नई दिल्‍ली। पूर्वी लद्दाख के डेमचोक सेक्टर में बीते सोमवार को भारतीय सेना द्वारा पकड़े गए चीनी सैनिक के बारे एक महत्‍वपूर्ण जानकारी सामने आई है। समाचार एजेंसी एएनआइ ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में बताया है कि चीनी सेना के जवान के पास स्लीपिंग बैग, स्टोरेज डिवाइस और एक मोबाइल फोन पाया गया था। सूत्र ने बताया कि भारतीय सुरक्षा बलों को उसके पास से चीनी सेना का परिचय पत्र भी मिला था। हालांकि पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी के इस जवान के पास जो स्‍टोरेज डिवाइस पाया गया वह खाली था।सूत्रों की मानें तो चीनी सेना के जवान की मुकम्‍मल तरीके से चेकिंग हुई उससे भारतीय क्षेत्र में आने को लेकर तमाम सवाल पूछे गए। सनद रहे कि इस चीनी सैनिक के पकड़े जाने के बाद भारतीय सूत्रों ने चीनी सेना के उस दावे को तथ्यात्मक रूप से गलत बताया था कि चीनी सैनिक चरवाहों की मदद करते समय भटककर भारतीय क्षेत्र में घुस गया था। बाद में पूरी पड़ताल के बाद इस चीनी सैनिक को भारतीय सेना ने पीएलए के हवाले कर दिया था। इसके बाद चीन की सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने कहा था कि सैन्य वार्ता से पहले भारतीय सेना का यह सकारात्मक कदम है।पकड़े गए सैनिक की पहचान चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी यानी पीएलए के कॉरपोरल वांग या लॉन्ग के रूप में हुई थी। इस जवान को भारतीय सेना ने चिकित्‍सकीय मदद भी दी थी। बता दें कि इस मामले में चीनी रक्षा मंत्रालय ने कहा था कि चीन और भारत के बीच समझौते के तहत रविवार को चीन-भारत सीमा के पास याक खोजने में स्थानीय चरवाहों की मदद करते समय कथित तौर पर भटक गए चीनी सैनिक को भारतीय सेना ने 21 अक्टूबर 2020 को तड़के सौंप दिया है। यह घटना ऐसे वक्‍त हुई है जब दोनों सेनाएं एलएसी पर आमने सामने मोर्चा संभाले हुए हैं।एलएसी पर दोनों देशों के बीच पिछले पांच महीनों से गतिरोध बना हुआ है। दोनों देश बातचीत के जरिये गतिरोध सुलझाने की कोशिशें कर रहे हैं लेकिन अभी तक कोई ठोस नतीजा नहीं निकल सका है। वास्तविक नियंत्रण रेखा यानी एलएसी के उल्लंघन पर दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच आठ चक्र की वार्ता हो चुकी है। नौवें चक्र की वार्ता अगले सप्ताह हो सकती है। बीते दिनों आठवें दौर की सैन्‍य वार्ता में भारत ने चीन से साफ कर दिया था कि पूर्वी लद्दाख में पूरी तरह से चीनी सेना की वापसी से कम कुछ भी मंजूर नहीं है। 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें