मंडी। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) मंडी के पांच सहायक प्रोफेसर व एक बीटेक प्रशिक्षु लाहुल-स्पीति में लापता हाे गए हैं। इन लोगों से तीन दिन से संपर्क नहीं हो पाया है। बारिश और बर्फबारी में फंसे होने की आशंका जताई जा रही है। सोमवार को प्रशिक्षु व पांचों सहायक प्रोफेसरों के संस्थान में न पहुंचने पर जब जांच पड़ताल शुरू हुई तो उनके लाहुल-स्पीति में लापता होने की बात सामने आई।वहीं हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि लाहौल स्पीति में ट्रेकिंग कर रहे आईआईटी रुड़की के छात्रों समेत सभी 50 ट्रेकर्स सुरक्षित निकाल लिया गया है।इसके बाद आइआइटी प्रबंधन ने मंडी, कुल्लू व लाहुल-स्पीति प्रशासन से संपर्क कर मदद की गुहार लगाई है। प्रशासन इन लोगों की तलाश में वायुसेना की मदद लेने पर विचार कर रहा है। आइआइटी मंडी में स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग की सहायक प्रोफेसर डाॅ. मौसमी मुखर्जी अपने स्टाफ के अन्य सदस्यों डाॅ. गौरव भुटानी, डॉ. कैसर जहान, डॉ. प्रदीप कुमार व डॉ. महेश कुमार के साथ 20 सितंबर शाम को मनाली के लिए रवाना हुए थे।20 सितंबर की रात को यह लोग मनाली के किसी होटल में ठहरे थे। 21 सितंबर की सुबह साढ़े छह बजे इन लोगों की अपने किसी परिचित से मोबाइल फोन पर अंतिम बार बात हुई थी। उन्होंने अपने परिचित काे बताया था कि वह लोग यहां होटल में ठहरे हुए हैं। रोहतांग जाने के लिए तैयार हैं। सभी लोग मारुति जिप्सी में गए थे। इन लोगों का लाहुल-स्पीति स्थित चंद्रताल झील देखने जाने का कार्यक्रम था। ऐसा बताया जा रहा है। पांचों अपने व्यक्तिगत टूर पर गए थे। तय कार्यक्रम के तहत इन्हें रविवार शाम को मंडी लौटना था।21 सितंबर देर शाम लाहुल-स्पीति में अचानक मौसम खराब होने से बर्फबारी शुरू हाे गई थी। तीन दिन में तीन से चार फुट तक हिमपात हो चुका है। पांचों सहायक प्रोफेसर के मोबाइल नंबर स्विच ऑफ हैं। सोमवार को आइआइटी प्रबंधन, उनके परिचित व प्रशासन दिन भर संपर्क साधने की कोशिश करता रहा। लेकिन किसी से कोई संपर्क नहीं हो पाया।लाहुल-स्पीति प्रशासन से भी कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिल रही है। आइआइटी का एक बीटेक प्रशिक्षु अलग से रोहतांग गया हुआ था। उससे भी कोई संपर्क नहीं हो पाया रहा है। अचानक हुए बर्फबारी से लेह से मनाली के बीच 500 से अधिक स्थानीय लोग व पर्यटक सरचू व पांग व भरतपुर के बीच फंसे होने की सूचना है। हालांकि इनको लेकर कोई अधिकारिक जानकारी नहीं है।
आइआइटी प्रबंधन ने पांच सहायक प्रोफेसर व प्रशिक्षु के लाहुल-स्पीति में तीन दिन से फंसे होने की सूचना दी है। मामला लाहुल-स्पीति प्रशासन के संज्ञान में लाया गया है। प्रदेश सरकार को भी इसकी जानकारी दी गई है।-ऋग्वेद ठाकुर, उपायुक्त मंडी
पांचों लोग अपने व्यक्तिगत कार्यक्रम से गए हैं। आइआइटी प्रबंधन को इसकी जानकारी सोमवार सुबह मिली है। तीन जिलों के प्रशासन से मदद मांगी गई है।-डाॅ. विशाल चौहान, रजिस्ट्रार आइआइटी मंडी

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें