नई दिल्ली। महिलाओं के बीच कोरोना रोधी वैक्सीनेशन के आंकड़ों में कमी वाली मीडिया रिपोर्ट पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने शुक्रवार को संज्ञान लिया। आयोग की ओर से राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को पत्र भेजा गया। इसमें कहा गया है कि वैक्सीनेशन में जेंडर के फासले को खत्म करने के उपाय किए जाएंगे।देशभर में जारी कोरोना वैक्सीनेशन के तहत महिला और पुरुष वर्ग में दिए गए डोज के बीच अंतर का जिक्र करते हुए NCW ने अपने पत्र में लिखा है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि वैक्सीनेशन अभियान में महिलाएं पीछे न छूट जाएं। NCW ने कहा, 'वैक्सीनेशन में महिला व पुरुषों के बीच अंतर चिंता का विषय है इसलिए अध्यक्ष रेखा शर्मा ने सभी राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों को लिखकर कहा है कि इस फासले को खत्म किया जाए ताकि महिलाएं इसमें पीछे न रहें।'आयोग ने पत्र में यह भी लिखा कि कई परिवार ऐसे हैं जहां यदि महिलाएं घर से बाहर नहीं निकलतीं तब पुरुषों की तुलना में उनके स्वास्थ्य को कम प्राथमिकता दी जाती है। लेकिन घर में सबका ध्यान रखने वाली महिलाओं पर संक्रमण का खतरा अधिक है और इसलिए ही उन्हें सबसे पहले वैक्सीन की खुराक दिया जाना जरूरी है। सरकार के आंकड़ों के अनुसार अब तक 27,86,40,043 पुरुष और 24,75,03,625 महिलाओं को कोरोना वैक्सीन की खुराक मिल चुकी है।केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए देश भर में जारी कोरोना वैक्सीनेशन के तहत अब तक 52,95,82,956 डोज लगाई जा चुकी है जिसमें से 57,31,574 डोज पिछले 24 घंटों में लगाई गईं। मंत्रालय ने बताया कि केंद्र ने अब तक राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को वैक्सीन की 55.01 करोड़ से अधिक डोज उपलब्ध कराई है। राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों और निजी अस्पतालों के पास अभी वैक्सीन की 2.82 करोड़ से अधिक डोज इस्तेमाल के लिए शेष हैं।मंत्रालय की ओर से आज सुबह जारी डाटा के अनुसार देश में अब तक कुल पॉजिटिव केस की संख्या 3,21,17,826 हो गई और 4,30, 254 संक्रमितों की मौत हुई है। वहीं संक्रमण से अब तक 3,13,02,345 लोग ठीक हो चुके हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">