। इसके आसपास के स्‍टोरेज टैंक में भी नाइट्रोबेंजीन, बेंजीन और नाइट्रिक एसिड भरा था। धमाके बाद इसमें भी आग लग गई। इस धमाके के बाद पानी और बिजली की सप्‍लाई ठप हो गई थी। बाद में जब नलों में पानी आया तो ये लाल और पीले रंग का था। इस धमाके की वजह से रूस के सीमावर्ती इलाकों में भी पानी खराब हो गया था।

हैदराबाद। तेलंगाना में 2,092 नए कोरोना वायरस (सीओवीआईडी ​​-19) मामले सामने आए हैं। वहीं, राज्य में कोरोना वायरस के कारण 13 लोगों की मौत हो गई है। गुरुवार को कोरोना वायरस मामलों की कुल संख्या बढ़कर 73,050 हो गई है।राज्य में कुल मौतों की संख्या बढ़कर 589 हो गई। राज्य सरकार द्वारा कोरोना वायरस (सीओवीआईडी ​​-19) बुलेटिन में कहा गया कि 21,346 नमूनों का परीक्षण किया है। वहीं, 2,092 नए कोरोना वायरस (सीओवीआईडी​​- 19) मामले बुधवार को रिपोर्ट किए गए हैं। राज्य सरकार के अनुसार, अब तक कुल 52,103 लोगों को अस्पतालों से ठीक किया गया है और 589 लोगों की मौत हुई है।राज्य में कोरोना वायरस के वर्तमान में, 20,358 रोगियों का इलाज किया जा रहा है। सरकार ने कहा कि 5 अगस्त के लिए मीडिया बुलेटिन 6 अगस्त को तेलंगाना राज्य के सार्वजनिक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण निदेशक द्वारा जारी किया गया था। जानकारी के लिए बता दें कि देश में कोरोना वायरस मरीजों की संख्या 19 लाख के पार पहुंच गई है।

वॉशिंगटन। सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म फेसबुक, यू ट्यूब और ट्विटर ने डोनाल्ड ट्रंप की एक पोस्ट को डिलीट कर दिया है। दरअसल, फेसबुक ने कहा कि  ट्रंप के इस पोस्ट को इसलिए डिलीट किया गया है क्योंकि,   कोरोना वायरस के बारे में झूठी सूचना शेयर की गई थी।फेसबुक ने इसे अपनी नीति का उल्लंघन बताया है। बता दें कि वीडियो क्लिप में अमेरिकी राष्ट्रपति ने दावा करते हुए कहा है कि बच्चे कोरोना वायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता रखते हैं। पोस्ट की गई ये वीडियो क्लिप ट्रंप के इंटरव्यू का एक हिस्सा था। वीडियो सामने आने के बाद फेसबुक के एक प्रवक्ता ने कहा कि ये वीडियो झूठे दावे पर आधारित है। इसमें कहा गया है कि एक वर्ग कोरोना वायरस के खिलाफ रोग प्रतिरोधक क्षमता रखता है।YouTube ने एक प्रवक्ता के माध्यम से कहा कि उसने अपनी COVID-19 गलत सूचना नीतियों का उल्लंघन करने के लिए वीडियो को हटा दिया है।  हालांकि, यू टयूब पर फॉक्स न्यूज को डोनाल्ड ट्रंप द्वारा दिया गया   साक्षात्कार उपलब्ध है।

बेरूत। लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए जबरदस्‍त विस्फोट में जर्मन राजनयिक भी मारे गए। यह जानकारी बर्लिन ने दी है। बेरूत को हिला देने वाले विस्फोट में 135 लोग मारे गए और 5,000 से अधिक घायल हो गए। इनकी संख्या बढ़ सकती है। आम आदमी से लेकर संयुक्त राष्ट्र तक जानलेवा धमाके को लेकर चिंता जताई है। बेरूत की बचाव टीमों ने बुधवार को शवों को बाहर निकाला और भारी संख्या में लापता लोग भी मिले, जो मलबे में दबे हुए थे। यह धमाका राजधानी स्थित गोदाम में हआ। इस धमाके से बेरूत में विनाशकारी तस्वीरें सामने आई।   संवेदना प्रकट करते हुए एफिल टॉवर ने भी अपने लाइट्स बंद कर दी। जिसके बाद अंधकार छा गया।गोदाम विस्फोट के पीड़ितों को श्रद्धांजलि देने के लिए एफिल टॉवर ने अपनी लाइट्स बंद कर दी। इसके अलावा पेरिस में Sacre Coeur basilica के बाहर एक लोगों के समूह ने मोमबत्ती जलाते हुए दुख जताया।प्रधानमंत्री हसन दीब ने गुरुवार से देश में तीन दिनों के शोक की घोषणा की। शुरुआती जांच में बेरूत बंदरगाह पर विस्फोट के लिए लापरवाही का आरोप लगाया गया है। विस्फोट इतना तेज था कि काफी दूर तक घरों की खिड़कियां टूट गईं।स्थानीय टीवी चैनलों के मुताबिक, पोर्ट के पास जहां धमाका हुआ, वहां एक गोदाम में पटाखे जमा किए गए थे। यह विस्फोट बेरूत में अब तक का सबसे शक्तिशाली था, जो कि तीन दशक पहले खत्म हुए गृहयुद्ध और आर्थिक मंदी से उबरने और कोरोना वायरस संक्रमणों में वृद्धि के समय हुआ।

टोक्यो। सेंट्रल जापान में गर्वनर ने गुरुवार को कोरोना वायरस से  संक्रमण के मामलों में बढ़त के बाद इमरजेंसी का ऐलान किया है और कहा है कि बिजनेस व लोग अपनी गतिविधियों को रोक दें विशेषकर आने वाले हॉलीडे के दौरान। ऐकी प्रिफेक्चर (Aichi prefecture) में मध्य जुलाई से हर दिन नया मामला सामने आ रहा है। इस प्रिफेक्चर के अंतर्गत नागोया और जापान के टॉप ऑटोमेकर टोयोटा मोटर कार्पोरेशन का मुख्यालय है। गवर्नर हिडियाकी (Hideaki Ohmura) ने पत्रकारों से कहा कि सभी बिजनेस को बंद करने को कहा जा रहा है साथ ही लोगों को भी रात में घर के भीतर ही रहने को कहा गया है ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। आयोजनों से बचें। हालात काफी गंभीर है।' ओहमुरा ने कहा,'ओबोन त्योहार के मौके पर गैर जरूरी गतिविधियों से परहेज करें। हाल में सामने आए करीब 70 फीसद मामले 30 या इससे अधिक उम्र वाले युवकों में है वो भी बिना लक्षण या हल्के लक्षण के साथ।'जापान में लॉकडाउन नहीं था। अप्रैल में ऐच्छिक तौर पर इमरजेंसी के नियम लागू किए गए थे और लोगों ये बिजनेस बंद करने और शारीरिक दूरी का ध्यान रखने को कहा गया। बाद में ये सब भी हटा लिया गया। पिछले सप्ताह दक्षिण पश्चिम आइलैंड प्रीफैक्चर ओकिनावा ने भी स्थानीय इमरजेंसी का ऐलान किया था। इससे पहले हिरोशिमा में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान प्रधानमंत्री शिंजो एबी ने कहा कि देश में दोबारा इमरजेंसी की जरूरत नहीं। हालांकि उन्होंने अगले सप्ताह होने वाले जापान के बोन (Obon ) समर हॉलीडे को लेकर चिंता प्रकट की जो संक्रमण के मामले में वृद्धि कर सकता है। इस दौरान एयरपोर्टों, हाइवे और बुलेट ट्रेनों में आम तौर पर इस दौरान सीट नहीं होती क्योंकि जापानी अपने रिश्तेदारों के पास छुट्टी मनाने जाते हैं। प्रधानमंत्री ने लोगों से  एहतियात  बरतने की अपील की है और '3 Cs'  से बचने को कहा है,  3 Cs यानि बंद जगहों ( closed spaces), भीड़ भाड़ (crowded places) व करीबी संपर्क (close-contact)।  भीड़ भाड़ व सामूहिक अमेरिका की जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, जापान में अब तक 42 हजार 700 संक्रमण के मामले हैं और करीब 1000 लोगों की मौत हो चुकी है।

Page 10 of 1446

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें