मुंबई। सांप के काटने की घटनाएं तो आपने बहुत सी सुनी, देखी या पढ़ी होंगी, लेकिन सर्पदंश की ये घटना अपने आप में बेहद अनोखी है। बारिश से सराबोर मुंबई में केवल आम लोग ही नहीं, बल्कि जीव-जन्तु भी अपनी जान बचाने और सुरक्षित आसरे के लिए इधर-उधर भटक रहे हैं। ऐसे में जब एक जहरीला सांप आबादी वाले क्षेत्र में पहुंचा तो एक चौंकाने वाली घटना सामने आयी। जहरीले और बेहद खतरनाक सांप रैटल वाइपर (Rattle Viper) ने एक घर में घुसकर मां-बेटी को डस लिया। इसके बाद जो हुआ उसने सबको चौंका कर रख दिया।जहरीले सांप के काटने की ये घटना मायानगरी मुंबई के धारावी (Dharavi) इलाके की है। धारावी बस डिपो के पास स्थित महाराष्ट्र नेचर पार्क (Maharashtra Nature Park) के पास आबादी वाले एक इलाके में 18 साल की तैशीन सलीम खान अपनी मां सुल्ताना खान (34) के साथ रहती हैं। रविवार सुबह बारिश के दौरान इनके घर में एक बेहद जहरीला रैटल वाइपर सांप घुस आया। इसकी लंबाई एक फुट थी।सांप जिस वक्त इनके घर में आया बेटी तैशीन सलीम खान दरवाजे पर खड़ी थी। सांप ने वहीं दरवाजे पर उसे काट लिया। वह जोर से चिल्लाई। उसके चिल्लाने की आवाज सुनकर उसकी मां सुल्ताना खान भागकर उसकी मदद करने को पहुंची। उन्होंने सांप को पूंछ से पकड़ने का प्रयास किया। रैटल वाइपर जितना जहरीला होता है, उतना ही तेज और फुर्तीला भी होता है। पूंछ से पकड़ने जाने के दौरान सांप ने सुल्ताना को भी काट लिया।
सांप को लेकर अस्पताल पहुंची;-इसके बाद जो हुआ वह बेहद चौंकाने वाला था। सांप के काटे जाने के बाद मां-बेटी उस बेहद खतरनाक सांप को लेकर अस्पताल पहुंच गईं। सुल्ताना के पति सलीम खान, धारावी स्थित एक कंस्ट्रकशन कंपनी में काम करते हैं। उन्होंने बताया कि उनकी पत्नी और बेटी सांप को लेकर इसलिए अस्पताल पहुंच गईं, क्योंकि वो जानना चाहती थीं कि सांप कितना खतरनाक है। उसके कांटने से मौत हो सकती है या नहीं। साथ ही सांप को देखने के बाद डॉक्टरों को भी इलाज में आसानी हो। सलीम ने बताया कि जिस वक्त ये घटना हुई, वह अपने ऑफिस में थे।
सांप पकड़ने वाली टीम से डॉक्टरों ने ली सलाह:-अस्पताल प्रबंधन के अनुसार सांप को लेकर अस्पताल पहुंची मां-बेटी को तुरंत आपातकालीन वार्ड में भर्ती कर लिया गया। वहां उन्हें तुरंत कुछ एंटीबॉयोटिक दिए गए। साथ ही अस्पताल प्रबंधन ने सांप पकड़ने वाली टीम (Snake Catchers) को सांप के बारे में जानकारी दी। इसके बाद सांप के विशेषज्ञों ने अस्पताल के डॉक्टरों को सांप और उसके जहर के बारे में बताया। उसके आधार पर डॉक्टरों ने तुरंत मां-बेटी का इलाज शुरू कर दिया।
सांप को देख इलाज में हुई सुविधा;-अस्पताल के डॉक्टरों के अनुसार मां-बेटी चुंकि सांप अपने साथ ले आयी थीं, इसलिए सांप और उसके जहर के बारे में तुरंत पता चल गया और उसी के अनुसार दोनों का तुरंत इलाज शुरू कर दिया गया। इससे इलाज में काफी आसानी हुई। रैटल वाइपर सांप इतना खतरनाक होता है कि जरा सी देरी होने पर जान जाना तय माना जाता है। ये सांप बहुत जहरीला होता है। फिलहाल दोनों की हालत खतरे से बाहर है और मां-बेटी को वार्ड में शिफ्ट किया जा चुका है।
उस पल को याद कर कांप जाती हूं;-बेहद जहरीले सांप का शिकार होने की वजह से दोनों के हाथों में काफी सूजन है। तैशीन ने बताया कि सांप के काटने के थोड़ी देर बाद ही उसे बहुत तेज दर्द शुरू हो गया था। ऐसा लग रहा था मानों नसें फट जाएंगी। कोई हाथ में एक साथ हजारों सुई चुभा रहा हो। वह उस पल को याद कर भी कांप जाती हैं। सुल्ताना के अनुसार उनकी बेटी के हाथ में ज्यादा सूजन है। इस वजह से उसे काफी दर्द भी हो रहा है। हालांकि, डॉक्टर उनका इलाज कर रहे हैं।
पूंछ से पकड़ने के दौरान सांप ने काटा;-सुल्ताना ने बताया कि सांप ने पहले बेटी को काटा। इसके बाद जब उन्होंने सांप को पूंछ से पकड़ने का प्रयास किया तो उसने उन्हें भी काट लिया। बावजूद वह हिम्मत नहीं हारी और उन्होंने किसी तरह सांप के सिर को पकड़ लिया। इसके बाद वह सांप को हाथ में पकड़े हुए बेटी के साथ टैक्सी में बैठकर अस्पताल पहुंच गईं। उस वक्त उन्हें कुछ नहीं सूझ रहा था। उन्हें बस एक बात पता था कि अपनी और बेटी की जान बचानी है। वह सांप को भी नुकसान नहीं पहुंचाना चाहती थीं। इसलिए उन्होंने उसे मारा नहीं, बल्कि जिंदा ही उसे पकड़कर अपने साथ अस्पताल लेती गईं।
मां के हाथ में सांप देख अस्पताल में मचा हड़कंप:-सुल्ताना ने बताया कि जब वह हाथ में एक बेहद जहरीला सांप लेकर अस्पताल पहुंची तो वहां भी हड़कंप मच गया। उन्होंने अस्पताल के कर्मचारियों को बताया कि सांप ने उन्हें और उनकी बेटी को काट लिया है। उन्होंने अस्पताल कर्मियों से कहा कि एक जार लाकर सांप को उसमें रख दें। इसके बाद उन्होंने सांप को सुरक्षित शीशे के एक जार में रख दिया

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें