Editor

Editor

गुरुग्राम। कोरोना काल में पाबंदी के बाद भी शराब पार्टी की जा रही है। ऐसा ही एक मामला शनिवार देर रात गांव बालियावास के ऑफ रोड एडवेंचर जोन में सामने आया। शराब पार्टी करते हुए आठ युवतियों सहित कुल 30 लोगों को ग्वालपहाड़ी पुलिस चौकी की टीम ने गिरफ्तार किया। सभी शराब के नशे में इतने धुत थे कि पुलिस को देखकर भागने में सफल नहीं हुए। मौके पर ही पार्टी के आयोजक की पहचान सेक्टर-46 निवासी हर्ष गोसाईं के रूप में की गई। उससे पार्टी करने की अनुमति के बारे में जब पुलिस ने कागजात मांगे तो उसके पास कुछ भी नहीं था। पार्टी स्थल से तीन पेटी बीयर एवं एक पेटी अंग्रेजी शराब बरामद की गई। पूछताछ के बाद सभी आरोपितों को जमानत दे दी गई।
ऑफ रोड एडवेंचर जोन में चल रही थी पार्टी:-शनिवार रात पुलिस आयुक्त केके राव को सूचना मिली कि गुरुग्राम-फरीदाबाद रोड पर गांव बालियावास इलाके में बनाए गए ऑफ रोड एडवेंचर जोन में शराब पार्टी चल रही है। उन्होंने सहायक पुलिस आयुक्त (डीएलएफ) करण गोयल को तत्काल प्रभाव से टीम बनाकर मौके पर पहुंचने के लिए कहा। इसके बाद करण गोयल की उपस्थिति में ग्वालपहाड़ी पुलिस चौकी के प्रभारी सब इंस्पेक्टर प्रवीण कुमार व उनकी टीम ने छापेमारी की। पुलिस को देखते ही युवक व युवतियों ने भागने का प्रयाास किया लेकिन वे सफल नहीं हुए।
पुलिस को देखते ही फोड़ दी बीयर की बोतलें:-यही नहीं कुछ ने पुलिस के सामने ही शराब व बीयर की बोतलें फोड़ दीं। अंतत: सभी को मौके पर ही दबोच लिया गया। पार्टी में शामिल अधिकतर युवक व युवतियां दिल्ली से पहुंचे थे, बाकी फरीदाबाद एवं गुरुग्राम से थे। पार्टी में शामिल युवक-युवतियों से पूछताछ के आधार पर आयोजक की पहचान की गई। रविवार सुबह सभी आरोपितों को पुलिस कार्रवाई पूरी करने के बाद जमानत पर छोड़ दिया गया। बता दें कि गुरुग्राम में अवैध रूप से शराब पार्टी करने का मामला कोई नया नहीं है। पहले भी कई बार इस तरह के मामले सामने आ चुके हैं।
पुलिस आयुक्त ने कहा किसी को नहीं बक्शा जाएगा;-किसी भी कीमत पर अवैध रूप से पार्टी करने वालों को बक्शा नहीं जाएगा। सभी नियमों के दायरे में रहकर अपना काम करें। कोविड 19 को लेकर जो निर्देश जारी हैं, उनका उल्लंघन न करें। उल्लंघन करने पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

मुंबई। केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट पर एयर इंडिया एक्सप्रेस की क्रैश लैंडिग के दौरान जान गंवाने वाले कैप्टन दीपक साठे का पार्थिव शरीर रविवार को मुंबई में एयर इंडिया बिल्डिंग में लाया गया। यहां उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। इधर, उनके भतीजे यशोधन साठे ने बताया कि दीपक शनिवार को अपनी मां के जन्मदिन पर अचानक उनके पास पहुंचने की तैयारी में थे। शनिवार को उनकी मां का 84 वां जन्मदिन था। यशोधन साठे ने बताया कि अपने परिजनों से कैप्टन की आखिरी मुलाकात मार्च में हुई थी। उसके बाद से वह लगातार फोन पर ही उनके संपर्क में थे। कैप्टन ने कुछ रिश्तेदारों से कहा था कि अगर फ्लाइट में जगह मिली तो मां के जन्मदिन पर वह सरप्राइज विजिट करेंगे।कैप्टन साठे अपनी पत्नी के साथ मुंबई में रहते थे। उनकी मां नीला साठे और पिता वसंत साठे नागपुर में रहते हैं। कैप्टन की मां नीला साठे ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण उन्होंने मुझे बाहर निकलने से मना किया था। उनका कहना था कि मुझे कुछ होगा तो उन्हें अच्छा नहीं लगेगा। अचानक यह हादसा हो गया। भगवान की इच्छा के आगे हम क्या कर सकते हैं। वह बताती हैं कि कैप्टन साठे पढ़ाई से खेल तक हर क्षेत्र में अव्वल रहते थे। भारतीय वायु सेना में विंग कमांडर रहे कैप्टन साठे महाराष्ट्र के पहले जवान थे, जिन्हें वायुसेना के सभी आठ पुरस्कार प्राप्त हुए थे।मां नीला साठे ने बताया कि वह हमेशा लोगों की सहायता के लिए तत्पर रहते थे। गुजरात बाढ़ के समय उन्होंने कंधे पर बैठाकर कई बच्चों को बचाया था। कैप्टन साठे के दो पुत्र धनंजय और शांतनु हैं। धनंजय बेंगलुर में और शांतनु अमेरिका में रहते हैं। कैप्टन दीपक साठे को इस बात का गर्व था कि वंदे भारत मिशन के तहत वह विदेश में फंसे भारतीयों को स्वदेश ला रहे हैं। उनके चचेरे भाई नीलेश साठे ने अपनी फेसबुक पोस्ट में यह बात लिखी है। नीलेश ने पोस्ट में कैप्टन साठे से जु़ड़ी कई बातों का उल्लेख किया है। उन्होंने लिखा कि दीपक ने मुझे एक हफ्ते पहले फोन किया था। जब मैंने वंदे भारत मिशन के बारे में पूछा तो उन्होंने बड़े गर्व से कहा कि वह खाड़ी देशों से अपने देशवासियों को वापस ला रहे हैं।

नई दिल्‍ली। दुनियाभर के सभी देश बीते सात माह से जानलेवा कोरोना वायरस की मार सह रहे हैं।पूरी दुनिया के वैज्ञानिक इसकी वैक्‍सीन बनाने में जी जान से जुटे हैं लेकिन इसमें अब तक उन्‍हें आंशिक सफलता ही हाथ लगी है। हालांकि अमेरिका और रूस इस बात को जरूर कह रहे हैं कि उनके यहां पर बनी वैक्‍सीन जल्‍द ही बाजार में आ जाएगी। दूसरी तरफ संयुक्‍त राष्‍ट्र भी इसमें पूरी मदद कर रहा है। साथ ही यूएन उन देशों को मदद पहुंचा रहा है जो बेहद गरीब हैं और इस जानलेवा वायरस का मुकाबला अकेले नहीं कर सकते हें। आपको बता दें कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस मरीजों की कुल संख्या दो करोड़ के नजदीक पहुंचने वाली है। रॉयटर्स के मुताबिक पूरी दुनिया में अब तक इस वायरस से संक्रमण के 19,652,334 मामले हैं जबकि 725352 लोगों की मौत हो चुकी है और 11737405 मरीज ठीक होकर अस्‍पताल से डिस्‍चार्ज किए जा चुके हैं।अमेरिका ने सबसे ज्यादा कोरोना वायरस के मामलों पर नया रिकॉर्ड बनाया है। देश में कुल संक्रमितों की संख्या 50 लाख के पार पहुंच गई है। रॉयटर्स के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, अमेरिका में इस समय कोरोना वायरस के 5,014,339 मरीज हैं। 162105 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 1794439 ठीक हो चुके हैं। पिछले 24 घंटों में अमेरिका में 54,199 मामले सामने आए हैं। अमेरिका में 2,346,183 एक्टिव केस हैं। इसके अलावा, 18,020 लोग गंभीर हैं, जिनका अस्पतालों में इलाज चल रहा है। दुनिया में सबसे ज्यादा कोरोना जांचें भी अमेरिका में हुई हैं। अभी तक वहां 64,610,547 लोगों की कोरोना जांच हो चुकी है।रॉयटर्स के ही मुताबिक लेटिन अमेरिका में इसके 5492718 मरीज सामने आ चुके हैं जबकि 218150 की मौत हो चुकी है। यहां पर 3676244 मरीज ठीक हुए हैं। वहीं नॉर्थ अमेरिका की बात करें तो यहां पर 5133736 संक्रमित मरीज हैं, जबकि 171090 की मौत हो चुकी है। इसके अलावा यहां पर 1898167 मरीज ठीक भी हो चुके हैं।एशिया की ही बात करें तो यहां पर कोरोना वायरस से संक्रमित कुल मरीजों की संख्‍या 3407121 तक जा पहुंची है। इसकी वजह से यहां पर अब तक 71149 मरीजों की जान चुकी है और 2402797 मरीज ठीक भी हो चुके हैं। ऐसे ही यूरोप में इसके कुल संक्रमितों की संख्‍या 3067104 है। इसके अलावा 205864 मरीजों की मौत हो चुकी है जबकि 1746018 मरीज ठीक भी हो चुके हैं।मध्‍य एशिया में इसके 1556892 मरीज हैं और इसकी वजह से 36751 मरीजों की मौत भी हो चुकी है। इसके अलावा 1335090 मरीज ठीक भी हो चुके हैं। अफ्रीका में इसके 1038873 मरीज हैं और 22925 मरीजों की इसकी वजह से मौत भी हो चुकी है। अब तक करीब 721990 मरीज ठीक भी हो चुके हैं। अमेरिका के बाद यदि दुनिया में इससे संक्रमित मुख्‍य पांच देशों की बात करें तो इसमें अमेरिका के अलावा ब्राजील, भारत, रूस और दक्षिण अफ्रीका शामिल हैं।

सियोल। नॉर्थ कोरिया में भारी बरसात से कई इलाकों में पानी भर गया है जिसके कारण वहां के इन इलाकों में जनजीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया है। नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करके राहत और बचाव कार्य करवा रहे हैं। साथ ही अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वो इन इलाकों में बचाव का काम जारी रखें। रविवार को नॉर्थ कोरिया के तानाशाह ने दक्षिण कोरिया के साथ लगी सीमा के केसॉन्ग इलाके का दौरा किया, उन्होंने बाढ़ से प्रभावित इलाके में निवासियों को भोजन और चिकित्सा उपकरणों का वितरण किया। कोरोनावायरस को लेकर नॉर्थ कोरिया तानाशाह किम जोंग उन ने पहले ही इमरजेंसी की घोषणा कर रखी है। इस बीच बाढ़ की वजह से हालात और भी खराब हो गए हैं। उनके आदेश के बाद केसॉन्ग प्रांत के निवासियों को भोजन और चिकित्सा उपकरणों के विशेष सहायता पैकेज वितरित किए हैं। कुछ दिन पहले जब नॉर्थ कोरिया में कोरोनावायरस का मरीज पाया गया था उसके बाद से सीमा पर सख्ती बढ़ा दी गई है। लोगों की आवाजाही पूरी तरह से बंद करवा दी गई है।हालांकि तानाशाह के इलाके में अभी तक किसी भी कोरोनावायरस मरीज की पुष्टि नहीं की गई है। कोरोनावायरस को रोकने के लिए शहर में सख्त नियम लागू किए गए हैं। स्टेट टेलीविजन ने रविवार को केसॉन्ग स्टेशन पर एक ट्रेन को दिखाया और निवासियों को आपूर्ति देने वाले ट्रकों को दिखाया। अलग-अलग, मास्क पहने और एक दूसरे से अलग बैठे सैकड़ों लोग सहायता के लिए अधिकारियों को धन्यवाद देने के लिए एक पार्टी सभागार में इकट्ठा हुए।आधिकारिक केसीएनए समाचार एजेंसी ने कहा कि शुक्रवार को निवासियों को लॉकडाउन से निपटने में मदद करने के लिए शिपमेंट आया।

बीती रात साउथ सुपरस्टार राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज ने एक छोटे से समारोह में शादी रचा ली है। राणा दग्गुबाती और मिहीका की शादी मारवाणी और तेलगू रीति रिवाजों के साथ हुई है। इन दोनों की शादी में गिनेचुने लोग ही शामिल हुए है। तस्वीरों में राणा दग्गुबाती और मिहीका की जोड़ी कमाल लग रही है। तभी तो फैंस राणा दग्गुबाती और मिहीका के शादी अंदाज की तारीफ करते हुए शादी की शुभकामनाएं दे रहे हैं।शादी की रस्मों के दौरान भी राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज एक दूसरे में खोए खोए नजर आए। यहां पर राणा दग्गुबाती, मिहीका बजाज को अंगूठी पहना रहे हैं।रामचरण के अलावा राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज की शादी में अल्लू अर्जुन, वेंकटेश डग्गुबाती, सामंथा अक्कीनेनी और नागा चैतन्य भी शामिल होने पहुंचे थे।शादी की सभी रस्मों को निभाने के बाद राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज ने अपने पूरे परिवार के साथ जमकर पोज दिए। इस तस्वीर में सामंथा अक्कीनेनी और नागा चैतन्य भी नजर आ रहे हैं।शादी रस्मों के दौरान सैनिटाइजर्स और सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा ख्याल रखा गया है। समारोह में शामिल हुए सभी मेहमान मास्क लगाए नजर आए। इतना ही नहीं शादी में शामिल होने से पहले सभी मेहमानों ने अपना कोरोना वायरस टेस्ट भी करवाया था।सामंथा अक्कीनेनी और नागा चैतन्य के अलावा साउथ सुपरस्टार रामचरण भी अपनी पत्नी के साथ राणा दग्गुबाती की शादी में शामिल होने पहुंचे थे।राणा दग्गुबाती, मिहीका बजाज से शादी करने के लिए पूरी तैयारी के साथ पहुंचे थे। तस्वीरों में राणा दग्गुबाती गोल्डन कलर के धोती कुर्ते में नजर आ रहे हैं। इस दौरान राणा अपने दोस्त रामचरण के साथ मस्ती करते समय भी चेहरे पर मास्क भी लगाए नजर आ रहे हैं।दुल्हन बनीं मिहीका बजाज तस्वीरों में व्हाइट गोल्डन कलर के डिजाइनर लहंगे में नजर आईं। जिसके साथ उन्होंने हैवी ज्लैवरी कैरी की है। इसके अलावा मिहीका बजाज ने लाइट ऑरेंज कलर के दुपट्टे से अपना सिर ढ़क रखा है। इस लुक में मिहीका बजाज किसी राजकुमारी से कम नहीं लग रही हैं।राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज की शादी पूरे विधि-विधान के साथ हुई है। इस तस्वीर में राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज सात फेरे लेने से पहले पूजा करते नजर आ रहे हैं।इस तस्वीर में राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज अग्नि के चारों तरफ सात फेरे लेते नजर आ रहे हैं।राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज की तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं। फैंस राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज के शादी के लुक से अपनी निगाहें नहीं हटा पा रहे हैं। लंबे समय से फैंस इन दोनों की शादी का इंतजार कर रहे थे।सात फेरे लेने जा रही मिहीका बजाज इस दौरान काफी इमोशनल नजर आईं। तस्वीर में वह कैमरे से निगाह छिपाकर अपनी भावनाओं को छिपाने की कोशिश कर रहे हैं।

टीवी के जानेमाने कपल जय भानुशाली और माही विज आज अपनी बेटी तारा भानुशाली का जन्मदिन मना रहे हैं। आज जय भानुशाली और माही विज की बेटी पूरे एक साल की हो गई है। इस खास मौके पर जय भानुशाली और माही विज ने अपनी बेटी का एक शानदार फोटोशूट करवाया है जिसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर जमकर धमाल मचा रही हैं।फोटोशूट के दौरान तारा भानुशाली अपने मम्मी पापा जय भानुशाली और माही विज की गोद में जमकर पोज देती नजर आई।तारा भानुशाली की बर्थडे पार्टी में उनके मम्मी पापा भी बच्चों की तरह मस्ती करते नजर आए। तस्वीर में तारा अपने पापा की गोद में नजर आ रही है।बेटी के पहले जन्मदिन के मौके पर माही विज ने तस्वीर शेयर करते हुए लिखा कि, 'तारा जैसी बेटी को पाकर वह बहुत खुश हैं।'माही विज की तरह ही जय भानुशाली ने भी अपनी बेटी की तस्वीर शेयर करते हुए जन्मदिन की शुभकामनाएं दी और लिखा कि, 'तुम्हारे आने के बाद हम दोनों के सभी सपने पूरे हो गए।'शेयर की गई तस्वीरों में तारा भानुशाली बहुत क्यूट लग रही हैं। जन्मदिन के दिन तारा भानुशाली ने पिंक कलर का फ्रॉक पहना है। जिसके साथ मम्मी माही ने तारा भानुशाली के बालों में मैचिंग हैयरबैंड भी लगाया है।तारा भानुशाली की स्माइल देखकर फैंस तस्वीरों से अपनी निगाहें नहीं हटा पा रहे हैं। कुछ देर में ही जय भानुशाली की इस तस्वीरों पर कमेंट्स और लाइक्स की बरसात होने लगी।तारा भानुशाली के शानदार फोटोशूट की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गई हैं। फैंस लगातार तारा भानुशाली को जन्मदिन की बधाईयां दे रहे हैं।जन्मदिन का जश्न मनाने के बाद तारा भानुशाली अपने पापा की नींद खराब करती नजर आई। तस्वीर में तारा अपने पापा के बालों के साथ खेलती दिख रही है।

 

 

 

 

 

 

 

कोरोना वायरस ने जहां एक तरफ पूरी दुनिया में हाहाकार मचाया हुआ है तो वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग ऐसे में भी जिनको बुरी समय में भी मुस्कुराने की वजह मिल गई है। बीते 5 महीनों में कई टीवी अदाकाराएं ऐसी हैं जो मां बन चुकी हैं। इस लिस्ट में अब सीरियल कसौटी जिंदगी के 2 स्टार प्रण‍िता पंड‍ित का नाम भा शामिल हो गया है। प्रण‍िता पंड‍ित ने कुछ समय पहले ही एक बेटी को जन्म दिया है। इस बात की जानकारी प्रण‍िता पंड‍ित ने सोशल मीडिया के जरिए दी है।प्रण‍िता पंड‍ित ने इंस्टाग्राम स्टोरी पर अपनी बेटी के कपड़ों की एक तस्वीर शेयर करते हुए फैंस के साथ अपनी खुशी बांटी। मां बनने की बात बताते हुए प्रण‍िता पंड‍ित ने लिखा कि, 'मैं कई महीनों से इस पल का इंतजार कर रही थी। ढ़ेर सारे इंतजार और एक्साइटमेंट के बाद वो समय आ ही गया है। हमें अपनी दुआओं में याद रखने के लिए आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया...।'प्रण‍िता पंड‍ित दूसरी बार मां बनी हैं। प्रण‍िता पंड‍ित का एक बेटा भी है। अपनी बहन के घर आने के बाद प्रण‍िता पंड‍ित का बेटा भी काफी खुश नजर आ रहा है। प्रण‍िता पंड‍ित और उनके पति की खुशियां भी सातवें आसमान पर जा चुकी हैं। कुछ समय पहले ही प्रण‍िता पंड‍ित ने इस बात का खुलासा किया था कि वह मां बनने वाली हैं।अपनी प्रेग्नेंसी का खुलासा करते हुए प्रण‍िता पंड‍ित ने बताया था कि, 'प्रेग्नेंसी मेरे लिए जिंदगी का सबसे शानदार अनुभव रहा है। इस दौरान मैंने हर तरह का खाना खाया है। दिल्ली के पराठे से लेकर चाट तक... हर डिश का मैंने भरपूर मजा लिया है। इस बार भी मैं अपने बचपन की सभी यादें ताजा कर रही हूं।'प्रण‍िता पंड‍ित ने साल 2014 में पति शिवि से शादी सचाई थी। कुछ समय पहले ही प्रण‍िता पंड‍ित ने अपनी शादी की सालगिरह मनाई थी।अपनी शादी की 6ठीं सागलिरह पर अपने पति के बारे में बात करते हुए प्रण‍िता पंड‍ित ने लिखा कि, 'तुम्हारे साथ बिताया हर एक पल मेरे लिए किसी परियों की कहानी से कम नहीं था।' गौरतलब है कि, प्रण‍िता पंड‍ित 'कसम तेरे प्यार की', 'कवच', 'काली', 'झांसी की रानी', 'जमाई राजा', 'कसौटी जिंदगी के' में नजर आ चुकी हैं।

कोरोना वायरस आउटब्रेक का बुरा असर बॉलीवुड पर साफ देखने को मिल रहा है। बीते 5 महीनों में कई बॉलीवुड सितारों के घर कोरोना वायरस दस्तक दे चुका है तो वहीं कुछ सेलेब्स अपनी खराब सेहत से जूझ रहे हैं। कोरोना वायरस आउटब्रेक ने बॉलीवुड सितारों को उनके घरों में कैद रहने के लिए मजबूर कर दिया है जिसका असर अब उनकी सेहत पर साफ नजर आने लगा है। बीता रात बॉलीवुड अभ‍िनेता संजय दत्त को सांस लेने में दिक्कत आने के बाद मुंबई के लीलावती हॉस्पिटल में एडमिट कर दिया गया है।न्यूज एजेंसी एएनआई की एक रिपोर्ट की माने तो ऑक्सीजन की कमी होने की वजह से संजय दत्त को सांस लेने में दिक्कत आ रही थी। ऐसे में डॉक्टर्स ने आनन फानन संजय दत्त का कोरोना वायरस टेस्ट किया है। संजय दत्त का कोविड एंटीजन टेस्ट किया गया था जो कि निगेटिव निकला है। जिसके बाद उनका स्वाब टेस्ट भी करवाया गया है।कोरोना न होने की वजह से संजय दत्त को आईसीयू के नॉन कोविड वार्ड में रखा गया है। कुछ समय पहले ही हॉस्पिटल ने एक बयान जारी करके इस बात का खुलासा कि है कि संजय दत्त अब पूरी तरह से ठीक हैं। जिसके बाद संजय दत्त ने सोशल मीडिया के जरिए अपने फैंस को अपने हाल बताए।ट्वीट करते हुए संजय दत्त ने लिखा कि, मैं आप सभी को बताना चाहता हूं कि मैं अब पूरी तरह से ठीक हूं। इस समय मैं डॉक्टर्स की टीम की निगरानी में हूं। मेरी कोरोना वायरस रिपोर्ट भी निगेटिव आई है लेकिन मुझे घर जाने में अभी कम से कम एक दो दिन का समय लगेगा। मुझे हॉस्पिटल में आराम करने के लिए कहा गया है। आप सभी के प्यार और दुआओं के लिए बहुत बहुत शुक्रिया...।गौरतलब है कि अभ‍िनेता संजय दत्त बीते 5 महीनों से अपने घर पर अकेले ही रह रहे हैं। उनकी पत्नी मान्यता बच्चों के साथ दुबई में हैं। कोरोना वायरस आउटब्रेक के चलते संजय दत्त का परिवार दुबई से वापस नहीं आ सका है।

नई दिल्ली। पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत केंद्र सरकार हर साल पात्र लाभार्थी किसानों के खाते में 6,000 रुपये की राशि भेजती है। यह राशि तीन बराबर किस्तों में किसानों को भेजी जाती है। इस योजना के तहत छठी किस्त किसानों के अकाउंट में भेजना केंद्र सरकार ने शुरू कर दिया है। एक अगस्त से ही छठी किस्त के रूप में किसानों के खाते में 2,000 रुपये भेजे जा रहे हैं। इस बार सबसे ज्यादा करीब 10 करोड़ किसानों को इस योजना का फायदा मिलने वाला है। केंद्र सरकार का लक्ष्य पीएम किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan Samman Nidhi Scheme) से देश के 14 करोड़ किसानों को जोड़ना है। जिन किसानों ने अभी इस योजना के लिए आवेदन नहीं किया है, उन्हें इसके लिए आवेदन कर योजना का लाभ उठाना चाहिए। सरकार PM Kisan पोर्टल के जरिए किसानों को इस योजना से जुड़ी तमाम सुविधाएं उपलब्ध करा रही हैं। इस पोर्टल के जरिए किसान सिर्फ कुछ क्लिक्स में ही योजना से जुड़े लगभग सारे काम कर सकता है।
ये हैं टोल फ्री नंबर:-अगर आप इस योजना में रजिस्टर्ड है और आपके खाते में अभी तक 2000 रुपये की किस्त नहीं आई है, तो आपको इसके लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। आप टोल फ्री नंबर पर फोन कर अपनी बात रख सकते हैं। केंद्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा किसानों की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किये हुए हैं। किसान पीएम-किसान हेल्पलाइन 155261 या टोल फ्री 1800115526 नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा किसान मंत्रालय के नंबर 011-23381092 पर भी संपर्क कर सकते हैं।
इस तरह लिस्ट में चेक करें नाम;-किसान अपना नाम लाभार्थियों की सूची में चेक भी कर सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले pmkisan.gov.in वेबसाइट पर जाना होगा। यहां होम पेज पर मेन्यू बार में से फार्मर टैब पर क्लिक करना होगा। इसके बाद लाभार्थी सूची के लिंक पर क्लिक करना होगा। अब किसान अपना राज्य, जिला, उप-जिला, ब्लॉक और गांव का नाम दर्ज कर गेट रिपोर्ट पर क्लिक करेंगे, तो उन्हें पूरी सूची मिल जाएगी, जिसमें वे अपना नाम चेक कर सकते हैं।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड के तहत एक लाख करोड़ रुपये की वित्तपोषण सुविधा को लॉन्च किया है। सरकार ने जुलाई में कृषि बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के लिए रियायती ऋण का विस्तार करने के लिए एक लाख करोड़ के कोष के साथ कृषि-इंफ्रा फंड की स्थापना को मंजूरी दी थी। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में बटन दबाकर 8.5 करोड़ किसानों के खातों में 17,000 करोड़ रुपये की पीएम किसान सम्मान निधि योजना की छठी किस्त जारी की। यह किस्त तत्काल किसानों के खातों में ट्रांसफर की गई है।प्रधानमंत्री मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस में यूरिया के बहुत ज्यादा प्रयोग पर चिंता प्रकट की। किसान प्रतिनिधियों के साथ बातचीत में उन्होंने कहा कि यूरिया के अधिक इस्तेमाल से धरती को नुकसान हो रहा है और किसानों को इसके बारे में सोचना चाहिए।पीएम ने कहा, 'आज हलषष्टी है, भगवान बलराम की जयंति है। सभी देशवासियों को, विशेषतौर पर किसान साथियों को हलछठ की, दाऊ जन्मोत्सव की, बहुत-बहुत शुभकामनाएं !! इस बेहद पावन अवसर पर देश में कृषि से जुड़ी सुविधाएं तैयार करने के लिए एक लाख करोड़ रुपए का विशेष फंड लॉन्च किया गया है।'पीएम ने कहा, 'इससे गांवों-गांवों में बेहतर भंडारण, आधुनिक कोल्ड स्टोरेज की चेन तैयार करने में मदद मिलेगी और गांव में रोज़गार के अनेक अवसर तैयार होंगे। इसके साथ-साथ साढ़े 8 करोड़ किसान परिवारों के खाते में, पीएम किसान सम्मान निधि के रूप में 17 हज़ार करोड़ रुपए ट्रांसफर करते हुए भी मुझे बहुत संतोष हो रहा है। संतोष इस बात का है कि इस योजना का जो लक्ष्य था, वो हासिल हो रहा है।'पीएम ने कहा, 'बीते डेढ़ साल में योजना के माध्यम से 75 हज़ार करोड़ रुपए सीधे किसानों के बैंक खाते में जमा हो चुके हैं। इसमें से 22 हज़ार करोड़ रुपए तो कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान किसानों तक पहुंचाए गए हैं।'पीएम ने कहा, 'अब आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत किसान और खेती से जुड़े इन सारे सवालों के समाधान ढूंढे जा रहे हैं। एक देश, एक मंडी के जिस मिशन को लेकर बीते 7 साल से काम चल रहा था, वो अब पूरा हो रहा है। पहले e-NAM के ज़रिए, एक टेक्नॉलॉजी आधारित एक बड़ी व्यवस्था बनाई गई। अब कानून बनाकर किसान को मंडी के दायरे से और मंडी टैक्स के दायरे से मुक्त कर दिया गया। अब किसान के पास अनेक विकल्प हैं।'पीएम ने कहा, 'अगर वो अपने खेत में ही अपनी उपज का सौदा करना चाहे, तो वो कर सकता है या फिर सीधे वेयरहाउस से, e-NAM से जुड़े व्यापारियों और संस्थानों को, जो भी उसको ज्यादा दाम देता है, उसके साथ फसल का सौदा किसान कर सकता है।'पीएम ने कहा, 'आज जो एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड लॉन्च किया गया है, इससे किसान अपने स्तर भी गांवों में भंडारण की आधुनिक सुविधाएं बना पाएंगे। इस योजना से गांव में किसानों के समूहों को, किसान समितियों को, FPOs को वेयरहाउस बनाने के लिए, कोल्ड स्टोरेज बनाने के लिए और फूड प्रोसेसिंग से जुड़े उद्योग लगाने के लिए 1 लाख करोड़ रुपए की मदद मिलेगी।'पीएम ने कहा, 'इस आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर से कृषि आधारित उद्योग लगाने में बहुत मदद मिलेगी। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत हर जिले में मशहूर उत्पादों को देश और दुनिया के मार्केट तक पहुंचाने के लिए एक बड़ी योजना बनाई गई है। अब हम उस स्थिति की तरफ बढ़ रहे हैं, जहां गांव के कृषि उद्योगों से फूड आधारित उत्पाद शहर जाएंगे और शहरों से दूसरा औद्योगिक सामान बनकर गांव पहुंचेगा। यही तो आत्मनिर्भर भारत अभियान का संकल्प है, जिसके लिए हमें काम करना है।'पीएम ने कहा, 'इसमें भी ज्यादा हिस्सेदारी हमारे छोटे किसानों के बड़े समूह, जिनको हम FPO कह रहे हैं, या फिर किसान उत्पादक संघ कह रहे हैं, इनकी होने वाली है। इसलिए बीते 7 साल से FPO-किसान उत्पादक समूह का एक बड़ा नेटवर्क बनाने का अभियान चलाया है। अभी तक लगभग साढ़े 300 कृषि स्टार्टअप्स को मदद दी जा रही है। ये स्टार्टअप, फूड प्रोसेसिंग से जुड़े हैं, एआई, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, खेती से जुड़े स्मार्ट उपकरण के निर्माण और रिन्यूएबल एनर्जी से जुड़े हैं।'पीएम ने कहा, 'किसानों से जुड़ी ये जितनी भी योजनाएं हैं, जितने भी रिफॉर्म हो रहे हैं, इनके केंद्र में हमारा छोटा किसान है। यही छोटा किसान है, जिस पर सबसे ज्यादा परेशानी आती रही है।'पीएम ने कहा, 'दो दिन पहले ही, देश के छोटे किसानों से जुड़ी एक बहुत बड़ी योजना की शुरुआत की गई है, जिसका आने वाले समय में पूरे देश को बहुत बड़ा लाभ होने वाला है। देश की पहली किसान रेल महाराष्ट्र और बिहार के बीच में शुरु हो चुकी है।'पीएम ने कहा, 'अब जब देश के बड़े शहरों तक छोटे किसानों की पहुंच हो रही है तो वो ताज़ा सब्जियां उगाने की दिशा में आगे बढ़ेंगे, पशुपालन और मत्स्यपालन की तरफ प्रोत्साहित होंगे। इससे कम ज़मीन से भी अधिक आय का रास्ता खुल जाएगा, रोज़गार और स्वरोज़गार के अनेक नए अवसर खुलेंगे। ये जितने भी कदम उठाए जा रहे हैं, इनसे 21वीं सदी में देश की ग्रामीण अर्थव्यवस्था की तस्वीर भी बदलेगी, कृषि से आय में भी कई गुणा वृद्धि होगी। हाल में लिए गए हर निर्णय आने वाले समय में गांव के नज़दीक ही व्यापक रोज़गार तैयार करने वाले हैं।'पीएम ने कहा, 'ये हमारे किसान ही हैं, जिन्होंने लॉकडाउन के दौरान देश को खाने-पीने के ज़रूरी सामान की समस्या नहीं होने दी। देश जब लॉकडाउन में था, तब हमारा किसान खेतों में फसल की कटाई कर रहा था और बुआई के नए रिकॉर्ड बना रहा था।'पीएम ने कहा, 'सरकार ने भी सुनिश्चित किया कि किसान की उपज की रिकॉर्ड खरीद हो। जिससे पिछली बार की तुलना में करीब 27 हज़ार करोड़ रुपए ज्यादा किसानों की जेब में पहुंचा है।'पीएम ने कहा, 'यही कारण है कि इस मुश्किल समय में भी हमारी ग्रामीण अर्थव्यवस्था मज़बूत है, गांव में परेशानी कम हुई है। हमारे गांव की ये ताकत देश के विकास की गति को भी तेज़ करने में अग्रणी भूमिका निभाए, इसी विश्वास के साथ आप सभी किसान साथियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं।'
जानिए क्या है एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड;-एग्री-इंफ्रा फंड कोरोना वायरस संकट के प्रभाव को कम करने के लिए सरकार द्वारा जारी 20 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज का एक हिस्सा था। एग्री-इंफ्रा फंड की अवधि साल 2029 तक 10 वर्षों के लिए है। इसका लक्ष्य ब्याज सबवेंशन और वित्तीय सहायता के जरिए पोस्ट-हार्वेस्ट मैनेजमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर और सामुदायिक खेती के लिए व्यवहार्य परियोजनाओं में निवेश के लिए मध्यम-से-लंबी अवधि के ऋण वित्तपोषण की सुविधा प्रदान करना है। इस कदम का लक्ष्य ग्रामीण क्षेत्र में निजी निवेश को बढ़ाना और अधिक रोजगार पैदा करना है।
इस साल वितरित होगा 10,000 करोड़ का लोन:-एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड में एक लाख करोड़ रुपये बैंकों और वित्तीय संस्थाओं द्वारा प्राइमरी एग्री क्रेडिट सोसाइटीज, फार्मर ग्रुप्स, फार्मर प्रोड्यूसर ऑर्गेनाइजेशंस, एग्री-उद्यमियों, स्टार्टअप्स और एग्री-टेक से जुड़े लोगों को लोन के रूप में उपलब्ध करवाए जाएंगे। लोन चार वर्षों में वितरित किये जाएंगे। मौजूदा वित्त वर्ष में10,000 करोड़ और अगले तीन वित्त वर्षों के दौरान प्रत्येक में 30,000 करोड़ रुपये का लोन वितरित होगा।

Page 5 of 1446

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें