नई दिल्ली। आज जब लगभग हर चीज फोन के एक टच पर उपलब्ध है, तो ऐसे में सरकारें भी अपने कामकाज के तरीके कोबदल रही हैं ताकि बहुमूल्य समय और संसाधनों का सही तरीके से इस्तेमाल कर तेजी से काम किया जा सके। पिछले कुछ सालों में ई-गवर्नेंस के जरिए सरकारी सेवाओं को जनता तक जल्द पहुंचाने में उत्साहजनक सफलता मिली है। सरकारी कामकाज में इसी डिजिटल क्रांति का अगला चरण है UPSWAN 2.0, जिसे देश की अग्रणी टेलीकॉम कंपनी Airtel ने खासतौर पर उत्तर प्रदेश के लिए बनाया है।
UPSWAN 2.0 की जरूरत क्यों?;-बड़ा राज्य, भारी जनसंख्या और सीमित संसाधन- ये चीजें किसी भी स्टेट मशीनरी को सुस्त बनाने के लिए काफी हैं। और उत्तर प्रदेश जैसा बड़ा राज्य, लंबे समय से इन समस्याओं के साथ जूझ रहा है- जिसका नतीजा है सरकारी दफ्तर में राशन कार्ड, जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र, पेंशन और सरकारी मदद के लिए आवेदन जैसे मूलभूत कागजों के लिए भी लंबी लाइनें और लंबा इंतजार। जाहिर है इतनी बड़ी आबादी के इतने बड़े डेटा की सहज उपलब्धता न होने के चलते ही इन कामों में जरूरत से ज्यादा वक्त लग जाता है। इसी के चलते उत्तर प्रदेश सरकार ने UPSWAN 2.0 का सहारा लिया है- ताकि उत्तर प्रदेश की सभी सरकारी और प्रशासनिक मशीनरी को एक तार में जोड़कर कामों में होनेवाली देरी से निजात मिले और जनता तक पहुंचनेवाली सरकारी सुविधाओं का लाभ जल्द से जल्द दिया जा सके।
क्या है UPSWAN 2.0?:-UPSWAN 2.0 उत्तर प्रदेश सरकार की एक महत्वाकांक्षी आधारभूत परियोजना है जिसे राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस प्लान के तहत अमल में लाया गया है। ये परियोजना अपने आप में देश की सबसे बड़ी ऐसी परियोजना है जिससे पूरे उत्तर प्रदेश के राज्य स्तरीय, जिले, ब्लॉक और तहसील मुख्यालय आपस में जुड़ जाएंगे। इस आधुनिक नेटवर्क इन्फ्रास्ट्रक्चर में 885 प्वाइंट ऑफ प्रेजेंस हैं जो एक सुरक्षित और हाई स्पीड नेटवर्क के जरिए सरकारी सेवाएं जनता तक पहुंचाएंगे। साधारण शब्दों में इस नेटवर्क के जरिए ब्लॉक स्तर से लेकर पूरे राज्य का सरकारी डेटा सभी मुख्यालयों की पहुंच में होगा। जिससे सरकारी सेवाएं तेजी से जनता तक पहुंचायी जा सकेंगी।
आम जनता के लिए मददगार;-अब तक उत्तर प्रदेश सरकार 57 सरकारी सेवाएं अपने ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल के जरिए जनता तक पहुंचाती रही है।
लेकिन UPSWAN 2.0 के जरिए अब-
• सुदूर इलाकों और कोनों तक सरकारी सेवाएं ई-डिलिवरी के जरिए पहुंचाई जा सकेंगी।
• राज्य के सभी निवासी, राज्य सरकार के किसी भी मुख्यालय से अपनी जरूरत का सर्टिफिकेट आसानी से आवेदन करके ले सकते हैं।
• राज्य के नागरिक आसानी से पेंशन, सरकारी मदद, नए राशन कार्ड या नवीनीकरण और रोजगार के लिए राज्य के सभी मुख्यालयों में आवेदन दे सकते हैं।
• अब मुख्यालयों से बिना किसी देरी के जन्म/मृत्यु प्रमाणपत्र बेहद आसानी से जारी किए जा सकेंगे।
कैसे साकार हुआ UPSWAN 2.0 ?;-UPSWAN 2.0 Airtel का ऐसा प्रोडक्ट है जिसे खास तौर पर उत्तर प्रदेश सरकार के लिए डिजाइन किया गया है। इसके लिए कंपनी ने राज्य में बृहद नेटवर्क इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार किया है ताकि सरकारी सेवाओं को डिजिटल माध्यम के जरिए प्रदेश के कोने-कोने में पहुंचाया जा सके। इसमें MPLS, इंटरनेट, नेटर्क हार्डवेयर के संसाधन, सेक्योरिटी फायरवॉल, सिस्टम इंटीग्रेशन और मैनेज्ड सर्विस समेत तमाम चीजें Airtel ने मुहैय्या करवाई हैं। सभी राजकीय मुख्यालयों को 10 GBPS और तहसील और ब्लॉक मुख्यालयों को 10 MBPS की नेटवर्क कनेक्टिविटी दी गई है। साथ ही इस प्रोजेक्ट के तहत नेटवर्क परफॉर्मेंस की निगरानी के लिए लखनऊ में एक नेटवर्क ऑपरेशन सेंटर भी स्थापित किया गया है। यही नहीं, UPSWAN 2.0 के जरिए उत्तर प्रदेश सरकार एक ऐसी नींव रख रही है, जिस पर भविष्य में पूरे राज्य में स्मार्ट सिटी बनाई जाएंगी।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें