खेल

खेल (5105)

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड इन दिनों एक नई समस्या से जूझ रहा है। दरअसल लंबे विदेशी दौरों के लिए बीसीसीआइ ने क्रिकेटरों के परिवार के लिए कुछ वक्त तय किए हैं जब वो उनके साथ रह सकते हैं। इस दौरान क्रिकेटर अपनी पत्नी, बच्चों और परिवारों के साथ यात्रा करते हैं। सूत्रों के मुताबिक बीसीसीआइ को ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। बोर्ड को खिलाड़ियों व उनके परिवारों के साथ सपोर्ट स्टाफ के आने-जाने को लेकर काफी परेशानी उठानी पड़ी। वहां इन सबकी संख्या करीब 40 तक थी। इतनों लोगों को एक साथ लाने व ले जाने के लिए दो बसों को किराए पर लिया गया फिर भी इतने लोगों के संभालना मुश्किल हो रहा था। आपको बता दें कि बीसीसीआइ ने लंबे विदेशी दौरों के लिए खिलाड़ियों के परिवार को उनके साथ रहने के लिए दो सप्ताह की अनुमति दी है। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने विदेशी दौरों पर पत्नी व गर्लफ्रेंड को साथ रखने की अनुमति देने के लिए कहा था। इसके बाद बोर्ड ने क्रिकेटरों के परिवार को टूर के शुरुआती दस दिनों के बाद ठहरने की अनुमति दी थी। इसके साथ ही फैमिली पीरियड की भी कोशिश की जिसमें तय समय के बीच परिवारों को खिलाड़ियों से मिलने की अनुमति दी जाती जो हर दौरे के साथ अलग-अलग था। हालांकि बोर्ड के लिए परिवारों की मुलाकात ज्यादा मंहगी नहीं पड़ती है क्योंकि खिलाड़ी अपने पविवारों के बिल खुद चुकाते हैं लेकिन उनके सामानों को लाना-लेजाना या फिर ट्रांसपोर्ट बड़ी चुनौती बन जाती है। बीसीसीआइ के एक अधिकारी ने कहा कि अगर दौरे पर कम सदस्यों के साथ टीम जाती है तो उन्हें संभालना आसान होता है। पर ज्यादा लोगों को संभालना बड़ी चुनौती होती है। बोर्ड के स्टाफ के लिए मैदान से बाहर व्यवस्था कना भी आसान होता है। टिकट बुक करने से लेकर रूम तक सब कुछ बोर्ड के हाथ में ही है। अधिकारी ने कहा कि विश्व कप में इंग्लैंड दौरे पर खिलाड़ियों के परिवार उनके साथ होंगे और हमारे लिए सबकुछ संभालना थोड़ा मुश्किल होगा।बोर्ड इस बात से भी खुश नहीं है क्योंकि ऑस्ट्रेलिया दौरे पर कुछ खिलाड़ी जो नियमित नहीं हैं उनके परिवार भी दो सप्ताह तक उनके साथ रहे। बोर्ड के मुताबिक सभी को एक साथ मैनेज करना काफी मुश्किल काम है। ये मामला पैसों का नहीं है। क्रिकेटरों के परिवार के लिए भी एक साथ मैच टिकट बुक कराना भी बड़ी चुनौती होती है।

 

 

हैमिल्टन। भारतीय तेज गेंदबाजी के अगुआ भुवनेश्वर कुमार ने न्यूजीलैंड के खिलाफ चौथे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में आठ विकेट से करारी हार के बारे में गुरुवार को कहा कि इससे टीम को श्रृंखला के बाकी बचे मैचों से पहले वास्तविकता का पता चला। इसके साथ ही भुवनेश्वर कुमार ने कहा कि चौथे मैच में भारतीय टीम तो विराट कोहली की कमी खली। कोहली को तीसरे वनडे के बाद आराम दिया गया था। कोहली के लिए न्यूज़ीलैंड का दौरा खत्म हो गया है और फिलहाल वो अपनी पत्नी अनुष्का शर्मा के साथ छुट्टियां मना रहे हैं।भारत की दमदार बल्लेबाजी चौथे वनडे में 30.5 ओवर में 92 रन पर आउट हो गई जो उसका सातवां न्यूनतम स्कोर है। न्यू;जीलैंड पहले ही श्रृंखला गंवा चुका है और उसकी यह पहली जीत है।
मेजबान ने नहीं दिया कोई मौका;-भुवनेश्वर ने मैच के बाद कहा, ‘अगर आप पिछले कुछ महीनों के हमारे खेल पर गौर करो तो हमने अच्छी क्रिकेट खेली और कभी आपको ऐसे मैचों से गुजरना पड़ता है। इसलिए इससे हमें वास्तविकता का पता चला कि आगामी मैचों में हम क्या कर सकते हैं और हमें क्या सुधार करने हैं।’उन्होंने कहा, ‘श्रृंखला जीतने के बाद हम आत्मविश्वास से भरे थे लेकिन चीजें हमारे अनुकूल नहीं रही। मैं उनसे (न्यूजीलैंड के गेंदबाजों) श्रेय वापस नहीं लेना चाहता हूं। उन्होंने वास्तव में अच्छी गेंदबाजी की और हमें कोई मौका नहीं दिया।’वेलिंगटन में रविवार को पांचवें और अंतिम वनडे के बाद दोनों टीमों के बीच छह फरवरी से तीन टी-20 मैचों की श्रृंखला खेली जाएगी।तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट (5/21) और कॉलिन डि ग्रैंडहोम (3/26) ने स्विंग परिस्थितियों का पूरा फायदा उठाकर भारतीय बल्लेबाजी को ध्वस्त कर दिया था।
सामने आई भारत की कमज़ोरी ?:-भुवनेश्वर से पूछा गया कि क्या न्यूजीलैंड ने भारत की कमजोरी का खुलासा कर दिया, ‘नहीं ऐसा नहीं है। हम इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में खेले और हमने वास्तव में अच्छा प्रदर्शन किया।’उन्होंने कहा, ‘मैं कहना चाहता हूं कि उन्होंने वास्तव में बहुत अच्छी गेंदबाजी की तथा ऐसी गेंदें डाली जिनको खेलना नामुमकिन था और हां कुल मिलाकर उन्होंने हमें पस्त कर दिया था।’भारत ने 3-0 की अजेय बढ़त लेने के बाद कप्तान विराट कोहली को विश्राम दिया जबकि पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी मांसपेशियों में खिंचाव के कारण नहीं खेल पाए। भारत ने शुभमन गिल को पदार्पण का मौका दिया जबकि बायें हाथ के तेज गेंदबाज खलील अहमद को भी मोहम्मद शमी की जगह टीम में रखा।
कोहली की खली कमी;-भुवनेश्वर ने स्वीकार किया कि भारत को इस मैच में कोहली की कमी खली। उन्होंने कहा, ‘इस तरह के विकेट पर आपको हमेशा कोहली की कमी खलेगी लेकिन इसके साथ ही यह शुभमान गिल के लिये भी मौका था जिसने उनका स्थान लिया। उन्होंने (कोहली) जैसा प्रदर्शन किया है वह लाजवाब है लेकिन हम हमेशा उन पर निर्भर नहीं रहना चाहते हैं।’भुवनेश्वर से पूछा गया कि क्या मध्यक्रम के कुछ बल्लेबाज मौके का फायदा उठाने में नाकाम रहे, उन्होंने कहा, ‘हम केवल एक मैच के बाद ऐसा नहीं कह सकते। यह बल्लेबाजी के लिए मुश्किल विकेट था। यह मौका गंवाना नहीं था लेकिन यह हम सबके लिए सबक है।’

हैमिल्टन। भारत के खिलाफ चौथे वनडे मैच में मिली जीत से खुश न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम के कप्तान केन विलियम्सन का कहना है कि भारत जैसी मजबूत टीम के खिलाफ इतनी बड़ी जीत मिलना शानदार है। विलियम्सन ने इस जीत का श्रेय अपने गेंदबाजों को दिया है।न्यूजीलैंड ने सेडन पार्क पर गुरुवार को खेले गए चौथे वनडे मैच में भारत को टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का आमंत्रण देते हुए उसकी पारी 92 रनों पर ही समेट दी और इसके बाद 14.4 ओवरों में दो विकेट के नुकसान पर इस लक्ष्य को हासिल कर मेहमान टीम को आठ विकेट से हरा दिया। यह वनडे क्रिकेट में भारत का सातवां सबसे न्यूनतम स्कोर है।इस मैच के बाद एक बयान में विलियम्सन ने कहा, 'हमें उम्मीद नहीं थी कि पिच ऐसा कमाल करेगी। भारत को इस स्कोर पर रोकना हमारे लिए बेहतरीन रहा। मैं टीम के सभी गेंदबाजों को इस जीत का श्रेय देता हूं। भारत जैसी टीम के खिलाफ ऐसी जीत मिलना शानदार बात है।'हेमिल्टन वनडे मैच में मिली जीत से टीम खुश है लेकिन कप्तान विलियम्स ने इस बात को भी माना है कि वेलिंग्टन पर खेले जाने वाले मैच की परिस्थितियां अलग होंगी।विलियम्सन ने कहा, 'हम हमेशा जीत के लिए खेलते हैं और इस मैच का प्रदर्शन शानदार था। हालांकि, वेलिंग्टन में परिस्थितियां अलग होंगी। वहां चुनौती अलग होगी। क्रिकेट का खेल अलग होगा लेकिन यह जीत अच्छी थी।'इस मैच में न्यूजीलैंड ने भारत को टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का आमंत्रण देते हुए उसकी पारी 92 रनों पर ही समेट दी और इसके बाद 14.4 ओवरों में दो विकेट के नुकसान पर इस लक्ष्य को हासिल कर मेहमान टीम को आठ विकेट से हरा दिया। यह वनडे क्रिकेट में भारत का सातवां सबसे न्यूनतम स्कोर है।वहीं इस हार के बाद भारत के लिए कप्तानी करने वाले रोहित शर्मा ने कहा, 'काफी लंबे समय बाद हमारी बल्लेबाजी का यह सबसे खराब प्रदर्शन है। इसके लिए सारा श्रेय न्यूजीलैंड के गेंदबाजों को जाता है। हमारे लिए यह एक सबक है। मुझे नहीं लगता कि सेडन पार्क की विकेट खराब थी। यह बल्लेबाजी के लिए अच्छी थी लेकिन हम इसमें असफल रहे।'भारत को भले ही चौथे वनडे मैच में हार मिली हो लेकिन पहले तीन मैच जीतकर उसने पांच मैचों की इस सीरीज में पहले से ही 3-0 की अजेय बढ़त बनाई हुई थी। हालांकि, रोहित का कहना है कि सीरीज जीतने का मतलब यह नहीं कि हम आराम से बैठ जाएं।रोहित ने कहा, 'सीरीज जीतने का मतलब यह नहीं है कि हमें अब आराम करना है। हमें आगे बढ़ना जारी रखना है। अच्छी टीमें यहीं करती हैं। हमें अब वेलिंग्टन में खेले जाने वाले पांचवें वनडे मैच का इंतजार है।'

नई दिल्ली। भारत और न्यूज़ीलैंड के खिलाफ वनडे मैच में मेज़बान टीम ने भारत को आठ विकेट से शिकस्त दी। भारत की पूरी टीम महज़ 92 रन के मामूली स्कोर पर सिमट गई। हैमिल्टन के मैदान पर भारत का ये सबसे न्यूनतम स्कोर है। भारत की खराब बल्लेबाज़ी को लेकर चारों तरफ टीम इंडिया की आलोचना हो रहा है। इसी को लेकर इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने भी ट्वीट किया, लेकिन वॉन का ये ट्वीट उल्टा उन्हीं पर भारी पड़ गया और फैंस ने उन्हें ट्रोल कर दिया। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने ट्वीट कर लिखा, '92 ऑल आउट भारत... यकीन नहीं होता कि कोई भी टीम इन दिनों 100 से कम में आउट हो गई। !!!!!!'माइकल वॉन का यह ट्वीट भारतीय क्रिकेट फैन्स को अच्छा नहीं लगा। इसके जवाब में उन्होंने माइकल वॉन को ट्रोल करना शुरू कर दिया। दरअसल माइकल वॉन भूल गए कि अभी पिछले दिनों टेस्ट मैच में वेस्टइंडीज ने इंग्लैंड के टीम को करारी शिकस्त दी थी। इस टेस्ट मैच की पहली पारी में इंग्लैंड की पूरी पारी महज़ 77 रन पर आउट हो गई थी। वॉन का ये ट्वीट उनके लिए जी का जंजाल बन गया।आप खुद ही देखिए भारतीय फैंस ने किस तरह से माइकल वॉन पर अपनी भड़ास निकाली।

हैमिल्टन। भारत को न्यूजीलैंड के हाथों चौथे वनडे में 8 विकेट से करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा। भारत की पारी को 92 रनों पर समेटने के बाद न्यूजीलैंड ने 14.4 ओवरों में 2 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल किया। भारत की यह गेंद शेष रहते वनडे क्रिकेट में सबसे बड़ी हार है। कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि इस हार के लिए खिलाड़ी खुद जिम्मेदार हैं।विराट को आराम दिए जाने के कारण रोहित शर्मा ने इस मैच में टीम की कमान संभाली, यह उनका 200वां वनडे मैच भी था। हार के बाद रोहित ने कहा, यह बल्लेबाजी में टीम का लंबे अंतराल बाद खराब प्रदर्शन है। हमें ऐसे प्रदर्शन की उम्मीद नहीं थी और इसके लिए न्यूजीलैंड के गेंदबाजों को श्रेय दिया जाना चाहिए। जब गेंद स्विंग हो रही हो तो बल्लेबाजों को दबाव सहन करना होता है। इस हार के लिए हम खुद ही दोषी हैं। बल्लेबाजों को जिम्मेदारीभरा प्रदर्शन करना चाहिए था। यदि हम थोड़ी देर क्रीज पर टिकते तो परिस्थितियां आसान हो जाती।रोहित ने कहा, हमने कुछ खराब शॉट्स भी खेले। जब गेंद स्विंग होती हैं तो बल्लेबाजों के लिए चुनौती बढ़ जाती हैं। टीम कई सीरीज से लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही थी इसके चलते सभी को पता है कि इस मैच में क्या गलत हुआ। जब हम अपने देश के लिए खेल रहे होते है तो हमें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होता है।
ऐसे हारा भारत;-इस मैच में न्यूज़ीलैंड ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाज़ी का फैसला किया और उनके तेज़ गेंदबाज़ ट्रेंट बोल्ट (21-5) और कोलिन ग्रैंडहोम (26-3) की बेहतरीन गेंदबाजी ने भारतीय पारी को 92 रन पर समेट दिया। भारतीय टीम का वनडे क्रिकेट में ये सातवां सबसे कम स्कोर रहा।भारत की ओर से कप्तान रोहित शर्मा (7), शिखर धवन (13), अपना पहला मैच खेल रहे शुभमन गिल ने नौ रन बनाए जबकि अंबाती रायडू और दिनेश कार्तिक खाता तक नहीं खोल सके। केदार जाधव और भुवनेश्वर कुमार ने एक-एक रन बनाया जबकि खलील अहमद पांच रन बना सके। जबकि चहल ने 18 और कुलदीप ने 15 रन बनाए। इन दोनों ने 25 रन की साझेदारी कर भारत के स्कोर को 92 रन तक पहुंचाया।न्यूज़ीलैंड की ओर से बोल्ट और ग्रैंडहोम के अलावा कीवी टीम की ओर से जेम्स नीशम और एस्टल ने एक-एक सफलता पाई।
ऐसी रही न्यूज़ीलैंड की पारी:-न्यूज़ीलैंड की टीम 93 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी तो उनकी शुरुआत बेहद खराब रही। कीवी टीम को 13 रन के स्कोर पर मार्टिन गुप्टिल (14) का विकेट गंवा दिया। गुप्टिल को भुवनेश्वर कुमार हार्दिक पांड्या के हाथों कैच आउट करवाया। इसके बाद भुवी ने एक बार फिर भारत को सफलता दिलाई जब उन्होंने कीवी कप्तान केन विलियमसन (11) रन बनाकर विकेटकीपर दिनेश कार्तिक के हाथों कैच आउट करवाया। इसके बाद हेनरी निकोल्स और रॉस टेलर ने न्यूज़ीलैंड को बेहतरीन साझेदारी कर जीत दिला दी। निकोल्स 30 और रॉस टेलर 37 रन बनाकर नाबाद रहे।

 

 

तिरुवनंतपुरम। इंडिया-ए और इंग्लैंड लॉयंस के बीच खेले गए आखिरी अनाधिकारिक वनडे मैच में इंडिया-ए को एक विकेट से हरा का सामना करना पड़ा। इस मुकाबले में लोकेश राहुल एक बार फिर से फ्लॉप साबित हुए। इस मैच में तो राहुल अपना खाता तक खोलने में नाराम रहे। राहुल का फॉर्म पिछले कुछ समय से काफी खराब चल रहा है। आखिर इस बल्लेबाज़ को हो क्या गया है।
राहुल का फॉर्म रहा है बेहद खराब:-इससे कुछ दिन पहले राहुल पर बीसीसीआइ ने एक टीवी शो कॉफी विद करन शो में महिलाओं पर टिप्पणी करने को लेकर हुए विवाद के बाद बैन लगा दिया था। उससे पहले भी ऑस्ट्रेलिया में राहुल का फॉर्म खराब ही रहा था। राहुल ने एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट में 2 और 44 रन बनाए थे। पर्थ में खेले गए दूसरे मैच में वो 2 और शून्य पर आउट हुए। सिडनी में खेले गए तीसरे मैच में राहुल नौ रन बनाकर अपना विकेट गंवा बैठे। इससे पहले भी राहुल का फॉर्म खराब ही रहा था।
बैन हटने के बाद भी नहीं बदली किस्मत:-राहुल से बैन हटा तो उन्हें इंडिया ए के लिए इंग्लैंड लॉयंस के खिलाफ खेलने का मौका मिला। इस सीरीज़ में खेले अपने पहले मैच में वो 13 रन बनाकर आउट हो गए। इसके बाद अगले मुकाबले में उन्होंने थोड़े धैर्य से बल्लेबाज़ की और 42 रन बनाए, लेकिन तीसरे मैच में फिर से वो खाता तक नहीं खोल सके।
इंग्लैंड लॉयंस ने ऐसे जीता मैच:-बेन डकेट (70) के नाबाद अर्धशतक के दम पर इंग्लैंड लॉयंस ने गुरुवार को खेले गए आखिरी अनाधिकारिक वनडे मैच में इंडिया-ए को एक विकेट से हराया। ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए इस मैच में भले ही इंग्लैंड लॉयंस ने जीत हासिल की हो लेकिन पांच मैचों की इस सीरीज को इंडिया-ए ने 4-1 से अपने नाम किया है।इंडिया-ए ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए अपनी पारी में 120 रनों का स्कोर बनाया। टीम की पारी की शुरुआत बेहद खराब हुई। 50 के स्कोर से पहले ही मेजबान टीम ने लोकेश राहुल (0), हिम्मत सिंह (3), कप्तान अंकित बावने (0), ऋषभ पंत (7) और इस पारी में सबसे अधिक रन बनाने वाले सिद्धेश लाड (36) के रूप में अपने पांच विकेट गंवा दिए थे।इसके बाद, भी इंडिया-ए के विकटों का गिरना जारी रहा। इस बीच दीपक हुड्डा (23) और दीपक चहर (21) ने टीम की पारी को संभालने की कोशिश की लेकिन उन्हें सफलता हासिल नहीं हुई और मेजबान टीम की पारी 120 रनों पर समाप्त हो गई।इस पारी में इंग्लैंड लॉयंस के लिए जैमी ओवर्टन ने सबसे अधिक तीन विकेट लिए। इसके अलावा, टॉम बेली को दो सफलताएं मिलीं। लेविस ग्रेगोरी, मैथ्यू कार्टर और स्टीवन मुलानी एक-एक विकेट लेने में सफल रहे।इंडिया-ए की ओर से मिले 121 रनों के लक्ष्य को हासिल करने उतरी इंग्लैंड लॉयंस के लिए भी पारी की शुरुआत अच्छी नहीं रही लेकिन बेन की नाबाद अर्धशतकीय पारी से उसने इस स्कोर को हासिल कर लिया।बेन के अलावा इंग्लैंड लॉयंस का कोई भी अन्य बल्लेबाज 10 से अधिक रन नहीं बना सका।इस पारी में इंडिया-ए के लिए दीपक और राहुल चहर ने तीन-तीन विकेट लिए, वहीं अक्षर पटेल को दो विकेट मिले। शार्दुल ठाकुर को एक सफलता हाथ लगी।

हैमिल्टन। शुभमन गिल और खलील अहमद समेत भारतीय टीम की युवा ब्रिगेड का कहना है कि विराट कोहली और रोहित शर्मा जैसे सीनियर की फिटनेस उनके लिये प्रेरणास्रोत है। चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव ने भी उनके सुर में सुर मिलाया।अपने साथी खिलाड़ी युजवेंद्र चहल से बातचीत में कुलदीप ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तेजी से उभरने का श्रेय टीम के कड़े फिटनेस कार्यक्रम को दिया। बातचीत का यह वीडियो बीसीसीआइ टीवी…
हैमिल्टन। भारत के फील्डिंग कोच आर श्रीधर को उम्मीद है कि अगले कुछ एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में रिजर्व खिलाड़ियों को खेलने का मौका मिलेगा क्योंकि टीम प्रबंधन चाहता है कि इस साल होने वाले आइसीसी के 50 ओवर के विश्व कप से पहले सभी खिलाड़ी मैच खेलने के लिए तैयार रहें। इसके साथ ही श्रीधर ने कहा कि भारतीय टीम की लगातार जीत का राज़ है गेंदबाज़ों का अच्छा प्रदर्शन।रिजर्व…
नई दिल्ली। भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच खेली जा रही वनडे सीरीज़ में टीम इंडिया ने 3-0 की बढ़त बनाई हुई है। अब टीम इंडिया की नज़र कीवी टीम का क्लीन स्वीप करने पर रहेगी। भारतीय कप्तान विराट कोहली के लिए न्यूज़ीलैंड का दौरा खत्म हो चुका है, क्योंकि बीसीसीआइ ने उन्हें पहले तीन वनडे मैच के बाद आराम देने का फैसला किया था। ऐसे में अब न्यूज़ीलैंड के बचे…
हैमिल्टन। भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच खेले जाने वाले चौथे वनडे मुकाबला हैमिल्टन में 31 जनवरी को खेला जाएगा। इस मैच से पहले महेंद्र सिंह धौनी की चोट को लेकर एक ताज़ा अपडेट आया है। धौनी मौजूदा सीरीज़ के तीसरे मुकाबले में नहीं खेल सके थे। उन्हें हैमस्ट्रिंग में तकलीफ थी। धौनी के न खेलने के चलते दिनेश कार्तिक ने उस मुकाबले में विकेटकीपिंग की थी। लेकिन चौथे वनडे मैच…
Page 7 of 365

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें