नई दिल्ली। कार में दिए गए सेफ्टी फीचर्स की बात करें, तो एयरबैग्स सबसे पहले आते हैं। ये एयरबैग्स ही हैं, जो हादसों के दौरान कार के ड्राइवर की जान बचाते हैं। एयरबैग्स के महत्व को इस तरह से भी समझा जा सकता है कि अब लगभग सभी कारों में एयरबैग्स की संख्या बढ़ा दी गई है। हालांकि, इससे कार की कीमतों में भी बढ़ोतरी हुई है। यही कारण भी है कि फ्लैगशिप कारों में एयरबैग्स की संख्या बजट कारों के बजाए ज्यादा होती हैं। ऐसे में एक सवाल जो हमेशा उठता है वो ये कि क्या ये एयरबैग्स हर बार जान बचा सकते हैं? ये सवाल इसलिए भी जरूरी है, क्योंकि हम कई बार सुनते हैं कि टक्कर के बावजूद भी कार के एयरबैग्स नहीं खुले। ऐसा क्यों होता है? आज हम आपको इसी के बारे में बताने जा रहे हैं।
सीट बेल्ट:-कई हादसों में एयरबैग्स के न खुलने का एक सबसे बड़ा कारण ड्राइवर का सीट बेल्ट न पहनना है। एयरबैग्स सही समय में काम करें इसके लिए बहुत जरूरी है कि आप सीट बेल्ट पहने। सीट बेल्ट न पहनने पर हादसे के दौरान एयरबैग्स नहीं खुलते हैं और अगर खुलते भी है तो उनकी इफीशियंसी कम हो जाती है।
कस्टमाइजेशन:-कई बार ग्राहक अपनी कार को अपनी पसंद के मुताबिक मॉडिफाइड कराते हैं। ऐसे में कई बार कार के जरूरी फीचर्स भी इन मॉडिफिकेशन्स की भेंट चढ़ जाते हैं। जैसे मॉडिफिकेशन्स के नाम पर कई बार के वजन और इंजन के साथ कार की डिजाइनिंग से भी बड़ा छेड़छाड़ हो जाता है। ऐसे में दुर्घटना के दौरान कार के एयरबैग्स कई बार काम नहीं करते हैं। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने मॉडीफाइड कार और बाइक को लेकर बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट के फैसले के मुताबिक अब कार की स्टाइल और लुक में बड़ा फेरबदल करने पर वाहन का रजिस्ट्रेशन नहीं होगा।
कार की कंडीशन:-अगर आपकी कार काफी पुरानी हो गई है या आप इसकी मैनटेनेंस को लेकर सतर्क नहीं है, तो इसका असर कार के एयरबैग्स पर भी पड़ सकता है। ऐसे में हो सकता है दुर्घटना के समय कार के एयरबैग्स काम न करें।
रफ्तार;-एयरबैग्स के न खुलने का एक बड़ा कारण कार की रफ्तार भी होती है। दरअसल कार के एयरबैग्स को इस तरह डिजाइन किया जाता है कि ये एक तय स्पीड पर ही खुलते हैं। जैसे अगर 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से कार को टक्कर लगती है, तो इसके एयरबैग्स नहीं खुलेंगे। हालांकि, कम रफ्तार में आपको एयरबैग्स की जरुरत भी नहीं पड़ेगी।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें