नई दिल्ली।मेजबान भारत और साउथ अफ्रीका के बीच पुणे में खेले जा रहे तीन मैचों की सीरीज के दूसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन का खेल समाप्त हो गया है। तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद भारत को बड़ी बढ़त मिल गई है। पहली पारी में साउथ अफ्रीका को 275 रन पर ढेर करने के बाद भारतीय टीम के पास 326 रन की बड़ी बढ़त है, बावजूद इसके साउथ अफ्रीका के पुछल्ले बल्लेबाजों ने भारतीय टीम को सोचने पर मजबूर कर दिया है।भारतीय टीम ने अपनी पहली पारी को 601 रन पर घोषित किया था। इसके बाद जब साउथ अफ्रीकाई टीम अपनी पहली पारी खेलने उतरी तो उसके पहले तीन विकेट जल्दी गिर गए। यहां तक कि मैच के तीसरे दिन की शुरुआत में नाइट वॉचमैन के रूप में आए एनरिच नोर्तजे भी जल्दी आउट हो गए। प्रोटियाज टीम के 5 विकेट 53 रन के स्कोर पर गिर घए थे, लेकिन इसके बाद कुछ एक साझेदारियां टीम के बल्लेबाजों के बीच हुईं और स्कोर को 100 और फिर 200 के पार ले जाया गया।साउथ अफ्रीका की ओर से कप्तान फाफ डुप्लेसी ने 64 और केशव महाराज ने 72 रन की पारी खेली, जबकि वर्नन फिलेंडर 44 रन बनाकर नाबाद रहे। इनके अलावा क्विंटन डिकॉक ने 31 और थ्युनस डिब्रॉएन ने 30 रनों का योगदान दिया। भारतीय टीम को साउथ अफ्रीका के पुछल्ले बल्लेबाजों (केशव महाराज और वर्नन फिलेंडर) ने परेशान किया और ये बात सोचने पर मजबूर कर दिया कि क्या भारतीय टीम को फॉलोआन लेना चाहिए या नहीं? क्योंकि भारत के पास इस समय 326 रन की विशाल बढ़त है।
ये है चिंता का विषय:-अब जब तीसरे दिन का खेल समाप्त हो गया और भारत के पास 300 से ज्यादा रन की बढ़त है। ऐसे में फॉलोआन को लेकर कप्तान विराट कोहली अपनी टीम के खिलाड़ियों और टीम मैनेजमेंट से बात कर सकते हैं कि क्या फॉलोआन लेना सही होगा। हालांकि, कई बार देखा गया है कि कप्तान विराट कोहली बहुत कम बार फॉलोआन लेने की जहमत उठाते हैं, क्योंकि चौथी पारी या फिर पांचवें दिन रन बनाने में काफी मुश्किलें आती हैं।टीम इंडिया को फॉलोआन देने या नहीं देने के लिए इसलिए भी सोचना पड़ रहा है, क्योंकि तीन दिन बीत जाने के बाद भी पिच बल्लेबाजी के लिए अच्छी है। गेंदबाजों के लिए मदद तो है, लेकिन ज्यादा कुछ असर किसी गेंदबाज का दिख नहीं रहा। ऐसे में साउथ अफ्रीका के निचले क्रम ने अच्छी बल्लेबाजी कर भारतीय टीम को ये फैसला लेने के लिए और भी ज्यादा चिंता में डाल दिया है। अब देखना ये है कि क्या भारतीय टीम रविवार को बल्लेबाजी करने उतरेगी या फिर गेंदबाजी करना चाहेगी?

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें