कटड़ा। मां वैष्णो देवी एक बार फिर अपने भक्तों पर कृपा बरसाएंगी। अगर सब ठीक रहा तो आगामी 16 अगस्त से श्रद्धालु त्रिकुटा पर्व की गुफा में विराजमान मां वैष्णो के आलोकित दर्शन कर पाएंगे। विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल मां वैष्णो देवी का प्रांगण एक बार फिर श्रद्धालुओं से गुलजार होगा। श्राइन बोर्ड ने श्रद्धालुओं के स्वागत की तैयारियां तेज कर दी हैं। बस अब उन्हें गृह विभाग जारी धार्मिक स्थलों को लेकर जारी होने वाले जरूरी दिशानिर्देशों यानी एसओपी का इंतजार है।विश्वस्त सूत्रों के अनुसार राज्य प्रशासन द्वारा जारी किए जाने वाले दिशानिर्देशों के तहत पहले चरण में केवल जम्मू-कश्मीर के निवासियों को ही वैष्णो देवी यात्रा करने की इजाजत होगी। पहले चरण में रोजाना केवल 4000 से 5000 ही श्रद्धालु मां वैष्णो देवी के दर्शन कर पाएंगे। यात्रा आरंभ करने से पहले श्रद्धालुओं के लिए आरटीपीएस टेस्ट करवाना अनिवार्य होगा। जम्मू-कश्मीर के हरेक जिले में आरटीपीएस सेंटर बनाया जाएगा। जिला रियासी में आरटीपीएस सेंटर आधार शिविर कटरा में बनेगा। यह सेंटर मुख्य यात्रा पंजीकरण केंद्र के पास होगा। पहले चरण में 10 साल से छोटे तथा 60 साल से ऊपर के श्रद्धालुओं को फिलहाल वैष्णो देवी यात्रा की इजाजत नहीं होगी।
केवल दिन को ही होगी यात्रा: कोरोना महामारी का प्रकोप जारी रहने तक श्रद्धालुओं को केवल दिन को ही यात्रा करने की इजाजत रहेगी। श्रद्धालु रात के समय ना तो भवन में प्रवेश कर पाएंगे और न ही भवन पर रहने की इजाजत दी जाएगी। इतना ही नहीं सुबह व शाम के समय मां वैष्णो देवी भवन पर होने वाली दिव्य महाआरती में भी श्रद्धालु शामिल नहीं हो पाएंगे।कोरोना काल के दौरान प्रसिद्ध अर्द्धकुंवारी मंदिर की पवित्र गुफा भी श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेगी। श्रद्धालु शारीरिक दूरी का पालन करते हुए केवल बाहर से ही दर्शन कर सकेंगे।
प्रवेश मार्गों पर स्थापित होंगी रैपिड टेस्ट मशीन: वैष्णो देवी यात्रा आरंभ करने से पहले श्राइन बोर्ड प्रशासन मां वैष्णो देवी के सभी प्रवेश द्वार जिनमें कटड़ा स्थित हेलीपैड, बाणगंगा स्थित दर्शनी ड्योढी, ताराकोट प्रवेश द्वार, अर्द्धकुंवारी मंदिर, वैष्णो देवी भवन तथा भैरव घाटी आदि स्थानों पर अत्याधुनिक रैपिड टेस्ट मशीनें भी स्थापित करेगा। हरेक श्रद्धालु को इन मशीनों के भीतर से जाना अनिवार्य होगा। मशीनों के बीच में जाते ही श्रद्धालु के सभी तरह के बॉडी टेस्ट दर्ज हो जाएंगे। इसके अलावा श्राइन बोर्ड प्रशासन सभी प्रमुख स्थलों के बाहर अत्याधुनिक ऑटोमेटिक हैंड फ्री सैनिटाइजर मशीनें भी लगाएगा।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें