नई दिल्ली। अयोध्या भूमि विवाद में मुस्लिम पक्षकारों की तरफ से केस लड़ने वाले वकीलों ने फिल्म पटकथा लेखक सलीम खान और जावेद अख्तर के पांच एकड़ जमीन को लेकर दिए गए बयान पर नाखुशी जताई है। सलीम-जावेद ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में अयोध्या में नई मस्जिद के निर्माण के लिए जो पांच एकड़ जमीन देने का आदेश दिया है, उस पर स्कूल, कॉलेज और अस्पताल का निर्माण कराया जाए।वकीलों का कहना है कि फिल्मी लोगों ने मुस्लिम समुदाय का प्रतिनिधित्व नहीं किया था और उनकी अयोध्या मसले में कोई भूमिका भी नहीं है। सुप्रीम कोर्ट में एक मुस्लिम पक्षकार की तरफ से पेश होने वाले वकील एमआर शमशाद ने कहा कि केंद्र या राज्य सरकार की तरफ से मिलने वाली जमीन पर स्कूल या अस्पताल का निर्माण इस मुद्दे को दबाना होगा।उन्होंने कहा कि देश भर में अस्पतालों की जरूरत है। अयोध्या मुद्दे से देश में व्यवस्था के काम करने का इम्तेहान हुआ। हमें वो सारे काम करने चाहिए जिससे व्यवस्था कानून के मुताबिक काम करने के लिए विवश हो जाए।इस मामले से जुड़े एक अन्य वकील ने अपना नाम गुप्त रखने की शर्त पर बताया कि वर्तमान मामला मुस्लिमों के प्रतिनिधित्व से जुड़ा है, इससे नामचीन हस्तियों का कुछ लेना देना नहीं है। उन्होंने कहा कि न तो हम इन लोगों की सलाह सुनना चाहते हैं और न ही उनकी सलाह पर कोई टिप्पणी करना चाहते हैं। मुस्लिम पक्षकारों की तरफ से केस लड़ने वाले वरिष्ठ वकील शेखर नफाडे और मीनाक्षी अरोड़ा ने तो इन लोगों के बयान पर टिप्पणी करने से ही इन्कार कर दिया।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें