नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने तीन साल पहले एक रिपोर्ट तैयार करने की सलाह दी थी, जिसमें यह पता करना था कि विश्व से मलेरिया के उन्मूलन में कितनी लागत लगेगी और यह कितना संभव हो पाएगा। दुनिया के प्रमुख मलेरिया विशेषज्ञों, वैज्ञानिकों और अर्थशास्त्रियों ने यह निष्कर्ष निकाला की 2050 तक मलेरिया से दुनिया को मुक्ति दिलाई जा सकती है। मलेरिया उन्मूलन पर द लांसेट द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट में इस महामारी से निपटने के विज्ञान और वित्तीय विश्लेषणों का अध्ययन किया गया है।
मलेरिया के मामलों में आई गिरावट:-2000 के बाद से विश्व में मलेरिया के मामलों और मृत्युदर में क्रमश: 36 और 60 फीसद की गिरावट आई है। 2017 में 86 देशों में मलेरिया से 21.9 करोड़ मामले सामने आए और इसमें 4,35,000 लोगों की इस बीमारी की वजह से मौत हो गई थी। वहीं, अगर वर्ष 2000 के आंकड़े देखें तो पता चलता है कि तब 26.2 करोड़ मामले सामने आए थे और 8,39,000 लोगों की मौत हुई थी। वर्तमान में दुनिया के आधे देश मलेरिया से मुक्त हो चुके हैं। हालांकि, प्रत्येक वर्ष मलेरिया के 20 करोड़ मामले सामने आते हैं। अफ्रीका, एशिया और लैटिन अमेरिका के 55 देशों में मलेरिया के मामले बढ़ रहे हैं।
विश्व में मलेरिया की स्थिति:-विश्व के 29 देशों (27 अफ्रीका के) में मलेरिया के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। दुनिया में इससे होने वाली 85 फीसद मौतें इन्हीं देशों में होती हैं। वैश्विक मलेरिया के 36 फीसद मामले मात्र दो देशों नाइजीरिया और डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो से सामने आते हैं। वहीं, दूसरी ओर 38 देश ऐसे हैं जहां 1000 की आबादी में 10 से भी कम मलेरिया के मामले सामने आते हैं और मलेरिया से होने वाली मौतों के केवल पांच प्रतिशत मामले ही इन देशों से होते हैं।
दुनिया को मलेरिया से मुक्त कराने की पहल;-लांसेट की रिपोर्ट में 2030 और 2050 तक मलेरिया की स्थिति के बारे में विचार किया गया है। विश्लेषणों से संकेत मिलता है कि सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरणीय रुझान 2050 तक विश्व में मलेरिया के उन्मूलन में विशिष्ट भूमिका निभाएंगे। 2050 तक दुनिया काफी हद तक मलेरिया से मुक्त हो जाएगी, लेकिन तब भी अफ्रीका के सेनेगल से मोजांबिक तक में मलेरिया की एक जिद्दी बेल्ट मौजूद रहेगी।
तीन तरीकों से आ सकती है कमी:-रिपोर्ट में मलेरिया के मामलों में तेज गिरावट लाने के लिए तीन तरीके बताए गए हैं। सबसे पहले दुनिया को मलेरिया नियंत्रण कार्यक्रमों के कार्यान्वयन में सुधार करना चाहिए। दूसरा यह कि इस बीमारी को दूर करने में आने वाले जैविक अवरोध को रोकने के लिए नई तकनीक और उपकरणों को विकसित करना। तीसरा यह है कि मलेरिया फैलने वाले देशों को वित्तीय मदद उपलब्ध कराना।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें