नई दिल्ली। जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही है। अब दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को नरेश गोयल को विदेश जाने की अनुमति देने से मना कर दिया है। इसके साथ ही हाई कोर्ट ने यह भी कहा कि अगर गोयल विदेश यात्रा करना चाहते हैं, तो उन्हें पहले बतौर गारंटी 18,000 करोड़ रुपये जमा कराने होंगे।दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश सुरेश कैत ने कहा कि इस समय नरेश गोयल को कोई अंतरिम राहत नहीं दी जा सकती है। साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा कि यदि गोयल तत्काल विदेश यात्रा करना चाहते हैं तो उन्हें बतौर गारंटी 18,000 करोड़ रुपये जमा कराने होंगे। कोर्ट ने गोयल के नाम जारी लुक आउट सर्कुलर के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी की। कोर्ट ने नरेश गोयल के खिलाफ जारी लुक आउट सर्कुलर को चुनौती देने वाली याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब भी मांगा हैगंभीर वित्तीय संकट से जूझ रही और अस्थायी रूप से बंद जेट एयरवेज के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल ने लुक आउट सर्कुलर को चुनौती देने वाली याचिका में कहा है कि उनके खिलाफ कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गयी है फिर भी उन्हें 25 मई को दुबई की एक उड़ान से उतार लिया गया। उन्होंने कहा कि उन्हें लुक आउट सर्कुलर की जानकारी ही 25 मई को तब मिली जब वे और उनकी पत्नी अनीता दुबई जा रहे थे, जहां से वे लंदन जाने वाले थे।गौरतलब है कि, 25 मई को नरेश गोयल और उनकी पत्नी अनिता गोयल को विदेश जाने की इजाजत नहीं दी गई थी। मुंबई एयरपोर्ट पर गोयल दंपती को आव्रजन अधिकारियों ने दुबई जाने वाले विमान में सवार नहीं होने दिया था। वे दुबई की विमानन कंपनी एमिरेट्स की उड़ान संख्या ईके-507 से दुबई जाने के लिए एयरपोर्ट पहुंचे थे। सूत्रों के अनुसार, अधिकारियों ने विमान में अनिता गोयल के नाम से लोड हो चुके सामान को भी वापस निकाल लिया था।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें