Editor

Editor

पिछले काफी वक्त से बॉलीवुड एक्टर इरफान खान की फिल्म अंग्रेजी मीडियम (Angrezi Medium) को लेकर चर्चा में बने हुए हैं। इलाज के बाद इरफान खान (Irrfan Khan) अंग्रेजी मीडियम को लेकर बॉलीवुड में धमाकेदार वापसी करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। हाल ही में मेकर्स ने इस फिल्म का पोस्टर जारी करते हुए ट्रेलर भी रिलीज किया था। अंग्रेजी मीडियम का ट्रेलर दर्शकों को काफी पसंद आया था। इसके बाद से फैंस इस फिल्म का बेसब्री से इंतजार है। लेकिन अब इरफान खान की फिल्म अंग्रेजी मीडियम को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही हैं। जी हां, ये फिल्म पहले 20 मार्च को रिलीज होने वाली थी लेकिन अब अंग्रेजी मीडियम को नई रिलीज तारीख मिली है।खैर इरफान खान की फिल्म अंग्रेजी मीडियम (Angrezi Medium) में अहम किरदार में राधिका मदान (Radhika Madan), करीना कपूर खान (Kareena Kapoor Khan) दीपक डोबरियाल, डिंपल कपाड़िया, रणवीर शौरी और किकु शारदा जैसे दमदार कलाकार दिखाई देंगे। ये पहली बार होगा जब किसी फिल्म में इरफान खान और करीना कपूर साथ काम करते नजर आएंगे। इस फिल्म का निर्देशन होमी अदजानिया ने किया है तो वहीँ दिनेश विजान और जियो स्टूडियोज ने प्रोड्यूस करेंगे। इस फिल्म की शूटिंग मुंबई के अलावा राजस्थान और लंदन में हुई है।बात अगर अंग्रेजी मीडियम (Angrezi Medium) की करें तो, फिल्म में इरफान खान और राधिका मदान बाप- बेटी की भूमिका में दिखाई देंगे। करीना कपूर का रोल पुलिस ऑफिसर का होगा। जब इस फिल्म का ट्रेलर रिलीज हुआ था तब करीना कपूर पुलिस यूनिफॉर्म में दिखाई दी थी। बात दें, अंग्रेजी मीडियम फिल्म 2017 में आई हिंदी मीडियम का सीक्वल है। इस फिल्म में इरफान खान और पाकिस्तानी एक्ट्रेस सबा कमर नजर आए थे।

 

 

 

 

टीवी जगत की जानी मानी एक्ट्रेस अनीता हसनंदानी (Anita Hassanandani) बेहद ही फिट है और उनके जैसा फिगर पाने के लिए कई लोग तो खूब मेहनत भी करते है। अनीता हसनंदानी (Anita Hassanandani) अपने हेक्टिक शेड्यूल से समय निकालकर खूब वर्कआउट भी करती है लेकिन बहुत कम लोगों को पता है कि नागिन 4 (Naagin 4) की ये एक्ट्रेस काफी फूडी भी है।अनीता हसनंदानी ने कुछ देर पहले ही इस तस्वीर को अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर किया है। इस तस्वीर को शेयर करते हुए अनीता ने कैप्शन में लिखा है कि वह आज की बात है...आगे से वह डाइट प्लान को फॉलो करेंगी।अगर अनीता के सामने कहीं से भी बर्गर आ जाए तो वह खुद पर काबू नहीं रख पाती है।अनीता हसनंदानी को आइसक्रीम खाने का भी खूब शौक है। अक्सर अनीता हसनंदानी को आइसक्रीन खाते हुए देखा गया है।अनीता जितनी चाव से आइसक्रीम का लुत्फ उठाती है, उसे देखते हुए लगता है कि यही उनकी पहली मोहब्बत है।अनीता हसनंदानी को खुद के हाथ का बनाया हुआ सैंडविच भी काफी पसंद है। अनीता के घर जब भी उनके दोस्त आते है तो वह उनके लिए ये स्पेशल सैंडविच जरुर बनाती है।अनीता हसनंदानी को पिज्जा खाना भी खूब पसंद है। अक्सर वह पिज्जा का ऑर्डर करती है और फिर कुछ इस तरह अपने फेवरेट पिज्जा का लुत्फ उठाती है।वैसे अगर आपको लगता है कि अनीता हमेशा ही अपने डाइट प्लान की धज्जियां उड़ाती है तो ये गलत है। कभी-कभार बाहर का खाना खाने के बाद अनीता हेल्दी फूड खाकर बैलेंस बना ही लेती है।अनीता हसनंदानी ओट्स खाने की भी काफी शौकीन है।

साउथ के सुपरस्टार नितिन (Nithiin) इन दिनों अपनी सगाई को लेकर चर्चा में बने हुए हैं। उन्होंने ने हाल ही में अपनी गर्लफ्रैंड शालिनी के साथ सगाई कर ली है। इसके बाद इस सगाई की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं।नितिन (Nithiin) बहुत जल्द शादी के बंधन में बंधने जा रहे हैं। इससे पहले उनकी सगाई की तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल होती दिखाई दी।साउथ के सुपरस्टार नितिन (Nithiin) ने अपनी गर्लफ्रैंड शालिनी के साथ परिवार और खास दोस्तों के सामने सगाई की है।नितिन (Nithiin) और शालिनी पिछले आठ साल से एक दूसरे को डेट कर रहे हैं। लंबे समय तक एक दूसरे के साथ रहने के बाद इन दोनों ने शादी का फैसला किया है।नितिन ने सोशल मीडिया पर सगाई की तस्वीरें भी शेयर की हैं, उनकी ये तस्वीरें खूब वायरल हो रही है।सामने आई इन तस्वीरों में नितिन (Nithiin) व्हाइट कलर के कुर्ते में दिखाई दिए तो वहीँ मंगेतर शालिनी येलो कलर के लहंगे में नजर आई।नितिन (Nithiin) ने अपने करियर की शुरुआत साल 2002 में की थी।

नई दिल्ली। एक समय निवेशकों का पसंदीदा रहा एसेट क्‍लास रियल एस्‍टेट कुछ वर्षों से सुस्‍ती के दौर से गुजर रहा है। जिन निवेशकों ने 2012-13 के आसपास रियल एस्‍टेट में निवेश किया था उन्‍हें फायदे की जगह नुकसान उठाना पड़ रहा है। अब सवाल उठता है कि क्‍या मौजूदा वक्‍त में रियल एस्‍टेट में निवेश करना चाहिए, या कुछ समय और इंतजार करना चाहिए। हमने इस संदर्भ में रियल एस्‍टेट के विशेषज्ञों से बातचीत की और जानना चाहा कि क्‍या निर्णय लिया जाना चाहिए। अगर आप भी प्रोपर्टी में पैसे लगाने की सोच रहे हैं तो यह आपके लिए जरूरी खबर है।
खुद के लिए घर खरीद रहे हैं तो सही समय है;-अगर आप खुद के लिए घर खरीद रहे हैं तो ये आपके लिए यह मुफीद समय है, क्योंकि इस वक़्त आप डेवलपर के साथ अच्छे से मोल भाव कर सकते हैं। इसके अलावा दाम भी काफी सस्ते हो गए हैं। अगर आप यह चाहते हैं कि घर आपके मनपसंद लोकेशन पर मिले तो इसकी संभावना भी काफी बढ़ जाती है। प्रॉपर्टी कंसलटेंट कंपनी एनरॉक के चेयरमैन और संस्थापक अनुज पुरी ने कहा, 'खुद का घर खरीदने के लिए यह सही समय है, यह ऐसा वक्त है जब डेवलपर से मोल-भाव किया जा सकता है, इसके अलावा जिस जगह आप घर खरदीना चाह रहे हैं वहां आसानी से घर भी मिल सकता है।'
लॉन्ग टर्म निवेश में है फायदा:-अनुज पुरी ने कहा, 'अगर कोई निवेशक लॉन्ग टर्म के लिए रियल एस्टेट में निवेश करना चाहता है तो उसके लिए फायदेमंद होगा। लॉन्ग टर्म का मतलब कम से कम 5 साल से ज्यादा के लिए निवेश करना होगा फिर इसमें निवेश का लाभ मिलेगा। अगर शॉर्ट टर्म मसलन पांच साल से कम समय के लिए निवेश करने की सोच रहे हैं तो इसमें निवेश न करें, क्योंकि आपको इसका फायदा नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा, 'फिलहाल रियल एस्टेट में लॉन्ग टर्म जैसे कि पांच साल से ज्यादा समय के लिए निवेश करना सही रहेगा, इससे कम के लिए अगर कोई निवेश की सोच रहा है तो वह निवेश न करें। क्योंकि यह सही समय नहीं है, यह बाजार उपभोक्ताओं के लिए बेहतर है।
टैक्स को लेकर क्या है फायदा नुकसान:-पुरी ने कहा कि सरकार ने टैक्स में डेवलपर और खरीदार दोनों को राहत दी है। सरकार ने डेवलपर के लाभ और खरीदार के स्टाम्प ड्यूटी पर राहत दी है। इसमें खरीदार को 2.50 लाख रुपये का लाभ भी मिलता है। इसके अलावा सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ब्याज में भी राहत दी है। उन्होंने कहा कि अफोर्डेबल हाउसिंग के तहत घर नहीं खरीदने पर सामान्य कर देना होगा। इसके अलावा डेवलपर जिसके पास घर बना हुआ है और नहीं बेचने पर नोशनल रेंट कंप्यूट किया जाएगा और नोशनल रेंट पर टैक्स लगाया जाएगा।

 

 

नई दिल्ली। सोने के भाव में सोमवार को 233 रुपये की गिरावट दर्ज की गई है। इससे राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 10 ग्राम सोने का भाव 41,565 रुपये पर आ गया है। एचडीएफसी सिक्युरिटीज के अनुसार, वैश्विक बाजार के कमजोर रहने के चलते सोने में यह गिरावट दर्ज की गई है। सिक्युरिटीज के अनुसार, सोना पिछले सत्र में 41,798 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था।सोने की वैश्विक कीमतों में गिरावट के चलते दिल्ली में 24 कैरेट सोने के हाजिर भाव में भी गिरावट दर्ज की गई है। इसमें भी 233 रुपये की गिरावट आई है। एचडीएफसी सिक्युरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक तपन पटेल ने बताया कि चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के अधिकारियों द्वारा कोरोना वायरस को इलाज योग्य बताने के बाद से सोने की कीमतों में यह गिरावट आई है।सोने के साथ ही चांदी के भाव में भी सोमवार को गिरावट दर्ज की गई है। चांदी का भाव 157 रुपये की गिरावट के साथ 47,170 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गया है। पिछले सत्र की बात करें, तो चांदी 47,327 रुपये प्रति किलोग्राम के भाव पर बंद हुई थी।वैश्विक बाजार में भी सोने के दाम में गिरावट दर्ज की गई है, जबकि चांदी स्थिर बनी हुई है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना सोमवार को 1,579 डॉलर प्रति औंस पर और चांदी 17.74 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेंड कर रही थी। एमसीएक्स एक्सचेंज पर वायदा भाव की बात करें तो सोमवार दोपहर तीन अप्रैल 2020 का सोना 40,801 रुपये प्रति 10 ग्राम पर और पांच जून 2020 का सोना 40,977 रुपये प्रति 10 ग्राम पर ट्रेंड कर रहा था। वहीं, पांच मार्च 2020 की चांदी 46,217 रुपये प्रति किलोग्राम पर ट्रेंड कर रही थी।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी BCCI ने भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य चयनकर्ता के लिए आवेदन मांगे थे। आवेदन बीसीसीआइ को मिल चुके हैं और अब बीसीसीआइ ने 4 पूर्व दिग्गज खिलाड़ियों को सीनियर क्रिकेट टीम के चयनकर्ता के पद के लिए शॉर्टलिस्ट कर लिया है। भारतीय टीम के चयनकर्ता के पद के लिए जिन चार दिग्गजों को बीसीसीआइ ने शॉर्टलिस्ट किया है उनमें पूर्व तेज गेंदबाज अजीत अगरकर, वेंकटेश प्रसाद, लक्ष्मण शिवरामकृष्णन और राजेश चौहान का नाम शामिल है। इन सभी पूर्व खिलाड़ियों का आखिरी राउंड का इंटरव्यू होना है।भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने एमएसके प्रसाद के बतौर सीनियर सलेक्टर और गगन खोड़ा के सलेक्शन कमेटी के सदस्य के कार्यकाल के खत्म होने के बाद इस पद के लिए आवेदन मांगे थे। इन दो दिग्गजों की जगह को भरने के लिए बीसीसीआइ ने चार उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट किया है। न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक अजीत अगरकर, लक्ष्मण शिवरामकृष्णन, वेंकटेश प्रसाद और राजेश चौहान का आखिरी दौर का इंटरव्यू क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी (CAC) को लेना है, जिसमें मदन लाल, आरपी सिंह और सुलक्षणा नाइक का नाम शामिल है।
अगले 10 दिन में पूरी होगी इंटरव्यू प्रक्रिया:-इंटरव्यू की प्रक्रिया अगले 10 दिन में पूरी होने की संभावना है। इसको लेकर आधिकारिक घोषणा फरवरी के आखिर तक हो जाएगी कि नेशनल सलेक्टर के पद पर कौन विराजमान होगा। चयनकर्ताओं की समिति का पहला असाइनमेंट साउथ अफ्रीका का भारत दौरा है, जहां दोनों देशों के 3 मैचों की वनडे सीरीज खेलनी है। भारत और साउथ अफ्रीका के बीच ये वनडे सीरीज 12 मार्च से शुरू होनी है। ऐसे में इससे पहले टीम का चयन होना जरूरी है और उससे पहले मुख्य चयनकर्ता का चुना जाना भी बेहद जरूरी है।
ये हैं रेस में सबसे आगे;-भारतीय टीम के लिए 1983 से 1986 तक 9 टेस्ट मैच और 1985 से 1987 के बीच में 16 वनडे इंटरनेशनल मैच खेलने वाले पूर्व लेग स्पिनर लक्ष्मण शिवरामकृष्णन का नाम मुख्य चयनकर्ता के रूप में सबसे आगे है, क्योंकि जोन के हिसाब से देखा जाए तो वे चेन्नई से आते हैं। इनके अलावा वेंकटेश प्रसाद और अजीत अगरकर भी उनको कड़ी टक्कर दे रहे हैं। अब देखना ये है कि इस कुर्सी पर कौन बैठता है।

 

 

नई दिल्ली।धाकड़ बल्लेबाज फाफ डुप्लेसिस ने साउथ अफ्रीका क्रिकेट टीम की कप्तानी छोड़ने का फैसला किया है। फाफ डुप्लेसिस ने साउथ अफ्रीका की तीनों फॉर्मेट (टेस्ट, वनडे और टी20) के कप्तानी पद से इस्तीफा दे दिया है। इस बात की पुष्टि खुद साउथ अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड ने कर दी है। साथ ही साथ ये बात भी सामने आ गई है कि उनके बाद टीम का कप्तान कौन होगा।क्रिकेट साउथ अफ्रीका (CSA) यानी साउथ अफ्रीका के क्रिकेट बोर्ड ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा है, “फाफ डुप्लेसिस ने प्रोटियाज टीम की टेस्ट, वनडे और टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट की कप्तानी तत्काल प्रभाव से छोड़ने का फैसला किया है।" सीएसए ने आगे लिखा है, 35 वर्षीय फाफ डुप्लेसिस ने कहा है कि नई जेनरेशनल के खिलाड़ी और कप्तानों को मौका देने के लिए वे टीम की कप्तानी से इस्तीफा दे रहे हैं। टीम क्विंटन डिकॉक की कप्तानी में अच्छा कर रही है।हालांकि, फाफ डुप्लेसिस ने आगे ये भी कहा है कि वे टीम के लिए बतौर बल्लेबाज और सीनियर खिलाड़ी के नाते टीम की मदद करना चाहते हैं और उसी पर फोकस करना चाहते हैं। वे नए लीडरशिप ग्रुप को सलाह देते रहेंगे और टीम की प्लानिंग का हिस्सा रहेंगे। उन्होंने कहा है, "जब मैंने कप्तानी संभाली थी तो मैंने प्रदर्शन करने के साथ सबसे महत्वपूर्ण रूप से टीम की सेवा करने की प्रतिबद्धता भी निभाई थी।।"डुप्लेसिस ने कहा है, “ये मेरे लिए मेरे जीवन की सबसे ज्यादा सम्मान की बात है कि मैंने अपने देश की टीम का नेतृत्व किया।" उन्होंने आगे कहा, “साउथ अफ्रीकन क्रिकेट नए दौर में प्रवेश कर चुकी है। नई लीडरशिप, नए खिलाड़ी, नई चुनौती और नई रणनीति के साथ टीम खेलेगी। मैं तीनों फॉर्मेट टीम के लिए बतौर खिलाड़ी खेलना चाहता हूं और मुझे खुशी मिलेगी कि अगर मैं नए कप्तान की मदद कर पाऊं।"
ये खिलाड़ी है दावेदार:-27 वर्षीय विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डिकॉक टीम के कप्तान के तौर पर देखे जा रहे हैं जिन्होंने भारत के खिलाफ और फिर इंग्लैंड के खिलाफ टीम की कप्तानी की है। इस दौरान उनकी बल्लेबाजी में भी निखार देखने को मिला जबकि भारत के बाद इंग्लैंड के खिलाफ उन्होंने शानदार कप्तानी की। 47 टेस्ट, 118 वनडे और 41 टी20 इंटरनेशनल मैच अपनी टीम के लिए खेल चुके डिकॉक ही टीम के नए कप्तान होंगे।

ब्रसेल्स। 'गॉड मदर' का खिताब पाने वाली निधि खुराना चाफेकर ने अपने संघर्ष भरे जीवन की कहानी 'अनब्रोकन: द ब्रेसल्स टेरर अटैक सर्वाईवर' किताब में लिखी है। उनकी यह किताब हाल ही में रिलीज हुई है। निधि जेट एयरवेज की फ्लाईट अटेंडेंट के तौर पर काम करती थीं। ब्रसेल्स आंतकी हमले में उनका चेहरा खराब हो गया था। निधि ने अपनी आपबीती और दुख से उबरने की संघर्ष यात्रा इसी किताब में लिखी है।यह हादसा बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स के हवाई अड्डे का है, जहां हुए एक आंतकी हमले में 35 लोगों की जान चली गई थी। धमाके के समय निधि भी वहीं मौजूद थीं। वो जेट एयरवेज में बतौर फ्लाइट अटेंडेंट काम करती थीं। इस हमले में वो 23 कोमा में रहीं और उनका चेहरा भी खराब हो गया था। इस हमले के बाद वो अब तक 22 सर्जरी करवा चुकी हैं। हादसे में उनके शरीर में मेटल और कांच के टुकड़े धंसे हुए थे।13 अप्रैल को बैसाखी के दिन जब वो होश में आईं तो उनके पति भी उनको देखकर डर गए थे। खुद भी वो अपना चेहरा शीशे में देखकर घबरा गई थीं। इस सबके बावजूद उनमें जीने की इच्छा बाकी थी और इसी के बल पर उन्होंने खुद को पॉजीटिव रखा और आज वो जीवन से निराश लोगों को जिंदगी का खूबसूरत पक्ष दिखाती हैं।उस हादसे के बारे में उन्होंने बताया था, 'मैं एयरपोर्ट पहुंची ही थी कि एक धमाके की आवाज सुनाई दी। पहले पहल लगा कि किसी लीथियम बैटरी में ब्लास्ट हो गया है। लेकिन फिर कुछ कपड़ों के छोटे-छोटे टुकड़े हवा में नजर आने लगे। मैं उस ओर लोगों की मदद के लिए जाने ही वाली थी कि मेरे एक साथी ने मुझे रोका। जैसे ही मैंने घूम कर उसकी ओर देखा तो उससे कुछ ही फीट पीछे खड़े एक अन्य व्यक्ति ने अपनी भाषा में जोर से यलगार लगाई और खुद को बम से उड़ा लिया। मैं भी उछल कर करीब 25 फीट दूर जा गिरी। उन ब्लास्ट्स में 32 लोगों की मौत हुई थी और सैकड़ों घायल हुए थे। मुझे कुछ मिनट बाद होश आया तो उठने की कोशिश की लेकिन मेरी टांगें बुरी तरह घायल थीं। उनमें अनेक लोहे के टुकड़े मुझे महसूस हो रहे थे। जगह -जगह से टांगों का मास उड़ गया था। बुरी तरह खून बह रहा था।गौरतलब है कि यह घटना 22 मार्च, 2016 की है, जब ब्रेसेल्स के एयरपोर्ट पर हुए धमाके में 32 लोगों की जान चली गई थी। इस हमले में निधि खुराना की एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी और उन्हें 'फेस ऑफ ब्रसेल्स टेरर अटैक' कहा जाने लगा। निधि के पास साहस, उम्मीद और सकारात्मकता का खजाना है। उसने मौत को नजदीक से देखा है, उससे जीवन की जंग जीती है।

 

 

नई दिल्‍ली। दिल्‍ली का चुनाव जीत चुकी आम आदमी पार्टी के मौजूदा सभी मंत्री एक बार फिर से जनता की सेवा के लिए शपथ लेंगे। दिल्ली चुनाव में आम आदमी पार्टी ने कुल 62 सीटों में जीत दर्ज की है। अरविंद केजरीवाल के मंत्रिमंडल में मनीष सिसोदिया, सत्‍येंद्र जैन, कैलाश गहलोत, इमरान हुसैन, राजेंद्र गौतम और गोपाल राय मंत्री थे। सभी बड़े नेता चुनाव जीत गए हैं, इसलिए माना जा रहा है कि आप सरकार इन मौजूदा सभी मंत्रियों को फिर से मंत्रालय दिया जा सकता है।आम आदमी पार्टी (आप) के वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया ने बुधवार को जानकारी दी कि दिल्ली के मनोनीत मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल 16 फरवरी को पूरी कैबिनेट के साथ शपथ लेंगे। शपथ ग्रहण समारोह सुबह दस बजे शुरू होगा। पहले कहा जा रहा था कि केजरीवाल अकेले ही शपथ लेंगे और बाद में कैबिनेट का गठन किया जाएगा, लेकिन सभी एक साथ शपथ लेगें। इस बार यह देखना भी दिलचस्प होगा कि क्या केजरीवाल इस बार कोई विभाग अपने पास रखेंगे या पिछली बार की तरह अपने मंत्रियों में ही सारे विभागों का बंटवारा कर देंगे। केजरीवाल लगातार तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं।इस चुनाव में कड़े मुकाबले में जीत हासिल करने वाले सिसोदिया ने भाजपा प्रचारों का परोक्ष जवाब देते हुए कहा कि दिल्ली की जनता ने साफ कर दिया है केजरीवाल दिल्ली के बेटा हैं न कि आतंकवादी। उन्होंने कहा कि जनता को बिजली-पानी मुहैया कराना ही राष्ट्रवाद है।मालूम हो कि मंगलवार को घोषित दिल्ली विधानसभा चुनाव के परिणाम में आप को कुल 70 सीटों में से कुल 62 सीटें मिली हैं, जो पिछले चुनाव की तुलना में पांच सीटें कम हैं। जबकि 22 साल बाद सत्ता में वापसी की आस लगाए भाजपा फिर से विपक्ष में ही बनी रही। हालांकि, इस बार पांच सीटों के इजाफे के साथ आठ तक पहुंच गई है। कांग्रेस लगातार दूसरी बार खाता भी नहीं खोल सकी है।

नई दिल्ली। दिल्ली विधासभा चुनाव 2020 में कांग्रेस की करारी हार हुई है। पार्टी के 63 उम्मीदवार अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए। पार्टी की करारी हार पर चुनाव बाद पहली बार कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बयान दिया है। प्रियंका ने बुधवार को कहा 'जनता जो करती है, सही करती है। ये हमारे लिए संघर्ष का समय है'।कांग्रेस कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाते हुए प्रियंका ने कहा कि हमें बहुत संघर्ष करना है। हम करेंगे। बता दें कि कांग्रेस के सभी दिग्गज चुनाव हार गए। सिर्फ तीन उम्मीदवारों को छोड़कर सभी की जमानत जब्त हो गई।
जहां पर राहुल और प्रियंका ने की रैली वहां पर भी कांग्रेस उम्मीदवारों की जमानत जब्त:-दिल्ली में कांग्रेस किस हद तक अपना जनाधार खो चुकी है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अब पार्टी का प्रदेश नेतृत्व ही नहीं, केंद्रीय नेतृत्व भी जनता के बीच अपनी साख और भरोसा खो चुका है। यही वजह रही कि जहां पर कांग्रेस का राष्ट्रीय मुख्यालय है, वहां भी और जहां पर गांधी परिवार के सदस्य रहते हैं वहां भी कांग्रेस प्रत्याशी अपनी जमानत तक नहीं बचा सके। और तो और जिन चार इलाकों में राहुल-प्रियंका की जनसभाएं हुईं, वहां भी कांग्रेस तीसरे से चौथे नंबर पर रही।
पार्टी का मुख्यालय के इलाके में भी हारी कांग्रेस:-पार्टी का मुख्यालय अकबर रोड पर है जबकि सोनिया गांधी का घर जनपथ, राहुल गांधी का तुगलक लेन और प्रियंका वाड्रा लोधी एस्टेट में रहती हैं। ये सभी इलाके नई दिल्ली विधानसभा क्षेत्र में आते हैं। यहां पर पार्टी तीसरे स्थान पर रही है। इस क्षेत्र में कुल वोट पड़े थे 76,530 जबकि कांग्रेस उम्मीदवार रोमेश सब्बरवाल को मिले केवल 3,220 यानि 4.21 फीसद। इनकी जमानत भी नहीं बच सकी।इसी तरह से राहुल गांधी ने कोंडली और जंगपुरा में जनसभाएं कीं। इन दोनों विधानसभा क्षेत्रों में भी पार्टी तीसरे नंबर पर रही। कोंडली विधानसभा क्षेत्र में कुल वोट पड़े 1,28,680 जबकि पार्टी प्रत्याशी अंबरीश गौतम को मिले केवल 5,861 यानि 4.55 फीसद। जंगपुरा विधानसभा क्षेत्र में कुल वोट पड़े 88,703 जबकि कांग्रेस प्रत्याशी तर¨वदर सिंह मारवाह को मिले केवल 13,565 यानि 15.29 फीसद। इन दोनों ही विस क्षेत्रों में पार्टी प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई।

Page 9 of 1108

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें