नई दिल्ली।देश की सड़कों पर हर घंटे 17 लोग अपनी जान गंवा रहे हैं। ये खुद भारत सरकार कह रही है कि ज्यादातर जानें तेज रफ्तार वाहनों के चलते जा रही है। यह आकड़ा भले ही चौंकाने वाला हो, लेकिन है 100 फीसद सच। ऐसे में खूनी एक्सप्रेस-वे के रूप में कुख्यात हो चुके ग्रेटर नोएडा से यमुना एक्सप्रेस-वे (Yamuna Expressway or Taj Expressway) पर वाहनों की रफ्तार पर लगाम लगाने की कयावद शुरू हो गई है। इसके तहत तेज रफ्तार और गलत लेन में चलने पर चालान तो काटा ही जा रहा है। इस बीच यह भी नियम बनने जा रहा है कि अगर किसी वाहन चालक ने तय समय से पहले 165 किलोमीटर लंबे एक्सप्रेस-वे को पार किया तो चालान कटना तय है वह भी 2000 रुपये होगा।
तेज रफ्तार पर कटेगा चालान:-तेजरफ्तार वाहन चालकों पर लगाम लगाने के मकसद से अब यमुना एक्सप्रेस-वे के जीरो प्वाइंट पर दोनों ओर टाइम बूथ बनाए जा रहे हैं। बता दें कि ग्रेटर नोएडा शहर में स्थित सफीपुर और आगरा में जीरो पॉइंट के पास 20 दिन के अंदर इनका निर्माण पूरा हो जाएगा। ग्रेटर नोएडा में सफीपुर गांव के पास तो आगरा में भी जीरो प्वाइंट पर 165 किलोमीटर लंबा यमुना एक्सप्रेस-वे पर समाप्त होता है।
2000 रुपये कटेगा चालान:-नए नियम के मुताबिक, यमुना एक्सप्रेस-वे पर वाहन चालक की रफ्तार तय समय सीमा से ज्यादा रही तो 2000 रुपये जुर्माना देना होगा। इसके ट्रैफिक पुलिसकर्मियों की तैनाती भी जरूरी नहीं है। ग्रेटर नोएडा और आगरा में एक्सप्रेसवे के जीरो पॉइंट पर दोनों ओर टाइम बूथ बन रहे हैं। जो समय से पहले पहुंचने वालों पर भारी जुर्माना लगाएंगे।

यह है योजना
-सफीपुर और आगरा में जीरो पॉइंट पर लगेंगे टाइम बूथ
-20 दिन के अंदर निर्माण कार्य पूरा होने पर लागू हो जाएगी व्यवस्था
-2000 रुपये न्यूनतम होगा चालान, डीएल भी हो सकता है सस्पेंड
बताया जा रहा है कि दोनों ओर से वाहन के चलने का समय एक-दूसरे स्थानों पर भेज दिया जाएगा और फिर वाहन चालक ने यात्रा मानक समय से पहले पूरा की तो ओवरस्पीड का चार्ज लगेगा। यह चालान पूरे 2000 रुपये का होगा। इतना ही नहीं गति ज्यादा मिलने पर वाहन चालक का लाइसेंस भी निलंबित हो सकता है। यहां पर बता दें कि यमुना एक्सप्रेस-वे पर कार के लिए गति सीमा 100 किलोमीटर प्रति घंटे तो भारी वाहनों के लिए 80 किलोमीटर है।
सड़क हादसों पर लगेगी लगाम;-यमुना एक्सप्रेस-वे पर गति सीमा के साथ निगरानी तंत्र मजबूत होने से लोग जुर्माने के साथ लाइसेंस निरस्त होने के डर से वाहन धीमी गति से चलाएंगे।बता दें कि नया मोटर वाहन संशोधन विधेयक 2019 लोकसभा और राज्यसभा में भी पास हो चुका है। ऐसे में सरकार आगामी एक सितंबर से इसे प्रभावी कर सकती है। इतना ही नहीं, सरकार की योजना है कि इसके कुछ प्रावधानों को तुरंत लागू किया जाए।नए मोटर अधिनियम में शराब पी कर गाड़ी चलाने पर दो हजार रुपये की जगह 10 हजार जुर्माना देना होगा। वहीं बिना सीट बेल्ट लगाए ड्राइविंग करने पर 100 रुपये की बजाय एक हजार रुपये जुर्माना देना होगा।
-यमुना एक्सप्रेसवे पर जाने वाले हैं तो ठहरिए।
-2 मिनट की यह खबर आपके 2000 रुपये बचा सकती है।
-कैमरों पर निगाहें रखकर फर्राटा भरना भारी पड़ सकता है।
-एक्सप्रेसवे के जीरो पॉइंट पर दोनों ओर टाइम बूथ बन रहे हैं।
-ग्रेनो में सफीपुर और आगरा में जीरो पॉइंट के

प्राधिकरण की ओर से दिए गए इन सुझावों पर नहीं हुआ अमल
-चालकों को नींद न आए, इसके लिए जगह-जगह रंबल स्ट्रिप लगाने
-एक्सप्रेस-वे पर लेन बदलने के लिए पेंटिग का निशान लगाने
-खराब वाहनों को पांच मिनट के अंदर एक्सप्रेस-वे से हटाने
-तेज रफ्तार वाहनों को कैद करने के लिए सीसीटीवी कैमरों की संख्या बढ़ाने
-खराब वाहनों को हटाने के लिए क्रेन की संख्या बढ़ाने
-एक्सप्रेस-वे पर लगे इमरजेंसी बाक्सों को सही कराने
-हर पांच किमी पर चालकों को यातायात के नियम बताने के लिए बोर्ड लगाने
-तेज रफ्तार वाहनों के चालान काटने
-कॉल सेंटर पर जानकारी देने के लिए एसएमएस सेवा शुरू करने बाक्स

सफर के दौरान इन सुझावों पर करें अमल
-वाहनों को सौ किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से अधिक पर वाहन न चलाएं
-नींद आने और थकान होने पर वाहन न चलाए
-पास लेने के दौरान दाहिने और बाएं दूसरे वाहनों पर नजर रखे
-शराब पीकर एक्सप्रेस वे पर वाहन न चलाए
-ड्राइविंग करते समय मोबाइल पर बात न करें
-टायर पुराने हैं तो वाहन की गति 60 किमी प्रतिघंटा से अधिक न रखें
-यातायात नियमों का पूरी सजगता से पालन करें
-वाहन खराब होने पर इसकी सूचना तत्काल एक्सप्रेस वे प्रशासन को दें
-एक्सप्रेस-वे पर सफर शुरू करने से पहले टायरों की जांच जरूर करें
-एक्सप्रेस-वे प्रतिदिन गुजरने वाले वाहनों की संख्या - 28000
-प्रतिदिन एक्सप्रेस-वे से 84000 वाहन गुजर सकते हैं

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें